एक्सट्रीम्ली हॉट चुदाई पड़ोस की लड़की

फ्रेंड्स मैं काफ़ी टाइम से सेक्स स्टोरीस पड़ रहा हूँ पर ये पहला मौका है जब मैं अपनी स्टोरी आप लोगो से शेयर करूँगा.

मेरा लंड 6 इंच से कुछ बड़ा है और अभी तक मैने बस एक बार चुदाई की है. मैं बंगलोर का रहने वाला हूँ और भी.ए कर रहा हूँ. मेरा नाम महेश है आगे 20.
ये दो साल पूरेानी बात है जब मुझे अपना लंड किसी की चुत मे डालने का मौका मिला.मैं 12त मे था उस वक़्त..मेरे आंटी और अंकल किसी कम से शहर से बाहर थे.किस्मत से अंकल अपना लॅपटॉप घर पे चोद के गये थे. घर मे और कोई ना होने के कारण मैं सारा दिन सेक्स मूवीस और सेक्स स्टोरीस पड़ने मे निकल देता था.

एक दिन मैं सुबह उठा तो मुझे कही से पायल की आवाज़ आई! सुबह के 6 बजे थे.घर मे कोई तो था नही ओह मैं बाहर देखने गया. मैने देखा मेरे घर के सामने वाले अपार्टमेंट मे कोई लड़की जो थोड़ी बड़ी लग रही थी हाथ मे कुछ समान ले के खड़ी थी. सही बताऊ दोस्तो रापचिक माल थी वो. गांड एक दम फूली हुई थी चुचे मस्त दिखाई दे रहे थे. साइज़ तो मालूम नही लेकिन हां उसको देख के मेरे लंड खड़ा हो गया था. उसे पता ना था की मैं वाहा खड़ा हूँ.अचानक उसने अपना समान ज़मीन पे रखा और अपने हाथ से अपने गांड मे फँसी हुए सलवार को निकालने लगी. उस वक्त मेरे लंड इतना टाइट हो गया की मैं वही अपना लंड बरमूडा के ऊपर से हिलने लगा.तभी अचनका वो पीछे मूडी. मैं घबरा गया एकदम से पूछा “मे ई हेल्प यू मेडम?”.

उसने कहा”मेरा नाम स्वाती है और मैं यहा अपने अंकल से मिलने आई थी पर घर पेट ओह ताला लगा है”.
तब मुझे ध्यान आया की सामने वाले अपार्टमेंट पे ताला लगा है. मैं मन ही मन मुस्कुराया और उसे कहा आप मेरे अपार्टमेंट पे कुछ देर इंतेज़ार कर सकती है और मैने उसका समान उठा लिया. उसने पूछा”घर पे तुम्हारे पेरेंट्स नही है क्या?” मैने कहा”नही एक हफ्ते के लिए घर से बाहर गये है”
वो चुप चाप अंदर आई और घर अंदर से देखने लगी.

मैने कहा आप आराम से इसे अपना घर समझ के बैठिए. आपके अंकल आते ही होंगे.
फिर मे उसके लिए पानी लेके आया और सोफे पे बैठ के हम दोनो बाते करने लगे. पूरे वक़्त मैं उसके चुचे देखे झड़ आ था. और शायद उसने ये नोटीस किया था. अचानक उसने पूछा “तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?”
मैं”हां है ना बहुत सुंदर है”
स्वाती:”तो तुम तो उसे प्यार करते हो यार फिर रेज़ ही सेक्स वेक्स के लिए पटाया है?”
मैं शॉक मे आ गया और ना जाने क्यो मेरा लंड फिर से टाइट हो गया.मैने कहा मैं उसे प्यार कराता हूँ लेकिन हाँ मैने उसके साथ सेक्स कभी नही किया!
स्वाती:क्यो तुम्हारे पास लंड नही है?
मैं:यार आप तो बहुत फ्रॅंक हो. नही मेरे पास है तो खुद देख लो!
स्वाती: मुझे टाय्लेट मे जाना है!
मैं:चलो दिखता हूँ आपको.

मैं उसे टाय्लेट के पास ले गया.वो अंदर चली गयी और दरवाज़ा बस सटा दिया बंद नही किया. उसके पूतने की आवाज़ मुझे सुनाई दे रही थी. अचानक उसने बैठे बैठे ही दरवाज़ा खोल दिया और मुझे कहा तुम भी अंदर आओ. वो मेरे सामने अपनी सलवार नीच कर मूठ जा रही थी और मेरे बरमूडा मे बहुत बड़ा टेंट बना हुआ था. मैने कहा आपकी चुत बहुत मस्त है.
स्वाती: इधर आओ और मेरी चुत चाटो.

उसकी चुत अभी भी मूत से गीली थी. मैने मना किया और कहा”आप अपनी चुत धो लो पहले.”
वो उठी और सलवार पहनने लगी. मैने उसे रोका और वही लेता के उसकी चुत पे मूह रख दिया और चातने लगा. पहले तो उल्टी जैसे लग रात हां फिर मज़ा आने लगा. वो भी गरम हो रही थी और माउन कर रही थी.
स्वाती: महेश आहह….ऐसे ही इसे………………….उफफफफफफफफफफ्फ़……चटूऊऊऊऊऊओ…आआआअहुगह………
फिर अचानक वो मेरे मूह मे ही मूतने लगी…………पर मैने मूह नही हटाया…..और उसका मूत पीने लगा……….फिर मैं उठा और अपने सारे कपड़े उतार दिए. मेरा खड़ा लंड देख के वो बोली………
स्वाती: काफ़ी बड़ा है तुम्हारा………..जी भर के चोदा मुझे आज.
मैं:पहले तुम मेरा लंड चूसो….

वो वही घुतनो के बाल बैठ के मेरा लंड हिलने लगी. जैसे ही उसने अपने होंठ मेरे लंड से लगाया मैं एकदम से काँप गया….फिर हू मेरा पूरा लंड मूह मे ले के चूसना लगी….मैने मज़े के लिए उसके मूह मे ही मूतने लग गया…पर उसने अपना मूह नही हटाया और सर मूत पीने लगा…..और लंड चूस्ते रही…अचानक हू उठी और बोली प्लीज़ मुझे चोदा अब….मैने उसकी कमीज़ और ब्रा उतार दी और पूरा नंगा कर दिया…उसे मैं वही तोइले मे लिटा कर अपना एक हाथ उसके चूंचो पे रखा और एक हाथ से उसके पैरो को फैलाया. फिर अपना लंड उसके चुत के द्वार पे सेट किया….वो इस वक़्त बहुत ज़ोर ज़ोर से माउन करने लगी…मैने ज़ोर से एक झटका मारा और मेरे लंड आधा उसके चुत मे घुस गया….फिर मैं एक और झटका मारा और मेरा पूरा लंड उसके चुत मे घुस गया…..वॉ ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी..

स्वाती: आआआआआआआहह……….महेश बहुत दर्द हो रहा है……उफफफफ्फ़ ओह………….
मैं: जान कुछ नही होगा थोड़ा इंतेज़ार कर………और मैं उसे जम के चोदने लगा………वो पूरे टाइम चिल्लती रही…………फिर मैं उठ के बैठ गया और उसे अपने जाँघो पे बैठाया और उसके चुत मे अपना लंड घुसा दिया….बाकी हू समझ गयी और खुद ऊपर नीचे होने लगी…..अचानक मुझे लगा मेरा निकालने वाला है…..मैने उसे उठाया और उसके मूह मे लंड डाल दिया….वो चूसने लगी…मैं उसी के मूह मे चुत गया….उसने सारा वीर्या पे लिया…….

इस पूरे प्रोग्राम के बीच हू 3बार झाड़ चुकी थी…दोनो ही काफ़ी तक गये थे…फिर हम लोग नहाने गये…वाहा मैने उसे फिर एक बार चोदा….उसके बाद हमने कपड़े पहनने और मैने चेक किया की उसके अंकल आए की नही…सामने वाले अपार्टमेंट का दरवाज़ा खुल गया था..उसने मुझे किस किया और अपने अंकल के पास चली गयी…मैने उसे फिर नही देखा……..

एक्सट्रीम्ली हॉट चुदाई पड़ोस की लड़की के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *