गार्डेन ऑफ फाइव सेन्सस मे में और

दोस्तों मेरा नाम Antarvasna कबीर है और यह मेरी पहली स्टोरी है. पहले मैं आपको अपने बारे में बता दम. मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ और भी कॉम 2न्ड एअर कर रहा हूँ. मैं एक सिंपल सा दिखने वाला आगे 20 साल, नॉर्मल बॉडी और नॉर्मल एवरेज दिखने वाला लड़का हूँ. मेरे लंड का साइज 6इंच है जो की किसी को भी सॅटिस्फाइ करने के लिए काफी है. किसी आंटी भाभी या लड़की को मेरे साथ सेक्स करना हो या सेक्स चाट करना हो तो जरूर बताए.

यह बात 2साल पुरानी है जब मेरी गर्लफ्रेंड थी एक उसका नाम अनिषा हम दोनों एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे हमारे रीलेशन को 2साल हो गये थे लेकिन हमने किस के अलावा कुछ नहीं किया था. हम दोनों का एडमीशन कॉलेज में हुआ था ये बात तब की है…

हमने डिसाइड किया की हफ्ते में एक दिन हम मिलेंगे और घूमने जाएँगे. तो एक दिन हमारी लड़ाई हो गयी और उसने मुझे मानने के लिए बुलाया साकेत. तब मुझे नहीं पता था की वहां एक पार्क है 5सेन्स नाम से और मैं उससे मिलने चले गया उस दिन बहुत बारिश हो रही थी. मैं पहुंचा तो वहां खड़ी थी. दोस्तों मैं बता दम मेरी गर्लफ्रेंड बहुत सुन्दर थी उसका फिगर तो एग्ज़ॅक्ट्ली पता नहीं…लेकिन वो सुन्दर थी उसके बूब्स ज्यादा बारे नहीं थे नॉर्मल थे पर उसकी गांड बहुत ही मोटी थी. तब तक मैंने उसके साथ कुछ नहीं किया था. तो जब मैं वहां पहुँचा तो वो मेरा एआित कर रही थी हम मिले और मैंने उसे गुस्से में पूछा की क्यों बुलाया तो इसने बोला चलो जानूं…उस दिन बहुत तेज बारिश हो रही थी तो मैंने बोला : बताओ कहा जाना हे?
अनिषा: जहां जाना था वहां नहीं जा सकते अब.

में: क्यों?
अनिषा: नहीं जा सकते बारिश हो रही है.
में : ऐसा कहा जाना था?
अनिषा : ओके चलो चलते है.

उसने ऑटो वाले से पूछ और एक जगह का नाम लिया इट वाज़ 5सेन्स तब मुझे नहीं पता था की हम कहा जा रहे है. वहाँ पोछ के हम अंदर चले गये और थोड़ी देर घूम के एक खाली सी जगह देख के बैठ गये. दोस्तों वहां सारे कपल्स ही थे और वो लोग स्मूछिंग और किस्सिंग वगैरह ही कर रहे थे. मैं ये देख के बहुत चौक गया था और एक्साइड भी हो गया था…सडन्ली मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे स्राइ बोला और मुझे हग किया मैंने भी उसे माफ कर दिया और हम 1/2 घंटे तक यूँही खड़े रहे एक दूसरे की बांहों में.

फिर मैंने उसे गले पे किस किया तो उसे करेंट सा लगा उसने मुझे बोला चलो कहीं और चलते है. हम एक खोना झड़ हमें कोई ना देख स्के वहां चले गये…अब हमें डिस्टर्ब करने वाला कोई ही था..हम वहां जाकर फिर से हग करके खड़े हो गये. थोड़ी देर बाद मैंने उसके गालों को अपने हटो से पकड़ा और उसका सर चूमा…फिर धीरे से हमने किस करना स्टार्ट किया और फिर स्मूच करने लगे. मुझे किस्सिंग करना बहुत पसंद है दोस्तों….फिर हमारी टंग भी एक्सचेंज होने लगी और हम डीप किस में खो गये अच्छी बीच बीच में हम सांस लेते और मैं इसके गले गाल कोन को चूसता और वो मेरे….यह कुछ 1 घंटे तक चला…फिर मैंने धीरे धीरे अपने हाथ उसके टॉप के उप्पर से उसके बूब्स पे ले गया और दबाया उसने कुछ नहीं कहा…

मैंने अपना हाथ उसकी टोप में डाल दिया और उसकी पीठ सहलाने लगा उसे भी मजा आ रहा था हम दोनों खो चुके थे सेक्स के नशे में….कुछ देर बाद उसने मुझे उसकी ब्रा खोलने के लिए कहा…मैंने पीछे से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया..और सहलाने लगा और किस करने लगा…मैं अपने हाथ उसकी कमर के आस पास सहला रहा था तब उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपने बूब्स पे रख दिया मुझे उसके सॉफ्ट बूब्स का स्पर्स हुआ…उसके निपल्स हार्ड हो चुके थे…

मैं धीरे धीरे उन्हें दबा रहा था और उसे मजा आ रहा था…मैंने धीरे से उसका टॉप उप्पर किया और उसके बूब्स पे किस किया फिर क्या था उसे भी मजा आने लगा मैं भी उसके दोनों बूब्स को बड़ी बड़ी से चूसने लगा..और वो माउन कर रही थी धीरे धीरे और मुझे किस कर रही थी…काफी देर उसके बूब्स चूसने के बाद उसके बूब्स लाल हो गये थे थे निप्पल एक दम हार्ड. फिर मैंने उसको किस करना चालू किया और उसकी जीन्स के ऊपर से उसकी चुत सहलाना शुरू किया वो एक दम गर्म हो चुकी थी मुझे जीन्स के उप्पर से महसूस हो रहा था. मैं तेज तेज उसे रब कर रहा था और उसकी सांसें गरम हो रही थी.

फिर मैंने उसकी जीन्स का स्तनों खोल दिया और वो कुछ नहीं बोली…हम धीरे धीरे सेक्स के नशे में पूरी तरह आ चुके थे अब स्तनों खोलने के बाद मैं अपना हाथ उसकी गांड पे ले गया और दबाने लगा. उसे मजा आ रहा था उसने फिर मेरा हाथ पकड़ा और फिर से अपनी चुत पे रख दिया…मैं फिर सहलाने लगा. अब तक मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था और पानी छोड़ रहा था…उसको भी मेरा लंड महसूस हुआ और वो उसे पेंट के उप्पर से ही सहलाने लगी. मुझे भी अच्छा लग रहा था…अब मैंने उसकी जीन्स की ज़िप नीचे की…पर उसकी जीन्स बहुत टाइट थी इसीलिए वो नीचे नहीं हुई….और हम ओपन में थे तो नीचे उतरना भी नहीं छठा था मैं….वैसे हम जिस जगह खड़े थे वहां हमें कोई नहीं देख सकता था..वो एक जंगल जैसा ही था. खैर आगे मैंने अंदर हाथ डाला और उसकी पैंटी के उप्पर से उसकी चुत को रब करने लगा…उसने फ्लवर वाली पैंटी पहली थी….सो क्यूट.

अब वो धीरे धीरे माउन कर रही थी मजे में….मैंने फिर अपना हाथ उसकी पैंटी के अंदर डाला तो उसकी चुत बहुत गरम थी और पूरी तरह गीली हो चुकी थी उसकी…वो बुरी तरह पानी छोड़ रही थी…उसकी चुत पे छोटे छोटे बाल भी थे जो उसने शेव नहीं किए थे…मैं धीरे धीरे उसे रब करने लगा और उसे मजा आने लगा…फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी चुत में डाली तो वो उचक पड़ी और बोली जानूं डोंट आउट इट इन मैंने भी ओके बोला और रब करने लगा….

फिर जब उसको मजा आने लगा तो मैंने अपनी एक उंगली उसकी चुत में डाली और अंदर भर करने लगा धुरे धीरे…आस शी वर वर्जिन…उसे हल्का दर्द हो रहा था….लेकिन थोड़ी देर बाद उसको मजा आने लगा तो मैंने दो उंगली अंदर डाल दी और उसे फक करने लगा…उसको मेरी उंगलियों से चुदने में मजा आ रहा था और वो.आअहह जानूं मोर…आआआहह….और करो….आहह ऐसे बोल रही थी….15 मिनट फिंगरिंग करने के बाद वो चुत गयी और मुझसे लिपट गयी उसका सारा माल मेरे हाथ में आ गया और मैंने उसकी जीन्स के स्तनों लगा दिया….हम सेक्स करना चाहते थे लेकिन ओपन में नहीं कर सकते थे…

फिर सडन्ली हमें सेक्यूरिटी गार्ड की आने की आवाज़ सुनाई दी और हम वहाँ से निकल गये पर मेरा लंड अभी खड़ा था और मेरे हाथ भी गंदे थे सो मैं वॉशरूम में ग्यहत ढोने…वॉश रूम खाली था और आस पास भी कोई नहीं था सो मेरी गर्लफ्रेंड अंदर आ गयी और उसने मेरा लंड जो खड़ा था वो बाहर निकाला और उसे सहलाने लगी क्योंकि वो जानती थी मैं शांत नहीं हुआ हूँ..काफी देर मूठ मरने के बाद मेरा भी चुत गया और हम अपने कपड़े ठीक करके वहां से निकल गये…

फिर रात को घर पोहच् के हमने फोन पे भी सेक्स किया और वो चुदने के लिए बेताब हो रही थी और मैं भी उसको चोदने के लिए…लेकिन हमें कभी मौका नहीं मिला और फिर हमारा ब्रेक उप हो गया और उसके बाद मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनी सो मैं भी अभी तक वर्जिन हूँ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *