मेरी शादीशुदा गर्लफ्रेंड

मेरी गर्लफ्रेंड Antarvasna का नाम दीप्ति है. वो मेरे साथ ऑफिस में है. ये बात है 2012 की, जब हमने एक साथ ऑफिस में जाय्न किया था. उसे मेरे बगलवली सीट मिली; हम लोग काम भी करते और एक दूसरे की बात भी शेयर करते थे. हूँ जल्द ही अच्छे दोस्त बन गये.

फिर 2013 में उसकी शादी हो गई, उसने बताया की उसकी शादी लव मरीज़ है, जिससे वो 8 साल पहले से प्यार करती थी. उसके घर वालों के खिलाफ जाकर उसने उस लड़के से शादी कर ली थी. दिन बीतते गये, और हमारी दोस्ती बढ़ती गयी,,, वो तो मुझे यहां तक कहती थी की,,, अगर तुम मुझे पहले मिले होते तो शायद मैं तुमसे शादी कर लेती…. मैं उसकी खूब बड़ाई करता था….उसका हज़्बेंड रोज शाम को ऑफिस से लेने आता था.

एक दिन कुछ काम होने की वजह से नहीं आ पाया. उसने मुझसे बोला की क्या तुम मुझे घर चोद दोगे. मैंने कहा ठीक है. हम दोनों ऑफिस से निकले ओर एक रिक्शे किया. हम दोनों रिक्शे पर बैठ गये. हल्की अंधेर हो चुकी थी. मैं पहली बार उसके इतने करीब बैठा था. शी वाज़ समेलिंग वंडरफुल. मैंने अपना एक हाथ पीछे पिया ओर उसके पीठ पर रखा. मुझे अपने हाथ से उसके ब्रा का स्ट्रीप महसूस हो रहा था. मैंने पूछा ये क्या है… वो मुझ पर गुस्सा हो गई ओर बोली.. ये तुम क्या कर रहे हो, पर हटने के लिए नहीं कहा. मैं उसकी पीठ को रब करता रहा, उसे भी शायद अच्छा लग रहा था.

फिर रास्ते में कुछ सन्नाटा था. मैंने अपने हाथ को उसके ओर पीछे ले गया ओर उसके बूब्स को टच किया. उसने कुछ नहीं बोला ओर उसने अपने दुपट्टे से मेरा हाथ ढक दिया की कोई देख ना ले. मेरी हिम्मत ओर तरफ गयी, मैंने उसके एक बूब्स को पीछे से ओर दूसरे हाथ से दूसरे बूब्स को पकड़कर मिँजञे लगा… मैं पहली बार किसी का बूब्स टच कर रहा था. मेरी सांसें तेज हो रही थी.

उसने बोला तुम्हारी हालत तो इतने में ही खराब हो रही है.. आगे क्या करोगे. मैं बस उसकी बूब्स में लगा थे. फिर वो घर पहुँच गई. मैंने कहा मैं भी घर चालू तो उसने कहा की, उसके हज़्बेंड कवि अभी आ जाएँगे. कल मिलेंगे हम लोग.

नेक्स्ट डे–>उसने बोला, की आज मुझे शॉपिंग करनी है,, मेरे साथ चलेंगे.. मैं मान गया ओर हम दोनों मार्केट गये. उसने लॅडीस मार्केट से अपने लिए कॉसमेटिक्स खरीदा. फिर हम खाने के लिए एक रेस्तरां में गये, वो रेस्तरां सिर्फ़ कपल्स के लिए था. हम भी एक केबिन में जाकर बैठ गये ओर चोवमीं के लिए आर्डर किया. मैंने अपना हाथ उसके थिएस पर रखा. उसने कहा तुम मेरे एक अच्छे दोस्त हो ओर दोस्त ही रहो, मैं शादी सुदा हूँ, मेरा हज़्बेंड है. मैंने कुछ नहीं सोचा ओर फिर से उसका बूब्स पकड़कर सहलाने लगा,,,

कुछ देर तो उसने मना किया, पर जब मैं नहीं मना तो उसने भी मुझे रेस्पॉंड करना शुरू कर दिया. उसने मेरे लंड पर हाथ रख दिया, उसने कहा तुम्हारा तो काफी लंबा है, मैंने पूछा तुम्हारे हज़्बेंड का कैसा है. उसने कहा तुम्हारा तो मेरे हज़्बेंड से काफी बड़ा है. फिर मैंने उसके बूब्स का साइज – पूछा तो उसने नहीं बताया. उसने कहा तुम खुद ही हाथ से अंदाज़ा लगलो. फिर मैंने गेस किया- > 30, उसने कहा नो. फिर मैंने बोला -> 34, उसने बोला नो, थोड़ा कम. तो मैंने कहा 32. तो उसने कुछ नहीं बोला, मैं जान गया की उसके बूब्स 32’’ हैं. मैंने खूब मजे लिए, बूब्स दबाकर. ओर फिर ऑफिस से फोन आया ओर हम चले गये.

उसने संडे को अपने घर आने के लिए मुझे कहा, मैं उसके घर गया ओर ऑफिस की एक ओर लड़की भी आई. हम लोगों ने खाना खाया लेकिन मुझे कोई भी मौका हाथ नहीं लगा उसे टच करने का क्योंकि, वहां उसका हब्बी भी था. फिर शाम हो गई ओर ऑफिस की दूसरी लड़की ने डीप से कहा की, शाम काफी हो गई है, क्या तुम्हारे हुसबाद मुझे बाइक से घर चोद देंगे? उसने अपने हुसबाद को कहा ओर वो उसे चोदने चला गया. उसका घर अप्रॉक्स 12 किलोमीटर दूर थे. इसलिए ट्रैफिक लगाकर करीब 1 घंटे लग जाते. उसके हुसबाद के जाते ही मैंने घर का दूर बंद कर लिया. उसने मुझे रोकने की कोशिश की ओर कहा,,, प्लीज़ ऐसा मत करो मेरे हज़्बेंड कवि भी आ जाएंगे.

मैंने कहा वो तो 1 ह्र्स. बाद ही आ सकतें हैं. फिर मैंने उसका हाथ पकड़कर उसके बेड रूम में ले गया ओर उसे बेड बार लिटा दिया. उसने मुझे एक स्लॅप किया ओर खूब दांता. मैंने भी उसे ज़ोर से पारकरा ओर लीप किस करने लगा. वो बहुत कोशिश कर रही थी, लेकिन मैं भी नहीं मना, ओर उसे बेड पर लिटाकर, उसका टॉप ऊपर किया. उसका ब्रा दिखने लगा, अब तो मैं कंट्रोल से बाहर हो गया ओर उसका टॉप खींच कर खोल दिया ओर उसके ब्रा का स्ट्रॅप नीचे कर के उसके बूब्स मुँह में ले लिया. उसे थोड़ी देर बाद मजा आने लगा. उसने बोला ओर ज़ोर से चूसो, तुम्हारा लंड कहाँ हैं. मैंने ऐसा सुन कर ओर जोश तरफ गया ओर मैं पागल गो गया.

फिर मैंने पूछा तुम्हारा हज़्बेंड तुम्हें सॅटिस्फाइ नहीं करता के .. उसने कहा ऐसी बात नहीं है, लेकिन तुम मुझे बहुत अच्छे लगते हो, बस डर लगता है की कही कोई देख ना ले. मैंने कहा डीप, अगर तुम साथ दो तो हम 15 मिनट में अपना कार कर लेंगे ओर किसी को पता नहीं चलेगा, फिर उसने मेरे पूरे कपड़े उतार दिए. वो मेरा लंड लेकर चूसने लगी, मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैंने कहा कामन डीप, फक में हार्ड. फिर उसने अपना ट्राउज़र उतार दिया ओर मेरे ऊपर लेट गई. मैंने उसे खींचा ओर उसके ऊपर आ गया ओर बोला, मेरा लंड पकड़ो ओर अपने बुर् पे सही पोज़िशन पर रखो, उसने वैसा ही किया. मैंने ज़ोर लगाया ओर एक बार में पूरा लंड अंदर चला गया.

वो बहुत ज़ोर से चिल्ला रही थी ओर चोदने के लिए कह रही थी. मैं रुका नहीं ओर अपनी बढ़ता ओर बढ़ा दी. फिर वो 2 मिनट बाद झाड़ गयी ओर एकदम शांत हो गई, मैं अब भी चोदे जा रहा था, मैंने पूछा क्या हुआ, इतनी जल्दी झाड़ गई, तो हँसने लगी. वो मेरे सीने को चूम रही थी, फिर मैं भी झाड़ गया, ओर शांत हो के उसके बूब्स पर ही सो गया, आधे घंटे बाद उसने मुझे उठाया, ओर हमने अपने कपड़े पहने. ओर मैं वहां से चला गया.
मेरी शादीशुदा गर्लफ्रेंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *