निशा रांड की मस्त चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरी antarvasna चोदन डॉट कॉम पर यह पहली स्टोरी है। अब में आपको ज्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ। में नवसारी के पास एक गाँव का रहने वाला हूँ, मेरा नाम संजय है, मेरी उम्र 25 साल है, यह एक सच्ची कहानी है। मेरे घर के सामने ही एक लड़की रहती है जिसका नाम निशा है, वो 24 साल की लड़की है, अरे लड़की क्या? वो तो बॉम्ब थी। वो बचपन से मेरे साथ ही पढ़ती थी। हम दोनों साथ में ही पढ़ने बैठते थे। जब वो किताब पढ़ती तो अपने पैरों को सामने रखकर बैठती थी और में जानबूझकर उसके सामने ही बैठता था, ताकि मुझे उसकी चड्डी दिख सके। वो बहुत सेक्सी चड्डी पहनती थी, इस वजह से मुझे कभी-कभी उसकी चूत भी दिखाई दे जाती थी और मेरा लंड खड़ा हो जाता था, मगर उस समय मुझमें इतनी हिम्मत नहीं थी और देखते ही देखते हम दोनों अपना कॉलेज ख़त्म कर गये।

अब आज निशा 24 साल की है और उसकी जवानी बड़ी मदहोश है, उसका फिगर 36-29-36 का था, उसके चेहरे से गजब का सेक्स झलकता है, उसके बड़े-बड़े बूब्स के बारे में तो क्या कहूँ? उसके बूब्स को पकड़ने के लिए दोनों हाथों को मिलाना पड़ सकता है, उसकी गांड भी बहुत बड़ी थी, उसकी जुल्फे बहुत लंबी है और हमेशा खुली रखती है। उसको हमारे गाँव की मल्लिका शेरावत भी कहते है, सब लोग उसके बारे में बात करते है कि वो एक रंडी बन गयी है और रोज पैसे लेकर चुदवाती है, लेकिन में ये मानने को तैयार नहीं था मगर फिर एक दिन मैंने उसको नवसारी स्टेशन पर एक गेस्ट हाउस में एक लड़के के साथ देखा, तो तभी में समझ गया कि लोग सही कहते है। फिर मैंने उस लड़के को ध्यान से देखा तो वो मेरा दोस्त प्रतीक था।

फिर दूसरे दिन मैंने प्रतीक के पास जाकर उससे पूछा। तो वो बोला कि उसका नाम निशा है और वो एक चुदाई करवाने के 1000 रुपए लेती है और फिर वो बोला कि गजब की लड़की है और उसके लिए तो में 10000 रुपए भी खर्च कर सकता हूँ। अब में समझ गया था कि अब में उसको चोद सकता हूँ। फिर एक दिन में अपने घर में बैठा था, में घर में अकेला था। अब वो मेरी माँ से कुछ कहने आई थी, लेकिन माँ बाहर गयी थी इसलिए उसने कहा कि जब माँ आएगी तो फिर आ जाउंगी। फिर मैंने हिम्मत करके उससे कहा कि उस दिन गेस्ट हाउस के बाहर मैंने तुमको प्रतीक के साथ देखा था और प्रतीक मेरा दोस्त है। तो तब वो डर गयी और बोली कि किसी को बताना मत। तब मैंने कहा कि सब जानते है कि तू रंडी है, सिर्फ़ में ही नहीं मानता था, मेरी बचपन से एक इच्छा रही है कि जिंदगी में कभी मौका मिला तो तुझको जमकर चोदूं, लेकिन डर के कारण में कुछ कर नहीं सका।

तो तब वो बोली कि जब हम साथ में पढ़ने बैठते तो तब एक इच्छा मेरी भी थी कि तू मुझको चोदे, मगर तुम मेरे इशारे समझते ही नहीं थे। अब में खुश हो गया था और बोला कि क्या तुम मुझे चोदने दोगी? तो तब वो हंसने लगी। अब में समझ गया था कि मेरी निकल पड़ी है। उस दिन उसने पिंक कलर का ड्रेस पहन रखा था और वो बहुत सेक्सी दिख रही थी। फिर में उसको मेरे बेडरूम में ले गया और दरवाज़ा बंद कर लिया। तब वो शरमाई और सेक्सी अदाओं से मुझको देखने लगी थी। तब मैंने उसको कमर में से पकड़ लिया और उसको लिप किस करने लगा था। फिर मैंने 5 मिनट तक उसके लिप को चूसा। अब वो गर्म हो गयी थी। फिर मैंने उसका दुपट्टा निकाल दिया और उसकी गर्दन पर किस करने लगा और काटने लगा था। फिर जब मैंने उसके कान के नीचे गर्दन पर चूमा तो उसको बड़ा मज़ा आता था और वो मुझको कसकर पकड़ लेती थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर 10 मिनट तक ये खेल चलने के बाद वो मुझसे बोली कि अब बस करो ए ज़ालिम, में बहुत प्यासी हूँ, अब मेरी प्यास बुझाओ और सिसकियाँ भरने लगी थी। फिर मैंने उसका टॉप निकाल दिया। अब उसके बड़े-बड़े बूब्स उसकी ब्रा में से बाहर निकलने के लिए बेकरार थे। फिर मैंने जल्दी से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और जैसे ही उसकी ब्रा निकाली तो उसके बूब्स जैसे डांस करने लगे थे। अब में बहक गया था और उसके बूब्स को दबाने लग गया था। अब में ज़ोर-ज़ोर से उसके बूब्स को रगड़ने लगा था। फिर उसने मेरी पेंट का हुक खोल दिया और मेरी पेंट को उतारने लगी थी। तब मैंने उसकी मदद की और उसके बूब्स दबाते हुए ही अपनी पेंट और चड्डी उतार दी थी। अब मेरा कोबरा जैसा लंड फनफनाते हुए बाहर निकल आया था। अब वो उसको सहलाने लगी थी।

फिर वो अपने घुटनों के बल बैठकर मेरे लंड को चूमने लगी और अपने मुँह में लेने लगी थी। अब मेरा 8 इंच लम्बा लंड पूरा उसके मुँह में समा गया था। फिर मैंने अपनी बनियान भी निकाल फेंकी और उसके बाल पकड़कर उसके मुँह को ही चोदने लगा था। फिर 10 मिनट के बाद मेरा वीर्य उसके मुँह में ही निकल गया और अब वो उसको मज़े से पी गयी थी। फिर उसने मेरे लंड को चाटकर साफ किया। फिर मैंने उसकी जींस निकाल दी और उसकी पेंटी भी निकाल फेंकी थी। अब वो एकदम नंगी मेरे सामने थी। फिर मैंने उसको पकड़कर बेड पर लेटा दिया और उसके दोनों बूब्स के बीच में अपना लंड रखकर रगड़ने लगा था। फिर थोड़ी देर के बाद उसने मेरा लंड फिर से अपने मुँह में लिया और चूसने लगी थी। अब मेरा लंड करीब 5 मिनट में ही फिर से लोहे जैसा हो गया था। फिर मैंने उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उसकी चूत को छोड़ा तो फिर उसमें से पानी पानी निकलने गया, तो थोड़ा रस मैंने भी पी लिया था। फिर मैंने अपने लंड को निशा की चूत के ऊपर रख दिया और रगड़ने लगा था। तब वो सेक्सी आवाज में बोली कि अब बस भी करो संजू, मुझको चोदो जल्दी से।

फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर एक धक्का दिया तो मेरा पूरा 8 इंच का लंड झट से उसकी चूत में अंदर पहुँच गया। तभी में समझ गया कि निशा कितनी बड़ी चुदक्कड रंडी है, उसको कम से कम 200-250 लोगों ने चोदा होगा। फिर मैंने ज़ोर-ज़ोर से उसको चोदा और अलग-अलग स्टाइल से उसको चोदा। फिर करीब 30 मिनट तक चोदने के बाद मेरे लंड ने उसकी चूत में ही थूक दिया। फिर थोड़ी देर तक हम ऐसे ही एक दूसरे से चिपके रहे और फिर लास्ट में मैंने उसकी गांड भी मारी। फिर हमने साथ में बाथरूम में जाकर मैंने उसकी चूत को साफ किया और उसने मेरा लंड साफ किया। फिर हम थोड़ी देर तक ऐसे ही बातें करते रहे। फिर जाते समय मैंने उसको 1000 रुपए दिए। तो तब वो बोली कि ये मेरा धंधा है इसलिए में पैसे तो जरूर लूँगी, मगर ये 1000 रुपए तुम्हारे लिए लाईफ टाईम प्री-पैड रीचार्ज के तौर पर लेती हूँ। अब में समझ गया था कि अब पूरी ज़िंदगी के मज़े इन 1000 रुपए से मिलेंगे और फिर वो चली गयी। फिर मैंने उसको कई बार चोदा अपने घर में तो उसके घर में और खूब मजा किया था ।।

धन्यवाद …