एक लंड से मेरी चूत की प्यास

हाय फ्रेंड्स, Antarvasna मेरा नाम सोनिया है और मैं इन्दौर की रहने वाली हूँ मेरी उम्र 24 साल की है और मैं दिखने में भी बहुत खूबसूरत हूँ. दोस्तों मेरे फिगर का साइज़ 34-28-34 का है और मैं बहुत गोरी और एकदम स्लिम और फिट हूँ एकदम मॉडल की तरह. दोस्तों मेरे 2 बॉयफ्रेंड्स है जिनमें से पहले वाले का नाम दीपक है और दूसरे वाले का नाम मनीष है. पाठकों आज जो कहानी मैं आपको बताने जा रही हूँ वह उस दिन की है जिस दिन मैंने अपने दोनों बॉयफ्रेंड्स से जी भरके चुदवाया था. सच में दोस्तों उस दिन मुझको बहुत मज़ा आया था।

मेरा पहला बॉयफ्रेंड दीपक बहुत ही अमीर है और उसका खुद का होटल है. वह मुझको कई बार चोद चुका है, पर मुझे उससे अभी चुदवाए हुए बहुत दिन हो गए है. दीपक मुझसे बहुत प्यार करता है और वह मेरे लिए कुछ भी करने को तैयार रहता है. और मेरा दूसरा बॉयफ्रेंड मनीष भी मुझसे बहुत प्यार करता है. वह दोनों मुझसे शादी भी करना चाहते है. दोस्तों यह बात उस दिन की है जब मैंने दीपक से मिलने का प्लान बनाया था। क्योंकि हम दोनों ने बहुत दिनों से चुदाई भी नहीं करी थी, क्योंकि अब मैं मनीष से ज्यादा मिलने जाने लग गई थी और मुझको भी मनीष से चुदवाना कुछ ज़्यादा ही पसन्द है. हाँ तो दोस्तों मैं उस दिन दीपक से मिलने गई और वह मुझे अपने होटल में ले गया था और वह मुझको उस दिन किसी भूखे कुत्ते की तरह घूर रहा था. वह तो बस मौका मिलते ही टूट पड़ने की फिराक में था. और फिर हम लोग एक शाही कमरे में गए थे और फिर मैं जाकर बेड पर बैठ गई थी. और फिर दीपक भी मेरे पास आकर बैठ गया था। और फिर दीपक मुझसे बोला कि, कितने दिन हो गए है और हमने कुछ किया भी नहीं है. इसलिए आज तो मैं तुम्हारे साथ जी भरकर सेक्स करूँगा. और फिर उसकी बात को सुनकर मैं भी मुस्कुरा दी थी और फिर मैंने उससे कहा कि, कर लो. और फिर दीपक मेरे कपड़े उतारने लगा और मैं भी दीपक के कपड़े उतारने लगी. और अब मैं और दीपक सिर्फ़ पैन्टी और अंडरवियर में थे. मैंने उस दिन काले रंग की सेक्सी जाली वाली ब्रा और पैन्टी पहन रखी थी. और फिर जैसे ही दीपक ने मेरी ब्रा उतारी तो वह मेरे बब्स पर टूट पड़ा था. दोस्तों दीपक को मेरे बब्स चूसना सबसे ज़्यादा पसन्द है. और फिर वह बड़ी ही बेरहमी से मेरे बब्स के निप्पल को काटने लगा और बब्स को चूसने लगा था जिससे मुझको भी बड़ा मज़ा आ रहा था।

दोस्तों मुझको भी अपने बब्स चुसवाने में बहुत मज़ा आता है. और फिर वह 10-15 मिनट तक मेरे बब्स को चूसता रहा और काटता भी रहा. और फिर दीपक के अन्दर का शैतान भी जाग चुका था, और फिर वह मुझसे बोला कि, कितनी सेक्सी है रे तू और तुझको देखकर मेरा मन तो करता है कि, तुझको मैं बस ऐसे ही जिन्दगी भर चोदता रहूँ. और फिर उसने मुझसे यह कहकर मेरी पैन्टी भी उतार दी थी. और फिर वह मुझे मेरे शरीर पर पागलों की तरह हर जगह पर किस करने लग गया था। दोस्तों मुझको चुदवाने में भी बहुत मज़ा आता है तो फिर इसलिए मैंने दीपक से कहा कि, प्लीज़ मुझे चोद दो अब जल्दी से मैं और बर्दाश्त नहीं कर सकती हूँ. तो फिर दीपक मुझसे बोला कि, हाँ मेरी जान अभी चोदता हूँ मैं तुझको. और फिर उसने अपना तना हुआ लंड मेरी चूत के मुहँ के ऊपर रखा और फिर उसने ज़ोर से एक धक्का लगाया और उससे उसका लंड मेरी चूत में पूरा ही अन्दर चला गया था. उसका लंड 5.5” का ही है तो मुझे उससे चुदवाना ज़्यादा पसन्द नहीं है पर उस समय तो मेरी चूत इतनी तड़प रही थी कि, किसी से भी काम चलाने को तैयार थी। और फिर दीपक ने मुझसे पूछा कि मुझसे चुदकर तुमको भी मज़ा आ रहा है ना? तो फिर मैंने उसको कहा कि, हाँ मुझको बहुत मजा आ रहा है बस तुम मुझको ऐसे ही चोदते रहो. और फिर थोड़ी देर के बाद दीपक झड़ गया था पर मैं नहीं झड़ पाई थी. और उस दिन दीपक ने मुझको 3-4 बार और भी चोदा था पर मैं फिर भी बहुत तड़प रही थी, मुझको तो अभी और भी चुदना था और दीपक का लंड मेरे लिए काफ़ी नहीं था. और फिर दीपक के होटल से निकलने के बाद मैंने सोचा कि, अब मैं क्या करूँ? और फिर मेरे मन में ख्याल आया कि, क्यों ना मनीष के घर ही चली जाऊँ।

दोस्तों मनीष का घर काफ़ी बड़ा था. उसके मम्मी-पापा नीचे वाले फ्लोर पर रहते थे और मनीष ऊपर वाले फ्लोर पर रहता था इसलिए मैं कभी भी जाकर बिना किसी डर के मनीष से चुदवा सकती थी. और फिर मैं होटल से सीधे ही मनीष के घर गई और मैं उसके कमरे में घुसी तो मनीष मुझको वहाँ पर देखकर बहुत खुश हो गया था. दोस्तों मनीष एक बहुत ही हेंडसम लड़का है और उसकी बॉडी भी बहुत बढ़िया है और उसका लंड 7” लम्बा और काफ़ी मोटा भी है. और फिर मैं जाकर सीधे मनीष की बाहों में चली गई थी. और फिर मनीष भी मेरे मूड को समझ गया था और मनीष भी हमेशा वही करता था जो मैं चाहती थी. और फिर मैं मनीष के कपड़े उतारने लगी तो मनीष ने मुझको कहा कि, पहले कुछ बातें तो कर लो. तो मैंने उसको कहा कि, बातें-वातें बाद में और मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए थे. और फिर मैं उसके बेड में लेट गई थी. दोस्तों अब मेरी असली चुदाई होने वाली थी, मनीष सबसे पहले तो मेरे बब्स को चूसने लगा बहुत ही प्यार से और वह मेरे निप्पल को भी काटने लगा था और मैं आहह… आहह… आवाजें निकालने लग गई थी।

और फिर मैंने उसको कहा कि, और चूसो और मेरी जान. तो फिर वह और जोर-जोर से मेरे बब्स को चूसने लग गया था. और फिर मैंने मनीष को बेड पर लेटाया और फिर मैं उसके लंड को अपने मुहँ में डालकर चूसने लग गई थी. दोस्तों मेरा ऐसा करना मनीष को भी बहुत अच्छा लगने लगा था और वह भी आहहह… इस्सस…. की आवाजें निकालने लगा था. दोस्तों मनीष की उत्तेजक आवाजों को सुनकर मेरी तड़प और भी बढ़ रही थी. और फिर मैं मनीष के लंड पर बैठ गई और ऊपर-नीचे होकर चुदने लग गई थी. दोस्तों मनीष पहले तो अपना होश खो बैठा था क्योंकि उसको इतना मज़ा आ रहा था कि, उसे तो कुछ ख़याल ही नहीं था लेकिन फिर थोड़ी ही देर में जब उसे कुछ होश आया तो उसने मेरे दोनों बब्स को अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और फिर वह उनको ज़ोर-जोर से दबाने लग गया था. और उससे मैं भी ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगी थी. और उसका इतना बड़ा लंड मुझे बहुत अच्छे से चोद रहा था. मुझे अब बहुत ज़्यादा मज़ा आ रहा था. और फिर मैंने उसको कहा कि, ओह मेरी जान तुम कितने सेक्सी हो, चोदो और चोदो मुझको और बस ऐसे ही चोदते रहो आह… आह… इस्सस… और फिर मेरी मादक आवाजों को सुनकर मनीष भी पागल हो रहा था और उसको भी चुदाई का बहुत मज़ा आ रहा था. और फिर मनीष ने मुझको 25-30 मिनट तक खूब चोदा था. और फिर उसने अपना सारा पानी मेरी प्यासी चूत में भर दिया था. और उस पूरी चुदाई के दौरान मेरी चूत भी 3 बार झड़ गई थी. और फिर थोड़ी देर तक ऐसे ही एक-दूसरे से चिपककर पड़े रहने के बाद मनीष का लंड फिर से खड़ा हो गया था तो मनीष ने मुझे उस दिन 3 बार और भी चोदा था।

दोस्तों कसम से उस दिन तो मुझको बहुत मज़ा आया था क्योंकि एक ही दिन में 2 लोगों से चुदने का मज़ा तो कुछ अलग ही होता है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!