महक की दुनिया 1

मैं तन्वी , दो साल antarvasna पहले मेरी एक kamukta फ्रेंड ने से इंट्रो करवाया . तबसे मेरी लाइफ चेंज हो गई. मैंने यहाँ सबसे पहली कहानी पढ़ी थी “महक का जादू “. वो कहानी पढ़ कर तन बदन में आग सी लगने लगी , मुझे भी लगने लगा की मैं भी महक सौम्या और रिया की तरह इन्सेस्ट सेक्स करू .

पर मैं होस्टेल में रहती हु , अपनी फॅमिली से बहोत दूर हु , और वैसे भी मेरी फॅमिली में मेरा कोई बड़ा या छोटा भाई नहीं है , और पापा के बारे में मैंने अभी तक कल्पना नहीं की.

इन्सेक्ट सेक्स तो अभी तक नहीं कर पाई.. पर हा लेस्बियन का भरपूर आनंद उठाया है .लास्ट इयर तक मैं एक होस्टेल में थी , वहा हम तिन फ्रेंड्स एक ही रूम में रहती थी ..हम तीनो भी महक का जादू साथ साथ पढ़ती थी ….और तीनो एक दूसरे के बदन से खेलती थी …वहा लगी आग बुझाने की कोशिश में लगी रहती थी …. इस साल हम तीनो ने एक 1 BHK किराएसे लिया है …. जहा हम फुल मस्ती करते है .

कहानी पढ़ते पढ़ते मैंने सौंदर्या दीदी ( महक का जादू लिखने वाली ) को कांटेक्ट किया , बहोत बार मैसेज करने के बाद हम लोग ऑनलाइन चाट करने लगे और फिर उनसे फ़ोन पर भी बात हुई .सौंदर्या दीदी (ये उनका असली नाम नहीं है ) पुणे में ही रहती है . मेरे सौभाग्य से उनसे रूबरू मुलाकात भी हुयी .

दीदी बहोत ही इंटेलिजंट है, मेरी उनसे बड़ी अच्छी दोस्ती हो गयी. दीदी ने मुझे अपनी लाइफ के बारे में खुल के बताया.वो बहोत ही पर्सनल है …. जिसके बारे में मैंने अभी तक किसी को नहीं बोला …. और ना कभी किसीसे बोलूंगी.

सौंदर्या दीदी ने कुछ वजहों से कहानी लिखना छोड़ दिया ….. मै और मेरी फ्रेंड्स ने उन्हें मानाने को बहोत कोशिश की … लेकिन दीदी नहीं मानी. उसके बाद मैंने Xossip पर कई कहानिया पढ़ी दीदी के फेवरेट अशोक जी की सारी कहानिया पढ़ ली और भी कई कहानिया पढ़ी सबसे स्पेशल कामदेव सूत्र भी पढ़ी .

दीदी की कहानी को आगे बढ़ने की मेरी इच्छा हुई ….. तो मैंने वहा वैसे पोस्ट कर दी … लिकिन दीदी ने मन क्र दिया .

लेकिन फ्रेंड्स …मेरी कई मिन्नतो के बाद दीदी ने परमिशन दी . इतना ही नहीं उन्होंने मुझे हिंदी टायपिंग तक सिखाया और कुछ टिप्स भी दी है .

तो माय डिअर फ्रेंड्स …. मै महक का जादू को आगे बढ़ाने जा रही हु …एक नए नाम से “महक की दुनिया “

मेरे इस एफर्ट में आप सभी का प्यार मुझे मिलेंगा इसी अपेक्षा के साथ