आंटी नंबर वन

आंटी नंबर वन Antarvasna Hindi Sex Stories

मेरा घर का पास एक फॅमिली रहती थी उस फॅमिली आंटी मीया बीबी और उनके तीन बच्चे था बच्चे छोटे हे था उन्होंने टू रूम सेट सेकेंड फ़्लोर पर किराया पर ले रखा था उनके खिड़की मेरा घर के ठीक सामना ही थी मेरा उनके घर आंटी आना जाना था आंटी मुझे बहुत अच्छी लगती थी उनकी बूब्स देख कर मैं पागल हो जाता था और उनकी मटकती हुई गांड देख कर तो मेरा मान मूठ मरने का होता था. मैं जब उनके घर जाता था उस समय वो सिर्फ़ नाइटी हे पहने मिलती थी और घर का कम कर रही होती थी वो मुझे अक्सर अकेला हे मिलती थी और मैं रोज उनके बूब्स देखता था और घर आकर मूठ मरता था.

एक दिन रात को दस बजा का समय था सभी लोग सो रहा था मैं अपनी चाट पर गया तो देखा की सामने बली खिड़की खुली है और आंटी चुद रही है अंकल उनको घोड़ी बनाकर चोद रहा है आंटी बिलकुल नंगी थी और अंकल भी नंगे था सीन देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया मैं आंटी के खुले हुआ बूब्स. और चूतड़ देखकर दंग रही गया और उनकी चुदाई को देखता रही और मूठ मारकर अपने को सेट किया सुबह मैं जब आंटी के घर गे उस समय आंटी नहाना जा रही थी मैंने उनसे पूछा की क्या मैं आपको नहाते हुआ देख सकता हूँ उन्होंने कहा क्यों नहीं और वो मेरे सामने नहाना लगी वो ब्रा और पेटीकोट पहन का नहा रही थी पानी से भीगने के कारण उनके बूब्स साफ दिख रहा था अब मेरा लंड तंबू की तरह खड़ा था मेरा मान हो रहा था की आंटी को चोद डालु लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सका और चुपचाप उनको देखता रहा नहाने के बाद आंटी पूजा करने बैठ गई और मैंने बाथरूम आंटी जाकर मूठ मारा और फिर आकर बैठ गया पूजा करने के बाद आंटी चाय बनाकर लाई और बैठकर बोली क्या हो रहा है मैंने कहा आंटी आप खिड़की खोल कर क्यों रखती है उन्होंने कहा गर्मी ज्यादा लगती है मैंने कहा कल रात को क्या हो रहा था आंटी ना कहा वही जो राज होता है मैंने कहा रोज होता है उन्होंने कहा हां मैंने झट से कहा आपके बूब्स बहुत अच्छे है उन्होंने कहा पियोगे मैं बोला क्यों नहीं और मैं उनके बूब्स खोलकर पीना लगा फिर मैंने कहा आंटी अंकल आपका ऊपर था और आप नीचे थे क्या ऐसे हे चुदाई होती है वो बोली क्या तुम चुदाई करना नहीं जानते मैंने कहा नहीं वो बोली मैं तुमको चोदना सिखाऊंगी लेकिन तुम्हें मुझे रोज चोदना होगा मैंने कहा ठीक है फिर उसने अपने सारा कपड़े उतार कर मुझे भी नंगा कर दिया और बोली पहले मारा बूब्स पियो और दबाओ मैंने ऐसा हे किया

फिर उसने मेरा लंड हाथ से पकड़ कर अपने मुंह में डालकर चूसने लगी और मुझसे कहा अब तुम भी मेरी चुत को चूसो मैं भी उसकी चुत को चूसने लगा अब हम दोनों 69 के पोज़िशन में था मेरा लंड ने मेरा साथ चोद दिया और मैं उसके मुंह में हे झाड़ गया कुछ देर के बाद वो भी मेरा मुंह में ही झाड़ गई फिर भी हम दोनों चालू रहे और कुछ ही देर में उसने मेरा लंड फिर खड़ा कर दिया और बोली अब लंड को मेरी चुत में डालो मैंने अपना लंड उसकी चुत पर रखा उसने एक ही झटके में पूरा लंड अपनी चुत के अंदर ले लिया और मुझसे कहा अब अपनी कमर को आगे पीछे करो मैं अपनी कमर चलाने लगा कसम से बड़ा मजा आ रहा था लाइट 20 मिनट में मैंने अपना वीर्य उसके चुत में गिरा दिया और वो भी झाड़ चुकी थी उसने मुझसे कहा अब चोदना सीख गया हो कल फिर मेरी चुत मारना है.

और फिर मैं अपने घर आ गया रात को मैंने फिर देखा की अंकल आंटी की गांड मर रहा है. दूसरे दिन जब मैं आंटी के घर गया वो मेरा ही इंतजार कर रही थी मुझे देखकर बोली जल्दी आओ मुझे नहाना है मैंने कहा आज मैं आपकी गांड लूँगा उन्होंने कहा मैं भी समझ गई थी की तुम आज गांड ही लूगा क्योंकि रात को तुमने मुझे गान्ड मरता देखा था फिर हम दोनों नंगे हो गया और आंटी की गान्ड देखकर मेरा मान हुआ की इसकी गांड को बस चोदता रहूं और फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड के अंदर डाला वो गांड मारना की आदि थी इसलिये मेरा लंड उसकी गांड में आसानी से चला गया मैंने उसकी गांड का खूब मजा लिया और फिर मैंने उसको सीधा लिटाकर उसकी चुत में अपना वीर्य गिरा दिया फिर मैं उसके बूब्स से खेलता रहा मैंने उसके बूब्स और होठों को चूस चूस कर लाल कर दिया था. उसके बाद से लाइट 1 महीने मैंने उसको रोज चोदा फिर उसका ट्रांसफर हो गया और वो चली गये आज भी मैं उनके घर कभी कभी जाता हूँ तो उनको चोदता ज़रा हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *