महक की दुनिया 7

महक:तो क्या ….. तू उससे चुदेगी antarvasna सौम्या: हां kamukta मै तो कहती हु … तू भी चुदवा ले ….. अब क्या पर्दा महक: म्मम्म हा यार मै भी तैयार हु …… सौम्या: तो चल जल्दी ……
वो दोनों फटाफट तैयार हो कर सौम्या के होस्टल के लिए निकल पड़ी ….
महक और सौम्या होस्टेल पहुँच चुकी
सोनू के वहा पहुचने में थोडा टाइम था
महक: सौम्या आज भी सोनू की आखों पर पट्टी बांधनी है ना ?
सौम्या: नहीं आज नहीं …. आज सभी पर्दों को गिराना है ….
महक: मतलब …… उसे तू खुल्ला खुल्ला बताएगी अपने बारे में
सौम्या: हा सोचा तो यही है
महक: पर …… वो तेरे पापा के डर से…. बिदक गया और ..चुदाई से मना कर गया तो ?
सौम्या: अरे नहीं ….. वो फट्टू तो है …. लेकिन अब उसे चुदाई की लत लग गयी है …
महक: तू बोलती तो ठीक है …..
सौम्या: पर तेरी बात में भी दम है , हमें सावधानी से काम करना होगा ….
महक: याने क्या ….
सौम्या: ऐसा करते है …. फिर सौम्या ने महक को कुछ समझाया …..
महक मुस्कुराई ……
उसने ने सौम्या के कहने नुसार कपडे पहन लिए
उसने सौम्या को दिखाया
महक: देख अब ठीक है ना
सौम्या: वॉव…. क्या लग रही है … मेरी जान … चल जरा घूमके तो दिखा
महक ने गोल घूमके दिखाया
सौम्या: साली तेरे को तो कच्चा खाने को दिल कर रह है ……
महक शरमाने लगी
सौम्या: अब शरमाना छोड़ ….. और ध्यान से बिजलिया गिरना उस के ऊपर ….
महक: हा … बस…तू देख अब मेरा कमाल …
दोनों की बातो बातो में थोडा वक्त निकल गया …..
और तब तक सोनू पहोच चूका था ……
सौम्या ने उसे मॉनिटर पर देखा …..
सोनू के बैठने के बाद … सौम्याने उसे कॉल लगायी
सौम्या: हेलो
सोनू : हा बोलिए क्या करना है
सौम्या: एक छोटासा काम है ….
सोनू : हा बताइए
सौम्या:अभी कुछ देर में वहा एक लड़की पहुचेंगी …..
सोनू : हु ….
सौम्या: उसे कुछ डिफिकल्टी है ….. उसे सॉल्व कर ना है …
सोनू : कैसी डिफिकल्टी?
सौम्या: उसीसे पूछ लेना …. सौम्या ने कॉल कट कर दी ..
सोनू उस कमरे में खड़ा सोच रहा था ….. की आज उसके साथ क्या होने वाला है …
शायद वो चुदाई के बारे में सोच रहा था ….. उसकी पँट में बना उभार … अपनी कहानी साफ़ साफ़ बता रहा था …
कुछ देर बाद … सौम्या ने महक को इशारा किया ….
महक बहार निकली … और बाजूवाले फ्लैट की बेल बजने लगी …
सोनू ने दरवाजा खोला ….. सामने खड़ी लड़की को देख कर उसका मुह खुला के खुला रह गया
महक ने एक मिनी स्कर्ट पहनी थी …. जिसमे से उसकी पुष्ट चिकनी जांघो का भरपूर नजारा मिल रहा था …. उपर उसने एक ढीली ढाला वाइट टॉप पहना था …… ओवरआल वो एक परफेक्ट सेक्सी स्कूल गर्ल लग रही थी
महक:हलो सर
सोनू: ह..हेलो …
महक: मेरा नाम महक है ….. मै XX साइंस की स्टूडेंट हु
महक के रूप का जादू अबतक सोनू पे हावी था
उसकी नज़रे अब तक महक की मांसल…. चिकनी जांघो पर अटकी थी
महक मन ही मन मुस्कुराई …. उसने सोचा चलो पहली बिजली तो गिर ही गयी …
महक: सररर ….
सोनू जैसे नींद से जगा …….
सोनू: ह… हां …. आईये ना..
सोनू ने उसे अन्दर आने दिया
महक सोफे के पास खड़ी थी …. सोनू ने दरवाजा बंद किया और वो वापस मुडा ….
की .. महक ने उसपे दूसरी बिजली गिरा दी ….
उसने अनजान बनते हुए … अपने स्कर्ट के इलास्टिक को पकड़ कर घुमाया … जैसे वो स्कर्ट ठीक कर रही हो…
इस हरकत से उसका मिनी स्कर्ट हवा में लहराया ….इतना … की सोनू को उसकी सफेद पँटी में कैद उसकी फूली चूत का नजारा हो गया ….
जब महक को लगा की सोनू ये सब देख चूका है तो वो सोफे पर धम्म से बैठ गयी ….
जोर से बैठने के कारण … वो खुद सोफे के गद्दे पर उछली …. और सोनू को उसकी भरी भरी चिकनी जांघो का … और सफ़ेद पँटी का नजारा हो गया ……