चुदक्कड़ बहु और रंडी सास

हैल्लो दोस्तों, अब antarvasna में आपको ज्यादा इंतज़ार ना कराते हुए सीधी अपनी स्टोरी स्टार्ट करती हूँ। यह बात कुछ दिन पहले की है। अब में अपने देवर की यादों में खोई बैठी थी कि अचानक मेरी सासू माँ जो मुझे बहुत प्यार करती है आई और पूछने लगी कि शारदा क्या बात है लालू की याद आ रही है? तो तब मैंने कहा कि जी मम्मी आपका सुनील तो कुछ करने लायक है नहीं, कब तक तड़पती रहूँ, वो हरामजादी कीर्ति तो हमारे प्यारे लालू को लेकर भाग गयी, लेकिन मेरा तो सेक्स के बिना तड़प-तड़पकर बुरा हाल है। में यहाँ आपको बता दूँ कि मेरी सास भी एक नंबर की चुदक्कड़ है, वो किसी को भी नहीं छोड़ती, वो अपने मायके और ससुराल के मौहल्ले में मशहूर थी, वो अमृतसर के हर रांझे की हीर थी, वो क्या खूबसूरत बला है, लेकिन जब से लालू की शादी में दहेज के चक्कर में फँसने के कारण हम चंडीगढ़ शिफ्ट हुए है, तो तब से उसे कोई नहीं मिला इसलिए वो भी बहुत बैचेन है।

दोस्तों अब में अपना दुख अपनी सासू को बता रही थी। तो तब उसने मुझे सलाह दी शारदा तुझे याद है जब तू शादी करके आई थी, तो एक लड़का तुझे फोन करता था जिसके कारण सुनील (मेरा छक्का पति) ने अपनी हाथ की नस काट ली थी, वो कहाँ रहता है? तो तब में बोली कि वो सेक्टर 27 में रहता है, लेकिन मम्मी आपको कहाँ से याद आ गया? तो तब सास बोली कि नहीं में इसलिए पूछ रही हूँ कि अगर वो यहाँ मिलने आ सकता है, तो हम दोनों अपना जुगाड़ लगा ले। तो तब में बोली कि आइडिया तो अच्छा है, लेकिन उसके लिए मुझे उसकी शॉप पर जाना पड़ेगा, में बाज़ार तो जा ही रही हूँ, उससे घर आने के लिए बोल आती हूँ, तब तक आप सुनील को फोन कर दो कि हम शॉपिंग करने जा रहे है, कोई घर पर नहीं होगा।

तब मेरी सास बोली कि ठीक है, लेकिन क्या स्कीम सोची है? तो तब में बोली कि घर के दो दरवाज़े है एक को लॉक करके दूसरे से अंदर आ जाएगे और विकास को कहेंगे कि चुपके से अंदर आ जाए और फिर मैंने अपने दोनों बच्चों को स्कूल बस से लिया और उनके मामा के पास छोड़ा और अपने भाई से कहा कि मुझे अपनी सास के साथ शॉपिंग करने जाना है, तो तू इन्हें मम्मी के पास छोड़ आ। मेरे पापा और भाई की शॉप हमारे घर के बिल्कुल सामने ही है और मेरा मायका मेरे घर से सिर्फ 4-5 किलोमीटर दूर है। फिर बच्चों को छोड़ने के बाद में विकास की शॉप पर गयी और मेडिसिन लेने के बहाने उसे चुपके से मैसेज दे दिया की 3 बजे घर आ जाना, में इन्तजार कर रही हूँ और फिर में वापस घर आ गयी।

फिर विकास ठीक 3 बजे मेरे घर आ गया। अब में खिड़की से उसे देख ही रही थी, तो तब वो जैसे ही ऊपर आया तो तब मैंने जिस दरवाजे को लॉक नहीं किया था, उससे विकास को अंदर ले लिया। फिर उसने अंदर आते ही एक ज़ोर से हग दिया और पूछा कि ऐसे क्यों बुलाया है? वो भी इतने सालों के बाद कहाँ से मेरी याद आ गयी? तो तब मैंने उससे कहा कि मेरी सासू माँ को थैंक्स कहो, जिसने बोला है कि में तुमसे मिल सकती हूँ। तब विकास बोला कि क्यों मिलना चाहती थी? तो तब में बोली कि तुम्हें नहीं पता, भूल गये सब? जब हमारी शॉप के पिछवाड़े रात को मिला करते थे? तब क्यों मिलते थे, यह भी बताना पड़ेगा? तो तब विकास बोला कि अरे मोटी, तू तो गुस्सा ही कर गयी, लेकिन यह तो बता कि शादी से पहले तो प्यास हम यारों से बुझाती थी, अब तो पति है, अब क्या जरूरत पड़ गयी? वैसे भी तुम चाहो तो पांचाली बनकर रहो 1 पति, 2 जेठ, 1 देवर और 1 ससुर काफ़ी नहीं है, 5 पांडव। तो तब में बोली कि अरे मेरा पति तो छक्का है और ससुर बुढा है, एक जेठ सिर्फ़ मसाज करके झाड़ देता है और देवर उसकी याद में तो तड़प-तड़पकर बुरा हाल है, उसी ने तो इस हालत में छोड़ा है, जब तक उसकी शादी नहीं हुई थी उसे बहुत पटाया और मजबूरी में वो हो भी गया, लेकिन अब उसकी बीवी उससे ले उड़ी है और में मर रही हूँ। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर विकास ने मेरी सासू माँ को थैंक्स कहा और मुझसे कहा कि बेडरूम में चलें? तो तब मैंने अपनी सासू माँ से कहा कि मम्मी चलो, आ जाओं। तो तब विकास हैरान हुआ। तो तब मैंने बताया कि डियर डार्लिंग यह भी हमें जॉइन करेंगी। फिर इस तरह से विकास, में शारदा देवी और सास उर्मिला देवी बेडरूम की तरफ चल पड़ी। फिर विकास ने मुझे बेड पर पटका और मेरी कमीज फाड़ दी, जिसमें से मेरे 48 साईज के बूब्स ब्रा में क़ैद आधे नंगे बाहर निकल आए थे। अब मेरी ब्रा खोलते ही वो हमेशा की तरह मेरे बूब्स पर टूट पड़ा था और बोला कि शारदा यह तो बहुत बड़े हो गये है, पहले तो 32 साईज के भी नहीं थे, किस-किससे चुसवाती हो?

फिर जैसे-जैसे वो मेरे कपड़े उतारता गया, में हॉट होती गयी और अब मेरी सास जो हमेशा सेक्स की भूखी रही है, हमें देखते हुए हस्तमैथुनकर रही थी। वो साली 70 साल की बूढ़ी आज भी किसी को नहीं छोड़ती थी, वो उस तांत्रिक के भी पीछे पड़ी है जिसके पास हम लालू और उसकी बीवी को अलग करने के लिए टोने टोटके करवाने जाते है। खैर फिर धीरे-धीरे विकास ने मेरी सलवार और पेंटी निकाली और खुद के सारे कपड़े उतार दिए। अब वो मेरी चूत में अपनी एक उंगली डालकर मेरी सास के बूब्स चूस रहा था। अब में बहुत हॉट हो चुकी थी और अपनी चूत खोल रही थी, ताकि विकास का लंड जल्दी से अंदर जाए। फिर विकास ने अपना लंड मेरी चूत पर रखा और ज़ोर से एक धक्का मारकर मेरी चूत में डाल दिया। तब उसको झड़ने में 45 मिनट लगे और मेरी चूत को चोद-चोदकर उसका भर्ता बना दिया। फिर उसके बाद उसने मेरी सास को भी ऐसे ही जमकर चोदा। आज भी हम दोनों सास बहु चुदवाकर ऐसे ही मजे लेती है ।।

धन्यवाद …