घरेलू रंडियां 3

हीना- अरे रिया पापा antarvasna अपनी बहू और बेटी मे अंतर नही समझते है,

रिया- अच्छा अभी पता चल जाएगा, अच्छा पापा बताओ भाभी ज़्यादा सुंदर है या मैं

पापा- बेटी औरतो की सुंदरता देखने के लिए उन्हे पूरी नंगी होना पड़ता है तभी तो मैं बता सकता हू कि कौन ज़्यादा सुंदर है,

रिया- तो ठीक है और फिर रिया जाकर छत का दरवाजा लगा कर आ जाती है और फिर अपने पापा के सामने अपनी स्कर्ट और शर्ट उतार कर ब्रा और पॅंटी मे पापा के पास खड़ी होकर उनका लंड सहलाते हुए, “देखो पापा अब मैं कैसी लग रही हू?”

किशन- मुस्कुराते antarvasna हुए रिया की मोटी गांड को अपने हाथो से दबाते हुए बेटी अभी तेरी भाभी ने कहाँ कपड़े उतारे है तब रिया ने झट से मेरी साडी को पकड़ कर खींच दिया और मैं एक बार गोल घूम गई और अब मैं ब्लॉज और पेटिकोट मे अपने ससुर के सामने खड़ी थी मेरी कसी हुई मोटी चुचिया ब्लौज फाड़ कर बाहर आने को मचल रही थी चूत तो पहले से ही गीली हो गई थी तभी रिया ने मेरे पेटिकोट का नाडा भी खींच दिया और मेरा पेटिकोट देखते-देखते मेरे पेरो मे जा गिरा और मेरा गुदाज उठा हुआ पेट गहरी नाभि और मेरी पॅंटी के उपर से उभरी हुई चूत देख कर मेरे ससुर जी की आँखो मे चमक आ गई, हालाकी रिया का बदन भी बहुत भरा हुआ और सेक्सी था लेकिन मैं थोड़ा ज़्यादा चुदी हुई थी इसलिए मेरे बदन पर थोड़ी चर्बी चढ़ जाने से मैं बहुत ही गुदाज और मस्त नज़र आने लगी थी,

पापा ने मुझे और रिया की गांड को थाम कर अपने मूह की तरफ खींचा और पहले रिया की चूत को उसकी पॅंटी के उपर से चूम लिया और फिर मेरी चूत को भी पॅंटी के उपर से चूमने लगे पापा ने मेरी चूत से अपने मूह को कुछ ज़्यादा ही ज़ोर से दबा दिया और मैं सिहर उठी,

रिया- अब बोलिए पापा कौन ज़्यादा सुंदर है

किशन- मुस्कुराते हुए, बेटी अभी तो तुम दोनो ने कपड़े पहने हुए है तभी रिया ने थोड़ी दूर जाकर अपनी भारी गांड हमारी तरफ घूमाकर अपनी पॅंटी धीरे से नीचे सरकाना शुरू कर दिया वह जैसे-जैसे अपनी पॅंटी नीचे सरक रही थी वैसे ही वह अपनी गांड के छेद को भी फैला कर हमे दिखा रही थी उसकी गुलाबी गांड का छेद बहुत लपलपा रहा था और मैं पापा के लंड को सहला रही थी और पापा मेरी चूत और गांड को बुरी तरह दबा-दबा कर मज़ा ले रहे थे, और चूत के छेद को फैला-फैला कर मुझे और पापा को दिखाने लगी, फिर रिया ने अपनी ब्रा का हुक्क खोल कर अपने मोटे-मोटे दूध को भी नंगा कर दिया और अपने हाथो से अपने दूध को दबाते हुए कहने लगी चलो भाभी अब तुम्हारी बारी है आ जाओ जल्दी से और फिर मैने जब पापा की ओर देखा तो उन्होने खुद ही मेरी पॅंटी उतार दी और मेरे नंगे चूतादो की दरार को उंगली से सहलाते हुए मुझे उधर जाने के लिए धकेल दिया मैं उनकी मंशा समझ गई और रिया की ओर अपनी मोटी गांड हिलाते हुए जाने लगी पापा मेरी मोटी गांड को देख कर मस्त होने लगे,

जब मैं रिया के पास पहुच गई तब मैं सीधी होकर खड़ी हुई तब मेरी चिकनी फूली चूत पापा के सामने आ गई मैने धीरे से अपनी चूत को सहलाते हुए अपनी ब्रा का हुक्क खोल कर उसे उतार दिया और इसके साथ ही मेरे मोटे-मोटे दूध जो की रिया से भी काफ़ी बड़े थे एक दम से बाहर आ गये,

मैं अच्छी तरह जानती थी कि पापा को मेरा जिस्म रिया से भी ज़्यादा अच्छा लगता है लेकिन मैं और पापा रिया के सामने ऐसी कोई बात नही करते थे कि उसका मन छ्होटा हो,

रिया- अब बोलिए भी पापा अब तो हम दोनो पूरी नंगी हो गई और फिर रिया ने एक बार घूम कर अपनी गांड अपने पापा को दिखाई और फिर मुझे भी पकड़ कर एक बार घुमा कर मेरे चूतादो को फैला कर पापा को दिखाया,

किशन- मुस्कुराते हुए, भाई तुम दोनो ही हुस्न की परी हो तुम दोनो ही बहुत खुब्शुरत हो बस एक ही अंतर है तुम दोनो मे,

रिया- वह क्या?

किशन- यही की जब मैं तुम्हे चोदने का मन करता हू तो तुम्हे आगे से चोदने का मन होता है और जब हीना को चोदने का मन करता है तो हीना को पिछे से चोदने का मन होता है,

रिया- इसका मतलब आप यह कहना चाहते है कि आपको मेरी चूत बहुत पसंद है और भाभी की मोटी गांड बहुत पसंद है,

किशन- हाँ बस ऐसा ही समझ लो, फिर क्या था हम दोनो धीरे से पापा के पास जाकर उनसे चिपक गई और पापा कभी मेरी गांड को सहलाते कभी मेरी चूत मे उंगली डाल कर हिलाते और कभी रिया की चूत को सहलाने लगते,

हम दोनो घुटने के बल वही बैठ गई और पापा का मोटा लंड निकाल कर चूसने लगी, कभी मैं पापा का टोपा चुस्ती तो रिया उनके गोते चूसने लगती और कभी मैं उनके गोटे सहलाती तब रिया उनके लंड के फूले हुए सूपदे को चूसना शुरू कर देती,

पापा भी बारी-बारी से कभी मेरे दूध दबाते और कभी रिया के दूध को मासल्न लगते थे, कुछ देर बाद पापा कुर्सी से खड़े हो गये और उनका मोटा लंड आसमान की ओर सर उठा कर खड़ा हो गया पापा ने हम दोनो की गांड पर थपकीया मारते हुए हमे घोड़ी बना कर झुका दिया और फिर पापा ने मेरी गांड और चूत को पागलो की तरह फैला-फैला कर चाटना शुरू कर दिया मैं एक दम मस्ती मे मस्त होने लगी और अपनी गांड पापा के मूह पर मारने लगी,

तभी पापा ने रिया की चूत को अपने मूह मे भर कर चूसना शुरू कर दिया, पापा रिया की चूत चूस्ते हुए मेरी चूत मे तीन उंगलिया डाल कर आगे पिछे करने लगे उधर रिया कुछ ज़्यादा ही रसीली हो रही थी और कह रही थी,

रिया- ओह पापा चतो और चतो अपनी बेटी की चूत चाट-चाट कर लाल कर दो बहुत चुदासी बेटी है आपकी खूब चूसो आह आ आह आ

तभी पापा नीचे लेट गये और मेरी गांड को पकड़ कर अपने मूह पर रखने लगे और मैं अपनी दोनो जाँघो को खोल कर पापा के मूह के उपर अपनी चूत रख कर बैठ गई और पापा मेरी चूत को खूब फैला कर चाटने लगे, उधर रिया पापा के लंड पर अपनी चूत रख कर धीरे-धीरे आँखे बंद करके बैठने लगी तभी पापा ने नीचे से एक कस कर धक्का रिया की चूत मे मार दिया और रिया आह करके धम से पापा के लंड पर बैठ गई और उसकी चूत मे पापा का पूरा लंड फस गया,

Desi Porn

थोड़ी देर बाद मैं खड़ी हुई और अपना मूह रिया की ओर करके वापस पापा के सीने पर बैठ गई पापा ने जैसे ही अपनी जीभ से मेरी मोटी गांड के छेद को सहलाया मैने रिया के होंठो को अपने होंठो मे भर लिया रिया भी मुझसे चिपक गई और मेरे मोटे-मोटे दूध को खूब कस-कस कर मसल्ने लगी मैने भी रिया के दूध को खूब कस-कस कर निचोड़ा, पापा जितनी ज़ोर से मेरी गांड के सुराख मे अपनी जीभ रगड़ते मैं भी उतनी ही ज़ोर से रिया के दूध को मसल्ने लगती,किशन- मुस्कुरकर हीना की मोटी गांड को सहलाते हुए, एक शर्त पर मैं यह सब कर सकता हू

हीना- मुझे आपकी सभी शर्त रौशनीर है

किशन- पहले शर्त तो सुन लो बाद मे कही पलट गई तो

हीना- मुझे पता है आपकी शर्त, आप आज रात को मेरी गांड मारना चाहते हो ना,

किशन- आश्चर्या से हीना को देखता हुआ, तुम्हे कैसे पता मैं यही शर्त कहने वाला हू

हीना- पापा उपर वाला भी एक जैसे विचारो वाले लोगो को जल्द ही मिलवा देता है चाहे हिन्दी सेक्सी कहानियाँ के थ्रू ही क्यो ना मिलवाए,

किशन- पर बेटी दीपक का क्या करेगे,

हीना- अरे पापा दीपक भी मम्मी जी को चोद लेगा, हम चारो मिल कर मज़ा लेंगे

किशन- पर बेटी यह कैसे संभव है दीपक क्या अपनी मम्मी को चोदेगा

हीना- क्यो नही पापा जब आप दीपक की बीबी को चोद सकते हो तो दीपक आपकी बीबी को क्यो नही चोद सकता है,

किशन मुस्कुराते हुए ठीक है लेकिन यह सब के लिए बियर का नशा काफ़ी नही रहेगा, तो फिर आप क्या लेकर आओगे,

किशन- बेटी इसके लिए तो आज मुझे वोद्का लेकर आना पड़ेगी लेकिन ध्यान रखना रौशनी को भनक ना लगे कि कोल्ड्ड्रिंक मे वोद्का है,

हीना- आप फिकर ना करो पापा मैं सब संभाल लूँगी और फिर हीना वहाँ से उठ कर अपने रूम मे आ जाती है,

दीपक अपनी बीबी की प्लॅनिंग से खुस हो जाता है और हीना के आते ही उसके होंठो को चूम कर उसकी मोटी गांड पर थप्पड़ मारते हुए मुस्कुरकर वाकई रानी तुम कमाल की प्लॅनिंग करती हो,

हीना- चलो अपना लंड बाहर निकालो आज मैं इसकी सरसो के तेल से अच्छी मालिश कर देती हू आख़िर आज यह अपनी मम्मी की मोटी गांड को और फूली चूत को जो फाड़ने वाला है और फिर हीना दीपक के खड़े मोटे लंड को तेल से नहलकर उसकी मालिश करने लगती है, और उसे रात की प्लॅनिंग बताने लगती है,

दीपक सारी बाते ध्यान से समझ कर हीना की प्लॅनिंग की तारीफ करते हुए उसे चूम लेता है तभी बाहर से पापा की आवाज़ आती है अरे हीना बेटी ज़रा यहाँ आना और हीना अपने तेल से भीगे हाथ को ऐसे ही लेकर पापा के पास पहुच जाती है और

हीना- क्या बात है पापा

किशन- अरे यह तेरे हाथ मे इतना तेल कैसे लगा रखा है

हीना- कुछ नही बस सोचा आपके मोटे लंड पर थोड़ा तेल लगा दू आख़िर आज आप अपनी बहू की मोटी गांड जो मारने वाले हो और फिर हीना पापा के लंड पर तेल मलने लगती है और अपने रूम की ओर मुस्कुरकर देखती है और दीपक भी उसकी छीनल्पने को देख कर मुस्कुरा देता है,

शाम को पापा शराब लेने के लिए चले गये और मैं और मम्मी छत पर खड़ी होकर रोड का नज़ारा लेने लगी

रौशनी- क्यो हीना तूने बताया नही अपने पापा के यहाँ तूने और दीपक ने कितने मज़े मारे थे, मुझे तो तब

पता चला जब इन्होने मुझे बताया, अपने ससुर को तो झट से बता देती है पर मुझे बताने मे तुझे शर्म

आती है क्या,

हीना- अरे नही मम्मी ऐसी बात नही है बस मुझे मोका ही नही लगा नही तो क्या मैं आपसे ऐसी बाते

छुपाटी,

रौशनी- अच्छा तो यह बता क्या तेरे पापा ने तुझे खूब चोदा था,

मम्मी के सवाल को सुन कर मैं समझ गई कि आज मेरी रंडी सास खूब चुदासी लग रही है आज साली को इतना गरम कर देती हू कि यही खड़ी-खड़ी मूतने लगे,

हीना- हाँ मम्मी मेरे जाते ही पापा ने मुझे अपने सीने से लगा लिया और मेरे मोटे-मोटे दूध को खूब

कस-कस कर दबाने लगे और मेरे होंठो को चूमने लगे,

रौशनी- फिर तूने क्या किया

हीना- मैने मम्मी झट से पापा का लूँगी मे खड़ा मोटा लंड अपने हाथो मे पकड़ कर दबोच लिया

रौशनी- क्या खूब मोटा है तेरे पापा का लंड

मैने मम्मी का हाथ पकड़ कर कहा मम्मी पहले मेरी चूत मे हाथ डाल कर उसे सहलाती जाओ तब मैं आपको सारी बात बता देती हू, मम्मी ने तुरंत अपने हाथ को मेरी साडी मे डाल कर मेरी फूली चूत को अपनी मुट्ठी मे भर लिया और दबाते हुए कहने लगी,

रौशनी- फिर क्या हुआ हीना बता ना..