टीचर की चूत की खुश्बू आहह

हैल्लो फ्रेंड्स Antarvasna कैसे हो आप सब, दोस्तों मेरा नाम राहुल है और मेरी उम्र 27 साल की है मैं आज आप सभी कामलीला डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियों को पढकर उनके मज़े लेने वालों के लिए अपनी एक सच्ची सेक्स कहानी लेकर आया हूँ। यह मेरा एक सच्चा सेक्स अनुभव है जिसमें मैंने अपनी टीचर को मेरे घर पर ही चोदकर चुदाई के मज़े देकर उसके जिस्म की आग को शांत किया और उसके मन की इच्छा को पूरा किया, जिसके लिए वो बहुत समय से तरस रही थी, वो मेरी चुदाई से पूरी तरह संतुष्ट थी। दोस्तों अब मैं आप सबका ज्यादा समय ना लेते हुए अपनी कहानी को शुरू करता हूँ।

दोस्तों मेरी एक टीचर बचपन में मुझे पढ़ाया करती थी वो मुझे एक रिश्तेदार के यहाँ पर मिली वो उन्हें जानती थी, मैं उनसे बहुत लम्बे समय बाद मिला था पर मैं उसे पहचान गया उनकी उम्र अब 35 साल थी उनका नाम अंकिता है लेकिन अब भी वो पहले के जैसी मस्त गौरी चिकनी लौंडिया ही थी वो मुझसे मिली तो मुझे पहचान गई, मुझसे बोली हैल्लो राहुल पहचाना मुझे, मैंने बोला नहीं फिर वो बोली मैं अंकिता तुम्हारी इंग्लीश टीचर तुम्हें 10वीं तक पढ़ाया था ना मैंने, भूल गये फिर उसने स्कूल का नाम बताया और फिर हमारे बीच कुछ देर बातें हुई और उन्होंने मुझे बताया तो मुझे याद आया की वो कौन है मैं उसे पहचान गया फिर हमने कुछ देर बातें की फिर अपने नंबर एक दुसरे को दिए और घर वापिस आ गये रात को उसका वाटसप पर मैसेज आया हमने काफ़ी देर तक बातें की फिर सो गये ऐसे ही 3 से 4 दिन हमारी बातें चलती रही। फिर एक दिन उसका सुबह मैसेज आया की शाम को क्या कर रहे हो? मैंने बोला क्यो? तो वो बोली मुझे तुमसे मिलना है मैंने कहा ठीक है आ जाना शाम को, फिर वह मेरे बताए हुए पते पर शाम को 7 बजे मेरे घर आई तब घर पर कोई नहीं था मैं उसे अपने बेडरूम में ले गया और वहाँ पर उसे बैठाकर बातें करना शुरु कर दिया और बातें करते करते उसने बताया की वो मुझे जबसे पढ़ाती थी तबसे ही मुझे पसंद करती है।

मैंने उससे पूछा क्या आप मुझे प्यार करती हो तो उसना हाँ में जवाब दिया यह सुनकर मेरा चेहरा खुशी से चमक उठा, वो उस दिन एक काले कलर का सूट पहनकर आई थी जिससे उसके 36 के बब्स पूरे चमक रहे थे जिन्हें देखकर मेरे मुँह में पानी आ गया और उसकी गांड के तो क्या कहने, और मुझे लगा की मेरा आज बहुत अच्छा मौका है तो इसे चोद डालु, मैंने ट्राइ मारने की सोची मैंने उससे पूछा जब तुम मुझे प्यार करती हो तो इतनी दूर दूर क्यो हो मेरे पास आओ, और ये कहकर मैं उसके पास बैठ गया और उसकी आँखो में देखने लगा और वो मेरी, और मैंने उसके चेहरे पर एक किस किया तो उसने कुछ नहीं बोला तो फिर मैंने उसे किस करना शुरु किया और उसके चेहरे को चूमता हुआ उसके होठों पर आ गया और दबाकर चूसने लगा वो अपना हाथ मेरे सर के पीछे ले गई और मुझे कसकर पकड़ लिया और पागलो की तरह मेरे होठों को चूसने लगी जीभ से जीभ लड़ाने लगी, वो अपने मुहँ का थूंक मेरे मुहँ में डालने लगी मैं उसे पी रहा था वो मेरी जीभ चूस रही थी फिर उसने और मैंने 15 मिनट तक ऐसे ही जीभ लड़ाई और वो मेरे ऊपर लेट गई और मेरे होंठ चूसती रही बहुत देर तक, मुझे मज़ा आ गया था उसका ये अक्रामक रूप देखकर। मुझे लिटाने के बाद वो मेरे कपड़े निकालने लगी और धीरे धीरे उसने मुझे पूरा ही नंगा कर दिया और मेरे लंड को अपने हाथों में लेकर चाटने लगी इससे मेरा मज़ा दुगना हो गया, फिर मैंने उसका मुँह अपने लंड पर दबाया तो वो खड़ी हो गई और फटाफट अपना सूट और ब्रा पेंटी एक ही झटके में निकालकर फेंक दी मैं उनका नंगा शरीर देखकर पागल हो गया क्या जिस्म था उनका मैं आपको बता नहीं सकता, मैं उसके बब्स देखकर प्यासा हो गया उन्हें चूसने के लिये, मैं खड़ा होने लगा तो उसने मुझे उठने नहीं दिया और मैं वही लेटा रहा वो मेरे लंड पर जीभ फैरने लगी जिससे मेरा लंड तन गया और उसने तपाक से मेरा पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और घपा घप उसको चूसने लगी मैं उसके सर को दबा रहा था अपने लंड पर, फिर मैं उसके सर को अपने लंड पर ही दबाए हुए खड़ा हुआ और मैं खड़ा होकर उसके मुँह को ताबड़तोड़ चोदने लगा कुछ ही देर में मेरे लंड ने सारा माल उसके हलक में उतार दिया जिसे वो प्यासी की तरह घटा घट पी गई और मेरे लंड से एक एक बूँद चाट गई। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

मेरा लंड चूस चूसकर के साफ करने के बाद वो खड़ी हुई और मुझे बेड पर लेकर लेट गई और अपने बब्स मेरे मुँह में डालकर के पिलाने लगी जिससे मैं फिर से गरम होने लगा मैं उसके बब्स को चूस रहा था और उसके निप्पल को काट रहा था और उसकी चूत को अपने हाथ से मसल भी रहा था कुछ ही देर में मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया वो मेरे तने हुए लंड को देखकर फिर मेरे लौड़े को मुँह में लेकर चूसने लगी और मैं उसके सर को लंड पर दबाने लगा फिर मैं पूरे जोश में आ गया और उसको सीधा लिटाकर उसकी चूत के पास पहुँच गया उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे मैं उसे सूंघने लगा उसकी महक मेरे दिमाग़ में चढ़ने लगी मैं उसकी चूत पर किस करने लगा और एक ही झटके में उसकी चूत को किसी बर्गर की तरह मुँह में भरकर के चूसने चाटने और काटने लगा वो मचल उठी और मेरे सर को चूत पर दबाने लगी मैं उसकी चूत के होठों को अपने दातों से काट रहा था और उनमें अपनी जीभ चलाये जा रहा और उसकी चूत को अपनी जीभ से रगड़ रगड़कर चोद रहा था इन सबसे वो बहुत ज्यादा मदहोश होने लगी और बोलने लगी मेरे जानेमन दबा के चूसो खा जाओ इसे, मैं उसकी चूत को चूसता रहा और अपनी जीभ से चोदता रहा वो पूरी तरह से गरम हो चुकी थी। मैंने उसकी चूत को करीब 20 मिनट तक लगातार चोदा और वो इस दौरान झड़ गई मैं उसका सारा रस पी गया।

फिर मैं खड़ा हुआ और उसके ऊपर आकर अपना लंड उसकी चूत पर घिसने लगा इससे वो तड़पने लगी और बोली जान प्लीज अब तो अंदर डाल दो, मत तरसाओ। मैंने ये सुनते ही एक झटके में पूरा लंड उसकी चूत में दाखिल कर दिया उसकी चूत बहुत टाइट थी जैसे कई दिनों से चुदी ना हो। मैं उसकी टाइट चूत पर ताबड़तोड़ लंड पैलने लगा वो बोलती जा रही थी मेरे जानू और चोदो और ज़ोर से बुझा दो मेरी प्यास, कसके चोदो आज छोड़ना मत मुझे, दबाकर चोदो मुझे ज़ोर ज़ोर से, मैं और ज़ोर जोर से उसे चोदने लगा हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था वो आआहह… उइएई… किए जा रही थी उसकी आवाज़ से कमरा गूँज रहा था मैं उसे ऐसे ही चोदता रहा फिर मैंने उसकी तांग उठाकर अपने कंधे पर रख ली और अच्छे से उसकी चूत में दबाकर झटके देना लगा उसकी सिसकारियों से मैं पागल सा हुआ जा रहा था। ऐसे ही मैं उसे 20 मिनट तक चोदता रहा जिससे वो 2 बार झड़ गई और अंतिम पलों में मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया और हम दोनों एक दूसरे से लिपट के लेट गये। फिर मैंने उठकर उसे किस किया और उसकी गांड को चूसने और चाटने लगा पर वो मना करने लगी की नहीं अभी नहीं, मैंने कभी गांड नहीं मरवाई है मैं थक गई हूँ बाद में मार लेना प्लीज, फिर वो और मैं लेटे रहे इतने में मैंने उठकर के कुछ खाया पर मेरा लंड उसकी बड़ी गांड में जाने को बेताब था मेरा मन नहीं मान रहा था मैं उसके पास गया और उसकी गांड को चूसने और चाटने लग गया वो उठ गई और आईई…. ओहह… करने लग गई मैंने मौके का फायदा उठाकर के पास में ही रखा तेल उठाया जिससे मैं लंड की मसाज करता हूँ और उसकी गांड में भर दिया और थोड़ा तेल लंड पर भी लगा लिया और फिर मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा वो जैसे ही घोड़ी बनी मैंने मौका देखकर के लंड उसकी गांड के छेद को चौड़ा करके और लंड सेट करके ज़ोर से झटका मारा और आधा लंड उसकी गांड में घुस गया वो ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी पर मैं रुका नहीं और ताबड़तोड़ चुदाई करता रहा उसकी गांड से खून निकलने लगा पर मैं नहीं रुका फिर वो भी कुछ समय बाद मज़ा लेने लगी और मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी अपनी गांड को आगे पीछे करके और 15 मिनट बाद मैं उसकी गांड में ही झड़कर उसके ऊपर ही लेट गया वो उस रात मेरे पास ही रुकी और मैंने उसे 4 बार चोदा था और दोस्तों उसकी गांड का हाल तो पूछु ही मत, आप चाहो तो दो लंड एक साथ घुसा सकते हो इतनी चौड़ी तो मैंने कर दी है अब आपकी बारी।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!