जंगल के मंगल ने करवा दिया दंगल

हाय फ्रेंड्स, Antarvasna मेरा नाम विशाल है और मैं आज आप सभी के लिए एक कहानी लेकर आया हूँ. दोस्तों आज की कहानी थोड़ी सच्ची और थोड़ी काल्पनिक है जिसे पढ़कर आप आज अपने आस-पास की किसी भी लड़की या औरत को चोद ही डालोगे. अब मैं आपका ज्यादा समय ना लेते हुए सीधे कहानी पर आता हूँ।

दोस्तों यह बात आज से 2 साल पहले की है और तब मैं और मेरी बीवी हम दोनों ने ही गर्मी की छुट्टियों में कहीं घूमने का विचार बनाया था. और फिर हमने ऑन-लाइन ही एक जगह की घूमने की बुकिंग करवा ली थी. दोस्तों मई-जून में वहाँ का मौसम बहुत ही रोमांटिक होता है और वहाँ के बीच भी बहुत खूबसूरत है जहाँ पर हम पूरे नंगे होकर घूम भी सकते है, जो मुझको और मेरी बीवी को बहुत पसन्द है लेकिन हमने कभी नहीं सोचा था कि यह ट्रिप हमारे लिए अविश्वसनीय होगी. हम वहाँ पर फ्लाइट और फिर वॉटर बोट का सफर करते हुए वहाँ पर पहुँचे थे. दोस्तों वहाँ पर हमने बीच के पास ही एक प्राइवेट रिज़ॉर्ट में 3 दिन के लिए कमरा बुक करवाया था. दोस्तों हम वहाँ पर सुबह जल्दी ही पहुँच गए थे और फिर हमने थोड़ा आराम करने के बाद विचार बनाया कि हम आज की रात यहीं पर आराम करेगें और उसके बाद हम कल सुबह जल्दी वहाँ की प्रसिद्ध जगह को देखेगें. और फिर अगले दिन सुबह हमने वहाँ की एक बहुत अच्छी जगह पर जाने का सोचा जिसमें हमको 6-7 किलोमीटर दूर नदी में एक प्राइवेट बोट से जाना होता हे. वैसे तो उसमें बोट वालों का स्टाफ साथ में जाता है लेकिन हमने सोचा कि, हम अकेले ही वहाँ जाएगें ताकि हमको नदी के बीच में अकेले बोट पर प्यार और सेक्स करने का मौका मिल सके. और फिर रिज़ॉर्ट के मैनेजर ने अनुमति दे दी थी. और फिर उस दिन हमने रात का खाना खाकर रात में सेक्स के खूब मजे लिये थे और मैंने मेरी बीवी को 1 घन्टे तक खड़े-खड़े खूब चोदा था और उसने भी मेरा पूरा साथ दिया था।

दोस्तों उस दिन पहली बार मेरी बीवी ने लेडिज वाला कॉंडम इस्तेमाल किया था जिसका अनुभव बहुत ही अच्छा था क्योंकि मैंने तो कॉंडम नहीं लगाया था और इसीलिए मैं उसकी चूत में कई बार झड़ा था और 1 बार तो मैं उसके मुहँ में भी झड़ गया था. दोस्तों वहाँ पर चारों तरफ बस मेरी बीवी की सिसकियों की आवाजें गूँज रही थी तो हमने टी.वी. चालू कर दिया था और उसकी आवाज थोड़ी बढ़ा दी थी और फिर मैंने अपनी बीवी से कहा कि, अब तुम जितना चाहो उतना जोर से चिल्ला सकती हो. और फिर तो यह सुनकर उसका जोश और भी बढ़ गया था. और फिर वह इतने ज़ोर-ज़ोर से चिल्ला रही थी जैसे उसकी चूत में किसी घोड़े का लौड़ा घुस रहा हो. और फिर कुछ देर के बाद अब कमरे में बस फच-फच की आवाजें और मेरी बीवी की सेक्सी आवाजें गूँज रही थी. और फिर 1 घन्टे के बाद हम दोनों साथ में झड़ गए थे और फिर हमको कब नींद आ गई हमको पता ही नहीं चला।

और फिर अगले दिन हम जल्दी उठे और तैयार होकर उस जगह पर जाने के लिए बोट पर गए तो हमको पता चला कि, आज बोट के ड्राइवर की तबीयत ठीक नहीं होने की वजह से वह बोट नहीं चला पाएगा. तो फिर हमने अपने प्लान में थोड़ा बदलाव करते हुए हमने नदी के पास-पास से उस जगह तक जीप से जाने का फ़ैसला किया और फिर जीप मैं ही चला रहा था और मेरी बीवी भी आगे की सीट पर मेरे साथ ही बैठी हुई थी. दोस्तों हमको चलते हुए करीब 40-45 मिनट हो गए थे और हमने बियर भी अपने साथ में ले ली थी तो हम थोड़े नशे में भी थे. और फिर मेरी बीवी ने मुझसे कहा कि, जीप को अब वह चलाएगी. और फिर हमने अपनी सीट बदल ली थी और फिर मेरी बीवी जीप चला रही थी और मैं कई बार उसको किस कर रहा था और उसके बब्स भी दबा रहा और साथ ही उसकी चूत मे ऊँगली भी कर रहा था. दोस्तों हमको बियर के नशे में गाड़ी चलाने के साथ-साथ यह सब भी करने में बहुत मज़ा आ रहा था. दोस्तों अब मेरी बीवी बहुत गरम हो गई थी और उसने गाड़ी चलाते हुए ही अपने कपड़े उतार दिए थे जो सिर्फ़ एक टी-शर्ट और एक शॉर्ट् ही पहना हुआ था।

और फिर मैंने भी अपने कपड़े जीप में ही उतार दिए थे और फिर मैं मेरी बीवी को किस करने लग गया था और उसके बब्स को भी चूसने लग गया था और मेरी बीवी अब थोड़ी कम स्पीड में गाड़ी चलाती भी जा रही थी और क्योंकि मैं उसकी गोद में बैठा हुआ था तो उसको ठीक से सामने रास्ता भी नहीं दिख रहा था और हम बहुत जोश में भी थे. और फिर हमने जीप को जंगल में एक साइड पर रोकर अपनी बीवी को सीट पर लेटाकर अपना लंड उसके मुहँ में डाल दिया था और मैं अपने एक हाथ से उसकी चूत में ऊँगली भी कर रहा था. दोस्तों यह हमारे लिये सेक्स का एक नया और अदभुत अनुभव था. और फिर हमने सेक्स करना शुरू कर दिया था क्योंकि जंगल में हम बहुत दूर तक आ गए थे और दूर-दूर तक बस सुनसान था तो फिर हम खूब खुलकर सेक्स करने लग गए और चीखने, चिल्लाने भी लग गए थे. मेरी बीवी तो इतना जोर से चिल्ला रही थी म्‍म्म्मम… आहह… विशाल प्लीज़ और जोर से आहह…

लेकिन फिर हमारे साथ कुछ ऐसा हुआ कि, जिससे हमारे होश ही उड़ गए थे और हमारा सारा नशा उतर गया था. हमने वहाँ पर देखा कि, हम नशे में जंगल में बहुत अन्दर तक आ गए थे और हमारी जीप के पास 4 जंगली लोग खड़े थे तीर कमान लिए हुए जो आदिवासी लग रहे थे. दोस्तों मैंने ऐसा केवल सुना ही था लेकिन उस दिन पहली बार देख भी लिया था. हम दोनों उनको देखकर बहुत डर गए थे. और फिर हम जल्दी-जल्दी से अपने कपड़े पहने लगे तो उन लोगों ने हम दोनों को पकड़ लिया था. और फिर उन्होंने मुझको तो जीप से बाँध दिया था. दोस्तों उसके बाद वह चारों मेरे सामने ही मेरी बीवी पर टूट पड़े थे. वह मेरी बीवी के बदन को जंगलियों की तरह चूम और चाट रहे थे. और फिर उन चारों ने मिलकर मेरी बीवी की मेरे ही सामने खूब जमकर चुदाई करी थी. उन्होंने मेरी बीवी को चोद-चोदकर उसके सारे छेद खोल दिए थे।

दोस्तों मेरी बीवी ने उनका बहुत विरोध किया था लेकिन उत्तेजना के आगे वह भी कब तक टिक पाती और फिर जब उसपर भी सेक्स चढ़ने लगा तो उसको भी उनकी चुदाई में खूब मजा आने लग गया था. और फिर उन चारों ने अपना सारा माल बारी बारी से मेरी बीवी के मुहँ में छोड़ दिया था और फिर वह वहाँ से चले गए थे. और फिर हम किसी तरह से वहाँ से बचकर भागकर वापस आ गए थे।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!