मौसी की बेटी की चूत से तुडवाई अपने लंड

कामलीला डॉट Antarvasna कॉम के प्यारे पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्ते, दोस्तों मेरा नाम राहुल है, आज मैं आप सभी के लिये अपना एक सच्चा सेक्स अनुभव लेकर आया हूँ और मैं इसको कामलीला डॉट कॉम के माध्यम से एक सच्ची कहानी के रूप में पेश कर रहा हूँ। मुझे आशा है कि मेरी यह कहानी आप लोगों को बहुत पसंद आएगी। मैं ग्वालियर में रहता हूँ, मेरी उम्र 25 साल की है और मेरी लम्बाई 5.8 फुट की है। अब मैं अपने मुहँ से अपनी तारीफ़ क्या करूं, मेरे कॉलेज में सभी लड़कियाँ मुझपर मरती है। दोस्तों अब आपका समय ज्यादा ना लेते हुए मैं सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ।

दोस्तों बात उस समय की है जब मैं 12 वीं का छात्र था और मैं उस समय पहली बार ग्वालियर आया था. इसलिए मैं दिल में अजीब सा महसूस कर रहा था। मैं उस समय किराए के एक मकान में अकेला रहता था, और फिर कुछ समय के बाद ठंड का मौसम भी शुरू हो गया था और ग्वालियर का मेला भी शुरू हो रहा था। मेरी मौसी की लड़की गाँव से मेला देखने के लिए ग्वालियर आई हुई थी और वह मेरे पास ही रुकी थी। दोस्तों वह बहुत सुन्दर और सेक्सी थी, उसका फिगर 32-28-34 का है और उसके बब्स बहुत कड़क है और वह ब्रा के बिना सलवार सूट में साफ-साफ़ दिखाई देते है। एक शाम को उसने मुझको मेला घूमने के लिए कहा और मैं तैयार हो गया। हमने मेले में खूब मस्ती करी और खाना भी वही खा लिया था। ज्यादा घूमने से हम बहुत थक चुके थे। तो फिर हम घर पर चले आये और फिर मैं बाथरूम में पैशाब करने के लिए गया था और मेरी मौसी की लड़की प्रिया ने सोचा कि, मैं बाहर गया हूँ इसलिए वह भी बेफिक्र होकर अपने कपड़े बदलने लग गई थी। मेरा बाथरूम उसके पास में ही था और फिर प्रिया अपना कुर्ता उतार रही थी कि, इतने में मैं वहाँ पहुँच गया था और फिर मैंने उसके बब्स के उभारों को देखा तो मेरे तो होश ही उड़ गए थे और मैं उसे बस एकटक देखे जा रहा था। दोस्तों इससे पहले मैंने कभी ऐसा नज़ारा नहीं देखा था। वह शीशे के सामने खड़े होकर अपने कपड़े उतार रही थी और जाने क्या गुनगुना भी रही थी और फिर प्रिया ने जैसे ही मुझे देखा तो वह अचानक से सिमट गई थी और फिर वह मुझसे थोड़े कड़े स्वर में बोली कि भाई, आप क्या देख रहे हो? और फिर मुझे कुछ समझ में नहीं आया कि, यह अचानक से क्या हुआ मेरी नींद सी खुली और मैं बाहर बरामदे में चला आया। असल में मेरे पास एक ही कमरा था और रसोई भी। और फिर थोड़ी देर के बाद मैं वापस आया और फिर मैंने प्रिया से कहा कि, सर्दी बहुत है थोड़ी थोड़ी चाय बना लो और फिर हम बातें करेंगे। और फिर वह चाय बनाकर लाई फिर उसने मेरी तरफ देखा और एक प्यारी सी मुस्कुराहट देकर और फिर वह सो गई थी।

मेरी परीक्षा भी करीब थी इसलिए मैं टेबल पर पढ़ने बैठ गया था पर मेरा पढ़ने में मन ही नहीं लग रहा था इसलिए मैं भी प्रिया के पास जाकर लेट गया था क्योंकि मैं अकेला रहता था इसलिए मेरे पास अधिक सामान नहीं था और पलंग भी एक ही था और बिस्तर भी एक। मुझे नींद नहीं आ रही थी, मेरी आँखो के सामने बार-बार वही नज़ारा घूम रहा था. और फिर तभी प्रिया ने करवट बदली और अपना एक हाथ और एक पैर मेरे ऊपर रख दिया था और मेरे होठों के पास उसका मुहँ आ गया था और फिर अचानक से उसकी साँसें तेज़ हो गई थी. दोस्तों उस समय मुझको ऐसा लगा कि, शायद वह भी सोई नहीं है। और फिर उसकी तेज़ साँसों से मेरे कानों में गरम हवा जा रही थी जिससे मेरा भी लंड खड़ा हो गया था। और फिर मैंने थोड़ी सी हिम्मत जुटाकर प्रिया के होठों पर अपने होंठ रख दिए थे और फिर मैं उसको चुंबन करने लग गया था। और फिर अचानक से वह भी मुझसे नागिन की तरह लिपट गई थी और फिर मैं उसके बब्स को भी सहलाने लग गया था। दोस्तों वह भी कम नहीं थी और उसने भी मेरा लंड पकड़ लिया था और फिर मेरा लंड पकड़कर वह मुझसे बोली कि, भाई यह तुम्हारा लंड है या किसी हाथी की सूंड?

और फिर उसने मुझे किस करना शुरु कर दिया तो मैंने भी उसका पूरा साथ दिया और फिर मैं उसके बब्स को दबाने लग गया था, हाय क्या मस्त बब्स है तुम्हारे तो. और फिर प्रिया मुझसे बोली कि, प्लीज जरा जोर से दबाओ ना भाई इनको बड़ा मजा आ रहा है, मैं तो कब से चुदवाना चाहती थी आपसे, लेकिन आप ही ने कभी ध्यान नहीं दिया और फिर मैंने उसको कहा कि, ओह! मेरी जान मुझे पता होता तो मैं तुमको कब का चोद चुका होता, क्या गजब के बब्स है तेरे यह तो पूरे आम की तरह है। तो फिर प्रिया मुझसे कहने लगी कि, दबा डालो भैया आज इनको। और फिर मैंने उसको कहा कि, आज से रोज मैं तेरी चुदाई करूँगा और रातभर में तेरी चूत और गांड दोनों को फाड़ दूंगा। और फिर मैंने उसकी शोर्ट के ऊपर से उसकी गांड को खूब दबाया तो प्रिया आहहह… भैया मजा आ रहा है करने लग गई थी। और फिर मैंने उसकी टी शर्ट को उतारकर उसके बब्स चूसे और उनको खूब मसला भी। और फिर उसने मेरी पेन्ट को उतार दिया था और फिर वह मेरे लंड से खेलने लग गई थी और फिर मैंने अपना लंड उसके मुहँ में डाल दिया था. और फिर वह किसी रंडी की तरह मेरा लंड चूस रही थी। और फिर 10 मिनट की लंड चुसाई के बाद मैंने उसकी शार्ट को भी उतार दिया था।

दोस्तों 22 साल की एकदम मस्त और जवान लड़की मेरे सामने एकदम नंगी पड़ी थी। क्या मस्त गोरी और अनचुदी चूत थी उसकी, बिलकुल टाइट और सुन्दर। और फिर मैंने अपनी एक ऊँगली उसकी चूत में डाल दी और फिर मैं उसको अन्दर बाहर करने लगा तो प्रिया सिसकियाँ लेने लगी उईईई माँ.. क्या कर रहे हो भाई दर्द हो रहा है। तो फिर मैंने उसको कहा कि, रुक जा डार्लिंग. अभी तो यह मोटा वाला लंड तेरी चूत में डालूँगा। और फिर वह मुझसे कहने लगी कि, आहहह… भैया मजा आ रहा है और फिर उसकी चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी और वह काफी सिसक रही थी। और फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत में सेट किया और फिर हल्का सा धक्का मारा तो मेरा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ 2” उसकी चूत के अन्दर चला गया था तो प्रिया आहहह… भाई बहुत दर्द हो रहा है करने लग गई थी। और फिर मैंने उसको कहा कि, रुक जा मेरी जान थोड़ी देर बाद तुझे इससे भी ज्यादा मजा आएगा। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत से बाहर खींचा और फिर दुबारा पूरा उसकी चूत में घुसा दिया था तो प्रिया उईईई… मर गई भैया छोड़ दो मुझे कहने लग गई थी। और फिर मैंने उसको कहा कि, अरे रंडी चुदाई ऐसे ही होती है देख मैंने तेरी चूत फाड़ दी है और फिर मैंने उसको कहा कि, अपनी असली चुदाई तो अब शुरु होगी और फिर मैंने धक्के पर धक्के लगाना शुरु कर दिया था और फिर थोड़ी देर के बाद उसे भी मजा आने लग गया था।

प्रिया :- मजा आ गया भैया। चोदो और जोर से चोदो।

मैं :- आज से तू मेरी रंडी है।

और फिर मैं उसके बब्स को भी दबा दबाकर उसको चोद रहा था और वह भी मजे ले लेकर अपनी चूत को चुदवा रही थी।
मैं :- कैसा लगा अपने भाई का लंड लेकर?

प्रिया :- बहुत मजा आ रहा है भाई और तेज और तेज-तेज करो।

और फिर दोस्तों मैंने 20-25 मिनट तक उसको खूब जमकर चोदा और फिर मैं उसकी चूत में ही झड़ गया था। दोस्तों उसके बाद हमने रात भर चुदाई का नंगा नाच खेला, और फिर सुबह हुई और हमने देखा कि, बिस्तर और कपड़े खून से सने हुए थे। दोस्तों असल मैं हम दोनों ने पहली बार सेक्स किया था इसलिए हम दोनों की ही सील टूट गई थी। दोस्तों अब तो हमको चुदाई का चस्का लग गया और फिर तो मैं रोज़ ही प्रिया को चोदता था क्योंकि प्रिया 3-4 दिनों के लिए आई थी मगर वह मुझसे चुदने के लिये 10 दिन तक रुक गई थी।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!