वादा – Hindi Sex Stories

स्वाती हॉस्पिटल Antarvasna के वेटिंग एरिया में बैठी अंकल का इंतजार कर रही थी. उसके चेहरे से परेशानी के भाव साफ साफ पढ़े जा सकते थे. वो सोच रही थी की उसकी जिंदगी क्या बन गयी है. वो यहाँ क्या बनने आई थी और क्या बन कर रही गयी. क्या उसके नसीब में ख़ुसीयन नहीं हैं? क्या उसे हँसने का अधिकार नहीं है? क्या वो इसलिए ऐसी है क्योंकि वो एक लड़की है? लेकिन उसके पास कोई जवाब नहीं था. शायद वो जानना भी नहीं चाहती थी. पता नहीं क्यों लेकिन उसने हालातों से समझौता करना सीख लिया था.
वो ये सब सोच ही रही थी की तभी अंकल अंदर आते हैं और बताते हैं “अभी अब ठीक है. हम तो घबरा ही गये थे. ये उसको तीसरा अटॅक आया था लेकिन तुम्हारी समझदारी और देखभाल से वो जल्दी ही ठीक हो गया.”

“कैसी बात कर रहे हैं अंकल. वो मेरे होने वाले पति हैं. मैं उनकी देखभाल नहीं करूँगी तो कौन करेगा.”
“बेटी तुमने मेरे सर से बहुत बड़ा बोझ उतार दिया है. मैं सोच रहा था जो इंसान अगले एक साल में इस दुनिया से विदा हो जाने वाला है, (कहते कहते अंकल की आँखों में आँसू आ जाते हैं) भला कौन ऐसी लड़की होगी जो, उसके लिए अपनी जिंदगी, अपनी ख़ुसीयन, अपना सब कुछ कुर्बान कर देगी. तुमने मुझ पर एक बहुत बड़ा एहसान किया है बेटी.”
“ये आप कैसी बात कर रहे हैं अंकल. एहसान तो आप लोगों ने मुझ पर किया है. एक अनाथ बेसहारा लड़की को आपने अपने सीने से लगाया, उसे पैरों पर खड़ा होने में सहायता की, सर छुपाने के लिए अश्रा दिया और जीवन की हर वो खुशी दी जो शायद एक बाप भी अपनी बेटी को नहीं दे पता.”
इतने में अंकल का फोन बजता है और वो फोन पर बात करने लगते हैं.

अंकल के चेहरे से खुशी छुपाएं नहीं चुप रही थी. उन्होंने एक नज़र स्वाती को देखा और उनकी आँखें भर आई. रुँधे गले से उन्होंने कहा “बेटी भगवान ने हमारी सुन ली. अभी के लिए एक डोनर मिल गया है. अब हमारा अभी हमेशा हमारे साथ होगा.”
“क्या अंकल ये सच है.” स्वाती ने चहकते हुए पूछा.

“हाँ बेटी डॉक्टर साहब का फोन आया था. उन्होंने परसों 14 फेब का टाइम दिया है ऑपरेशन के लिए. लेकिन पता नहीं क्यों तुम्हें साथ लाने के लिए खास ज़ोर दिया है. शायद अभी ने कहा हो”

14 फेब का नाम सुनते ही स्वाती जैसे सदमे में आ गयी. आख़िर उसने 14 फेब को ही तो आने के लिए बोला था. कहा था की वेलेन्टाइन दे मेरे साथ ही मनाएगा. क्या वो आएगा. मैंने तो उसे मना कर दिया था. लेकिन उसका कोई भरोसा नहीं. पागल है एक दम. कहीं वो सचमुच आ गया तो. कुछ खुशियाँ आ रही हैं मेरे जीवन में वो भी मुझसे छीन जाएँगी. क्या करूँ क्या ना करूँ. आख़िर वो मेरी जिंदगी में ही क्यों आया.
*******************************************************************
आज वेलेन्टाइन दे है. पूरा शहर प्यार के रंग में डूबा हुआ है. लेकिन इन सबसे अलग स्वाती अपनी ऑफिस में फिलों में नज़र गड़ाए बैठी है. ये ऑफिस उसके अंकल का है. वैसे तो वो उसके सगे अंकल नहीं है लेकिन स्वाती ने उनकी कंपनी से ही जॉब की शुरूआत की थी और धीरे धीरे वो उनकी फॅमिली मैंबर जैसी बन गयी है.
स्वाती को कभी फुर्सत ही नहीं मिली इस प्यार व्यार के चक्कर में पड़ने की. बस सुबह टाइम से ऑफिस जाना और टाइम से घर वापिस आ जाना. कभी कभी घूमने का मूंड़ किया तो अभी साथ था ही. दोनों घूम फिर कर आ जाते. लेकिन कभी अभी ने अपने प्यार का इजहार नहीं किया उससे. उसका प्यार एक तरफ़ा था और शायद वो बोलने से डरता था की कहीं स्वाती नाराज़ ना हो जाए और उसे चोद कर ना चली जाए. इस समय वो कम से कम उसके साथ तो है.
स्वाती एक फाइल पढ़ ही रही थी की पिओन ने दरवाजे को हल्के से खटखटाया और कहा “मैडम कोई मिस्टर. मुकेश आपसे मिलने आए हैं.”
स्वाती ने एक नज़र घड़ी की तरफ दौड़ाई और मान ही मान में सोचती है उसको तो मैंने सुबह 10 बजे का टाइम दिया था और अब 12 बज रहे हैं. जो इंसान वक्त का पाबंद नहीं है क्या उसके साथ डील करना सही होगा. लेकिन डील बड़ी है उसे हाथ से भी नहीं जाने दे सकती.
“उसे अंदर भेज दो.” स्वाती ने सामने खुली पड़ी फाइल को बंद करते हुए कहा और उस शॅक्स का इंतजार करने लगी.
कोई 10 मिनट बातें होंगे की कोई शॅक्स दरवाजे को खटखटा है. अंदर से स्वाती की आवाज़ आती है “कम इन”
स्वाती ने जैसे ही दरवाजे से अंदर आते हुए शॅक्स को देखा तो उसकी नजरें एक पल के लिए वहीं ठहर गयी लेकिन तुरंत ही उसने अपना चेहरा नीचे झुका कर एक फाइल खोल ली.
एक हल्की सी मुस्कान लिए वो अंदर आता है और स्वाती के सामने जाकर बैठ जाता है. स्वाती कुछ कहने वाली होती है की मुकेश उसे बीच में टोक देता है और कहता है “मुझे पता है आप कहेंगी की मैं डील के टाइम ही दो घंटे लेट आ रहा हूँ तो डील के बाद काम को कैसे हैंडिल करूँगा. क्यों यही सोच रही थी ना ?” और इसी के साथ हल्की सी मुस्कान मुकेश के चेहरे पर खिल जाती है.
स्वाती उसकी बात सुनकर चौंक जाती है और सोचती है की मेरे मान की बात उसे कैसे पता. वो कुछ बोलने ही वाली होती है की मुकेश फिर बोल उठता है “अब आप ये सोच रही होंगी की मुझे कैसा पता चला की आप क्या सोच रही हैं और मैं लेट क्यों आया” और इसी के साथ मुकेश की हँसी चुत जाती है.
“ना..नहीं मैं ये नहीं सोच रही थी” स्वाती ने हकलाते हुए कहा
“जस्ट रिलॅक्स स्वाती जी. मैं इसलिए देर से आया क्योंकि मैं आज वेलेन्टाइन दे सेलेब्रेट कर रहा था अपनी गर्लफ्रेंड के साथ”
अब स्वाती क्या बोलती. उसे चुप देखकर मुकेश ही बोल उठा “क्यों आप नहीं गयी कहीं किसी बाय्फ्रेंड के साथ वेलेन्टाइन सेलेब्रेट करने”
“मेरा कोई बाय्फ्रेंड नहीं है”
“क्यों झूठ बोल रही हैं आप. आप के जैसी इतनी सुंदर लड़की हो और उसका कोई बाय्फ्रेंड ना हो मैं नहीं मान सकता”
“आप मैंने या ना मैंने मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता इनफॅक्ट मुझे प्यार शब्द से ही नफरत है”
“अरे मैडम आप तो नाराज़ हो गयी. मैं तो मज़ाक कर रहा था. क्या मैं जान सकता हूँ आपकी प्यार शब्द से नाराज़गी का कारण. अगर आप बताना चाहे तो ही”
“ये प्यार, प्यार नहीं, वासना का खेल है जहाँ लड़के लड़कियों को फुसला कर उसका शोषण करते हैं और फिर उसे आंटी बनाकर बीच मझदार में समाज से, खुद से, दुनिया से लड़ने को चोद देते हैं”
पहली बार मुकेश ने स्वाती की आँखों में देखा. उसे वहाँ ढेर सारा दर्द, सूनापन नज़र आया. आँखें ऐसी हो रही थी की किसी के कंधे का सहारा मिले तो अभी रो देन. लब थरथरा रहे थे. जाने कितनी ही बात बोलना चाहते थे लेकिन कुछ बोल नहीं पाए. इसके बाद दोनों में इस तरह की कोई बात नहीं हुई और डील से रिलेटेड बात करके दोनों ने नेक्स्ट मीटिंग के लिए अगले महीने का टाइम रख लिया.
आज की रात दोनों की ही आँखों से नींद गायब थी. जहाँ स्वाती को आज एक अजीब सा एहसास हो रहा था जो उसने आज से पहले कभी महसूस नहीं किया था और मुकेश सोच रहा था जाने इस सुन्दर चेहरे के पीछे कितने राज़ छुपे हैं. कितना दर्द है उसकी आँखों में. क्या कोई लड़की इतनी मजबूत होती है जो सब दुखों को झेल कर भी अपने चेहरे पर मुस्कान बनाए रखे.
धीरे धीरे दिन निकालने. आख़िर वो दिन आ ही गया जब दोनों की दुबारा मुलाकात हुई. थोड़ी ही हेलो और डील की बातें करने के बाद अचानक मुकेश ने उसे कॉफी के लिए पूंछ लिया.
“क्या आप मेरे साथ कॉफी पीना पसंद करेंगी”
“क्यों नहीं. आप रुकिये मैं अभी दो मिनट में मँगवाती हूँ”

“अरे आप समझी नहीं. मैं यहाँ की बात नहीं कर रहा. थोड़ी दूर पर कॉफी केफे है. वहाँ चल कर पीते हैं. सुना है की वहाँ की कॉफी बहुत अच्छी है”
थोड़ा सोचने के बाद “ठीक है चलते हैं” और स्वाती ने अपना बैग उठाया और दोनों मुकेश की कार में चल दिए कॉफी केफे.
अंदर जाकर दोनों कॉफी केफे में बैठ गये और थोड़ी इधर उधर की बातें करते हुए मुकेश ने फिर वही सवाल दाग दिया स्वाती के ऊपर “आप प्यार से इतनी नफरत क्यों करती हैं”
स्वाती एक पल के लिए चौंक गयी और उसने उत्ते हुए कहा “बहुत देर हो गयी है. अब हमें चलना चाहिए”
मुकेश ने धीरे से उसका हाथ पकड़ लिया और उससे दुबारा पूछा तो स्वाती का चेहरा गुस्से से तमतमा उठा और उसने मुकेश का गाल लाल कर दिया. कॉफी केफे में उस समय अच्छी खासी भीड़ थी और एक पल के लिए सब सन्न रही गये जब स्वाती ने मुकेश को थप्पड़ मारा. स्वाती गुस्से में वहाँ से निकली और ऑटो पकड़ कर अपने ऑफिस में पहुँच गयी. मुकेश भी कुछ देर वहीं खड़ा रहा और थोड़ी देर बाद उसने बिल चुकाया और अपने घर चला गया.
स्वाती अपने ऑफिस पहुँच गयी और सीधा अपनी कुर्सी पर जाकर बैठ गयी. उसका पूरा शरीर गुस्से से काँप रहा था. उसकी हिम्मत कैसे हुई मेरा हाथ पकड़ने की. क्या कोई जरूरी है की मैं उसकी हर बात का जवाब दम. वो होता कौन है मुझसे यह सब सवाल पूछने वाला?
जब थोड़ी देर में उसका गुस्सा ठंडा हुआ तो उसने खुद से पूछा “क्या मैंने जो किया वो सही था? सबके सामने उसे थप्पड़ मर दिया. कितनी बेइज़्ज़ती हुई होगी उसकी. आख़िर उसने किया ही क्या था. सिर्फ़ मेरी पिछली जिंदगी के बारे में ही तो जानना चाहता था. और साथ काम कर रहे हैं तो हाथ तो मिलते ही हैं. दर्जनों आदमियों से हाथ मिलना पड़ता है दिन में. मुझे उससे माफी माँगनी चाहिए अपने इस बिहेवियर के लिए”
स्वाती ने मुकेश को फोन लगाया. स्वाती के हेलो बोलने की ही देर थी की फोन काट गया. स्वाती ने दुबारा फोन मिलाया तो फोन स्विचेद ऑफ आ रहा था. स्वाती अपना सर पकड़ कर बैठ गयी. “ये मैंने क्या किया. वो कितना नाराज़ हो गया है मुझसे. कहीं वो डील कॅन्सल ना कर दे, क्या वो उसे कभी माफ नहीं करेगा?”
और स्वाती ने ऑटो किया (उसकी गाड़ी रिपेर के लिए गॅरेज में पड़ी थी) और मुकेश के घर जा पहुँची. अंदर आकर उसने मुकेश के लिए पूछा तो नौकर ने उसे ड्रॉयिंग रूम में बैठा दिया और पानी वगैरह देने के बाद मुकेश को खबर दे दी की कोई लड़की उससे मिलने आई है.
मुकेश ड्रॉयिंग रूम में आता है तो उसे देखकर चौंक जाता है.
“स्वाती तुम यहाँ कैसे?”
“मुकेश सॉरी मैंने तुम्हें …”
“अरे चोदा मैं तो उस बात को तभी भूल गया था लेकिन तुम इस समय यहाँ. सब ख़ैरियत तो है?”
“मैं बस तुमसे माफी माँगने आई थी”
“ओह कम ऑन, तुम बच्चों जैसी बात कर रही हो. दोस्तों में ये सब चलता है”
“तुम बहुत अच्छे हो”
“और बहुत हॅंडसम भी लेकिन एक बात तो है तुम्हारा हाथ बहुत तेज पड़ता है. क्या खाती हो”
“मुकेश अब मैं तुम्हें सचमुच पीटूँगी”
“मैं तो मज़ाक कर रहा था. सॉरी चलो डिनर करते हैं. फिर मैं तुम्हें तुम्हारे घर छोड .आऊंगा.”
“खाना …” स्वाती कुछ पल के लिए सोचती है और फिर तैयार हो जाती है. डाइनिंग टेबल पर दोनों एक दूसरे से हँसी मज़ाक करते रहते हैं. इसी हँसी मज़ाक के साथ साथ खाना भी खत्म हो गया और स्वाती ने घर चलने को कहा क्योंकि काफी देर हो गयी थी.
मुकेश ने अपनी गाड़ी निकली और हाइवे पर दौड़ा दी. रास्ते में मुकेश ने फिर से उससे वही बात छेद दी तो इस बार स्वाती ने उसे बता दिया की वो एक नाजायज औलाद है. उसके बाप ने अपने प्यार के जाल में उसकी भोली भली आंटी को फँसा दिया और मुझे उनकी गोद में डाल कर हमेशा के लिए चला गया. तबसे मुझे इस प्यार नाम से छिड़ हो गयी है. तबसे किसी भी आदमी पर भरोसा करने से डर लगता है.
इसके बाद दोनों में से कोई कुछ नहीं बोला. इतने में बारिश शुरू हो गयी. बारिश तेज होती देख कर मुकेश ने गाड़ी साइड में रोक दी ताकि थोड़ा थाम जाने पर वो जाए. लेकिन बारिश रुकने का नाम ही नहीं ले रही थी. मुकेश थोड़ी देर इंतजार करता रहा और फिर जैसे ही उसने स्वाती को कुछ कहने के लिए बोलना चाहा तो देखा स्वाती दरवाजा खोलकर बाहर जा चुकी है. बारिश की बूँदों को अपने अंदर समाते हुए वो अपनी बहन फैलाए सड़क पर खड़ी है. उस समय कितनी मासूमियत, कितना भोलापन उसके चेहरे में समाया हुआ था. मुकेश ने आवाज़ देकर उसे बुलाना चाहा लेकिन शायद वो तो कुछ सुन ही नहीं रही थी. थोड़ी देर इंतजार करने के बाद मुकेश भी गाड़ी से बाहर आ गया ताकि स्वाती को अंदर ले जा सके और फुटपाथ के पास एक पेड़ के नीचे बारिश से बचने के लिए खड़ा हो गया.

“स्वाती चलो ज्यादा भीगोगी तो बीमार पड़ जयोगी”
“मुकेश तुम्हें पता है, बचपन से ही मुझे बारिश में नहाने का बड़ा शौक है. जब तक बारिश थाम नहीं जाती थी मैं उसका पूरा लुफ्त उठती थी. तुम भी आओ और बारिश में नहाने का मजा लो.”
“इसमें क्या मजा. कपड़े भीग जाएँगे, सर्दी लग जाएगी और बिस्तर पकड़ लाओगी”
“तुम सिर्फ़ एक पहलू देख रहे हो. ये भी तो सोचो जब ये बारिश की बूँदें हमारे चेहरे पर पड़ती हैं तो जीवन की सारी परेशानियाँ, सारी तकलीफें, सब दुख पीछे चुत जाते हैं. एक शांति सी मिल जाती है मान में. लगता है जैसे वक्त थाम गया है. ना कल की खबर ना कोई चिंता बस आज में ही जियो”
“तुम तो फिलॉसफर की तरह बातें कर रही हो”
“जिंदगी हमें सब सीखा देती है. खैर चोदा चलो बारिश कम हो गयी है चलते हैं”
“कम हो गयी है बंद तो नहीं हुई है ना. चलो बारिश वॉक करके आते हैं”
“मुकेश! तुम सच में चलेंगे. मैं बता नहीं सकती की मैं कितनी खुश हूँ. जब से यहाँ आई हूँ इन छोटी छोटी खुशियों के लिए तरस गयी हूँ”
“अब से दुनिया जहाँ की सारी खुशियाँ तुम्हारे कदम चूमेंगी ये मेरे तुमसे वादा है”
स्वाती एक तक उसे देखने लगती है. दोनों की ही नजरें मिलती है लेकिन लब कुछ बोल नहीं पाते. क्या बोले किसी की कुछ भी समझ नहीं आ रहा था. सिर्फ़ एक दिल बोल रहा था और दूसरा दिल सुन रहा था. आँखों की मूक भाषा भी सिर्फ़ आँखें ही समझ सकती हैं. स्वाती जैसे नींद से जागी और उसने अपनी नजरें नीचे कर ली. दोनों साथ में चलने लगे और बातें करने लगे. इतने में मुकेश ने स्वाती का हाथ पकड़ लिया और इस बार स्वाती ने ना तो उसे थप्पड़ मारा और ना ही हाथ छुड़ाने की कोशिश की.
बस एक खामोशी सी छा गयी थी. शायद दोनों की बहुत कुछ कहना चाहते थे लेकिन बोल नहीं पा रहे थे. जो मुकेश किसी भी लड़की के साथ ईज़िली बातें कर लेता था आज पता नहीं वो कैसे खामोश था. वो क्यों नहीं कुछ बोल रहा था. हाथ पकड़े दोनों साथ चलते रहे और बस चलते रहे.
जब वो थोड़ी दूर निकल आए तो स्वाती को जैसे होश आया और उसे कहा “मुकेश अब हमें चलना चाहिए. बारिश भी बंद हो गयी है और हम दूर भी काफी आ गये हैं”
“मैं तो चाहता हूँ की हम दोनों ऐसे ही हाथ में हाथ डाले इस दुनिया से दूर चले जाएँ” मुकेश मान ही मान बड़बड़ाया
“कुछ कहा तुमने”
“कुछ नहीं चलो चलते हैं”
और फिर दोनों वापस चलकर गाड़ी में बैठ जाते हैं और मुकेश उसे उसके घर छोड़कर वापस अपने घर आ जाता है. दोनों अपने बिस्तर पर लेते करवाते बदल रहे हैं. आज एक ही दिन में जिंदगी कितनी बदल गयी. किसने सोचा था की ये एक दिन उनकी जिंदगी में क्या रंग बिखेरेगा. लग रहा था जैसे बागों में बाहर आ गयी हो, दिल खुशी से झूम रहा था. मुकेश का कई लड़कियों के साथ अफेयर था लेकिन ऐसा एहसास उसे कभी नहीं हुआ. क्या उसे स्वाती से सच में मुहब्बत हो गयी है. क्या इसी को प्यार कहते हैं.
इसके बाद दोनों की मुलाक़ातें होती रही और दोनों ही एक दूसरे को समझने की कोशिश करते रहे. मुकेश स्वाती के प्यार में पूरी तरह से बदल चुका था. वन गर्ल ओन्ली वाला रूल उसने अपना लिया था. स्वाती की खुशी ही उसकी खुशी थी. और स्वाती को तो जैसे नयी जिंदगी मिल गयी थी.
धीरे धीरे एक साल बीत गया और स्वाती के बर्तडे वाले दिन मुकेश ने उसे सर्प्राइज़ देने की सोची. उसने एक पार्टी ऑर्गनाइज़ की और स्वाती को वहाँ बुला लिया. स्वाती ये सब देखकर बहुत खुश हुई और मुकेश के गले से लग गयी. मुकेश ने अपनी जेब से एक डिब्बी निकली और उसमें से अंगूठी निकल कर अपने घुटनों पर बैठ कर स्वाती का हाथ पकड़ लिया और उसकी आँखों में देखते हुए कहा “स्वाती ई लव यू! विल यू मॅरी में?”
स्वाती की आँखों में के आँसू चालक पड़े. उसने कहा “ई दो” और उसके कहते ही मुकेश ने उसे अंगूठी पहना दी. उसके बाद मुकेश खड़ा हुआ और दोनों एक गहरे चुंबन में खो गये. शाम को मुकेश उसे उसके घर चोद आया. स्वाती आज बहुत खुश थी. उसकी जिंदगी में इतनी खुशियाँ आएँगी उसने कभी सोचा ही नहीं था.
उसने घर में कदम रखा तो अंकल उसका इंतजार करते उसे मिले.
“अरे अंकल आप सोए नहीं”
“तुमसे एक जरूरी बात करनी थी लेकिन मुझे प्ल्स गलत मत समझना”
“हाँ हाँ अंकल कहिए क्या बात है. आप ऐसा क्यों कह रहे हैं”
“आज अभी हॉस्पिटल गया था जहाँ उसके सारे टेस्ट की रिपोर्ट मिलनी थी. उसमें लिखा है की अभी सिर्फ़ एक साल तक ही जिंदा रही सकता है.” और इसी के साथ अंकल की आँखों में आँसू आ गये.
स्वाती ये सुनकर शॉक्ड थी. अभी की तबीयत अक्सर खराब रहती थी लेकिन बात यहाँ तक पहुँच जाएगी ये तो उसने सोचा ही नहीं था.
“अब मैं कैसे कहूँ. मुझे गलत मत समझना बेटी”
“अंकल आप साफ साफ बताइए बात क्या है?” स्वाती का दिल जोरों से धड़क रहा था किसी अनहोनी के डर से
“क्या तुम अभी से शादी करोगी?”
स्वाती जो अभी कुछ पल पहले अपनी खुशियों का महल बनता देख रही थी अचानक हूँ अब उसे रेत की तरह देते हुए दिखाई दिया.
“डॉक्टर्स के मुताबिक अभी एक साल तक ही जिंदा रही सकता है. हालाँकि डॉक्टर्स ने कहा है की हार्ट ट्रॅन्सप्लॅनटेशन का ऑपरेशन करने पर उसे बचाया जा सकता है लेकिन कोई अपना दिल क्यों देगा. अभी बचपन से ही तुमसे प्यार करता है और उसकी आख़िरी ख्वाहिश यही है की तुम उसकी जिंदगी में एक पत्नी की हैसियत से आओ. मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ता हूँ बेटी मना मत करना. वरना ये बूढ़ा जीते जी मर जाएगा”
स्वाती क्या कहती वो तो जैसे एक जिंदा लाश बन गयी थी. अंकल के एहसानों का बदला चुकाने का समय आ गया था. उसने फैसला कर लिया और अंकल की बात मान ली. अंकल भी उसे ढेरों आशीर्वाद देते हुए वहाँ से निकल गये.
स्वाती पूरी रात रोती रही और अपने जीवन और भगवान को कोसती रही.
स्वाती ने सोच लिया की अब वो मुकेश से दूर हो जाएगी. और जब वो उससे मिलने नहीं गयी तो मुकेश सीधा उसके ऑफिस पहुँच गया. मुकेश ने उससे ना आने की वजह पूछी तो स्वाती ने साफ शब्दों में उसे बता दिया की अब उन दोनों में कोई रिश्ता नहीं है.
“ये तुम क्या कह रही हो स्वाती.”
“मैं सच कह रही हूँ मुकेश. मैं तुमसे शादी नहीं कर सकती.”

और फिर मुकेश स्वाती को मानने की पूरी कोशिश करता है लेकिन स्वाती अपनी बात पर आदि रहती है. मुकेश उसके इस बर्ताव से दुखी हो जाता है.

“मैं तुमसे वादा करता हूँ की ये वेलेन्टाइन मैं तुम्हारे साथ ही मनौँगा”
*******************************************************************
आज अभी का ऑपरेशन था. स्वाती और अंकल दोनों वहाँ समय से पहुँच गये थे. कोई दो घंटे में ऑपरेशन खत्म हुआ और डॉक्टर्स ने ऑपरेशन सक्सेस्फुल होने की खूसखबरी सुनाई.
अंकल के डोनर के बारे में पूछने पर डॉक्तोए ने बताया “दो दिन पहले एक लड़का आया था और उसने कहा था की आज के दिन हमें अभी के लिए एक डोनर मिल जाएगा इसलिए मैंने आप दोनों को आज का टाइम दिया था. आज सुबह ही वो लड़का आया था. मेरे डोनर के बारे में पूछे पर उसने जेब से पिस्तौल निकल लिया. मैं कुछ कहता या करता तब तक तो उसने गोली चला दी. लेकिन मरने से पहले दो चिट्ठी उसने मुझे दी थी जो एक मेरे नाम पर थी और एक स्वाती के नाम. मेरी वाली चिट्ठी में उसने लिखा था की वो खूड़खुशी अपनी मर्जी से कर रहा है और पूरे होशो हवस में और मरने के बाद मेरा दिल अभी को दे दिया जाए. लेकिन मैंने स्वाती की चिट्ठी नहीं पढ़ी.
डॉक्टर्स ने एक चिट्ठी निकल कर स्वाती को पकड़ाय. चिट्ठी पढ़ते ही उसकी आँखों के सामने अंधेरा छा गया और वो वहीं बेहोश हो गयी.
नीचे पड़ी हुई चिट्ठी में सिर्फ़ एक ही लाइन लिखी थी “मैंने अपना वादा निभा दिया है स्वाती”

वादा – Hindi Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *