सोम्मया की चुदाई – हिन्दी सेक्स स्टोरीस

मेरा नाम सोम्मया है.मैं 26 साल की हूँ.मैं एक कॉलेज में पढ़ती हूँ.मैं बहुत खूबसूरात ओर गोरी हूँ.जो भी मुझे देखता है वो बस देखता रही जाता है.मेरा साइज़ भी बहुत सुंदर है.मेरी छाती 36 कमर 24 ओर चूतड़ 36 साइज़ के हैं जो किसी भी मर्द को आकर्षित कर सकता है.जिस कॉलेज में मैं पढ़ती हूँ वहाँ बोय्ज स्टूडेंट्स ज़्यादा हैं ओर गॅल्स कम हैं.मैं कंप्यूटर की टीचर हूँ ओर कॉलेज में कंप्यूटर के लेक्चर लेती हूँ.मेरी क्लास में बहुत कम स्टूडेंट्स हैं जिनमे से मोस्ट्ली सब बाहर ही रहते हैं लेकिन एक स्टूडेंट है जो हमेशा मेरी क्लास में होता है.इस स्टूडेंट का नाम अन्वेश है.अन्वेश बहुत ही गुड लुकिंग ओर टॉल डार्क हॅंडसम गयी है.मैं बहुत खुश होती हूँ जब उसे अपनी क्लास में पाती हूँ.अन्वेश की बॉडी बहुत सेक्सी है.जब केवल वो क्लास मे होता है तो मैं उसे अपने पास बैठा कर अपने लॅपटॉप से पढ़ती हूँ ताकि उसे पास से महसूस कर सकूँ.अन्य वेस ये तो इंट्रो हो गया…

अन्वेश और मैं जब क्लास में होते तो जितना पढ़ते उतनी ही इधर उधर की बातें करते.एक दिन क्लास में मैं उसे अपने पास बैठा कर लॅपटॉप पे पढ़ा रही थी तो मैने देखा वो मेरे सूट के नीचे जहाँ सूट कटा होता है ओर जहाँ जाँघ से थोड़ा ऊपर साइड से पाजमी दिखती है वहाँ देख रहा था.मैने जब उस तरफ देखा तो मेरी कच्ची पाजमी मे से हल्की हल्की दिख रही थी ओर जब मैने उसे कहा के अन्वेश कहाँ देख रहे हो तो वो चोंक गया ओर कुछ नही कह के लॅपटॉप देखने लगा.मैं समझ गयी थी की वो मुझे पसंद करने लगा है और मेरी तरफ अटरटकते होने लगा है.मेरा चर्म ने उसे पागल कर दिया था.मैं भी अन्वेश को बहुत पसंद कराती थी.उसकी सेक्सी बॉडी की मैं दीवानी थी लेकिन कुछ कर भी नही सकती थी.लेकिन उसकी नज़र पहचान के बाद अब मैं भी समझ चुकी थी इसलिए मैं अब असे कपड़े पहनती जिससे अन्वेश मेरी तरफ ओर भी ज़्यादा अट्रॅक्ट हो.मैं स्किन टच सूट ओर पाजमी पहनके आने लगी जिससे की वो मेरे बदन को ओर भी अच्छे से देखे ओर मुझे चोदने की सोचे.मैं अब एसे पाजमी ओर सूट पहनके कॉलेज आने लगी जिसमे से मेरी ब्रा ओर मेरी कच्ची चमके.मेरा ये तीर निशाने पे लगा ओर फाइनली अन्वेश ने मुझसे बोला…….के मेडम आप बहुत ब्यूटिफुल लगती हो.

कस आप मेरी मेडम ना होती.मेने एक दम से उससे कहा के अगर मैं आपकी मेडम नही होती तो क्या करते अन्वेश आप?अन्वेश ने जवाब दिया की तब मैं आपको प्रोपोज कराता ओर अपनी गर्लफ्रेंड बना लेता.ये सुनकर तो मेरे मन मे हज़ारो रसगुल्ले फूट पड़े.मैं थोड़ी देर चुप रही ओर बड़े प्यार से बस अन्वेश को देखती रही फिर थोड़ी देर बाद मैने अदा के साथ अपनी नज़रे उसकी तरफ करके कहा…..अन्वेश हम कॉलेज मे टीचर स्टूडेंट का रिश्ता रखते हैं लेकिन बाहर तो हम एक जवान लड़का ओर जवान लड़की ही हैं ना?ये सुनकर अन्वेश खुश होकर बोला……इसे मेडम यू अरे रीत.अन्वेश का इसे सुनकर मैं बहुत खुश हुई ओर बोली अन्वेश आज आप मुझे कॉलेज के बाद कॉल करना आपसे कुछ कहना है मुझे.इस पर अन्वेश बोला ओके मेडम.मैने कहा आप मुझे अब मेडम सिर्फ़ स्टूडेंट्स के सामने कहोगे लेकिन जब क्लास में हम दोनो अकेले हूँ तो आप मुझे सिर्फ़ सोम्मया कहना.अन्वेश मन गया ओर मेरा सेल नो लेकर चला गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *