भाई बहन की चुदाई गाथा

हैल्लो दोस्तों, मेरा antarvasna नाम विवेक है। में दिल्ली में रहता हूँ और मेरी उम्र 22 साल है। मेरी यह स्टोरी मेरे और मेरी बहन के बीच में किए गये सेक्स की है। मेरी बहन दिखने में आईटम बॉम्ब है, वो मुझसे 2 साल छोटी है, उसका फिगर साईज 34-26-36 है। अब में आप सबका ज्यादा समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। दोस्तों आप तो समझ ही गये होंगे कि मेरी बहन एक बेहद सेक्सी माल है। मेरी बहन कपड़ो पर इतना ध्यान नहीं देती थी, वो बहुत बार ऐसे बैठती थी कि उसके बूब्स या फिर पेंटी नजर आ जाते थे। अब में उन्हें देखकर गर्म हो जाता था और कभी-कभी बाथरूम में जाकर मुठ मार लेता था। में अक्सर खेल-खेल में अपनी बहन के कूल्हों को छू लेता या फिर उसके बूब्स पकड़कर दबा देता था। उसे मेरे इरादे के बारे में मालूम नहीं था।

फिर एक बार मेरे पेरेंट्स मामा के यहाँ आउट ऑफ स्टेशन गये थे, लेकिन में और मेरी बहन नहीं गये थे, क्योंकि हमारे एग्जॉम आने वाले थे तो हम दोनों घर पर ही थे। अब मैंने अपनी हरकतें इनक्रीस कर दी थी। अब बात-बात पर उसके कूल्हों पर हाथ मारना, उसके बूब्स दबा देना। फिर एक दिन रात को मैंने एक बहुत हॉट मूवी देखी। अब में बहुत गर्म हो गया था। तब मैंने देखा कि मेरी बहन बेड पर एक टॉप और स्कर्ट पहनकर सो रही थी। तब मुझसे रहा नहीं गया और फिर में धीरे से उसके बेड के पास जाकर बैठ गया और उसकी बॉडी को देखता रहा। फिर में धीरे-धीरे से उसके बूब्स को उसके टॉप के ऊपर से सहलाने लगा। फिर मैंने उसकी स्कर्ट की तरफ देखा और फिर मैंने उसका स्कर्ट ऊपर सरका दिया, वाह क्या नज़ारा था? अब मेरी बहन के गोरे-गोरे पैर देखकर में पागल हो गया था।

फिर में थोड़ी देर तक उसके पैरों को सहलाता रहा। फिर में एग्जाइटमेंट में थोड़ा और ऊपर गया और उसकी जांघो को सहलाने लगा। तभी फाइनली उसकी सफ़ेद वी-शेप पेंटी दिखी तो तब मुझसे रहा नहीं गया और फिर मैंने उसकी चूत को सहलाया और चूमा तो इससे मेरी बहन जाग गयी थी। अब वो हैरान थी और मुझसे पूछा कि भैया यह क्या कर रहे हो? शर्म नहीं आती अपनी बहन के साथ यह सब करने में। तब मैंने कहा कि इसमें गलत क्या है? तू लड़की है और में लड़का हूँ, मुझे मन किया तो मैंने चूम लिया। तब उसने कहा कि नहीं यह गलत है, मम्मी पापा को पता चलेगा तो क्या बोलेंगे? अभी के अभी मेरे रूम से बाहर निकल जाओ। फिर तब में चुपचाप चला गया। अब अगले दिन सब कुछ नॉर्मल था। अब मुझे मूवी देखने का बड़ा मन कर रहा था। फिर में मार्केट गया और वहाँ से एक अच्छी और कुछ सेक्सी मूवी ले आया। मेरे रूम में मेरा अलग टी.वी है। फिर मैंने एक सेक्सी मूवी देखी और दूसरी को आधी में छोड़कर नहाने चला गया।

अब जब में नहा रहा था, तब मेरी बहन बाथरूम के बाहर से चिल्लाई कि उसे स्केल नहीं मिल रहा है। तब मैंने कहा कि में बाहर आकर देता हूँ। तब वो मेरे रूम में टी.वी पर लगी सेक्सी मूवी देखने लगी। अब वो बहुत गर्म हो गयी थी, क्योंकि उसने ऐसी मूवी पहले कभी नहीं देखी थी। फिर थोड़ी देर के बाद में बाहर आया तो तब मैंने देखा कि वो मूवी देख रही थी। तब मैंने कुछ नहीं कहा। फिर हमने चुपचाप मूवी देखी और अपना लंच किया। फिर मैंने बहन से पूछा कि और एक मूवी देखनी है? तो तब उसने कहा कि हाँ। तब मैंने पहली वाली सेक्सी मूवी लगा दी। अब हम दोनों बेड पर पेट के बल लेटकर मूवी देखने लगे थे। उस मूवी में बहुत से हॉट सीन थे। अब रूपाली भी उन्हें देखकर गर्म हो गयी थी। फिर मूवी देखते-देखते में अपने एक हाथ से उसकी स्कर्ट के ऊपर से उसके कूल्हों सहलाने लगा। तब वो बोली कि नहीं भैया, यह सब नहीं। तब मैंने कहा कि में तो सिर्फ़ कपड़े के ऊपर से मजा ले रहा हूँ, प्लीज थोड़ी देर टच करने दो कपड़े के ऊपर से ही, प्लीज।

तब उसने कहा कि ओके, लेकिन ऊपर से ही। तब मैंने कहा कि हाँ-हाँ और फिर में उसके पिछवाड़े को स्कर्ट के ऊपर से सहलाने लगा और दबाने लगा और फिर धीरे-धीरे उसकी जांघो को सहलाने लगा था और फिर फाइनली उसकी स्कर्ट के अंदर उसकी पेंटी के ऊपर सहलाने लगा था। तब वो बोली कि तुमने कहा था कि ऊपर से ही सहलाओगे। तब मैंने कहा कि हाँ तो पेंटी के कपड़े के ऊपर ही तो है। अब उसे भी मजा आने लगा था तो वो चुपचाप फिल्म देखने लगी। अब में उसके कूल्हों को पेंटी के ऊपर से सहला रहा था और कभी-कभी उसकी जांघो को भी सहला रहा था। फिर में उसके अन्दर की तरफ उसकी चूत को भी सहलाने और दबाने लगा। तब उसके मुँह से कभी-कभी दबी-दबी सी मौन की आवाजे निकलने लगी ऑश। फिर मैंने उसका स्कर्ट पीछे से उठाया और उसके गोरे-गोरे पिछवाड़े को देखने लगा और फिर उसकी पेंटी के ऊपर से ही किस किया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब तक उसने अपनी आँखें बंद कर ली थी। फिर मैंने उसे सीधा लेटाया और उसकी पेंटी के ऊपर उसकी चूत को बेहताशा किस करने लगा था। अब वो एम्म श भैया करने लगी थी। फिर जब मैंने देखा कि वो गर्म हो गयी है, तो तब मैंने उसकी पेंटी की साईड में से अपना एक हाथ अंडर घुसा दिया और उसकी चूत को पेंटी के अंदर सहलाने लगा था। अब वो आहह, नहीं भैया बोल रही थी। फिर मैंने उसकी पेंटी उतार दी। तब वो होश में आई और बोली कि नहीं यह सब ठीक नहीं है भैया, मम्मी पापा को पता चलेगा तो क्या सोचेंगे? तो तब मैंने कहा कि कुछ गलत नहीं है और उन्हें कुछ पता नहीं चलेगा, बस एक बार रूपाली, प्लीज। अब में उसकी चूत को चूमने लगा था और उसे पागल कर दिया था। फिर उसकी चूत को चाटते हुए में अपने दोनों हाथ उसकी टॉप के अंदर ले जाकर उसकी ब्रा के अंदर उसकी चूचीयाँ यानी बूब्स को दबाने लगा था। अब उसे बहुत मजा आने लगा था। तब मैंने उससे पूछा कि कैसा लग रहा है? तो तब उसने कहा कि बहुत अच्छा भैया।

फिर मैंने उसके पूरे कपड़े उतारकर उसे एकदम नंगा कर दिया। अब में उसकी पूरी बॉडी को चूम रहा था और सहला रहा था। फिर में उसकी एक चूची को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा तो दूसरी चूची को अपने हाथ से दबा रहा था और अब वो मेरे सिर के बाल सहला रही थी। फिर लगभग 15 मिनट के बाद मैंने उसकी चूत पर अपना लंड लगाया और थोड़ा प्रेशर दिया। तब वो चिल्लाने लगी कि नहीं भैया बहुत दर्द हो रहा है। फिर मैंने उसकी चूत पर थोड़ी वैसलीन लगाकर फिर से अपने लंड को घुसाया तो लगभग 3-4 बार कोशिश करने पर मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया। तब उसकी चूत में से थोड़ा सा खून भी निकला। फिर थोड़ी देर के बाद उसे भी मजा आने लगा और फिर वो बोली कि आहहहहह भैया बहुत मजा आ रहा है, हाईईई और जोर से मारो। अब हम दोनों पसीना-पसीना हो रहे थे। फिर लगभग कुछ समय के बाद मुझे ऐसा लगा कि वो झड़ गयी है, लेकिन में लगातार उसको चोदता रहा। फिर कुछ देर के बाद मुझे लगा कि अब मेरा निकलने वाला है तो तब मैंने टाईम पर अपना लंड बाहर निकालकर मेरी सारी मलाई उसकी छाती पर और मुँह पर डाल दी। फिर इसके बाद हमें जब भी कोई मौका मिला, तो तब हमने खूब चुदाई की और खूब इन्जॉय किया ।।

धन्यवाद …