टीचर की नशीली चूत का मज़ा

हैल्लो दोस्तों, मेरा Antarvasna नाम दीपक है मैं जोधपुर का रहने वाला हूँ और एक टीचर हूँ। मेरी उम्र 28 साल है और आज आप सभी कामलीला डॉट कॉम के चाहने वालों को अपने जीवन की एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ। दोस्तों मेरा रंग गोरा मैं दिखने में अच्छा होने के साथ साथ मेरा बदन गठीला भी है और मेरे लंड का आकार सात इंच लम्बा और दो इंच मोटा भी है। दोस्तों आप सभी को बता दूँ कि मुझे बचपन से ही सेक्स का बहुत शौक रहा है। मुझे हमेशा से ही शादीशुदा औरतें बहुत अच्छी लगती है। अब आज मैं आप सभी को अपनी एक सच्ची चुदाई की कहानी सुनाता हूँ।

मैं जोधपुर से एक दूसरे कस्बे में गाड़ी से रोज पढ़ाने जाता हूँ। रोज आते जाते हुए मेरी मुलाकात एक लेडीज टीचर अनुष्का से हुई वो भी उसी कस्बे में रोज पढ़ाने जाती है। एक दिन वो बस स्टैंड पर खड़ी होकर बस का इंतज़ार कर रही थी मैंने उससे पूछा क्या मैं आपको आपके स्कूल तक छोड़ सकता हूँ? तो उसने तुरंत ‘हाँ’ भर दी ठीक है। इसके बाद हमारा रोजाना का साथ जाने का नियम बन गया, रास्ते में हम दोनों बातें करते करते जाते थे। उसने बताया की उसकी शादी तो हो गयी थी लेकिन एक महीने बाद ही उसके पति का देहांत हो गया, सच कह रहा हूँ दोस्तों देखने में क्या माल लगती थी वो एकदम कमसिन लौंडिया, चाहे 18 साल की लड़की को देख लो चाहे उसको देख लो और उसकी पीछे की मोटी गांड हाय क्या कहूँ आपसे… एक दिन बातों ही बातों में वो मुझसे बोली क्या आपकी शादी हो गयी है? लेकिन मैंने उसे मना कर दिया की मेरी अभी शादी नहीं हुई है। इसी तरह रोज साथ जाते हुए हम काफ़ी अच्छे दोस्त बन गए। एक दिन वो बोली मैं आते समय भी आपके साथ चलूंगी तो मैंने कहा ठीक है। आप शाम को स्कूल वाले स्टैंड पर मेरा इंतज़ार करना तो फिर वो राज़ी हो गयी। मैं शाम को उसको लेने पहुँचा तो मेरे मन में एक ख्याल आ रहा था की आज कुछ भी हो जाए अनुष्का की चूत और गांड को तबियत से चोदना है।

मैं उसे लेने स्टैंड पर पहुँचा तो शाम के 5 बज चुके थे और सर्दियों में तो 5 बजे ही अंधेरा हो जाता है। मैंने उसे बोला चलें? तो वो मेरी बाइक पर दोनों तरफ पैर करके बैठ गयी और उसने मुझे कसकर पकड़ लिया मैं भी उसकी यह हरकत देख कर दंग रह गया। मैंने उससे बोला बाइक चलाते हुए मुझे सर्दी लग रही है, तो उसने मुझे अपनी शॉल ओढ़ा दी और खुद ने भी ओढ़ ली और मुझे पीछे से एक प्यारी सी किस देते हुए बोली दीपक आई.लव.यू. मैंने अंधेरा देखकर बाइक रोड के नीचे उतार दी और फिर हम दोनों उतरकर एक-दूसरे को जबरदस्त किस करने लगे। वाह मुझे तो उसके होठों का रस पीने के बाद मज़ा ही आ गया फिर वो कामुक स्वर में बोली यहाँ तो कोई देख लेगा घर पर चलकर करते है ना। मैं भी राज़ी हो गया 10 मिनट बाद हम घर पर पहुँच गए, घर पर पहुँचते ही अनुष्का ने मेरे ऊपर चुंबनों की बरसात कर दी। मैं भी कहाँ पीछे रहने वाला था मैंने भी उसके एक-एक कपड़े उतारकर उसको पूरी नंगी कर दिया। उसने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिए। फिर वो मुझे अपने बेडरूम में ले गयी और मैंने वहाँ पर उसकी चूत को बहुत बुरी तरह से चूसा, वो पागलों की तरह तड़पने लगी 2 मिनट बाद ही वो झड़ गयी। उसकी चूत का पूरा पानी मैं पी गया फिर वो बोली प्लीज़ मुझे अब मत तरसाओ। 8 महीने हो गये मुझे बिना चुदवाए मेरी चूत बहुत तड़पती है चुदवाने के लिए, बहुत फड-फड करती है मुझे चोदो प्लीज़ फाड़ दो मेरी चूत को। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

मैंने भी उसकी दोनों टाँगों को चौड़ा करके अपने खड़े लंड का सुपड़ा उसकी चूत पर रख दिया और एक ज़ोर का धक्का लगाकर पूरा लंड उसकी चूत में पेल दिया। वो दर्द के मारे बुरी तरह से तड़पने लगी और उसकी आँखों में आँसू आ गए। शायद बहुत दिनों से उसकी चूत में लौड़ा नहीं गया था तो फिर मैं थोड़ी देर तक रुका फिर वो मुझे चूमकर बोली राजा अब रुकने का समय नहीं चलो फाड़ दो मेरी चूत को, यह रानी सदा आपकी बनके रहेगी। फिर तो मैं भी जोश में आ गया और फिर मैंने उसकी चूत में कम से कम 30 धक्के लगाए और इसी बीच उसने मुझे कसकर पकड़ लिया और अपनी चूत से पानी छोड़ दिया। अब मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने पूछा वीर्य पूरा चूत में ही डाल दूँ क्या? वो बोली बिल्कुल पूरा ही डाल दो। जिससे मेरी चूत की आग शांत हो जाए मेरे राजा, मैंने पूरा वीर्य उसकी कोमल सी चूत में झाड़ दिया। कुछ देर बाद हम दोनों उठे और उसके बाद वो रसोई से कॉफी बनाकर लाई और हमनें कॉफी पी, और फिर रात को मैंने लगातार उसको अलग अलग तरीके से चार बार और चोदा। सुबह उसने मुझे खूब प्यार किया और बोली आपका जब दिल करे तब आपकी जान आपके लिए हाजिर है मैं हमेशा आपके लंड से चुदने के लिए राज़ी हूँ।

धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!