महक की दुनिया 2

महक का जादू के antarvasna आखरी अपडेट में kamukta आपने पढ़ा था ….. की महक कई सालो से दूर रहे नितिन मामा और मामी का मिलाप करवाती है …… एक पुराने हादसे की वजहसे मामी के मन पे जो बोझ था …. जिस वजह से वो सेक्स नहीं कर पाती थी …. वो बोझ …. महक ने दूर कर दिया था …. अब मामी मामा से चुद रही थी …..

फ्रेंड्स मेरी कहानी इसी मोमेन्ट से शुरू होती है …….

नितिन मामा पुरे जोशो खरोश में मामी की चूत का बाजा बजा रहे थे …. महक अब दोनों की रासलीला देखती हुयी बेड पर ही थोड़ी परे बैठ गयी …… उतने में सौम्या भी निचे आ गयी …
मामी परम आनंद से सिसक रही थी ….. ओह….ओह्ह्ह्हह नि….ती….न…. आआअह्हह्हह स्सस्सस्स
उनकी ये मदभरी सिसकिया ..महक और सौम्या के बदन में आग लगा रही थी …….
महक सौम्या के गर्दन को चूमने लगी और सौम्या भी महक के मम्मो को सहलाने लगी ….

मामा और मामी की वो चुदाई काफी लम्बी चली ……
कुछ देर बाद मामा और मामी दोनों एक साथ झड़ने लगे …….
मामी की योनी में मामा के लंड ने सालो बाद रस की बरसात कर दी …….
कई सालो के सूखे के बाद आयी इस जबरदस्त बारिश से मामी आनंदविभोर हो गयी ……..
दोनों पसीने से तरबतर हो गए थे ….. वो वैसी ही हालत में एक दुसरे से चिपक कर सो गए …….

वो दोनों तो सो गए पर सौम्या और महक को आग की भट्टी में झोंक कर
सौम्या महक के बदन पर टूट पड़ी ……महक भी उसी जोश में थी ……
वो दोनों एक दुसरे के की चूत पर चूत यु रगड़ रही थी के जैसे एक दुसरे को चोद रही हो ……

दोनों बेचारी लडकिया चूत पर चूत रगड़े जा रही थी …….
लेकिन आग बुझ ना पाई
चूत का दाना कितना भी बढ़ जाए …… लंड जैसा तो होने से रहा ……
तो फिर दोनों ने एकदूसरे की चूत चूस चूस कर एक दूजे की ठंडा किया

और वही पे पस्त होकर पसर गयी …..