मेरा पति मेरी चूत का गुलाम

हाय दोस्तों, सबसे Antarvasna पहले मस्त लंडवालों और रसीली चूत वालियों को मेरा प्यारभरा चुम्मा। मेरा नाम सीमा है और मैं भागलपुर की रहने वाली हूँ और मैं शादीशुदा हूँ। मेरी उम्र 27 साल की है और मुझे मेरे पति को उत्तेजित करना बहुत अच्छा लगता है, इसलिए अक्सर मैं उनके सामने अक्सर कुछ ऐसी हरकतें करती रहती हूँ कि, बस वह मुझे देखकर इतने ज़्यादा उत्तेजित हो जाए कि, बस मुझे छूते ही उनका लंड खड़ा हो जाए। वैसे तो मेरे पति का लंड 6.5” का है और वह काफ़ी मोटा भी है, जिसकी वजह से मुझे उसको अपनी चूत में अन्दर तक लेने में बहुत दर्द भी होता है। दोस्तों अब मैं आपको ज्यादा इन्तजार ना करवाते हुए मेरी आज की कहानी की तरफ लेकर चलती हूँ जिसको मैं आप सभी तक कामलीला डॉट कॉम के माध्यम से लेकर आई हूँ।

दोस्तों एक दिन जब मेरे पति और मैं फिल्म देखने गये थे तो फिल्म में हिरोईन ने जो गुलाबी रंग की साड़ी पहनी हुई थी वह पूरी पानी में भीग गई थी, उसको देखकर तो मेरे पति के मुहँ से हाय… निकल गया था और मैं तो उस समय बस जलकर राख हो गई थी। दोस्तों वैसे तो दिखने में मैं भी बहुत सेक्सी हूँ, मेरे पति मुझको एक मिनट के लिए भी छोड़ नहीं सकते और अगर मैं उनके सामने रहूँ तो वह बस मुझको चूमते और चाटते ही रहते है और वह हमेशा मुझसे बोलते रहते है कि, तुम कितनी खूबसूरत हो, कोई इतना सेक्सी कैसे हो सकता है? वह मेरे शरीर को घन्टों तक मुझे नंगा करके देखते ही रहते है। तो अब मैं आपका समय खराब ना करते हुए सीधी स्टोरी पर आती हूँ।

दोस्तों जब मैं उस हिरोईन से जल रही थी तो मैंने भी मन में ठान लिया था कि, अगर इनकी इस हाय… को आहहह… में ना बदला तो मेरा नाम भी सीमा नहीं। और फिर हम फिल्म देखकर घर पर वापस आ गए थे और रात भी काफ़ी हो चुकी थी और फिर हमने खाना खाया और हम सोने के लिए बेडरूम में चले गये थे। और फिर हमने कपड़े बदले और सोने की तैयारी करने लगे, उस दिन मैंने भी जानबूझकर गुलाबी रंग की पारदर्शी वाली नाइट ड्रेस पहनी थी और उसके अन्दर लाल कलर की ब्रा-पैन्टी पहनी थी जो साफ नज़र आ रही थी। और फिर मैंने अपनी पूरी नाइट ड्रेस गीली कर ली थी ताकि मेरी नाइट ड्रेस मेरे बदन से पूरी तरह चिपक जाए और उससे पानी की बून्दें भी टपक रही थी। और फिर मैं जब बाथरूम से बाहर आई तो मेरे पति मुझे देखते ही रह गये थे और उनका मुहँ भी खुला का खुला ही रह गया था. और फिर वह मुझसे बोले कि, “वाह यार आज तो क्या लग रही हो” और फिर उन्होंने मेरी खूब तारीफ़ करी तो मैं थोड़ा शरमाई और फिर मुस्कुराई और वापस बाथरूम में जाने लगी और वह भी मुझको पकड़ने के लिए मेरे पीछे भागे। और फिर मैंने भागकर अन्दर से बाथरूम का दरवाज़ा बन्द कर लिया था तो वह बाहर से ही चिल्लाते रहे कि, सीमा प्लीज़ दरवाजा खोलो, प्लीज़ मेरे पास आ जाओ वरना मैं पागल हो जाऊँगा। और फिर मैंने बाथरूम का दरवाजा खोल दिया था और फिर मैं बाहर आई तो उनकी आंखें मानों बाहर ही आ गई थी, क्योंकि इसबार मैंने सिर्फ़ नाइट ड्रेस पहनी थी उसके अन्दर ब्रा और पैन्टी कुछ भी नहीं था और ऊपर से नाइट ड्रेस गीली और पारदर्शी भी थी जिससे अब अन्दर से मेरे बब्स के निप्पल साफ नज़र आ रहे थे। मेरे दोनों बब्स के निप्पल तने हुए थे और आगे पीछे से नाइट ड्रेस मुझसे एकदम चिपकी हुई थी। मेरे पति तो मुझको देखते ही जैसे तो पागल से हो गये थे। और फिर उन्होंने मेरे दोनों हाथ दीवार से लगाए और मुझे कसकर पकड़ लिया था और फिर वह मेरे होठों को बुरी तरह से चूसने लग गए थे, और उस समय मुझको तो ऐसा लग रहा था कि, आज तो वह मुझे कच्चा ही खा जाएँगे। और फिर वह मेरे सीने को अपने सीने से लगाकर महसूस करने लगे और फिर उन्होंने मुझको बेड पर ज़ोर से पटक दिया था और वह इस हद तक उत्तेजित हो चुके थे कि, वह मेरी ड्रेस को भी उतार नहीं पा रहे थे, इसलिए उन्होंने मेरी नाइट ड्रेस ही फाड़ डाली थी और फिर वह मुझको घूर-घूरकर ऐसे देखने लगे कि, मानो कोई शेर अपने शिकार को देख रहा हो. और फिर मैं नीचे और वह मेरे ऊपर थे।

और फिर मैंने एक ज़ोर का धक्का मारा और उनको अपने नीचे कर दिया और मैं उनके ऊपर बैठ गई और फिर मैं उनको जानवरों की तरह किस करने लगी और फिर धीरे-धीरे मैं उनके कपड़े भी उतारने लग गई थी। और फिर थोड़ा नीचे आकर मैंने उनका लंड अपने मुहँ में ले लिया था. दोस्तों मैंने पहले तो सिर्फ़ उनके लंड के टोपे पर अपनी ज़ुबान फेरी और फिर उसकी दरार में अपनी ज़ुबान अन्दर डाल दी थी और फिर मैं अपनी जीभ को अन्दर बाहर करने लग गई थी। और फिर मैंने उनके दोनों अंडो को अपने मुहँ में बारी-बारी से चूसा। उस समय वह इतने ज़्यादा उत्तेजित हो चुके थे कि, वह अपने हाथ बढाकर बार बार मेरे बब्स को पकड़कर उनको मसलने की कोशिश कर रहे थे और साथ ही मेरे बब्स के निप्पल को भी दबाने की कोशिश कर रहे थे ताकि मुझे दर्द हो और मैं चीखूं। और मैं बिल्कुल ऐसा ही कर रही थी और मैं उनके अंडो को चाटते हुए उनका लंड भी चूस रही थी मैंने उनका लंड पूरा अपने मुहँ के अन्दर ले लिया था और मैं उसको जोर जोर से अपने मुहँ में अन्दर बाहर करके हिलाने लग गई थी। मेरे मुहँ के गर्म थूँक से जैसे वह पिघलता ही जा रहा हो और फिर 15-20 मिनट तक जब मैं नहीं रुकी तो उन्होंने मुझे उठाकर अपने नीचे कर लिया और फिर वह मुझे किस करने लगे और साथ ही वह अपने दोनों हाथों से मेरे बब्स को निचोड़ते भी रहे। और फिर वह मेरे बब्स को पीने लग गए थे और उस समय मुझको ऐसा लग रहा था कि, जैसे वह मेरे निप्पल को पूरा खा ही जायेंगे, कभी वह अपनी ऊँगलियों से तो कभी अपनी ज़ुबान से सहलाते और चूस-चूसकर उन्होंने मेरे बब्स को पूरा लाल कर दिया था। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

मेरे दोनों बब्स अब बुरी तरह से लाल हो चुके थे, क्योंकि उन्होंने उनको इतना ज़्यादा चूसा था कि, मुझको ऐसा लगा कि, मेरे बब्स बाहर ही निकल आएँगे। लेकिन मुझे मजा भी बहुत आ रहा था और फिर वह मेरी चूत के पास नीचे गये जो पहले ही बहुत गीली हो चुकी थी. दोस्तों मेरी चूत को अब और भी मज़ा आने वाला था। और फिर मेरे पति ने शेर की तरह उस पर वार किया और वह मेरी चूत को चाटने लगे और चूत के दोनों होठों को चाट-चाटकर उन्होंने अलग कर दिया था। और फिर उन्होंने मेरी चूत के छेद पर अपनी ज़ुबान लगाई और फिर अपनी पूरी की पूरी ज़ुबान उसके अन्दर डाल दी थी जिससे मेरी, आहह… निकल गई थी और फिर उन्होंने अपनी एक ऊँगली उसके अन्दर घुसेड दी थी। और फिर वह मेरे ऊपर आकर मेरे बब्स को फिर से चूसने लग गए थे और फिर वह मुझसे बोले कि, अब रहा नहीं जा रहा है सीमा, अब मैं डाल रहा हूँ तुम अपनी दोनों टाँगों को ऊपर कर लो।

और फिर मैंने अपनी दोनों टाँगों को उठाकर उनके कंधो पर रख दिया था और फिर उन्होंने मेरी चूत को फाड़कर मेरी चूत के छेद को देखा और फिर अपने दोनों हाथों से मेरी चूत को फैला दिया था। और फिर उन्होंने अपना घोड़े जैसा लंड एकबार में ही मेरी चूत के अन्दर घुसेड दिया था और मैं दर्द के मारे चीख पड़ी थी तो उन्होंने अपना हाथ मेरे मुहँ पर लगा दिया था तो दर्द होने की वजह से मैंने उनके हाथ पर ज़ोर से काट लिया था, लेकिन वह अब रुकने वाले नहीं थे क्योंकि अब तो शेर को उसका शिकार मिल चुका था और अब तो वह उसे खाकर ही मानेंगे। और फिर पूरे कमरे में फच-फच की आवाज़े गूँजने लग गई थी और वह तो बस मेरी चूत को मारे ही जा रहे थे। और फिर आधे घंटे तक मेरी जमकर चुदाई करने के बाद वह मेरी चूत में ही झड़ गये थे और फिर हम दोनों ही थककर एकदूसरे से चिपककर वैसे ही नंगे ही सो गये थे. दोस्तों हमने उस रात 3 बार चुदाई करी थी और सेक्स के खूब जमकर मज़े लिये थे।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!