मौसी की बेटी को चोदा

हेलो दोस्तों Antarvasna मेरा नाम रेहान है और मैं जो कहानी सुनाने झड़ रहा हूँ वो आज से दो महीने पहले की है मेरी उमर 24 साल है और मैं ओधिस्सा मैं रहता हूँ. हमारे मोहल्ले मैं ही मेरी मौसी का घर है और वहां मेरी मौसी और उनकी बेटी एरूम अकेले रहती है. एरूम की उमर 26 साल है और बिना शादी-शुदा . एरूम के दो छोटे भाई है और बहन भी थे , मगर बहन की रायपुर शादी हो गयी और भाई दिल्ली मैं रहता है और वही शादी कर रखी है. अब आता हूँ मैं कहानी की तरफ, एरूम जिसको मैं एरूम बाजी कहा करता था बहुत ही सीरीयस किस्म की लड़की थी , मगर उसकी फिगर बहुत जबरदात थी, 34 साइज के बूब्स और भारी –भारी सिग और बहुत जबरदस्त लगती थी.

मैं उनकी गांड का फन था मगर उन्न की सीरीयस आदत की वजाहा से उनसे दूर रहता था. पिछले दीनों मेरे एग्ज़ॅम खत्म हुए थे तो मैंने उनके घर रोज जाना शुरू कर दिया . अगर कोई काम होता डेठ ओह मौसी मुझे बुला भी लेती थी . एक दफा मैं उनके घर गया तो बाजी ने कहा रेहान मुझे मोबाइल लेना है कौन सा लू, मैंने कहा आपको मोबाइल की क्या जरूरत है आप तो सारा दिन घर पा रही होती है. उन्होंने कहा इसलिए ही लेना है कभी फ.में. कभी कोई गाना सुन लिया करोंगी और कभी किसी को मेसेज कर दिया करोंगी. मैंने उनको 2-3 सेट बताए जिनमें से एक उन्होंने ले लिया. जब उन्होंने मोबाइल ले लिया तो मुझे भी मेसेज करने लगी, मैं भी उनको रिप्लाइ कर दिया करता था.

फिर हमारी तरफ रात कोबिज़ली बंद होना शुरू हो गयी. इसी दौरान रात को रज़ाई मैं लाइट कर हम मेसेज पर एक दूसरे को बुरा भला कहने शुरू कर देते . फिर हमारी रुटीन बन गयी और रात को 10 बजते ही शुरू हो जाते, कभी किसी टॉपिक पर बात करते और कभी किसी टोपी पर, इस तरह हम एक दूसरे से बहुत फ्रेंडली हो गये . एक दफा उन्होंने मुझसे पूछा की तुमने किसी कज़िन वगेरा को सेट किया या नहीं. मैंने कहा की नहीं मैं इस काम मैं बिलकुल अंजान हूँ. फिर इस तरह हम फ्रेंक से फ्रॅंक्ली होते चले गये. आपको तो पता है की लड़के और अदकी फ्रॅंक्ली हो जाए तो नतीजा एक ही निकलता है.

इस तरह हम बहुत फ्रॅंक्ली होकर बात करनी लगे. एक दफा उन्होंने पूछा की तुमको लड़कियों मैं क्या अच्छा लगता है, मैंने कहा की कुछ नहीं लड़कियों मैं क्या अच्छा लगेगा. उन्होंने कहा नहीं बताओ कौन सी चीज़ सब से अच्छी लगती है. मैंने भी समझ गया की वो क्या पूछना चाहा रही है. मैंने कहा की सच बताओ, तो उन्होंने कहा की हां सच बताओ, मैंने कहा की चलो चोदा आप बुरा मान जाएगी, तो उन्होंने कहा की बुरा नहीं मानती सच बताओ. मैंने कहा की मुझे आपकी पीछे की साइड बहुत अच्छी लगती है. उन्होंने कहा की लो मेरी कमर मैं ऐसा क्या अच्छा लगने वाला. मैंने कहा की कमर नहीं आपके हिप्पस बहुत अच्छे लगते है, भरे-भरे से. उन्होंने कहा की अच्छा तुम मुझे इन नज़रो से देखते हो. मैंने कहा की नहीं मैंने तो वैसे ही बात की है, मैं डर गया था की कही बुरन आ मान जाए. उन्होंने कहा की कोई बात नहीं मैं अभी तक तुम्हें बच्चा समझी थी मगर तुम तो जवान हो गये हो.

मैंने कहा अगर आपको बुरा लगा हो तो सॉरी, उन्होंने कहा की कोई बात नहीं, फिर आहिस्ता आहिस्ता हूँ खुद ही से बातें करने लगी. एक दफा उन्होंने मुझसे पूंछ लिया की मैंने कभी किसी लड़की से सेक्स किया है. मैंने कहा की नहीं तो हूँ बोली की मैंने भी नहीं किया. उन्होनेणपूचा की तुम्हारा दिल तो करता होगा. मैंने कहा की दिल तो सब का करता है. उन्होंने कहा की हाँ दिल तो मेरा भी करता है. फिर उन्होंने कहा की इसे बातें कतरे वक्त तुम्हें कुछ होता नहीं. मैंने कहा की हां गरम हो जाता हूँ, उन्होंने कहा की मैं भी हो जाती हूँ. फिर मैंने भी पूंछ लिया की आपने किसी के साथ सेक्स किया है , उन्होंने कहा की नहीं कभी कोई मिला ही नहीं.

मैं कहा इतनी खूबसोरात हूँ, आपके साततो कोई भी कर सकता है. उन्होंने कहा की शायद मैंने ही किसी को पास नहीं आने दिया. मैंने कहा की आप जिसको इशारा करे हूँ सेक्स के लिए तैयार हो जाएगा. उन्होंने कहा की तुम करोगे. मैंने कहा की ‘मैं. हूँ बोली की ‘हाँ तुम’. . मैंने कहा की मैं तो आप से छोटा हूँ. उन्होंने कहा की कोई बात नहीं. मैंने कहा मगर करेंगे कैसे, मैंने तो पहले कभी नहीं किया. उन्होंने कहा की किया तो मैंने भी नहीं मगर कल अम्मी किसी के वहां जा रही है और शाम को आएगी, आगे तुम्हारा काम है की कैसे सब कुछ करते हो, मैंने कहा की ठीक है, मैं कुछ करता हूँ.

आगले दिन मैं आपने दोस्त के पास गया जिस का मेडिकल स्टोर था. मैंने उसको सारी बात बताई तो उसने कहा की जानी कोई मसला नहीं है, वो दुकान के अंदर गया और कॉंडम ले आया और मुझे दे कर बोला की यहां काम कर ने से पहले ऊपर चड़ा लेना, इससे बच्चा भी नहीं होगा और यहां है भी टाइमिंग वाला. मैं कॉंडम लेकर सीधे उसके घर गया और बेल बजाई. उन्होंने ही दरवाजा खोला और मुझे अंदर आने को कहा. मैं अंदर चला गया वो मुझे अपने बेडरूम मैं ले गयी और कहा की क्या सोचा. मैंने कहा की सब काम हो गया है, फिर वो मेरे साथ ही बेड पर बैठ गयी. हम दोनों कुछ देर तक खामोश बैठे रहे , वो सोच रही थी की मैं शुरू करूँगा और मैं सोच रहा था की वो , हम दोनों ने एक दूसरे की तरफ देखा और मुस्करा दिए.

हम दोनों बहुत नर्वस थे और दोनों के माथे पर पसीना था, वो मुझसे बोली की फिर शुरू करो. मैंने कहा की कैसे. उन्होंने कहा की जैसे चाहो, मैंने हिम्मत करके उनके हाथों को पकड़ा और उनको बेड पर लेता कर उनके ऊपर आ गया और उनके होठों पर अपने होंठ रख दिए और उनके होठों पर अपने होंठ रख दिए, और उनके होंठ चूसने लगा वो भी मेरा साथ देने लगी. मैंने अपने हाथों से बूब्स दबाने शुरू कर दिए वो मेरे नीचे पानी से निकली मछली की तरह तड़पने लगी, मैंने उनकी कमीज़ ऊपर कर दी. उन्होंने नीचे काला ब्रा पहना हुआ था वो खड़ी हो गयी और अपनी कमीज़ और ब्रा उतार दिया , उसके गोल गोल बूब्स मेरे सामने थे, मैंने उनको फिर बेड पर लेटाया और उनके बूब्स चूसने लगा वो मस्ती से भारी आवाज़ निकालने लगी आया उउउफफफफफफफफफ्फ़ आआआआअ हहहााआअ…. मैं उनके बूब्स चूज़ रहा था.

फिर मैंने अपने कपड़े भी उतार दिए और उनकी सलवार भी उतार दी उउफफफफफफफ्फ़ क्या चुत थी उनकी गुलाबी गुलाबी. मैं उनकी चुत और वो मेरा लंड देखकर हैरान हो रही थी. फिर मैंने उनको बेड पर लेटाया और उनकी चुत पर अपने होंठ रख दिए और उनकी चुत चाटना शुरू कर दी जैसे जैसे मैं उनकी चुत चाट रहा था वो गरम से गरम होती जा रही थी और ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रही थी और वो गरम होकर झाड़ गयी और सारा पानी मेरे मुंह मैं चोद दिया जिसे मैंने पी लिया वो अब ठंडी हो चुकी थी. मैंने मुंह ऊपर उठाया तो वो बोली की रेहान आज तुमने मुझे बहुत मजा दिया मगर सॉरी तुम्हारा मुंह खराब हो गया.

मैंने कहा की कोई बात नहीं अब आप मेरा लंड चूज़ कर हिसाब बराबर कर दो, वो बोली की हां क्यों नहीं और मेरा लंड मुंह मैं लेकर चूसने लगी. वाउ क्या मजा था उनकी हर एक छुपे के साथ. मैं मुझे की दलदल मैं घुसा झड़ रहा था. उन्होंने दो तीन मिनट मेरा लंड को चोसा था और मैं भी मुंह मैं ही झाड़ गया और मेरे मुंह से भी आआआआआअहह की आवाज़ निकली. उन्होंने भी मेरा सारा पानी पी लिया . अब हम दोनों पलंग पर लेट गये, वो बोली आज यो मजा ही आ गया. मैंने कहा अभी तो और मजा आएगा जब मैं आप की चुत मारूँगा. उन्होंने कहा की हां आज मैं भी सारा मजा चखना चहै हूँ .फिर थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर खड़ा हो गया. मैंने कहा की क्या ख्याल है अब काम शुरू करे, वो बोली हां करो मैंने उनको बेड पर लेटाया और साइड पर पड़ी अपनी शर्ट की पॉकेट से कॉंडम निकाला और अपने लंड पर लगा दिया, यह देख कर हूँ मुस्करा दी और बोली तुम तो पूरा बांबोबुस्ट करके आए हो.

मैंने अपनी टांगे उड़ी और उनकी चुत पर अपना लंड रख कर रगड़ने लगा वो बोली रेहान जल्दी करो. मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा. मैंने उनकी चुत पर लंड रख कर ज़ोर का धक्का लगाया तो मेरा लंड का टोपा अंदर गया मगर फिर बाहर आ गया , उनकी चुत बहुत टाइट थी मैंने दोबारा कोशिश की और एक और धक्का लगाया. अब की बार मेरा टोपा और थोड़ा सा लंड अंदर चला गया और उन्होंने एक ज़ोर की चीख मारी आआआआआआअहह रीहहाआआनन्न बहुत दर्द हो रहा है मगर मुझे इतना मजा आया की मैं पागल हो गया था और एक और ज़ोर का धक्का और पूरा लंड अंदर चला गया हूँ ज़ोर से चिल्ला रही थी रहानन्न रुक जाओ प्प्प्ल्ल्ल्ल्लीएआआससीईई मैंने लंड अंदर ही रखा और कुछ देर के लिए रुक गया, जब वो कुछ नॉर्मल हुई तो मैं आहिस्ता आहिस्ता अंदर बाहर करने लगा .

अब उनको भी मजा आ रहा था और वो भी मजा लेने लगी.जब मैंने देखा की वो नॉर्मल हो गयी है तो मैंने अपनी बढ़ता तेज कर दी, अब वो भी मुझे से आआआआअ हनहंहंहंह आरसस्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स करने लगी. मैंने भी बढ़ता और तेज कर दी. इतनी टाइट चुत मारते हुए मुझे भी बाड़ा मजा आ रहा था मैं ज़ोर से धक्के पर धक्के मर रहा था वो भी चिल्ला रही थी और टीज़्जज्ज्ज्ज रेहान और तेजज़्ज़्ज्ज्ज्ज्ज्ज करो और मैं धक्के पर धक्के मरता रहा , वो दो तीन बार झाड़ चुकी थी और अब मैं भी झड़ने वाला था . मैंने उनके पूरा अंदर तक दिया और मेरा भी काम हो

मैंने अपना लंड बाहर निकाला और कॉंडम उतार कर बाथरूम के टॉयलेट मैं फैक दिया और वापिस आकर उनके साथ ही लेट गया, वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराईं और बोली मैं तो तुम्हें बच्चा ही समझती थी मगर तुम तो पूरे जानवर हो , देखो मेरिचूत का क्या हाल कर दिया. उन्होंने अपनी चुत की तरफ इशारा किया जो अब सुर्ख होकर अजीब सी लग रही थी. मैंने कहा यह तो कुछ भी नहीं जब यह बच्चा अभी गांड मरेगा तो आपको पता चलेगा वो बोली क्या… नहीं .. मैं ऐसा नहीं करवाऊंगी, वहां तो बहुत दर्द होगा और वो जगहा भी कितनी गंदी है . तुम आगा से जितनी बार चाहो मारो मगर पीछे से नहीं , मैंने कहा की प्लीज़ करने दो ना बस थोड़ा सा दर्द होगा फिर सब सेट हो जाएगा वैसे भी मुझे आपकी गांड बहुत पसंद है, मैंने आप को बताया भी था वो बोलियाकचा तो तुम नहीं मानोगे.

मैंने कहा की प्लीज़, उन्होंने कहा की ठीक है मगर आहिस्ता आहिस्ता करना . मैंने कहा की आप चिंता ही ना करो, मेरा लंड अभी खड़ा नहीं हुआ था, मौने कहा की पहले इससे तो खड़ा करो ना. उन्होंने मेरा लंड लेकर मुंह मैं चूसना कर दिया , मेरा लंड कुछ ही देर मैं खड़ा हो गया. मैंने उनका मुंह दूसरी तरफ करके उनको घोड़ी बना दिया , उनकी खूबसूरत और भारी हुई चटाद , अब मेरे सामने थी. मेरा लंड अंदर जाने के लिए बेताब था. मैंने उनकी गांड के होल पर अपना लंड रखा और ज़ोर से धक्का मारा मगर लंड अंदर नहीं गया , उनकी गांड बहुत टाइट थी. मैंने पास की ही दराज़ से क्रीम निकल ली और अपने लंड पर लगा ली वो बोली की कॉंडम उससे ही कर लेते , मैंने कहा की कोई बात नहीं यहां से कौन सा बच्चा हो जाएगा.

फिर मैंने उनकी गांड के होल का निशाना ले कर ज़ोर से धक्का मारा तो टोपा अंदर चला गयमागार उन्होंने इतनी ज़ोर से चीख मारी की रूम ही ही गया आआआआआहहा , रेहान मात करो प्पल्ल्ल्लेआस्ीई इीहहाआआन्णन्न् से प्प्प्प्प्ल्ल्लीआसीईए बहुत दर्द होता है.मैं कुछ देर के लिए रुक गया और थोड़ी देर के बाद एक और ज़ोर का धक्का मारा और सारा लंड अंदर चला गया वो बोली पल्ल्ल्लेआसीए. धीरज आहिस्ता करो बहुत दर्द हो रहा है मगर अपनी फॅवुरेट गांड मैं लंड डाल कर अब मैं रुक कैसे सकता था . मैंने फुल बढ़ता पर धक्के मरने शुरू कर दिए. माइज़ोर ज़ोर से धक्के मर रहा था और उनके कूल्हे मुझसे टकरा रहे थे जिससे शारप शारप की आवाजें आ रही थी जिनके साथ उनकी चीखें आआआआअहह उउन्न्ञन् उउउफफफ्फ़ आआहह भी शामिल थी.

यहां आवाजें सुनकर मैं और भी तेज हो रहा था , वो मुझे कसमे और वास्ते दे रही थी की बस करो मगर मुझ पर उल्टा ही आसार हो रहा था . मैं धक्के पर धक्के मर रहा था. फिर आहिस्ता आहिस्ता उनकी चीखें मुझे मैं बद्डालने लगी और वो मुझे से चिल्लाने लगी और तेज करो हां और तेज फाड़ डालो मेरी गांड को और तेज करो… मुझे और ज्यादा गर्मी छा रही थी.मैंने भी अपनी सॉईद और तेज कर दी , फिर थोड़ी देर बाद मुझे ऐसा लगा की मैं झड़ने वाला हूँ , मैंने धक्को की बढ़ता ओए भाड़ा दी और फिर उनकी गांड के अंदर तक जा कर रुक गया और इसके साथ ही मेरे लंड ने उनकी गांड पानी से भर दी . उसके बाद मैंने अपना लींद बाहर निकाला और बेड पर लेट गया. हम दोनों की सांसें फाउल गयी थी. मैंने उनकी तरफ देखा और मुस्करा दिया , उन्होंने मुझे ज़ोर से एक थप्पड़ मारा हांस कर बोली बदमाश कही का तुम्हारे अंदर तो वाकई एक जानवर है. तुम तो कहते थे की आहिस्ता से करूँगा मगर तुमने तो मेरी गांड का बुरा हाल कर दिया.

मैंने कहा की इतनी खूबसूरत गांड देखकर कोई भी जानवर बन सकता है , वाए मजा आया की नहीं, वो बोली हां इतना मजा तो मैंने जिंदगी भर नहीं लिया . मैंने कहा की चलो फिर लड़ाई खत्म. उसके बाद हम दोनों नहाने के लिए बॅयात रूम मैं चले गये. हम दोनों एक साथ नहाए, उसके बाद हमने खाना खाया और कहने के बाद जब वो बर्तन धो रही थी तो मेरा लंड फिर खड़ा हो गया और मैंने किचन मैं ही उनको कुर्सी पर एक बार फिर च्ड डाला , वो दिन है और आज का दिन हम हर हफ्ते मैं एक बार जरूर सेक्स करते है…
मौसी की बेटी को चोदा – Real fuck stories hindi