चाची की चुदाई

मैं कालेज के सेकेंड एअर में Antarvasna था एक सालसे मैं चाचा के घर रहता था कालेज को छुट्टी थी एक दिन दोपहर को स्टडी के बाद मैं आंटी को उठाने गे देखा आंटी गहरी नींद में थी उसके दो पैर फोल्ड किए हुए थे सारी कभी भी नीचे गिर सकती थी नींद में दोनों पैर फैल जाते और उसकी गोरी गोरी जाँघ और अंदर का आंडरवेयर दिखाई पड़ता और अचानक सारी नीचे गिरी अब दोनों गोरे गोरे जाँघ और चुत के पास आंडरवेयर के बजुमे लाल लाल चॅम्डी नज़र आने लगी मैं गरम हुआ मुझे बहुत अच्छा लग रहा था मेरा लोड़ा तू तू करने लगा क्या मस्त नज़ारा था मैं लंड को हाथ से हिलने लगा तो मेरा पेन नीचे गिरा और धीरे से आवाज़ हुई आंटी हड़बड़ाकर उठी उसे अहसास हुआ

मैंने सब देखा उसने झट से शर्माके सारी ठीक की और बोली विनोद कब आया तुम मैं बोला जस्ट आपको उठाने आया हूँ ओह बोली बैठ मैं चाय बनती हूँ और ओह किचन में गयी मैं डरा था रात भर मुझे नींद नहीं आई मैं समाज गया आंटी को मालूम पड़ा था दूसरे दिन फिर मैं स्टडी करके दोपहर को धीरे से अंदर झांक के देखा आज भी आंटी वैसे ही सोई थी गोरी गोरी जांघों के साथ ब्लैक आंडरवेयर साफ नज़र आ रही थी कभी भी सारी नीचे गिर सकती थी मैंने सोचा चाची की चुदाई – Chachi Ki Chudai

धीरे से सारी सरका दम मैं आगे बढ़ा जांघों पर हाथ टच करने वाला था इतने में सारी सरक गयी और मेरा हाथ जांघों पर टच हुआ मैं समाज गया आंटी जागी है मैं पैरों को हिलाते हुए बोला आंटी उठिए तभी ओह नहीं उठी मैं थोड़े ज़ोर से हिलने से नीचे गिरी और आंटी उठी जल्दी से सारी थी की और बोली बहुत नींद में थी अच्छा हुआ उठाया बैठ मैं चाय बनती हूँ और मैं चाय पीके निकाला मैं पागल दीवाना हुआ था मैं समाज गया आज आंटी जरूर जागी थी तीसरे दिन उसने मुझे बोला विनोद मैं गहरी नींद में भी होगी तभी भी मुझे जगाना मैं आंटी के तरफ देखकर हां बोला ओह सोने गयी स्टडी करके जब मैं अंदर गया मैंने देखा आज उसने आंडरवेयर नहीं पहना था मुझे ताज्जुब हुआ मस्त चुत दिखाई पड़ रही थी मैं समाज गया कल ओह जागी थी नींद की ऐक्टिंग में उसने दो दो तीन बार पैरों को फैला दिए जिससे सारी

एक दम नीचे आई अब ओह आधी नंगी दिख रही थी मस्त चुत और गोरी गोरी टाँगे मैं समाज गया ओह शायद मुझसे चुदवाना चाहती होगी मैं नजदीक गया मैं डरा हुआ था लेकिन हिम्मत से मैंने जांघों पर हाथ रखा फिर अस्ते अस्ते हाथ नीचे ले गया चुत के उपेरहत घुमाया तब भी ओह उठी नहीं उसका एक हाथ पलंग से बाहर आया था मैं उसके हाथ को लंड टच करने लगा लंड एकदम कड़क हुआ था मैंने चुत में थोड़े से अंदर उंगली घुसाई तब भी कुछ नहीं हुआ मैंने ज़िप खोल के लंड को बाहर निकाला और आंटी के मुट्ठी में दिया और उंगली चुत में घुसाने लगा आंटी ने लंड को पकड़कर रखा था

पर ओह दबा नहीं रही थी मैंने दो उंगली चुत में डाल के ख़ासके ज़ोर से अंदर धूकाई आंटी हरकत में आई हां करके उसने मेरा लंड एक बार दबाया और हाथ हटाया मैंने भी झट से चुत से उंगली निकली और लंड को ज़िप में डाल दिया आंटी जागी हुई मैं बोला आंटी उठिए उसने सारी ठीक की नीचे देखकर शर्मा रही थी बोली चाय पीएगा मैं कप रहा था ओह बोली बैठो और मैं चाय पीके चला गया अब रात भर मुझे नींद नहीं आई सोचने लगा अब उसका जरूर मान करता होगा नहीं तो ओह गुस्सा करती चाय नहीं पिलाती आज मैंने तन लिया

आंटी के चुत में लंड घुसाउँगा बाद में ओह मुझे बेइज्जत करके निकलेगी तो चलेगा मैं स्टडी कर रहा था आंटी बोली मान लगाकर पढ़ना और बाद में कल के जैसा मुझे उठना मैं आंटी को देखकर हां बोला आंटी मुझे देखकर सोने चली गई मैं समाज गया ओह चुदवाना चाहती है इसीलिए मुझे ऐसी बोली मैं आधा घंटे में उसके कमरे में दाखिल हुआ आज उसने बूब्स पर की सारी हटाई थी आंडरवेयर नहीं पहना था जानबूझकर हाथ बाहर निकलकर रखा था सारी आज गिरी नहीं उसने जानबूझकर नीचे खींच के रखी थी जिससे मैं चुत के उप्पर आराम से हाथ घुमा सुकून मैं यह सब देखकर बौखला गया मैंने पेंट और आंडरवेयर निकली और नजदीक गया उसका हाथ मेरे गोटी पर घूमकर मुट्ठी में लंड दिया उसने लंड कसके पकड़कर रखा मैं समाज गया उसे मालूम था मैं आधा नंगा हूँ मैं नीचे झुका और चुत में उंगली डालने लगा चाची की चुदाई – Chachi Ki Chudai

और दो हाथों से बूब्स दबाने लगा जैसा ही मैंने देखा ओह लंड दबाने लगी मैंने शर्ट उतरा पूरा नंगा हुआ और धीरे से बोला आंटी मैं पूरा नंगा हुआ हूँ और मैं उसके ब्लाउज के हुक खोलने लगा ओह बार बार लंड दबाती अब मैंने उसके हाथ से लंड खींचा और आंटी पर चढ़ा और लंड चुत में घुसाने लगा जैसा ही थोड़ा सा लंड अंदर गया मैंने धक्का मारा उसने हहा हाहाहा करके दोनों हाथों से मुझे दबाया और मुझे चूसने लगी मैंने ज़ोर का धक्का मारा ओह अहहहहा हाहहहहा विनूऊऊऊऊद वीीईईईईईईन्न्ननणणनू चिल्लाने लगी मैं बोला आंटी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है ओह बोली वणूओड मुझे भी लेकिन किसको बोलेगा तो नहीं मैं बोला कभी नहीं ओह बोली दरवाजा बंद किया है ना मैं बोला आंटी आज आपको चोदने के लिए चाची की चुदाई – Chachi Ki Chudai

मैंने सारे दरवाजा खिड़कियां चेक की है ओह बोली मैं जानती थी आज तुम जरूर करेगा इसीलिए मैंने सब बंद किए है मुझे बहुत तड़पाया अब चोद हाहहहहा हाहहहहह ययोयोयूयोययूयोयोयो सुउुुउउस्स्स्स्स्स्ससो मैं बोला आपने भी मुझे बहुत तड़पाया हाहहहहहा आंटी आप बहुत अच्छी है आंटी बोली मैं जानती हूँ तू भी एकदम मस्त है हाहहहहहहहा फ़फफूफूफुफूउफफफफफफफफफ्फ़ और मैं दनादन चोदने लगा आंटी मुझे नीचे से उच्छलुच्छालके साथ दे रही थी और चिल्ला रही थी हाहहहहहः ओहोहोहोहोहोहोहो माआररर्र्र्र्र्र्र्ररर गाययईीीईईईई ज्ज्ज्ज्ज्ज्जफफफफफफफफफफफफ्फ़ एोयूयोयोयोयोवओऊओववव सुउउस्सूसूउसुस्स हाहहहहा और मैंने बढ़ता तेज की और सारा माल चुत में गिराया और फिर हम दोनों की बहुत दोस्ती हुई करीब एक साल मैंने उसे चोद रहा हूँ
भी मैंने चाचिको बहुत बार चोद अभी भी चोदत हूँ बीबिकॉ सब मालूम है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *