मैडम की चूत ने दी मेरे लंड को चुदाई की ट्यूशन

हाय फ्रेंड्स, Antarvasna मैं कामलीला डॉट कॉम का आप सभी की तरह एक नियमित पाठक हूँ और मैंने इस वेबसाइट की बहुत सी कहानियाँ पढ़ी है और उन कहानियों को पढ़कर मुझको ऐसा लगा कि मैं भी अपने साथ हुई एक घटना को कहानी का रूप देकर आप सभी तक पहुँचाऊँ जो कि मेरे साथ असल में घटी थी। हाँ तो दोस्तों अब मैं पहले आप लोगों को अपने बारे में बताता हूँ कि, मेरा नाम कमल है और मैं 23 साल का हूँ और मैं झाँसी का रहने वाला हूँ, मेरी लम्बाई 5.8 फुट की है, मैं शरीर से कुछ मोटा हूँ, लेकिन मेरा पेट बाहर नहीं है और मेरे लंड का साईज 6” है और वह काफ़ी सख्त और मोटा है। अब मैं आपका ज्यादा समय ना लेते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ।

दोस्तों मेरी मैडम शिवानी की उम्र 27 की साल है और वह दिखने में थोड़ी साँवली सी है, लेकिन उसका फिगर 32-26-34 का है और वह दिखने में एकदम सेक्सी लगती है और चलते वक़्त उसकी गांड तो ऐसे मटकती है कि, उसको देखकर मेरा लंड तो तुरन्त ही खड़ा हो जाता है. हाँ तो दोस्तों अब मैं कहानी को शुरू करता हूँ और आशा करता हूँ की आप इस कहानी को पढ़कर खूब मजे करेंगे।

दोस्तों यह बात उन दिनों की है जब मैं अपनी इंजिनियरिंग के पहले साल में था और मेरा रिज़ल्ट आया था तो मैं रिज़ल्ट लेने गया था. और फिर मैंने देखा कि, मैं 4 विषय में फैल था. उसमें से मुझे 2 विषय शिवानी मैडम पढ़ाती थी. मुझे मेरा साल खराब होते नज़र आ रहा था, तो मैं भागकर शिवानी मैडम के पास गया। मैडम लैब में बैठी थी और कुछ पढ़ रही थी तो मैं अन्दर गया और मैडम के पास जाकर उनके सामने खड़ा हुआ तो मुझे उनके बब्स के दर्शन हो गये थे और मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया था. और फिर मैडम ने ऊपर देखा और उन्होंने मुझसे पूछा कि, क्या हुआ? तो मैंने उनको पूरी बात बताई तो बताते वक़्त वह मेरे लंड को देख रही थी और मैं उनके बब्स को देख रहा था. और फिर मैडम मुझसे बोली कि, तुम चिन्ता मत करो, मैं तुझे पढ़ाऊँगी। और फिर दूसरे दिन से मैं रोज कॉलेज में मैडम की लैब में जाकर सीखने लगा. और तभी मुझको पता चला की मैडम की शादी तय हो चुकी है और सगाई भी हो गई है। और फिर कॉलेज मैं पढ़ते वक़्त में बहुत परेशान सा रहने लगा तो मैडम मुझसे बोली कि, तू मेरे घर पर आ जाया कर, वैसे भी मैं अपने घर पर सिर्फ़ अकेली ही रहती हूँ, उनका परिवार दूसरे शहर में रहता था. तो फिर मैंने उनको बोला कि, ठीक है फिर मैडम मुझसे बोली कि, तू सिर्फ़ अकेला ही आना और अपने दोस्तो को कभी मेरे घर पर मत लाना और किसी को बताना भी मत कि, तू मेरे पास आता है। तो फिर मैंने उनको बोला कि, ठीक है और मुझे भी यही चाहिए था और फिर तो मैं खुश हो गया।

और फिर दूसरे दिन से मैं उनके घर जाने लगा, मेरी पढ़ाई अच्छी चल रही थी. एक दिन मैं सुबह गया तो मैडम नहा रही थी, मैंने घंटी बजाई तो अन्दर से आवाज़ आई कि, 5 मिनट रूको अभी आती हूँ. मैं बाहर खड़ा था, और फिर इतने में दरवाजा खुला और मैंने सामने देखा तो मैं हैरान हो गया, मैडम सिर्फ़ टावल लपेटे हुए आई थी, तो झट से मेरा लंड तन गया और मैडम ने वह देखा और फिर वह हँसकर बोली कि, पागल कहीं का, आओ अन्दर आओ. और फिर मुझे समझ में आ गया था कि, मैडम को पटाना अब मुश्किल नहीं है। मैं बाहर बैठा था और मैडम जल्दी से कपड़े बदलकर आई फिर हम पढ़ाई करने लगे, रोज रोज ऐसे ही चल रहा था की मेरे पापा का गाँव में तबादला हो गया तो वह मेरी मम्मी को और बहन को लेकर गाँव जाने वाले थे, तो मैंने पापा से कहा की मैं कॉलेज के पास ही कमरा ले लेता हूँ. फिर मैं कमरा ढूँढ रहा था तो उस दिन में क्लास में नहीं गया। फिर मुझे मैडम का फोन आया तो मैंने उन्हें सारी बात बताई तो वह बोली अरे पागल मेरा कमरा है ना, इतना बड़ा है और वैसे भी मैं अकेली ही रहती हूँ और बोर होती हूँ, तो तू मेरे साथ कमरे में रहना. मैं यह सारी बातें सुनकर इतना खुश हुआ की दोस्तो मैं बता नहीं सकता, क्योंकि मेरा सपना सच होने जा रहा था. फिर मैं उसी दिन मैडम के कमरे में शिफ्ट हो गया. फिर मैडम ने कहा की बिल्कुल आराम से अपना ही घर समझकर रहना. फिर तो क्या था मुझे लॉटरी लग गयी थी? पहली ही रात को हम खाना खाकर के सोने चले गए। मैडम के बेडरूम में डबल बेड था तो उसमे हम दोनों सो गये. फिर रात को 2 बजे मेरी नींद खुली तो मैंने मैडम की तरफ देखा, वह एकदम गहरी नींद में थी, उन्होंने हाफ पेंट और स्लीव टॉप पहना था और उनकी पेंट ढीली होगी तो वह नीचे आ गयी थी और मुझे उनकी गांड की बीच की लकीर दिखने लगी थी. मैंने अपना लंड बाहर निकाला और मुठ मारने लगा, उतने में मैडम ने करवट बदल ली तो मैंने झट से लंड अंदर डाला और सोने का नाटक करने लगा और वैसे ही सो गया। जब मैं सुबह उठा तो मैडम नहाने गयी हुई थी और मैं उन्हें नंगा देखना चाहता था तो मैं बाथरूम की तरफ चला गया. फिर मैंने बाथरूम के होल से अन्दर देखा तो मैडम पूरी नंगी थी और शावर का पानी उनके ऊपर गिर रहा था और वह अपने बब्स सहला रही थी फिर मैंने उधर ही मुठ मारना शुरू कर दिया।

फिर मैडम बाहर आई तो मैं जल्दी से निकल गया. फिर ऐसे ही रोज चलने लगा, हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गए थे. वह उनकी हर बात मुझसे शेयर करने लगी थी और मैं भी हर बात शेयर करने लगा था. हम हमेशा साथ घूमने और शॉपिंग करने जाने लगे और जब बाहर घूमने जाते तो हाथ पकड़कर चलते थे। मैडम मेरे साथ बॉयफ्रेंड जैसे ही रहती थी ऐसे ही हम एक दिन घूमने निकले तो मैडम ने मेरे हाथ को पकड़ा था और मेरा हाथ उनके बब्स को टच कर रहा था. मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। फिर हम लोग फ़िल्म देखने गए तो वह लव स्टोरी वाली फ़िल्म थी, फिर फ़िल्म ख़त्म होने के बाद हम रेस्टोरेंट में बैठे तो वहां मैडम ने मुझसे पूछा की तुम्हारे कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या? तुम इतने सुंदर स्मार्ट हो तो तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड तो होगी ना? फिर मैं बोला की नहीं मुझे अभी तक मेरी पसंद की मिली ही नहीं है. फिर वह बोली कि, तुम्हे कैसी गर्लफ्रेंड चाहिए मुझे बताओ? तो फिर मैंने झट से उनको बोल दिया कि बिल्कुल तुम्हारे जैसी और वह एकदम चुप हो गयी। फिर मैंने उनको बोला कि, क्या हुआ? तो फिर उसने मुझे बोला कि, मुझे भी तुम बहुत अच्छे लगते हो। तो बस मैंने तुरंत मैडम से कहा की मैडम आई. लव. यू. फिर मैडम बोली की नहीं यह ग़लत है, अभी मेरी शादी होने वाली है और तुम मेरे स्टूडेंट हो, हम दोनों दोस्त ही अच्छे है। फिर मैंने मैडम को बहुत समझाया और मैडम को बोला की हम किसी को भी पता नहीं लगने देंगे की तुम मेरी गर्लफ्रेंड हो और ऐसे ही चलने देंगे ना। फिर मैडम बोली की मैं सोचूँगी. फिर बस मुझे ग्रीन सिग्नल मिल चुका था फिर हम रात को घर आए। हम दोनों को भी नींद नहीं आ रही थी और हम दोनों विचार में मग्न थे और करवते बदल रहे थे।

फिर सुबह में उठा तो 10 बजे थे और मैडम कॉलेज चली गयी थी. फिर मैं बाथरूम में नहाने गया तो उधर मुझे एक लेटर मिला जिसमे लिखा था की कल से अकेले होल से देखकर मुठ नहीं मारना सीधे मेरे साथ ही नहाने आ जाना और नीचे लिखा था आई.लव.यू. कमल। यह सब पढ़कर मैं इतना खुश हुआ की बता नहीं सकता। फिर मैंने मैडम को तुरंत फोन किया और मैडम से बोला धन्यवाद तो मैडम बोली की हाँ ठीक है अभी मैं घर आती हूँ, फिर हम बातें करेंगे। मैंने एक प्लान बनाया आज हमारी सुहागरात होने वाली थी तो मैंने हॉल में कैंडल लाइट डिन्नर का प्लान किया और बेडरूम सज़ा दिया. फिर मैडम 7 बजे घर आई तो मैंने दरवाजा खोला तो वह देखकर हैरान रह गई थी। और फिर मैंने उनके लिए लाया हुआ एक ड्रेस उनको दिया और कहा की यह पहनकर आओ। और फिर वह अन्दर गई और तैयार होकर आई तो मैं तो बस उन्हें देखता ही रह गया. वह क्या सेक्सी लग रही थी? बता नहीं सकता फिर हमने साथ में डांस किया, केक काटा और ड्रिंक पिया, फिर डिन्नर करने लगे. तब मैंने मैडम से पूछा आपको कैसे पता कि, मैं आपको देखकर रोज़ मुठ मारता हूँ? तो फिर वह मुझसे बोली कि, एक तो मैं अब तुम्हारी गर्लफ्रेंड हूँ तो मुझे मैडम कहना बन्द करो और मैं पागल नहीं जो मुझे कुछ समझ ना आए। फिर मैं डिन्नर के बाद बालकनी में जाकर सिगरेट पीने लगा और मैडम डाइनिंग टेबल साफ कर रही थी फिर वह काम खत्म करके वह बालकनी में आई और मुझे पीछे से पकड़ लिया और बोली की आज मैं बहुत खुश हूँ थैंक. यू. सो. मच. फिर मैंने उनको आगे घुमाया और सीधा उनके होंठों पर किस करने लगा फिर वह भी मेरा साथ देने लगी। फिर वह उसकी जीभ को मेरे होंठ पर घूमाने लगी, ऐसा 10 मिनट तक किस करने के बाद में उनका ड्रेस निकालने लगा, तो वह मना करने लगी तो मैंने कहा क्या हुआ? तो वह बोली अन्दर चलो बाहर नहीं, फिर मैं उसको गोद में उठाकर अंदर ले गया. फिर मैंने उसका ड्रेस उतारा, वह अब सिर्फ़ पेंटी में थी क्या कमाल की माल लग रही थी। अब मेरा सपना सच हुआ होने वाला था मैं पागलों की तरह उसे चूमने लगा और उसके बब्स दबाने लगा. फिर उसने मेरे कपड़े उतारे और फिर मैं उसके बब्स को चूसने लगा, उसके बब्स क्या टेस्टी थे यार? फिर मैंने उसको बेड पर बैठाया और मेरा 6 इंच का लंड उसके मुहँ में डाल दिया. वह पागलों की तरह लंड चाटने लगी और चूसने लगी थी। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

फिर मैंने उसका सिर पकड़ा और ज़ोर ज़ोर से अपने लंड को आगे पीछे करने लगा, तो मेरे मुहँ से आहह… शिवानी, आहह… आवाज़ निकल रही थी. फिर 15 मिनट के बाद मैं उसके मुहँ में ही झड़ गया. फिर उसने अपनी पेंटी उतारी और मैं उसकी चूत को चाटने लगा तो वह पागलो की तरह चिल्लाने लगी. हाआआ… एयाया… उफफ्फ़… और तेज़ कमल और तेज़, फिर वह झड़ गयी और मैं उसका पूरा पानी पी गया. फिर मैंने उसको नीचे लेटाया और उसके पैरो को ऊपर किया और मेरा लंड उसकी चूत पर रखा और एक ज़ोर का झटका मारा तो वह बहुत ज़ोर से चिल्लाई आअहह… मैं मर गयी, आहह… धीरे करो ना डार्लिंग। फिर मैं तोड़ा धीरे धीरे झटके मारने लगा, तो वह बहुत मौन कर रही थी इतने में उसकी चूत से खून आने लगा तो मैं रुक गया। और फिर मैंने उससे पूछा कि, तुम्हारा पहली बार है क्या? तो वह बोली हाँ और डरने लगी। फिर मैंने उससे कहा की चिंता मत करो पहली बार में ऐसा ही होता है, फिर मैंने वह खून साफ किया और फिर लंड अन्दर डालकर शुरू हो गया. वह तो एकदम नशे में आ गयी थी और उसकी चूत एकदम गर्म हो चुकी थी और वह ज़ोर ज़ोर से मौन कर रही थी. आअहह… आह… और ज़ोर से आई.लव.यू, किस करो डार्लिंग और फिर 20 मिनट के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया और वह एकदम थक सी गयी थी फिर हम लोग सो गये।

दोस्तों जब तक मेरा पेपर नहीं हुआ और तब तक उसकी शादी नही हुई तब तक मैं रोज़ उसको चुदाई के मज़े देता रहा। एक दो बार तो वह प्रेग्नेन्ट भी हो गई थी। क्युंकी दोस्तों चुदाई में इतना होश ही कहाँ होता है कि, बाद में क्या होगा।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!