कविता और उसके ससुर जी

ये बात बातें Antarvasna साल दीवाली की है जब मैं प्रोफेशनल कोर्स कर रही थी, अयला (उमर 26 वर्ष) फैशन डिज़ाइन के लिए उसी कॉलेज में एडमीशन लिया था, वो एक अमीर महाजन परिवार की बहू थी और उसका हज़्बेंड (उमर 30 वर्ष) पुणे के मेडिकल फर्म का मैनेजर था, महीने में एक बार कविता का ससुर (फादर इन लॉ) चमचँटि कार में आता और हमारे अपार्टमेंट में ही एक दो दीनों तक रुकता और उनके साथ वो भी-हिचक बातें करती, बाहर खाना पीना शॉपिंग मूवी देखना उन दोनों की हॉबी थी वो दोनों शॉपिंग डिनर के लिए माल जाते और मैं एक बार उनके साथ शॉपिंग पर गयी थी, कविता ने अपने लिए ड्रेसस बायें किए और मेरे लिए सॅमसंग तब-3 पर मैं फैशन डिज़ाइन कर कविता के पास एसएमएस से सेंड कर देती और हम दोनों लेज़्बीयन भी करते, उसकी दूधिया चिकनी चुचियों को मैं चुस्ती तो वो गरम होकेर मुझसे लिपट जाती और मेरी धुनाई कर देती.

मुझे आभास हुआ की कविता और उसके ससुर के बीच कुछ चक्कर है और एक बार जब मैंने पूछा तो उसने पूरी दास्तान बताई, अब आगे कविता की ज़बानी, मैं जब भी.ए की पढ़ाई कर रही थी तभी मेरी शादी हो गयी और कॉलेज के अनुुअल फंक्षन के दिन फैशन शो में मैंने कॅट वॉक की थी और न्यूसपेपर में मेरी फोटो छपी, उसी को देख कर मेरे ससुर (मिस्टर महाजन) ने आपने एक लोटे लड़के के लिए मुझे पसंद किया और वो महाजन परिवार में आ गयी और उसका हब्बी (रोहित, उमर 30 साल) पुणे में जॉब करता था, शादी के 15 दिन बाद वो पुणे लॉट गया और महीने दो महीने में एक बार फ्लाइट से आता और दूसरे दिन ही चला जाता, शादी की दूसरी रात को ही मुझे पता चला की रोहित के लंड का साइज 2 इंचे से भी कम था जिस कारण वो पूरी तरह से चुदाई नहीं कर सका और जल्दी से खलास होकर सो गया, तीसरे दिन भी यही हुआ और वो मुझे बहुत ही प्यार करता और ढेर सारे गिफ्ट देता और उसने प्रॉमिस किया की भी.ए एग्ज़ॅम के बाद वो भी मुझे भी पुणे बुला लेगा, तो एक रात ससुर जी ने मुझे फिंगरिंग करते देख लिया था.

दूसरे दिन जब मैं उदास होकर रो रही थी तब उन्होंने मुझे हग कर उदासी का कारण पूछा तो मैंने उनसे लिपट कर कहा – “ससुर जी, ऐसा आपने जनभुज कर क्यों किया मेरे साथ”, वो बोले “प्यारी बहू रोहित नपुंसक नहीं है धीरे-धीरे चूसने से उसका लंड बड़ा हो जाएगा और तुम सब्र से काम लो और हमारे बाद तुम ही इस घर की मालकिन हो और मेरा फर्म लाखों का है और इस बंगले की कीमत भी क्रोरे से कम नहीं है, मैंने रोहित के साथ तुम्हें पूरी संपाती का वारिस बना दिया है और आज ही तुम्हारे नाम 5 लाख रुपये बैंक में जमा किए है, जितना मर्जी हो रुपये निकल कर जो चाहो करो पर रोहित से डाइवोर्स ना लो वो पागल हो जाएगा और सूसाइट कर लेगा और तुम नहीं जानती वो तुम्हें बहुत प्यार करता है और शादी के समय ही वो कहता ताकि अयला के लिए अलग से कार ख़रीदनी है”, ये सब कहते हुए ससुर की आँखें भर आई और मैं उनसे लिपट गयी और उन्हें हग करने लगी और मुझे पहली बार लगा अपने ससुर से ज्यादा ससुर जी प्यार करते है.

मैं “ससुर जी मैं रोहित के साथ पुणे नहीं जाऊंगी बल्कि आप ही के पास रहूंगी और फैशन डिज़ाइन की पढ़ाई करके बिज़्नेस करूँगी और फिर आप रोहित को भी यही बुला लीजिएगा”, वो बोले “कविता रोहित अभी पुणे में ही रहेगा और वहां उसका इलाज चल रहा है”, मैं “क्या रोहित को कोई दूसरी बीमारी है ससुर?”, ससुर “नहीं कविता लिंग बर्धक सेंटर में ट्रेनिंग कर रहा है इससे उसका लंड 4 इंच तक जरूर बढ़ा हो जाएगा बस तुम एक दो साल सब्र करो”, और ससुर जी ने मुझे हग करते हुए कहा “बेटा तुम कॉलेज में एडमीशन ले लो और तुम्हारे जाने के बाद मैं अकेला हो जाऊंगा पर कोई बात नहीं रोहित की आंटी तभी गुजर गई जब वो 15 बरस का था और मैं तो बस तुम्हें खुश देखना चाहता हूँ, मैं “आप चिंता ना करो ससुर मैं रोहित को संभाल लूँगी”, और मैंने ये सब ससुर से लिपट कर कहा और उस दिन उन्होंने पहली बार मुझे किस कर बूब्स को दबाया था, मिलिटरी सर्विस के कारण ससुर जी 50 साल की उमर में तन्डरस्ट लगते थे.

Hot hindi story

और घर पर वाइन बियर के साथ स्मोकिंग करते थे और कभी-कभी उनके साथ मैं भी वाइन पीती थी, मेरे लिए उन्होंने रोज़ वाइन की पेटी ला दी थी और कहा था डिनर के पहले एक गिलास वाइन पीने से जिस्म लाल हो जाता है और सुबह हम क्लब जाकर स्विम्मिंग करते और वो मुझसे खुल कर बातें करते और मौका देख कर बहू बेटा और अयला कह कर पुकारते, मुझे ड्राइवर ने बताया की माता जी (रोहित की आंटी ) के बाद साहिब सेम को क्लब जाते है और दोस्तों के साथ तस खेलते समय शराब पीते है और देर रात घर वापस लॉट है अगर आप चाहोगी तो साहिब सुधार जाएँगे, तो एक दिन ससुर जी ने मुझसे कहा “कविता आज मैं तुम्हें क्लब ले जाऊंगा वहां डिनर के बाद शॉपिंग माल के पवर् में फिल्म देखेंगे”,मैं “ठीक है ससुर मुझे सिनेमा हॉल में फिल्म देखना पसंद है मैं जरूर देखूँगी”, क्लब में ससुर जी ने अपने दोस्त (वियर, उमर 35 साल) और उसकी बहन रेशमा को भी डिनर पर बुला रखा था.

वो मेरी उमर की थी और उसकी स्कर्ट छोटी थी जिसके कारण उसकी चिकनी जांघें दीख रही थी और मैंने लेग्गी और जंपर पहनी थी, मेरे बूब्स रेशमा से बारे थे और दोनों से परिचाया के बाद हम लोगों ने हंसी मज़ाक करते हुए डिनर किया, वियर हॅंडसम के साथ ही रोमॅंटिक टाइप का था और रेशमा ससुर जी से खुल कर बातें कर रही थी पवर् में हम लोग मूवी देखने लगे और तभी ससुर जी ने मुझसे कहा “मूवी के बाद वियर तुम्हें घर पर ड्रॉप कर देगा क्योंकि रेशमा की तबीयत ठीक नहीं है मैं उसे घर पर ड्रॉप करने जा रहा हूँ”, मैं वियर के साथ सिनेमा देखने लगी और रोमॅंटिक सीन के समय वो मेरा हाथ पकड़ लेता और माब् भी अपना हाथ उसकी जाँघ पर रख देती थी, वो मुझे किस लेना चाहता था पर मैंने रोक दिया और जब तक मूवी चलती रही उसका हाथ मेरी बिन-बांहों की जम्पेर पर टीका था और मुझे वो सब अच्छा लग रहा था.

घर पहुंचने पर मैंने ड्राइवर से वियर को उसके घर ड्रॉप कहने को कहा और वो मेरे साथ बात करना चाहता था, मैंने उसे ड्रॉयिंग रूम में बिता कर कॉफी बनाने लगी ये सोच कर की ससुर जी भी अपने रूम में आराम कर रहे होंगे, मैंने तीन कप कॉफी बनाई वियर को कॉफी देने के बाद जब उप्पर वाले रूम में जाने लगी तो वियर ने मुझे रोका और कहा “कररनल साहिब के पास मत जाओ अभी वो बिज़ी होंगे”, मैं “मतलब?”, वियर “कविता तुम भोली हो क्नल महाजन रोमॅंटिक टाइप के इंसान है और उन्हें मैं क्लब की जवान लड़कियों से परिचयए करता हूँ और इसके लिए वो मुझे पाँच हज़ार रुपये देते है लड़की को अलग से गिफ्ट मिलता है और एक बार उन्होंने एक लड़की की सील तोड़ने के लिए मुझे 20 हज़ार दिए थे और अभी वो दोनों रूम में एंजाय कर रहे है क्योंकि आज क्नल ने मुझे तुम्हारा मेल एस्कॉर्ट (बॉय फ़्रेंड) बनाया है”, मुझे विश्वास नहीं हुआ और मैं उनके रूम की ओर गयी.

और सचमुच ससुर जी एक लड़की के साथ नंगे होकर बेड पर उसके साथ लेट कर चुदाई कर रहे थे, रेशमा का नंगा जिस्म लाइट में च्माक रहा था और मैंने दरवाजे से देखा चुदाई करते समय ससुर जी बीच-बीच में वाइन भी पी रहे थे, वो लड़की भी उसी गिलास में मुंह लगा देती थी और अब मुझे समझ में आया की ससुर जी मूवी हॉल से क्यों निकल गये थे, चुदाई के सीन से मेरी चुत गरम हो गयी थी और इसका फायदा वियर को मिला वो मुझे गोदी में लेकर बेड रूम आया और हम दोनों ने वाइन पी, वो मुझे नंगी करके चुदाई के लिए तैयार करने लगा और केग से बूब्स तक मेरी मसाज की, शादी के बाद एक दो बार अपने कज़िन से चुदाया चुकी थी पर वियर का लंड 5 इंच का था चुदाई की चाह ने मुझे लंड का दीवाना बना दिया और 10-15 मिनिट्स तक चोदने के बाद वाइन के कारण मैं मस्ती में थीं आंखें मूंद कर बेड पर लूड़क गयी और रूम की लाइट ऑफ करते हुए उसने कहा “बाथरूम से आता हूँ”.

फिर थोड़ी ही देर में वो चुततादों के पीछे लेट कर चुत सहलाने लगा और वाइन के नशे ने मुझे मतवाला कर रखा था और मेरे मुंह से कहराने की आवाजें निकालने लगी क्योंकि वो मेरी चुत को चुतताड की ओर से ही चूस रहा था, “ऊहह ज़ोर-ज़ोर से चूसो डियर और चूसो और चोदा लंड लगा कर ऐसी चुत की चूसा नहीं देखी है अब तक डियर तुम पीछे से ही चुत पेलो मैं बहुत ही प्यासी हूँ सारा पानी निकल दो आज ऊहह म्मा” मेरी 20-25 तक चूची की चूसा और चुत पेलाइ के बाद अयला बिस्तर पर ही लोडः गयी, दूसरे दिन सुबह देर तक सोई रही और उठने पर अपने नंगे जिस्म पर चादर पहली देखी और वियर ने जाने के समय कवर कर दिया सोचने लगी, तभी उसकी नज़र नाइट लैंप के टेबल पर टी पोत की ओर गयी हे भगवान टी कोन लेकर आया है जरूर नौकरी ने रखी होगी, तभी ससुर जी ने आवाज़ लगाई “अयला डियर तैयार होकर जल्दी आओ और ब्रेकफास्ट नहीं करना है क्या”, मेरा बदन टूट रहा था और आती हूँ ससुर कह कर बाथरूम में गयी.

वहां बेसिन में 2 चिपचिपे कॉनडम्स थे तो मैंने उठा कर जल्दी से कमोड में डाल कर फ्लश कर दिए, ब्रेकफास्ट के समय ससुर जी ने मेरी ओर देख कर कहा “मुझे है तुमने कल वियर के साथ मूवी एंजाय की और तुम रात भर सो रही थी मैं लाइट ऑफ करने आया तो चादर डाल दी थे”, मैंने अन नहीं बताया की जब अभी रेशमा की चुदाई कर रहे थे तो मैं वियर के साथ बेड पर थी और वो कब चला गया पता ही नहीं और मैं नंगी ही बेड पर सो गयी थी, मैं “थॅंक्स ससुर वाइन से नींद अच्छी आती है ना तभी मैं बस देर तक सोती रही”, ससुर जी “मैं देख रहा हूँ अयला तुम आज बहुत फ्रेश दिख रही हो चलो क्लब के स्विम्मिंग पूल में एंजाय किया जाए”, मैं “ओके ससुर मैं ड्रेस बदल कर आती हूँ”, स्विम्मिंग करते समय ससुर मेरे बूब्स की ओर देख रहे थे और 50 बरस की उमर में वो हटे-कटे दिख रहे थे, आंडरवेयर से उनका लंड पानी कारण चिपक गया था.

और उन्होंने मुझे पकड़ कर कहा “कविता तुम्हारी ब्रेस्ट के उप्पर लाल निशान क्यों है लगता है ब्रुसेस है आओ मैं क्रीम लगा देता हूँ”, वो जब बस को पास करके क्रीम लगा रहे थे तो मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था और स्विम्मिंग सूट में उनका मोटा लंड मेरे चुततादों से सटा हुआ था, मुझे चुदवाने का मान हुआ और सोचने लगी ससुर जी का मुझसे कोसना रिश्ता नहीं है उनसे मुझे सेक्स करने में हर्ज ही किया है मौका मिलते ही सेक्स करूँगी, ससुर जी “मुझे है तुमने वियर के साथ एंजाय किया और अगले वीकेंड पर मैं उसे घर पर डिनर के लिए बुला लूँगा”, मैं “नहीं ससुर अब वियर को बुलाने की जरूरत नहीं और आपको भी रेशमा या किसी के पास नहीं जाना होगा क्योंकि अब मैं नहीं चाहती हूँ की घर का पैसा फिजूल में खच हो”, ससुर जी “तुम्हारा मतलब किया है कविता?”, मैं “ससुर जी मैं सब जानती हूँ कल रात आप मेरे चुततादों की ओर लेट कर चुत की चुदाई कर चुके है मैं नशे में नहीं थी बल्कि सोने का नाटक कर रही थी.

आप दूर के पास खड़े होकर मूठ मर रहे थे और मैं तभी जान गयी थी की आप मुझे चोदना चाहते है और मुझे भी आपका मोटा लंड पसंद है रवि का लंड पतला है ना”, ससुर जी “ओह कविता अब तुमसे छुपाना क्या मैंने कितनी बार तुम्हें फिंगरिंग करते हुए देखा और तभी से तुम्हें चोदने का मान बिता लिया था और मैं तो तुम्हें खुश देखना चाहता हूँ तुम जैसा कहोगी करूँगा और रोहित को पता भी नहीं चलेगा और तुम ठीक कहती हो घर की चीज़ घर ही में रहे”, ससुर जी ने मुझे चूमते हुए हग किया और चूची को काश कर दबा दिया और उस रात डिनर के बाद मैं रूम में जाकर लेट गयी और कुछ समय बाद पपाजी वाइन के दो गिलास के साथ मेरे रूम में एंटर हुए, मैंने पहले से ही अपने नंगे जिस्म पर चादर डाल रखी थी, मैं “ससुर जी आप उस रात जैसे ही मेरी चुत छातिए मुझे बहुत अच्छा लगता है चूसने में”, चुत की चूसा के बाद मैंने उनके लंड की चूसा की और चुदाई के बाद सुबह तक एक ही साथ सोते रहे.

ससुर जी ने क्लब जाना बंद कर दिया और अपना पूरा समय मेरे साथ बिताने लगे और स्विम्मिंग करते समय वो पानी में ही अपना लंड मेरी जांघों के बीच रख कर चुत को दबाते और मैं भी उनका लंड पकड़ लेती, मैं उनके लंड की दीवानी हो गयी थी और बिना उनका लंड चूसे मुझे नींद नहीं आती और पुणे से रवि के आने पर भी मैं बहाना बना कर रात को ससुर के रूम में चली जाती, एक साल तक यही सिलसिला चलता रहा और जब मैं कॉलेज में फैशन डिज़ाइन का कोर्स कर लिया तो ससुर मुझसे अपार्टमेंट में मिलने आते थे जब तुम वहां रहती तो मुझे होटल में ले जाकर चुदाई करते और मैं भी प्यार से चुदवाती, डियर कसमीरी तुम मेरी बेस्ट फ़्रेंड हो इस कारण मैंने तुम्हें अपनी दास्तान बता दी और आज भी ससुर जी के साथ मैं चुदाई केरूँगी, कविता की कहानी सुन कर मैं उउटेज़ित हो गयी और उसके साथ लेस्बिन करके बोली “डियर अयला तुम्हें ससुर के साथ होटल नहीं जाना होगा.

मैं अपनी फ़्रेंड के घर जा रही हूँ और एक बात बताओ तुम कभी भी गर्ववाती नहीं हुई किया?”, कविता “हाँ एक बार गर्ववाती हुई थी पर मैंने गर्वपात करवा लिया और अब ससुर जी एक पोटा चाहते है और सोचती हूँ की इस बार आंटी बन जा और रोहित भी चाहता है की वो बाप बने पर वो ये नहीं जनता की उसका लंड मेरी गर्वासया तक नहीं पहुंच सकता”, मैं “कविता डियर, तुम आंटी बन कर ससुर जी को बाप और दादा एक साथ बना दो और हाँ गोड़भराई के समय ससुर जी से डाइमंड का सेट लेना मत भूलना”, कविता “अरे यार मैं तुम्हें भी इन्वाइट करूँगी भी.भी.ए के बाद तुम मेरी फैशन फर्म की मैनेजर बनना और मान के मुताबिक पेमेंट लेना मेरे पास ढेर सारे पैसे हां”, मैं “मुझे उस दिन का इंतजार रहेगा”, डियर रीडर्स आप ससुर के साथ चुदाई को किया कहेनेगे इन्सेस्ट या कुच्छ और क्या कविता का बेटा मेरे ससुर को ससुर कहेगा या दादा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *