Hindi Sex Story सविता भाभी और मैं 9

अब पेश है सविता भाभी का बकरा-9 Antarvasna,Hindi Sex ,Kamukta,antarvasnamp3,antarvasnajokes,antarvasna2015, Hindi Sex stories,Indian Sex, antarvassna,chudai नंबर 9 को क्यों छोड़ें –

Antarvasna 7 बजे भाभी को लेकर हम घर आ गए, हमें छोड़कर सोनम सब्जी लेने चली गई।

अन्दर आकर भाभी ने शीशे के सामने जाकर अंगड़ाई ली और बोली- सुबह से इन कपड़ों को पहने पहने मैं थक गई!

और उन्होंने अपनी सलवार कुरता और ब्रा उतार दी अब वो सिर्फ एक पतली सी पैंटी में थीं, शीशे में उनकी दूधिया चूचियाँ देखकर मैं लौड़ा सहलाने लगा।

शीशे में से मुझे फ्लाइंग किस देकर सविता भाभी बोलीं- चूतियों की तरह इतनी दूर क्यों खड़े हो, एक पप्पी तो दे दो।

मैंने आगे बढ़कर पीछे से भाभी के दोनों उरोज अपने हाथों में पकड़े और गोलाई में मलते हुए गालों की एक लम्बी पप्पी ली और कान में बोला- सोनम की चूत आज दो बार चोदी…

भाभी ने मेरी तरफ मुड़कर मेरे होंटों की पप्पी ली और बोली- वाह, मज़ा आ गया… कुतिया चुद गई, मुझको बहुत रंडी रंडी बोल रही थी। आओ चलो इस ख़ुशी में साथ साथ नहाते हैं!

मैं और भाभी बाथरूम में घुस गए, भाभी ने पैंटी और मैंने अंडरवियर पहना था, शावर खोलकर हम एक दूसरे से चिपक गए और शावर की फुहारों का मज़ा लेने लगे। मेरे मोटे लोड़े को अपनी चूत पर महसूस करते हुए भाभी बोलीं- दिन में 3-3 बार चूत में डाल चुके हो फिर भी लौड़ा मस्त टनटना रहा है, यह गोली का कमाल है। इसे अन्दर कैद करके क्यों रखा हुआ है? बाहर निकालो ना… पूरे भोंदू ही हो तुम।

मैंने अपना अंडरवियर और उन्होंने अपनी पैंटी उतार दी।
दोबारा हम गर्म पानी के शावर के नीचे चिपक गए।
नंगा लौड़ा बार बार भाभी की चूत को छूने की कोशिश कर रहा था।
मेरे पैरों पर चढ़ते हुए भाभी लौड़ा अपनी चूत के मुँह पर लगाने की कोशिश करने लगीं, मेरा भी मन घुसाने का कर रहा था दोनों की चाहत से लौड़ा चूत के द्वार पर ठक ठक करने लगा।

मस्ती में आह भर कर मुझे भींचते हुए भाभी बोलीं- आह अब नहाने में मज़ा आ रहा है।

उन्होंने अपने पंजे ऊपर उठा लिए, वो लौड़ा को चूत के अन्दर लेना चाह रही थीं।

तभी हमारा संतुलन बिगड़ा और हम गिरते गिरते बचे।

हँसते हुए भाभी बोली- बाल बाल बचे… अभी चोट लग जाती।

उन्होंने मेरे चूतड़ पर हाथ मारते हुए कहा- थोड़ा साबुन मल दो !

हम दोनों एक दूसरे के बदन पर साबुन लगाने लगे, मैंने भाभी की चूत पर साबुन लगते हुए उंगली अन्दर डाल दी और पूसी दबाते हुए बोला- आपकी चूत तो पूरी रसीली हो रही है।

भाभी बोलीं- उह आह… रसीली हो रही है तो निगोड़ी को चूसो ना… मैं तब तक तुम्हारी पीठ पर साबुन मल देती हूँ।

मैं झुककर उनकी चूत चूसने लगा और वो मेरी पीठ मलने लगीं।

इसके बाद उन्होंने झुककर मेरा लौड़ा मुँह में लिया और मैंने उनकी पीठ और चूतड़ों पर साबुन मला।

ऊपर से गिरती शावर की बौछारों ने सेक्स क्रीड़ा का मज़ा दुगना कर दिया था कुछ देर बाद हम एक दूसरे से चिपके शावर का मज़ा लेने लगे मेरा लौड़ा चूत में घुसने को पगला रहा था।

भाभी ने मुझे हटाते हुए कहा- चलो अब बदन पोंछ लेते हैं।

बदन पोंछने के बाद भाभी ने मेरा खड़ा लौड़ा अपनी मुट्ठी में दबाया और बोली- इस घोड़े को अब रात में चूत में डालना ! थोड़ा तड़पेगा तो रात को मज़ा दुगना आएगा।
तभी घंटी बजी, मुस्कराते हुए हम लोग अलग हो गए, भाभी ने मैक्सी और मैंने टी शर्ट नेकर पहन लिया।

मैंने जाकर दरवाज़ा खोल दिया, सोनम वापस आई थी।

अन्दर आकर सोनम भाभी को देखकर मुस्कराई उसके बाद भाभी और सोनम खाना बनाने लगीं।

खाने की मेज पर खाना खाने के बाद भाभी सोनम से मजाक करते हुए बोली- आज तो तूने मेरे देवर का माल पूरा चूस लिया।

सोनम बोली- पूरा नहीं, आधा चूसा है, आधा रात में चूसूँगी।

भाभी ने अपनी मैक्सी के दो बटन खोलते हुए अपनी चूचियाँ बाहर निकालीं और उन्हें दबाते हुए बोली- रात को मुझे अपने स्तनों की मालिश करवानी है, रात की बात तो तू भूल जा।

सोनम ने भी अपनी टी शर्ट उतार के दोनों चूचियाँ बाहर निकाल लीं और अंगड़ाई लेते हुए भाभी की तरफ देखकर बोली- रंडी, तू तो घर जाकर भी करवा लेगी, आज तो मैं मालिश करवाऊँगी।

दोनों की 30 और 36 इंच की चूचियाँ देखकर और गर्म बातें सुनकर मेरे लौड़ा में तो आग लग गई।

दोनों बातें करते हुए बोलीं- चल इस बात का फ़ैसला तो रात में करेंगे, अभी पिक्चर देखकर आते हैं।

भाभी कोल्ड ड्रिंक पीते हुए सोनम की तरफ देखकर बोलीं- राजेश मैं तुम्हारी बीवी बनकर चलती हूँ… यह साली बन लेगी। क्यों कुतिया? ठीक है न?

सोनम बोली- तू 35 की हो रही है, इसकी अम्मा लगती है, मैं 22 की हूँ, मैं इसकी बीवी मैं बन जाती हूँ, तू बड़ी बहन बन जा।

भाभी नकली गुस्सा दिखाते हुए बोली- कुतिया, तेरी चूत बहुत खुजिया रही है। मैं अभी 25 की हूँ, तुझे अम्मा लगती हूँ? अपनी शकल जाकर देख, नींबू जैसी चूचियाँ हो रही हैं और बदन बकरी जैसा हो रहा है। ज्यादा मत बोला कर, तेरा इतना मन है तो मूवी हाल में नकली बीवी बन जा लेकिन रात को राजेश के साथ में ही सोऊँगी, तू यह केला रख ले, रात को अपनी चूत में डाल लेना।

भाभी ने टेबल पर रखा एक केला सोनम की तरफ बढ़ा दिया।

सोनम बोली- मेरी मूत वाली कोल्ड ड्रिंक पीकर तेरी चूत बहूत उबल रही है, इतनी खुजिया रही है तो सो लियो।

भाभी ये सुनकर कोल्ड ड्रिंक छोड़कर सोनम को मारने उठीं।
सोनम अन्दर अपने कमरे में भागी।
दस मिनट बाद भाभी ने मुझे आवाज़ दी, मैं कमरे में गया तो देखता ही रह गया।

सोनम लाल साड़ी और हरे ब्लाउज में पूरी नई नवेली दुल्हन लग रही थी।

भाभी बोली- सोनम तेरी बीवी बन गई है, ले इसके सिन्दूर और लगा दे पूरी देसी बीवी लगेगी।

भाभी ने सामने रखी सिंदूर की शीशी मुझे दे दी, मैं थोड़ा हिचक रहा था।

भाभी बोलीं- पिक्चर हाल में जब इसकी छातियाँ दबाएगा और चूत में उंगली करेगा तब शर्म नहीं आएगी? यहाँ ऐसे शर्मा रहा है जैसे तेरे से शरीफ कोई नहीं है… और यहाँ कौन देख रहा है।

मैंने सम्मोहित सी मुद्रा में आगे बढ़कर सोनम के सिन्दूर लगा दिया।

भाभी ने सोनम की नज़र उतारते हुए कहा- हाय रे ! क्या माल लग रही है, राजेश जरा इसकी कमर में हाथ डालकर खड़े तो हो !

मैं सोनम की चिकनी कमर में हाथ डालकर खड़ा हो गया और उसका पेट सहलाने लगा।

भाभी के उकसाने पर मैंने इस सोनम के स्तनों पर अपना हाथ रखा और उन्हें दबाते हुए सोनम का लिप किस करने लगा।

भाभी ने इस बीच मेरी और सोनम की कई फोटो मोबाइल से खींच लीं।

मैंने विरोध किया तो भाभी बोलीं- पिक्चर से लौटें, तब मिटा देना।

इसके बाद भाभी ने सलवार कुरता पहना और हम लोग पिक्चर देखने निकल गए।

मूवी हाल में सारे समय सोनम मेरे और भाभी के बीच बैठी और शाल डालकर उसने पूरा ब्लाउज खोलकर रखा।

मैंने हर कोण से उसकी चूचियाँ मसलीं और बीच बीच में उसकी चूत मैं नाभि के रास्ते से हाथ डालकर उंगली भी की।

इंटरवेल में बाहर आकर भाभी ने मुझे अपने मोबाइल से खींची फोटो दिखाई, उसमें उन्होंने सिंदूर लगाने, चूची दबाने, होंट पर किस करने वाली 6-7 फोटो खींच रखी थीं।

भाभी मेरा हाथ दबाते हुए बोली- कुतिया फोटो में तेरी मस्त बीवी लग रही है, असली बनाना हो तो बता देना।

मैंने भाभी के हाथों से मोबाइल लेकर फोटो डिलीट कर दीं।

मुस्कराते हुए भाभी बोली- स्मार्ट हो।

इसके बाद हम अन्दर आ गए, मूवी दुबारा शुरू हो गई थी।

सोनम दुबारा हमारे बीच बैठी थी, उसने मुझे भी शाल से ढक लिया और मेरा लौड़ा निकाल कर उससे खेलने लगी।

बारह बजे मूवी ख़त्म हुई, हम सब लोग एक बजे वापस आ गए।

भाभी और मैं कमरे में आ गए और सोनम दूसरे कमरे में चली गई।

भाभी ने अपने कपड़े उतार कर साइड में डाल दिए और मुझे भी नंगा कर दिया।

पलंग पर लेट कर उन्होंने चुदने के लिए टांगें छोड़ी कर दीं और मुझे खींचकर अपने ऊपर लेटा लिया।

मैं भी ऊपर चढ़कर उनको चोदने लगा।

उन्होंने अपनी टांगें मेरी पीठ पर बाँध लीं और नीचे से पूरा लौड़ा अन्दर तक घुसवा कर गाण्ड हिला हिला कर चुदने का आनन्द लेने लगीं।

कुछ देर बाद मेरे वीर्य ने उनकी चूत की गगरी भर दी उसके बाद हम दोनों चिपक कर सो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *