पड़ौस वाली भाभियों ने मिलकर मुझको चोदू बनाया

हाय फ्रेंड्स, Antarvasna कामलीला डॉट कॉम की वेबसाइट पर सेक्सी कहानियाँ पढ़ने वालों और पढ़ने वाली सभी भाभियों और कुँवारी चूतों को मेरे खड़े लंड का प्यार भरा सलाम। दोस्तों मेरा नाम विशाल है और मैं 24 साल का एक जवान लड़का हूँ। मैं भी कामलीला डॉट कॉम की वेबसाइट पर बहुत समय से सेक्सी कहानियाँ पढ़ रहा हूँ। दोस्तों आज मैं आपको मेरे बिस्तर की हलचल को पूरी दुनिया के सामने लाने का प्रयास कर रहा हूँ और यह घटना आज से 1 साल पुरानी है और तब मैंने अपने पडौस में रहने वाली सुनीता भाभी के साथ चुदाई करी थी।

दोस्तों मैं उस भाभी को करीब 4-5 सालों से जानता हूँ और मैं उनको एक हसरत भरी निगाहों से देखता भी रहता हूँ, क्योंकि वह है ही इतनी बला की खूबसूरत कि कोई भी उनको एकबार देखे तो देखता ही रह जाए। वह किसी भी नजरिये से नहीं लगती कि, वह दो बच्चों की माँ भी है। वह भाभी 30 साल की है उनकी लम्बाई 5.5 फुट की है और उनका फिगर तो बड़ा ही गजब का है। देख तो मैं उनको पिछले 4-5 सालों से रहा था, पर उनको चोदने का मौका मुझको 1 सा पहले ही मिला है। मैं सिर्फ़ उनको उनकी खूबसूरती के लिए देखता था और पहले मैंने उनके बारे में ऐसा-वैसा कुछ भी नहीं सोचा था बस कभी–कभी जब वह झाड़ू लगाती थी तो मुझको उनके बड़े–बड़े खरबूजों के दर्शन हो जाया करते थे। और भाभी को उस नज़र से नहीं देखने का कारण था कि, वह भाभी मुझसे उम्र में काफ़ी बड़ी थी और उस समय मैं स्कूल में 10 वीं में पढ़ता था. स्कूल का सबसे होशियार स्टूडेंट होने के कारण, काफ़ी लड़कियों के प्रपोज़ल मुझको आते रहते थे और मैं इसी खुशी में रहता था, पर मैंने उनमें से किसी भी लड़की से दोस्ती नहीं करी थी। स्कूल से पास होने के बाद, मैंने इंजिनियरिंग में एडमिशन ले लिया था। दोस्तों आपको तो पता है ही कि, इंजिनियरिंग में लड़कियाँ वैसे ही काफ़ी कम होती है और ऊपर से मेरा मैकेनिकल ब्रांच था, सो उधर तो और भी कम लड़कियाँ थी. पर किसी भी तरह मेरे दिन बिना लड़कियों के कट रहे थे. और मैं अब भी उस भाभी को देखता था और अब तो मैं बड़ा भी हो गया था और अब तो मैं अपनी जवानी के पूरे रंग में था। और फिर मैं ऐसे ही एक दिन अपनी छत पर टहल रहा था कि उस समय भाभी भी उनकी छत पर आ गई थी, हम दोनों की छत आपस में जुड़ी हुई है और नीचे एक लड़का फोन पर अपनी गर्लफ्रेंड से बात कर रहा था पर मैंने उसे देखकर अनदेखा कर दिया था. और फिर वह भाभी मेरे पास आई और फिर वह मुझसे बोली कि, देख उस लड़के को शादी होने के बाद भी उसने गर्लफ्रेंड बना रखी है। मैंने उसको देखा और कुछ नहीं कहा तो फिर उन्होनें मुझसे पूछा कि, तेरी कोई गर्लफ्रेंड है? तो मैंने उनको मना कर दिया।

तो फिर वह मुझसे बोली कि, तुम जैसे लड़कों की गर्लफ्रेंड ना हो, ऐसा तो हो ही नहीं सकता। उसी समय मुझको समझ में आ गया था कि, भाभी के अन्दर का तूफान अभी थमा नहीं है. दोस्तों उसके बाद तो अब भाभी से इस मुद्दे पर खुलकर बातें होने लगी थी. भैया के ऑफिस चले जाने के बाद कभी–कभी मैं उनके साथ बैठकर टी.वी. पर कोई फिल्म भी देख लेता था और फिर एक दिन मैं उनके घर गया तो उनके घर का गेट खुला हुआ था तो मैं सीधा उनके कमरे में चला गया था वह उस समय नहाकर ही निकली थी और वह अपने कपड़े पहन रही थी. वह अपनी सलवार पहन चुकी थी और अब वह अपनी ब्रा पहन रही थी. उस समय वह अपने एक हाथ से अपनी ब्रा का हुक लगा रही थी और उनके बड़े-बड़े खरबूजे बाहर उछल रहे थे और वह उनकी ब्रा में बड़ी मुश्किल से समा रहे थे। मैंने उनको देखा और फिर मैं शरमाकर गेट बन्द करके चुप-चाप वहाँ से चला आया। दोस्तों अब मेरी नियत डोलने लगी थी और अब मैं उनको चोदने के बारे में सोचने लगा था. लेकिन उस घटना के बाद शरम से, मैंने उनसे 10-15 दिनों तक नज़रें नहीं मिलाई थी और फिर मैं मन ही मन सोचने लगा कि, उनको कैसे चोदूं? पर मुझको समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था. और मैं उनसे सीधे-सीधे तो अपने इस ख़याल के बारे में बात भी नहीं कर सकता था. क्योंकि मुझे वैसे भी सब एक अच्छा लड़का समझते थे. अगर मेरी कोई बात उनको पसन्द नहीं आई तो मैं बदनाम हो जाऊँगा। और फिर इसी बीच मेरी परीक्षा भी शुरू हो गई थी और अब मेरे पास उनसे बात करने का समय भी नहीं होता था. और फिर मैंने एक प्लान बनाया. मेरी क्लास का एक दोस्त था जिसका नाम रोहित था, वह लड़कियों और भाभियों को फोन करके परेशान किया करता था और इसीलिए वह मेरे से भी किसी लड़की या भाभी का नम्बर माँगता रहता था, लेकिन दोस्तों मैंने कभी उसे किसी का नम्बर दिया नहीं था। लेकिन एकदिन मैंने उसे भाभी का नम्बर दे दिया था और मैंने उसे भाभी के बारे में सब कुछ बता भी दिया था और मैंने उसे यह भी कह दिया था कि, वह अगर पूछे कि, उसका नम्बर तुमको किसने दिया है? तो तुम कह देना कि, आपकी सहेली अर्चना ने दिया है। दोस्तों अर्चना भी हमारे पड़ौस में रहती है और वह भी शादी-शुदा है. और भाभी ने मुझे बताया था कि यह औरत बड़ी हरामी है अभी भी उसके कई बॉयफ्रेंड है।

और फिर अगले दिन, मैंने रोहित से सुनीता भाभी के बारे में पूछा, तो उसने मुझको कहा कि, सुनीता भाभी ने उसे कल घर पर बुलाया है तो फिर मैंने मन ही मन सोचा कि, साला यह तो बड़ा तेज है यह इतनी जल्दी यहाँ तक पहुँच भी गया और फिर उसने मुझको सुनीता भाभी का मैसेज दिखाया, जिसमें उनके घर का पता था और फिर दोस्तों अगले दिन सुनीता भाभी ने जिस समय पर रोहित को बुलाया था, मैं भी उससे 30 मिनट पहले ही उनके यहाँ पहुँच गया था. और फिर भाभी ने मुझको हैरत से देखते हुए पूछा कि, तुम? तो फिर मैं भी शरमाकर के उनसे बोला कि, मैं ही हूँ वह रोहित. और फिर भाभी एक कातिल अदा से मुझे देखकर बोली कि, अब इतना शरमाने की कोई ज़रूरत नहीं है, मुझे तो पहले से ही पता था कि वह तू ही है. और फिर उन्होंने मुझको कहा कि, तू इधर ही रुक, और मैं अभी छत पर कपड़े डालकर आती हूँ। फिर इतनी देर में मैंने भाभी का फोन लिया और उसमें से रोहित के नम्बर पर एक मैसेज भेज दिया जिसमें लिखा था कि, अब मेरे पति आ गये है और फिर मैंने उसके नम्बर को ब्लेक-लिस्ट में डालकर उससे आने वाली कॉल्स को रिजेक्ट कर दिया था. और फिर मैंने भाभी के कमरे में आते ही हिम्मत करके उनका हाथ पकड़कर अपनी तरफ खींच लिया था. जिससे भाभी मुझसे लिपट गई थी. और फिर मैंने भाभी से कहा कि, तो फिर इतने दिनों तक मुझको तड़पाने की क्या ज़रूरत थी? तो वह मुझसे बोली कि, मैंने तो तुम्हें इतने इशारे किए थे पर तुम कुछ समझते ही नहीं थे। और फिर मैंने भाभी के मुहँ में अपना मुहँ डाल दिया और फिर मैं उनको फ्रेंच किस करने लगा और फिर मेरा एक हाथ भाभी के बब्स पर और दूसरा हाथ उनकी चूत को उनके कपड़ों के ऊपर से ही सहला रहा था. दोस्तों भाभी की नजदीकी के अहसास से मेरा लंड सख़्त हो गया था और मेरा मन तो कर रहा था कि, भाभी को बस जल्दी से चोद दूँ पर मैंने खुद को रोककर रखा हुआ था. और फिर मैंने उनके कपड़े उतार दिए और भाभी को मैंने सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में ही छोड़ दिया था. और अब भाभी सिसकारियाँ ले रही थी क्योंकि मेरा एक हाथ अब भाभी की पैन्टी में था और वह भी मेरे लंड को मेरी पेन्ट के ऊपर से सहला रही थी. और फिर इतने में उनके घर की घन्टी बज उठी थी तो भाभी ने जल्दी से अपने कपड़े पहने और गेट खोला तो बाहर अर्चना खड़ी थी. मुझे तो उस समय बहुत गुस्सा आ रहा था, और उसी समय मुझे इस बात का मतलब समझ में आया कि, जब इस तरह की कोई स्थिति आ जाए तो इसको ही ‘खड़े लंड पर चोट’ होना कहते है। और फिर अर्चना भाभी अन्दर आ गई थी और फिर उन्होनें मुझे देखा और मुस्कुराते हुए मुझसे कहा कि, क्या हाल है तुम्हारा? अब तक तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड बनी या अभी भी बाबा जी का ठुल्लू ही लिए हुए घूम रहे हो हा हा हा… और फिर उस समय मेरा भेजा सटक गया, पर तभी सुनीता भाभी भी हँसने लगी, और फिर उन्होंने अर्चना भाभी से कहा कि, अब इसने अपने लिये एक गर्लफ्रेंड बना ली है।

अर्चना:- अरे वाह! विशाल बताओ तो ज़रा वह कैसी लगती है? वह तुमको किस विस भी करती है या नहीं? तभी सुनीता भाभी ने आगे बढ़कर मुझे चूम लिया, और अर्चना भाभी से कहा कि, करती है ना किस देखो ऐसे ही करती है ना?

और फिर मुझे सब समझ में आ गया था कि, यह सब सुनीता भाभी की ही चाल है वह मुझे नीचे बैठाकर छत पर अर्चना भाभी को बुलाने ही गई थी। बस फिर तो क्या था मैंने भी सुनीता भाभी को अपनी बाहों में भर लिया और अर्चना भाभी के सामने ही मैंने सुनीता भाभी के बब्स को मसल दिया था और फिर मैंने अर्चना भाभी को कहा कि, किस तो छोड़िए मैं तो उसके बब्स भी दबा देता हूँ देखो ऐसे। अर्चना भाभी भी अब खुलकर सामने आ गई थी और फिर उसने मेरा लौड़ा पकड़ लिया था और उन्होंने मुझसे कहा कि, उसने इसको भी चूसा है या नहीं? और बस अब तो सब कुछ खुल गया था और फिर तो सब कुछ वही हुआ जो हर चुदाई में होता है. उसके बाद तो लगातार ही मुझे अर्चना और सुनीता भाभी की और चुदक्कड़ सहलियाँ भी मिलने लग गई थी।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!