मेरी चचेरी बहन टीना की चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा antarvasna नाम अभय है और में आज अपनी एक पहली कहानी लेकर आया हूँ। मुझे उम्मीद है आपको मेरी यह कहानी बहुत पसंद आएगी, तो चलिए फिर शुरू करते है। दोस्तों ये बात आज से 2 महीने पहले की है, जब में कुछ दिनों के लिए घर पर अकेला था, मेरी उम्र 21 साल हो गई थी और उस टाईम मेरी नयी-नयी जॉब लगी थी, मुझे जॉब पर जाते हुए अभी एक महीना ही हुआ था कि उधर से मेरी दूर के ताऊ जी के लड़के की शादी आ गई थी। अब मेरा घर वैसे तो एक जॉइंट फेमिली है, लेकिन सबने अपना-अपना घर बनाया हुआ है और कोई किसी के साथ ज़्यादा मतलब नहीं रखता है। हमारे पूरे घर में सिर्फ़ एक ही बाथरूम है, जो सब उपयोग करते है।

मेरी एक चचेरी बहन टीना है, वो मुझे बहुत अच्छी लगती है, खासकर उसका मस्त फिगर जो कि 32-26-36 है, उसकी हाईट ज़्यादा नहीं है, लेकिन फिर भी वो साली कयामत है। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मुझे उसकी चूत मिल जाएगी, लेकिन एक रात ऐसा हो ही गया। मुझे मुठ मारने की एक बहुत ही गंदी आदत थी, जिस दिन में अपने ऑफिस गया था और घर आकर देखा तो घर का लॉक लगा हुआ था, तो तब में समझ गया कि सब घरवाले चले गये है। फिर मैंने अपनी वाली चाबी से दरवाजा ओपन किया और चेंज करके डिनर कर लिया। फिर मैंने लैपटॉप में ब्लू मूवी शुरू कर दी और मुठ मारने लग गया। अब इस टाईम करीब 10 बजे रहे थे। अब मेरा लंड पूरे जोश में आ गया था और तभी मैंने अपनी खिड़की से देखा कि टीना बाथरूम में जा रही है। तो तब में झट से बाहर आया, तो तब मैंने देखा कि सबके सब सो चुके है और सबने अपने-अपने घर के दरवाजे भी अंदर से बंद किए हुए है।

अब पूरी लाईट ऑफ थी, बस घर के बाहर छोटे-छोटे बल्ब ऑन थे, जिनकी ज़्यादा रोशनी नहीं थी। वो बाथरूम मेरे घर के दरवाजे के सामने ही था। फिर में अपने रूम की लाईट ऑन करके अपने दरवाजे के पास खड़ा हो गया और साईड में पड़े हुए तेल को अपने लंड पर अच्छे से लगा लिया और फिर ज़ोर-ज़ोर से मुठ मारने लग गया। अब तेल की वजह से मेरा लंड काफ़ी मोटा और सख्त हो गया था। फिर थोड़ी ही देर में टीना बाथरूम से बाहर आ गई। अब मैंने अपने रूम की लाईट ऑन कर रखी थी इसलिए मुझे वो साफ-साफ देख सकती थी। फिर जब उसने मुझे 8 इंच के लंड के साथ मुठ मारते हुए देखा तो तब उसकी दोनों आँखें फटी की फटी रह गई थी। फिर करीब 2 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे की आँखो में देखते रहे। फिर वो वहाँ से शर्माकर चली गई और में दरवाजा बंद करके अपने रूम में आ गया था और फिर मैंने टीना के नाम की एक मुठ मारी और फिर में सो गया। फिर अगले दिन में टाईम से उठा तो बाहर सब कुछ नॉर्मल था।

फिर में जल्दी से तैयार हुआ और ब्रेकफास्ट करके अपने ऑफिस के लिए घर से निकल लिया। उस दिन ऑफिस में मेरे पास ज़्यादा काम नहीं था, इसलिए में टाईम से घर वापस आ गया था। फिर घर आते ही मैंने देखा कि टीना अपनी फ्रेंड के साथ खड़ी होकर बातें कर रही थी। फिर जब उसने मुझे देखा तो वो मुझे देखकर धीरे से मुस्कुरा दी। तब में झट से समझ गया कि टीना को रात को मेरा लंड पसंद आ गया है। अब में खुश था कि चलो एक चूत चोदने को मिलेगी। अब में रात होने का इन्तजार करने लग गया था। फिर रात को जब 10 बजे तो तब में शॉर्ट डालकर बाहर निकला तो तब मैंने देखा कि कल की तरह मैदान बिल्कुल साफ था। अब सबके सब नींद में थे और सब दरवाजे बंद थे। अब में उसके आने का इन्तजार करने लग गया था। फिर कुछ ही देर के बाद टीना बाथरूम करने के लिए आई तो तब में एकदम पीछे हट गया और उसे अंदर जाने का रास्ता दे दिया।

दोस्तों मुझे माफ करना में आपको ये बताना भूल गया था कि मेरे घर में कोई भी बाथरूम का दरवाजा अंदर से बंद नहीं करता है, क्योंकि बाथरूम के आगे मेरे घर का दरवाजा है और वो हमेशा ही बंद रहता था। फिर उसके अंदर जाने के बाद में थोड़ी ही देर में अंदर घुस गया तो अंदर जाते ही मैंने उसकी चिकनी गोरी चूत देखी और उसे देखते ही मेरा लंड झट से फूल गया और खड़ा हो गया था। तब वो मुझे देखते ही बोली कि आपको दिखता ही नहीं क्या में अंदर हूँ? तो तब में बोला कि नहीं सॉरी, दरअसल मुझे ज़ोर से पेशाब आ रहा था, इसलिए में अंदर आ गया और फिर ये कहकर में बाहर आ गया और फिर बाहर बाथरूम के दरवाजे के सामने खड़ा होकर मुठ मारने लग गया था। अब टीना की चूत ने मेरा दिमाग खराब कर दिया था। फिर कुछ ही देर में टीना बाहर आ गई। अब में उसके सामने नीचे नंगा खड़ा था और अपने राईट हाथ से ज़ोर-ज़ोर से मुठ मार रहा था। तब वो मुझे देखते ही बोली कि आपको शर्म नहीं आती रोज-रोज मुठ मारते हो। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर तब में बोला कि देख यार में भी क्या करूँ? मेरे दिमाग के ऊपर हर वक़्त सेक्स ही चढ़ा रहता है, मुझे अपना सेक्स उतारने के लिए एक पार्ट्नर चाहिए। तब वो मेरी बात सुनकर वहाँ से मेरे लंड को देखते हुए चली। फिर उसके जाने के 2 मिनट के बाद ही मेरे लंड ने अपना पानी निकाल दिया और फिर में बाथरूम करके अपने रूम में आ गया और फिर ना जाने कब में सो गया? मुझे कुछ पता ही नहीं चला था। अब अगले दिन रविवार था इसलिए मुझे ऑफिस तो जाना नहीं था। फिर में आराम से 12 बजे उठा और अपने कपड़े उठाकर बाथरूम में नहाने के लिए जाने लगा। फिर में जैसे ही बाहर निकला तब मैंने देखा कि टीना बाहर बैठकर कपड़े धो रही थी। उसके बूब्स बाहर की तरफ निकल रहे थे, जिसे देखते ही में पागल सा हो गया था और अब में ज़ोर-ज़ोर से मेरे लंड को मसलने लग गया था। अब मेरा दिल कर रहा था कि अभी के अभी साली को चोद डालूं।

फिर में जल्दी से बाथरूम में गया और जाते ही पहले टीना के नाम की मुठ मारी और फिर मैंने उसी टाईम सोच लिया कि आज तो साली को कैसे भी करके चोद ही देना है? फिर मैंने ब्रेकफास्ट कर लिया और फिर मैंने सीधा डिनर ही किया और अब में रात होने का बेसब्री से इंतज़ार करने लग गया था। अब उस रात होने में ही नहीं आ रही थी, लेकिन फिर जैसे तैसे रात हुई और अब में टीना के आने का इन्तजार करने लग गया था, लेकिन अब टीना थी की आने का नाम तक नहीं ले रही थी। फिर में सो गया, लेकिन तभी कुछ देर के बाद मुझे किसी के आने की आहट सी सुनाई दी। तब में उठ गया और बाहर देखा तो टीना बाथरूम में जा रही थी, आज उसने पिंक कलर की नाइटी पहनी हुई थी। फिर में भागकर बाहर आया तो तब मैंने देखा कि उसने नीचे कुछ भी नहीं पहना हुआ था, क्योंकि उसके बूब्स उसके चलने पर बड़े मस्त तरीके से हिल रहे थे। फिर मैंने वहाँ पर ही अपने सारे कपड़े उतार दिए और पूरा नंगा हो गया था। अब जैसे ही वो बाथरूम में जाने वाली थी तो तब उसने एक बार पीछे मुड़कर मुझे देखा, तो तब में पूरा नंगा था। तब वो मुझे देखकर मुस्कुराई और फिर अंदर चली गई। तब में भी उसके पीछे भागकर बाथरूम में घुस गया।

फिर मैंने अंदर जाते ही देखा कि टीना ने पीछे से अपनी नाइटी ऊपर उठाई हुई थी। अब मेरे सामने उसकी चिकनी कमर और गांड थी, जिसे देखते ही मेरा लंड फूलने लग गया था। फिर मैंने उसे पीछे से अपनी बाहों में ले लिया और उसकी गर्दन और कान पर किस करने लग गया था। अब मेरा लंड उसकी गांड पर लग रहा था, जिस वजह से वो और भी गर्म होने लग गई थी। तभी मैंने उसे एक झटके से अपनी तरफ मोड़ लिया और उसके होंठो को अपने होंठो में लेकर उसे किस करने लग गया था। अब पहले तो वो मेरा साथ नहीं दे रही थी, लेकिन कुछ ही देर में वो मेरा पूरा साथ देने लग गई थी। अब मेरे दोनों हाथों में उसके बूब्स थे, जिसे में ज़ोर-ज़ोर से दबा रहा था।

फिर मैंने उसके बूब्स 10 मिनट तक अच्छे से चूसने के बाद पूरा नंगा कर दिया और उससे कहा कि चल अब मेरे रूम में, लेकिन वो नहीं मानी। फिर मैंने उसके कपड़े उठाए और बाहर आ गया। फिर जैसे ही में बाहर आया तो तब मैंने देखा कि बाहर कोई भी नहीं था। तब मैंने उससे कहा कि अगर तुम्हें अपने कपड़े चाहिए तो मेरे रूम में आ जाना, बाहर कोई नहीं है। फिर में जल्दी से उसके और अपने कपड़े उठाकर नंगा ही अंदर आ गया। अब मेरे पीछे ही टीना पूरी नंगी मेरे रूम में आ गई थी। अब उसके आते ही मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया था और फिर उसको ज़ोर-ज़ोर से चूसने लग गया। अब मुझे अच्छे से पता था कि उसके पास ज़्यादा टाईम नहीं है इसलिए मैंने उसे बेड पर गिरा दिया और उसके पूरे जिस्म को अच्छे से चूसने लग गया था। फिर उसके दोनों बूब्स अच्छे से चूसने के बाद में सीधा नीचे उसकी चूत के पास गया और अपना मुँह उसकी चूत के ऊपर रखकर उसकी चूत को ज़ोर- ज़ोर से चूसने और चाटने लग गया था।

अब मेरी जीभ ने उसकी चूत और उसे पूरी तरह से पागल कर दिया था। अब उसकी चूत का मीठा सा रस मेरे मुँह में आ रहा था, जिसे में मज़े से पी रहा था। अब टाईम चुदाई का था इसलिए मैंने अपना लंड उसकी चूत के ऊपर लगाकर उसके रस से गीला करना शुरू कर दिया था। अब मुझे ये भी पता था कि उसकी चूत एकदम कुंवारी है, इसलिए उसे बहुत दर्द होगा, इसलिए मैंने उसकी दोनों टाँगे उठाकर अपने कंधो पर रख ली और अपना लंड उसकी चूत पर सेट करके अपने एक हाथ से उसका मुँह बंद कर दिया, ताकि उसकी आवाज बाहर ना जा सके। फिर मैंने एक ज़ोरदार धक्के से अपना आधा लंड उसकी चूत में उतार दिया, तब उसे बहुत दर्द हुआ। अब उसकी आँखो में से आँसू बाहर आने लग गये थे। फिर मैंने उसके ऊपर कोई रहम नहीं किया और एक और धक्के से अपना पूरा का पूरा लंड उसकी चूत की गहराईयों में उतार दिया। कुछ ही देर में उसका दर्द ठीक हो गया और अब मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी थी।

फिर कुछ ही देर में उसका जिस्म अकड़ सा गया। अब में समझ गया था कि अब इसकी चूत पानी छोड़ने वाली है और हुआ भी वही, अब उसकी चूत के पानी से मेरा पूरा लंड नहा चुका था। अब में और ज़्यादा देर नहीं रुक सकता था इसलिए मैंने उसे कसकर पकड़ा और उसे 4 धक्के पूरी ताकत से मारे। अब मेरे 5 धक्के में ही मेरे लंड ने अपना सारा पानी उसकी चूत में डाल दिया था। फिर जब में उठा तो तब मैंने देखा कि पूरा बेड उसकी चूत के खून से भरा हुआ था। अब वो अपने कपड़े उठाकर जाने लगी थी तो तब मैंने उससे कहा कि अगर मज़ा आया हो तो कल भी आ जाना। तब वो जाते हुए पीछे मुड़ी और मुस्कुराकर बोली कि 11 बजे तैयार रहना। बस दोस्तो उसके मुँह से ये बात सुनते ही में खुशी से पागल हो गया था और बेड से कूदकर उसके पास गया और उसके होंठो को चूसने लग गया था। फिर उसने अपने कपड़े पहने और फिर वो चली गई और फिर में भी बड़े आराम से सो गया। फिर उस दिन के बाद मैंने टीना को बहुत बार चोदा। तो दोस्तों ये थी मेरी बहन टीना के साथ की चुदाई, अभी भी मुझे कोई मौका मिलते ही में उसे चोद देता हूँ और बहुत इन्जॉय करता हूँ ।।

धन्यवाद …