निधि आंटी ने बड़े ही प्यार से चूसा

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम अंकुर है और मैं आज आप सभी कामलीला डॉट कॉम के पाठकों को अपने एक सच्चे सेक्स अनुभव के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसके बाद मेरा जीवन बिल्कुल बदल गया और मुझे उस निधि आंटी की चुदाई करने का मौका मिला, जिसके मैंने बहुत जमकर मज़े लिए और उसको इतना खुश किया की हम दोनों आज भी जबरदस्त चुदाई करते है और उसके बाद उसने मेरा पूरा पूरा साथ देना शुरू किया और आज उसको सुनाने जा रहा हूँ।

यह बात आज से 2 साल पहले की है जब मैं इंजिनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था और हमने नया ही घर लिया था और हमारे घर में 2 फ्लोर थे नीचे वाले फ्लोर पर मैं और मेरा परिवार रहता था और ऊपर वाले फ्लोर पर एक किराए पर परिवार रहने को आया था उस परिवार में चार लोग थे निधि आंटी उनके पति, एक लड़की और आंटी की सासू माँ, निधि आंटी हाउसवाइफ है और उनके पति की कपड़ो का दुकान है और उनकी लड़की 10 साल की है मैं आपको निधि आंटी के बारे में बताता हूँ उनकी उम्र 33 साल की थी जब ये घटना हुई थी तब मेरी उम्र 22 साल थी निधि आंटी बहुत ही सुन्दर दिखती है वो बहुत हॉट और उसकी फिगर तो ऐसी है की मैं आपको क्या बताऊँ, मैंने उसे पहली बार जब देखा था जब वो हमारे घर पर आई थी तो मैं पागल ही हो गया था, वो हमारे घर में बैठी थी और मैं उसके दूसरे साइड में बैठा था तब निधि आंटी ने लाल कलर की साड़ी पहनी थी और काले कलर का ब्लाउज था और जब हवा आती थी तब उसकी साड़ी का पल्लू ऊपर उठ रहा था और मेरे सामने निधि आंटी के मोटे मोटे बब्स दिखाई देते थे ब्लाउज में से, मुझे उसी दिन निधि आंटी से प्यार हो गया था मैं उस रात सिर्फ़ उसी के बारे में सोच रहा था की इसे कैसे पटाना है सेक्स के लिए, कुछ दिन ऐसे ही निकल गये, मैं सिर्फ़ निधि आंटी को देखता था और सोचता था की कैसे पटाऊ इसको। तभी एक दिन निधि आंटी के घर में कोई नहीं था और उनका टीवी का डिश कुछ प्राब्लम कर रहा था तभी उन्होंने मुझे ऊपर बुलाया हमारे घर में भी वो ही टीवी का डिश था इसलिए मुझे सब पता था।

मैं ऊपर गया और देखा तो निधि आंटी ने एक सफ़ेद कलर की साड़ी पहनी थी और वो साड़ी थोड़ी ट्रांसपेरेंट थी और मुझे साफ साफ उनके बब्स के निप्पल दिख रहे थे ऊपर से ही, मैं निधि आंटी को देखते देखते डिश टीवी चेक कर रहा था तभी निधि आंटी ने मुझे नोटीस किया की मैं उसके बब्स की तरफ घूरकर देख रहा हूँ तभी निधि आंटी ने मुझे अचानक एक हल्की सी स्माइल दी और पूछा तुम कुछ पीना चाहते हो, तो मैंने भी हाँ बोला और वो किचन में चली गयी और मैंने डिश टीवी को चालू करके सोफे पर बैठ गया। तभी निधि आंटी कोल्ड्रींक लेकर आ गयी और मुझे देने के लिए नीचे झुक गयी तभी मैंने जो देखा वो मैं पहली बार इतने पास से देख रहा था निधि आंटी के बब्स साड़ी से बाहर आ रहे थे। निधि आंटी ने भी मुझे नोटीस किया और उसने तोड़ा भी समय ना गवांय कोल्ड्रींक बाजू में रखा और घर का दरवाज़ा अंदर से लॉक किया और मेरे ऊपर आकर बैठ गयी और मुझे बाँहों में लेकर मेरे पूरे चेहरे पर किस करने लगी, लेकिन मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था की मैं क्या करू मैं चुप चाप उधर ही बैठा रहा। तभी निधि आंटी ने मुझे कहा की सिर्फ़ देख सकते हो, कुछ कर नहीं सकते हो क्या प्लीज़? अंकुर फक मी मैं बहुत दिनों से प्यासी हूँ, ये सुनकर मेरे अंदर एक गरम लहर सी दौड़ गयी और मेरे अंदर का शेर जाग गया मैंने भी उसे ज़ोर से अपनी बाँहों में जकड़ लिया और ज़ोर ज़ोर से उसे किस करने लगा। उसके होंठ बहुत ज़्यादा सुन्दर थे मैं उसे बहुत देर तक किस करता रहा किस करके उसे संतुष्ट किया, फिर मैंने उससे पूछा सिर्फ़ किस ही करना है या और भी कुछ करना है? तभी उसने तोड़ा भी समय बर्बाद नहीं किया और मुझे बेड रूम में लेकर चली गयी।

फिर बेड रूम में जाकर मैं उसके ऊपर लेट गया और उसे फिर से किस करने लगा उसकी पूरी बॉडी इतनी मुलायम और मस्त लग रही थी उस वक्त की मानो तो मैं जन्नत की परी के ऊपर ही सोया हूँ, ऐसा लग रहा था जिंदगी भर इसे अपनी बाँहों में लेकर बैठ जाऊं। फिर मैंने उसकी साड़ी ऊपर करके पूरी निकाल दी और उसके पूरे शरीर पर किस करने लगा मैंने देखा की उसने अपनी चूत को पूरी तरह से साफ किया हुआ था और लग रहा था की निधि आंटी पहले समय सेक्स कर रही है, इतनी टाइट चूत थी उसकी उस वक्त, फिर मैं उसकी चूत को किस करने लगा क्या बताऊँ आपको कितना मज़ा आ रहा था उसका, फिर मैं ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत को चाटने और चूसने लगा और वो मेरा सिर पकड़कर ज़ोर से अपनी चूत पर दबा रही थी और ज़ोर ज़ोर से आवाज़ निकाल रही थी एयेए… आआह… अंकुर अयाया… वो आवाज़े सुनकर मैं और ज़ोर से उसकी चूत को चाटने लगा। फिर उसके ऊपर आकर मैं उसके बब्स को चूसने लगा क्या बताऊँ आपको क्या बब्स है वो पूरे सफ़ेद और टाइट निप्पल उसे चूसने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था ऐसा लग रहा था की इसे मुहँ से निकालु ही नहीं, निधि आंटी के बब्स इतने बड़े थे की वो मेरे मुहँ में ठीक से बैठ भी नहीं पा रहे थे और वो सिर्फ़ आवाज़ ही निकाल रही थी एयेए… हहुउऊ… अया… फिर वो मेरे ऊपर आ गयी और मुझे किस करने लगी सारे शरीर पर ऊपर से नीचे तक, फिर मैंने उसे अपना लंड मुहँ में लेने को कहा वो भी जल्दी से और फिर उसने मेरी अंडरवियर निकाल दी, और मेरा लंड हाथ में लेकर बोलने लगी क्या मस्त लंड है तुम्हारा काश मेरे पति का लंड भी ऐसे होता। मैंने उसे लंड मुहँ में लेने को कहा तो वो मेरे लंड को बड़े ही प्यार से चूसने लगी वो उसे बहुत प्यार से अंदर बाहर कर रही थी क्या बताऊँ आपको कितना मज़ा आ रहा था मुझे लग रहा था की मैं जन्नत में ही बैठा हूँ और ऐसा लग रहा था की ये खेल ख़तम ही ना हो। वो जैसे जैसे मेरा लंड चूस रही थी वैसे वैसे मेरा लंड और कड़क हो रहा था, अब मेरा लंड अपने पूरे जोश में खड़ा हो चुका था और मैं भी उसकी चूत को चोदने के लिए तैयार हो गया था और निधि आंटी की चूत में लंड डालने के लिए। मैंने निधि आंटी को नीचे लिटाया और ऊपर से मैं लंड को उसकी चूत में डालने लगा, जैसा की मैंने आपको बताया ऐसा लग रहा था की निधि आंटी पहली बार सेक्स कर रही है इतनी टाइट चूत थी उसकी, फिर मैंने लंड को पकडकर जोर से उसकी चूत के अंदर कर दिया और वो ज़ोर जोर से चिल्लाने लगी तो मैंने उसके मुहँ पर अपना हाथ रख दिया फिर मैंने उसे किस करना चालू किया। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

फिर मैंने एक ज़ोर से झटका मारकर मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर डाल दिया निधि आंटी ने ज़ोर से आवाज़ निकाली, फिर मैं धीरे धीरे मेरा लंड उसकी चूत में आगे पीछे करने लगा क्या बताऊँ दोस्तों आपको कितना मज़ा आ रहा था। निधि आंटी भी बहुत मज़े लेकर आवाज़ निकाल रही थी एयेए… आअहह… अंकुर चोदो मुझे ज़ोर से चोदो मुझे अह्ह्ह…. एयेए…. और जोर जोर से अहह… मेरी चूत का आज भोसड़ा बना दो चोद चोदकर, मुझे मजा दो और आहह… बहुत मज़ा आ रहा है उईइ… माँ मर गई, ऐसे ही मैंने 20 मिनट तक उसे जोर जोर से चोदा तो उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया अब मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी, निधि आंटी ने बोला पानी अंदर मत छोड़ना, फिर मैंने 2-3 झटके दिए और लंड बाहर निकालकर उसके शरीर पर अपने लंड से पिचकारी चला दी। और वैसे ही उसके बाजू में लेट गया वो भी मेरी चुदाई से संतुष्ट हो चुकी थी, हम वैसे ही लेते रहे फिर मैं अपने घर चला गया। फिर दूसरे दिन निधि आंटी हमारे घर आ गयी और मुझे फिर से डिश टीवी के खराब होने का बहाना बनाकर मुझे ऊपर ले गयी मैं भी तैयार होकर ऊपर चला गया दूसरे दिन तो पहले दिन से भी अच्छा निकला वो बोली हम दोनों बाथरूम में शावर लेते हुए सेक्स करेंगे मैं भी जल्दी से मान गया हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े बहुत प्यार से निकाले और बाथरूम में चले गये उधर भी मैंने बहुत जबरदस्त चुदाई की निधि आंटी के साथ, निधि आंटी मुझे प्यार से मेरा राजा बुला रही थी। फिर उस दिन मैंने निधि के साथ 3 बार चुदाई की, वो फिर पति के साथ सेक्स करने से मना करने लगी और मुझे रोज रोज बुलाने लगी आज तक मैंने निधि आंटी के साथ बहुत बार चुदाई की और आगे भी करता रहूँगा। हम ऐसे ही कुछ बहाना बनाकर जब घर में कोई नहीं होता तब, कभी उसके घर तो कभी मेरे घर पर जमकर चुदाई करते है।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!