Antarvasna Hindi Sex Story वो यादें 2

फिर अचानक जब एक रोमांटिक सीन आया, तो फिर मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसने भी कुछ नहीं कहा, मूवी ख़त्म हुई और उसने वही स्माईल देकर मुझे गाल पर किस किया और कहा कि तुम बहुत क्यूट हो। मैंने कहा कि थैंक्स और वो सीन मेरे लिए सबसे अलग था, क्योंकि में प्यार करने लगा था। फिर मैंने सेक्स बहुत लड़कियों के साथ किया या कई लड़कियों के साथ टाईम बिताया, लेकिन यह सब कुछ अलग था। अब मैंने उसका हाथ पकड़ा और प्यार से उसके माथे पर किस किया और एक टाईट हग दिया और थैंक्स कहा और वो मुझे टाईट हग करती रही। फिर धीरे-धीरे पता नहीं कब मेरे होंठ उसके होंठ से मिले और हम किस करने लगे और किस करते समय हम कब गर्म हो गए, पता ही नहीं चला और किस करते टाईम मेरे हाथ उसके बूब्स दबा रहे थे और उसके हाथ मेरी पीठ पर नाख़ून से निशान छोड़ रहे थे।

फिर 15 मिनट तक की गई किसिंग के बाद मैंने उसका टॉप निकाला और वो अब सिर्फ़ ब्रा पहने हुई थी। काली ब्रा में वो बहुत हॉट लग रही थी, में ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा और उसे भी बहुत अच्छा लगने लगा। फिर वो मेरे लंड को हाथ लगाने लगी, लेकिन मुझे उसे थोड़ा तड़पाना था और मैंने उसकी ब्रा को निकाल दिया। अब वो आधी नंगी मेरे सामने खड़ी थी, में उसके निप्पल को चूसने लगा, उसके निप्पल गुलाबी कलर के थे और वो थोड़ा मौन करने लगी। फिर उसने मेरी शर्ट निकालने को कहा और फिर में और वो दोनों टॉपलेस थे और इस दौरान उसने मुझे रोका और एक ख्वाईश की और कहा मुझे 5 मिनट तुम्हें सिर्फ़ टॉपलेस हग करना है और इसके बाद जो तुम बोलोगे, वो में करूँगी।

फिर मैंने ठीक है कहा और वो टॉपलेस और में टॉपलेस हग करने लगे और फ्रेंड्स में बता दूँ कि अगर आप किसी को टच करते है और रेस्पेक्ट करते है, तो कभी यह ट्राई करना, मस्त फीलिंग आती है। फिर 5 मिनट तक हम में से क़िसी ने कुछ भी नहीं कहा। मेरी छाती और उसके बूब्स और निप्पल टाईट प्रेस हो रहे थे, वो फीलिंग बहुत ही अलग और खूबसूरत थी। फिर अचानक वो मुझे किस करके अचानक नीचे बैठी और पेंट के ऊपर से मेरे लंड को दबाने लगी, जो कि अब तक पूरी तरह खड़ा था। उसने मेरा पेंट और अंडरवियर उतारा और मेरे लंड को हाथ में ले लिया और वो डरी नहीं या कुछ कहा नहीं, बस उसे अपने मुँह में लेकर चूसती रही और मुझे बड़ा ही मजा आ रहा था, वो थोड़ी देर उसे चूसती। फिर रुक जाती फिर उसे थोड़ा हिलाती और फिर रुक जाती। फिर धीरे-धीरे फिर से सक करती, यह बाकी के हुए मेरे सेक्स से बिल्कुल अलग था। फिर लास्ट में तो उसके मुँह में ही पूरा झड़ गया और उसने पूरा पानी चूस लिया। अब मैंने उसे उठाया और उसकी पेंट उतार दी और वो अब सिर्फ़ काली पेंटी में थी, जो बहुत ही हॉट लग रही थी, वो पूरी तरह गीली हो चुकी थी। में पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को छू रहा था और वो तरह तरह के एक्सप्रेशन दे रही थी।

फिर मुझसे और नहीं रहा गया और मैंने उसकी पेंटी उतार दी, वो पूरी तरह से नंगी थी और बहुत ही मस्त लग रही थी। उसकी चूत के पास एक भी बाल नहीं था और फिर उसकी गुलाबी चूत को पागलों की तरह चाटने लगा और थोड़ी ही देर में उसने एक सेक्सी सा एक्सप्रेशन दिया और झड़ गई, लेकिन में यहाँ कहाँ रुकने वाला था, में पागलो की तरह चूसता रहा और चूत का पानी पीता रहा। फिर मैंने दो उंगली उसकी चूत में डाली, तो वो बहुत गर्म हो गई और में उंगली को उसकी चूत में अंदर बाहर करता रहा और उससे और नहीं रहा गया और उसने मेरा लंड पकड़ा और कहा कि प्लीज़ अब मत तड़पाओ, डाल दो मेरी चूत में अपना लंड, वो 15 अगस्त की रात मुझे शायद वो सुनने को मिला, जो कि मेरे साथ कभी नहीं हुआ था और जो मैंने कभी सोचा भी नहीं था। फिर में अपने लंड को उसकी चूत के पास ले गया और मैंने कहा की कंडोम, तो उसने मना कर दिया और कहा कि नहीं आज कुछ नहीं बस इस रात को एन्जॉय करे और इन पलो में खो जाये।

फिर मैंने पोज़िशन ली और धीरे से अपना लंड उसकी चूत में सरका दिया, वो थोड़ी चीखी, लेकिन मेरा साथ दे रही थी और दूसरे ही धक्के में मेरा लंड उसकी चूत में पूरा अंदर था और उसकी आँख से थोड़े से आँसू निकले, वो वर्जिन नहीं थी, लेकिन वो आँसू क्यों निकले? मुझे अभी भी नहीं पता। में धक्के मारते रहा और वो मेरा पूरा पूरा साथ देती रही। उसकी चूत क़िसी भट्टी से कम नहीं थी। में झड़ने वाला था। फिर उसने अंदर ही झड़ने का इशारा किया, वो दो बार झड़ चुकी थी और आहें भर रही थी और जैसे ही में झड़ा तो उसने अपने नाख़ून मेरी पीठ पर गड़ा दिये और हम लेट गये। फिर मैंने कहा कि अब मुझे उसकी गांड में लंड डालना है और उसने कुछ नहीं कहा। फिर मैंने उसकी गांड भी मारी।

उसकी गांड का छेद थोड़ा टाईट था और जब मैंने लंड उसकी गांड में डाला, तो वो अंदर घुस गया। उसे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन एक अलग सी खुशी उसके चेहरे पर थी। फिर में उसकी गांड में ही झड़ गया और पूरी रात हमने अलग अलग पोज़िशन में सेक्स किया और उस रात का बहुत अलग ही मजा था और हम एक दूसरे से चिपककर सो गये। सुबह माइक पर देश गीत सुनकर मेरी आँखें खुली और देखा कि श्रुति अभी भी सो रही थी, वो बहुत ही मस्त दिख रही थी। फिर हम उठ गये और में घर जाने लगा, तो जाने से पहले उसने मुझे एक किस दिया। जब में घर के लिये निकला तो मन किया कि वापस जाऊं और उसे किस करूँ और उसे थैंक्स कहूँ, लेकिन में वहां से चल दिया। फिर वो धीरे धीरे मुझे इग्नोर करने लगी और कहा कि उसका बॉयफ्रेंड वापस आ गया है और वो उसके साथ मूवी देखने जाती है। अब हम ज्यादा सम्पर्क में नहीं है। अब भी कभी कभी जब में घर जा रहा होता हूँ तो पंजाब मैल दिख जाती, जिससे हम मिले थे और मुस्कुराहट आ जाती है और में श्रुति और उस रात को याद कर लेता हूँ और कहता हूँ कि बहुत ही खूबसुरत थी वो यादें और वो पल, जो कि में आज भी याद करता हूँ ।।

धन्यवाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *