पति का नमकीन टेस्ट बहुत बेकार था

हैल्लो फ्रेंड्स, Antarvasna मैं आज आपको अपनी सुहागरात की सच्ची घटना बताने जा रही हूँ। मेरा नाम अंजली है और मैं 27 साल की 36-28-38 फिगर वाली लड़की हूँ यह मेरी सच्ची सुहागरात की कहानी है जो मैं आज आपको बताने जा रही हूँ। मेरी फैमेली में मेरे मम्मी और पापा है, पापा एक फैक्ट्री में काम करते है यह बात करीब आज से 2 साल पहले की है जब मैं 25 साल की थी और मेरी शादी हुई थी और जब से मेरी चुदाई हुई है तब से मैं कामलीला डॉट कॉम की कहानियां पढ़ती आ रही हूँ मैंने भी सोचा की क्यूँ ना मेरी भी चुदाई की कहानी आप लोगों से शेयर करूँ।

मेरे पति का नाम अरुण है और वह बिल्कुल हीरो की तरह सुन्दर शरीर के मालिक है जब वो मुझे देखने आए थे तो मैंने उन्हे देखते ही पसंद कर लिया और अरुण ने मुझे भी लेकिन बाद में मुझे पता चला की वो एक प्लेबॉय किस्म के इंसान है उनका कितनी ही लड़कियो के साथ अफेयर था लेकिन अब हो भी क्या सकता था मुझे घर वालो की खुशी के लिए उनसे शादी करनी पड़ी। फिर हमारी शादी हुई और शादी के बाद उनकी बहन मुझे उनके कमरे में यानी हमारे सुहागरात वाले कमरे में ले गयी और मुझे समझाती हुई गई की भैया को क्या पसंद है और क्या नापसंद। यह पहले से ही कमरे में थे मुझे देखते ही उनकी ऑंखें खुशी से चमक गयी इतनी ही देर में मेरी ननद दूध का ग्लास लाई और रखकर के जाने से पहले इन्हें कह गयी प्लीज भैया आज भाभी को ज्यादा परेशान मत करना बेचारी बहुत थकी हुई है और फिर वो दरवाज़ा बाहर से बंद करके चली गयी। अरुण ने मुझे पास बुलाया और कहा की आज मैं बहुत सेक्सी लग रही हूँ मैं यह बात सुनकर शरमा गई और उन्हें दूध पीने को कहा अरुण ने जल्दी से दूध पिया और कहा शरमाओ मत अब हम पति पत्नी है मेरे पास आकर बैठो। फिर मैं उनके पास जाकर बैठ गयी फिर थोड़ी देर हमने इधर उधर की बातें की फिर मैंने इनसे कहा की मैं बहुत थक गयी हूँ मुझे नींद आ रही। तो इनका जवाब था की अब थक ही चुकी हो तो तुम्हें पूरा ही थका देता हूँ इससे तुम्हें नींद अच्छी आएगी। मैं इनका इरादा अच्छी तरह से समझ गयी थी की यह मेरे साथ रात भर क्या करना चाहते है। मैंने धीरे से सिर हिलाया तो यह एकदम तैयार हो गये और जल्दी जल्दी अपने कपड़े उतारने लगे और फिर मुझे कहा की तुम भी अपने कपड़े उतार लो, लेकिन मुझे बहुत शरम आ रही थी कि पहली बार किसी मर्द के सामने नंगी होउंगी। इन्होनें मेरी शरम को समझ लिया और कहा चलो ठीक है तुम शरमा रही हो तो मैं ही तुम्हारे कपड़े उतार देता हूँ फिर वो मेरे पास आए और सबसे पहले मेरे बालों को खोला, फिर अरुण ने मेरी जैवलरी उतारी फिर उनके हाथ का स्पर्श जहाँ जहाँ भी होता मैं एकदम मस्त हो जाती थी। फिर अरुण ने मेरे होठों को किस किया तो मैं तो शरमा गयी क्यूकी यह सब मेरे साथ पहली बार हो रहा था तो अरुण ने कहा शरमाओ मत मेरा साथ दो फिर मैं भी उनके होठों को किस और चूसने लगी करीब 20 मिनट तक हम एक दूसरे को किस करते रहे। फिर अरुण ने मेरे पेटीकोट का नाडा खोल दिया और पेटीकोट निकाल दिया अब मैं उनके सामने पेंटी में थी फिर बारी आई मेरे ब्लाउस की फिर अरुण ने मेरे ब्लाउस के हुक खोले और ब्लाउस निकालकर फेंक दिया जैसे ही ब्लाउस खुला उनकी आखों में चमक आ गयी और फिर मेरी ब्रा और पेंटी भी उतार दी मैं उनके सामने पूरी नंगी बैठी हुई थी वो मेरे पीठ पर हाथ सहला रहे थे और मेरे बोबे जिन्हें हम बब्स कहते है उनको चूसने लग गये थे मैं एकदम से चिल्ला उठी की यह क्या कर रहे तो उनका जवाब था की यह सब प्यार करने के तरीके है फिर मैंने कुछ नहीं कहा और अरुण ने अपना काम चालू रखा।

फिर अरुण ने अपना अंडरवियर उतारा तो मैं उनका इतना बड़ा लंड देखकर के चकरा गयी उनका लंड करीब 7 इंच बड़ा और 3 इंच मोटा था मैं डर गयी तो अरुण ने कहा जान पहले तोड़ा दर्द होगा फिर बाद में मज़ा आएगा। फिर वो मेरे पैरों की तरफ आ गये और मुझे पैर फैलाने को कहा, मैंने पैर फैला लिए तो अरुण ने मेरी चूत पर अपना मुहँ लगा लिया और फिर धीरे धीरे उसे जीभ से चाटने लगे मैं बता नहीं सकती की मुझे इतना मज़ा आने लगा था और मैं अपने पैर और चौड़े करके ऊपर नीचे होने लगी और मैं करीब 4 मिनट में ही झड़ गयी तो अरुण ने मुझसे कहा की मैंने तुम्हारा काम तो कर दिया अब तुम मेरा काम भी तो करो मैंने हाँ में जवाब दिया तो अरुण ने मुझे लंड पकडाकर के कहा इसको अपने मुहँ में ले लो। मैंने कहा की यह ग़लत है मैं इतना बड़ा मुहँ में नहीं ले सकती तो अरुण ने मुझसे पूछा की तुम्हें 69 पोज़िशन पता है तो मैंने जवाब दिया नहीं तो अरुण ने कहा ठीक है तुम अपनी चूत मेरे मुहँ पर रख दो और मेरा लंड अपने मुहँ में ले लो, उनके ऐसे कहते ही मैं खुश हो गई इसलिए मैंने उनकी बात मान ली और हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ गये मैं उनका लंड धीरे धीरे अपने मुहँ में लेने लगी पहले थोड़ा अजीब सा लगा लेकिन फिर बाद में मुझे भी मज़ा आने लगा जैसे मैं लोलीपॉप चूस रही हूँ। जैसे जैसे मैं लंड को मुहँ में लेती वैसे वैसे उनकी सिसकारियां निकलती फिर वो भी जोश में आ गये और मेरी चूत को जोर जोर से चूसते रहे और ऊँगली करते रहे, मेरे मुहँ में इतना बड़ा लंड होने की वजह से मैं चिल्ला भी नहीं पा रही थी मैं दोबारा से झड़ गयी और वो भी मेरे मुहँ में ही झड़ गये मैंने कहा यह क्या किया तुमने मेरे मुहँ में ही छोड़ दिया तो इन्होने कहा जानू इसे पी जाओ जैसे मैंने तुम्हारा पिया था। मैंने उनका वीर्य पी लिया लेकिन उसका टेस्ट बहुत बेकार था मुझे उल्टी होने जैसा मन हुआ लेकिन हुई नहीं।

फिर अरुण ने अपना लंड मेरी चूत पर रखा और धीरे धीरे अंदर डालने की कोशिश करने लगे। मैं इतना बड़ा लंड ले ही नहीं पा रही थी और चिल्ला रही थी आहह… आहह…. प्लीज निकाल दो, मुझे बहुत दर्द हो रहा है लेकिन मेरी बात सुनने वाला वहां कोई नहीं था उन्होंने फिर से एक झटका दिया और पूरा 8 इंच लंड मेरी चूत में डाल दिया मेरे तो आसूं ही निकल गये और मैं चीख भी नहीं सकती क्यूकी वो मुझे मेरे होठों पर किस कर रहे थे। दोस्तों यह तो सब लडकियाँ ही जानती है की पहली बार चूत में लंड डलवाने पर कैसा अनुभव होता है। तब उन्होंने मुझे कहा की ऐसा करना पड़ता है वरना तुम दर्द सहन नहीं कर पाती अब आगे दर्द नहीं होगा क्यूकी तुम्हारी चूत की सील टूट चुकी है और उसमें से ब्लड भी निकल रहा है फिर अरुण ने अपने झटको की स्पीड बढ़ा दी और अब मेरा भी दर्द कम होने के साथ साथ मैं भी मज़े लेने लगी और सिसकते हुए कहती रही जानू धीरे से डालो ना, मज़ा आ रहा है वो भी मेरी बात सुनकर जोश में आ गये और तेज तेज झटके देने लगे और साथ में मेरे बब्स और निप्पल को भी काट रहे थे लेकिन मुझे दर्द नहीं मज़ा आ रहा था और आख़िर 30 मिनट की चुदाई के उन्होंने मेरी चूत में ही अपना ढेर सारा गरम गरम वीर्य छोड़ दिया और मेरे ऊपर ही लेट गये। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

दोस्तों जब उनका वीर्य मेरी चूत में समा गया तो मुझे सुख का अनुभव हो रहा था और मेरी चूत से उनका वीर्य धीरे धीरे करके बाहर आ रहा था। दोस्तों मेरे पति ने मेरे बब्स और निप्पलों को काट काटकर के सूजा दिया और फिर अरुण ने पूरी रात मुझे सोने नहीं दिया और मुझे हर एंगल से चोदा कभी डॉगी स्टाइल में तो कभी खड़ा करके, कभी बैठाकर और कभी गांड में। अरुण ने पूरी रात मैं मुझे 5 बार चोदा मेरी हालत यह हो गयी थी की मैं चल भी नहीं पा रही थी और मेरे बब्स और निप्पल एकदम लाल हो गये थे और निप्पल और पूरे बब्स पर काटने के निशान और गांड पर उनके हाथों के चाटे के निशान साफ दिखाई दे रहे थे।

तो दोस्तों यह थी मेरी पहली चुदाई की कहानी मेरे पति ने सुहागरात में मुझे जमकर चोदा।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!