बदलाव 1

बदलाव के antarvasna भाई बहन की कहानी है
भाई अमन 19 साल 5’10 सामान्य दीखता है
बहन अमीना 22 साल 5’5 पतली दुबली और सामान्य शारीर
पापा आदिल 45 साल
माँ रजिया 40 सालसुबह 4 बजे नींद खुली और कुछ अजीब सा महसूस हुआ लगा जैसे सर फैट जायेगा मैं फिर से लेट गया 1 घंटे और लेट गया फिर उठ कर बाथरूम गया और पेशाब करने के लिये जैसे ही किया तो देखा मेरा लंड गायब था मैंने आईने पर देखा तो दांग रह गया ये क्या आईने में मेरी बहन दिख रही थी ।
मैंने ध्यान से देखा ये तो मैं हूँ पर अपनी बहन के शरीर में पर कैसे ।
मुझे बहुत जोर की पेशाब लगी थी तो मैं लड़कियों जैसे बैठ पर पेशाब करने लगा आज पहली बार मैंने चूत देखी वो भी अपनी बहन की या कहे अपनी
वो भी छोटी सी घने बाल वाली फिर मैंने चचड्डी पहनी और आपने दूध देखने के लिए टी शर्ट उतरा और ब्रा में कैद दूध देख कर मजा आगया लगा बहन कितनी खूबसूरत है ।
ब्रा उतारते ही छोटे निप्पल वाली दूध देखा और पागल होगया तभी मुझे अपनी आवाज आयी और मई झट से सब पहन कर बहार आगया ।
बहार मैं या मेरी बहन मेरे शरीर में थीअमीना ने दरवाजा खोलने को बोला और मेरे दरवाजा खोलते ही मैंने सामने खुद को पाया लगा जैसर सपना देख रहा हूँ। अमीना ने झट से दरवाजा बंद कर दिया और बोली – भाई ये कैसे हुआ ।मैं तुम्हारे सरीर में कैसे और तुम मेरे सरीर में कैसे आये ?
मैंने कहा- मुझे नहीं पता सब कैसे हुआ ।
अमीना घबराई हुई थी मैंने दिलासा देते हुए
कहा – अमीना लगता है हम सपना देख रहे है उठते ही सब ठीक हो जायेगा।
अमीना – बेवकूफ हम दोनों एक जैसा सपना कैसे देख सकते है।
अमन – हां ये तो सही बोल रही हो । लेकिन ये कैसे हो गया।
अमीना – मई भी ये ही सोच रही हूँ।अमीना – मई भी ये ही सोच रही हूँ।
अमन – अमीना चलो याद करते है कि कल हमने क्या क्या किया था ।
अमीना – सही कहा भाई। कल पुरे दिन मैंने कुछ खास नहीं किया था हां कल रात को तुमसे टकराई थी ।
अमन – हां तभी सुबह मेरा सर दर्द कर रहा था ।
अमीना – तुमने क्या किया था दिन में ।
अमन – मैंने दिन में परेशांन हो कर सोचा था कि काश मई कुछ और होता रोज की जिंदगी से बोर होगया हूँ । लगा नहीं था कि ऐसा हो जायेगा ।
अमीना – पर परेशां तो तुम थे मई क्यों बदल गयी ।
दोनों सोचने लगते है ।
अमन ने देखा की अमीना उसके सीने को देख रही है।
अमन- क्या देख रही है। (कुछ अजीब लगता है अमन को)
अमीना – कुछ नहीं । (अमीना कैसे आपने भाई को बताती की वो अपनी खुद की दूध को देख रही है) अमीना को आपने दूध बहुत अच्छे दिख रहे थे टी शर्ट के ऊपर से ।
अचानक अमीना ने सोच की जिस चीज को वो आपने भाई और दुनिया वालो से छुपाते आ रही है वो आज उसके भाई की है ।
अमीना – अमन तुमने सुबह से क्या क्या किया वैसे दरवाजा देर से क्यों खोला ?
अमन – सुबह उठते ही बाथरूम लगी थी आप के आवाज दी तब वाही था ।
अमीना – भाई तुम ने मेरा सब कुछ देख लिया ? अमन – तो पेशाब करने के लिए चड्डी उतारनी पड़ती है और मई खुद देख कर हैरान था कि मेरा सामान कहा गया । तब मुझे नहीं पता था कि मैं आप के सरीर में हूँ। वैसे आप ने भी मेरा सामान देखा होगा ।
अमीना – हां सुबह उठी तो मुझे भी बहुत जोर की लगी थी और जैसे ही बैठी पानी की धार ऊपर जाते दिखी और मई ने नीचे देखा तो चौक गयी ये कैसे हो गया ।
अमन – आब क्या करे ।
अमीना – मुझे नहीं पता ।