भाभी की छोटी बेहन निशा को चोदा

दोस्तों, मैं जवान हट्टा – कट्टा युवक हूँ Antarvasna और अपने परिवार के साथ रहता हूँ. मैं बहुत दीनों से अपनी भाभी की छोटी बहन निशा को चोदने की ठाक मैं था. निशा MBA की पढ़ाई के लिए शहर आई हुई थी और हमारे साथ हे रही रही थी. मैं जनता था की अपनी हे भाभी की छोटी कुँवारी बहन को चोदने की इच्छा करना ठीक नहीं है..पर लंड की जिद के आगे मज़बूर था.

निशा के मादकपन ने मुझे उसका दीवाना बना दिया था. धीरे-धीरे मैं उसकी जवानी का रस लेने को बेताब हो गया… पर मौका ना मिलने से परेशान था. मुझे लगने लगा था की मैं अपने आप पर ज्यादा दिन काबू नहीं रख पाऊंगा. चाहे ज़ोर ज़बरदस्ती करनी पड़े… पर निशा को चोदने का मैं निश्चय कर चुका था.

मुझको डर था की रेखा भाभी को यह बात पता चल गयी तो ना जाने वो गुस्से मैं क्या कर बैठे.

निशा को जब मैंने पहली बार देखा तो इतनी पसंद नहीं आई… पर फिर बाद मैं पसंद आने लगी थी. निशा बड़ी सेक्सी थी… उसका फिगर 30-24-32 था. उसके स्तन बारे मस्त थे और उसकी गांड भी मस्त थी. उसकी शॉर्ट ड्रेस के नीचे दिखती ग्री-गोरी चिकनी टांगे मुझे दीवाना बना देती थी. निशा थी बड़ी शोख और चंचल… उसकी हर अदा पर मैं मर मिट-था था. उसकी चिन्न के तिल ने उसके सौंदर्या को और भी निखार दिया था.

शुरू मैं तो वो मुझे भाव हे नहीं देती थी.वो हमारे घर वालो से घुलमिल गयी थी… और अब मुझसे भी कभी-कभार बात कर लेती थी.फिर हमारी दोस्ती हो गयी.

एक दिन मैंने अकेले मैं उसे रोते पाया…मुझे अपने कमरे में घुसता देख उसने अपने आँसू पोंछ लिए. मैंने उसे-से कई बात जान-ना चाहा की वो क्यों रो रही है… पर उसने नहीं बताया.

इस बात को एक हफ्ता बीत गया था.. एक दिन मैंने उसे मोबाइल पर किसी से यह कहते हुए सुना की मैं गरीब घर की हूँ… मैं इतने पैसे कहा से लाकर दूँगी… प्लीज़ मुझे मेरा एम एम इसे लौटा दो… या डेलीट कर दो… वरना मैं जान दे दूँगी.

अब मज़रा मेरी समझ मैं आ गया था. निशा का कोई ब्लैकमेल कर रहा था.

दोपहर मैं जब में कारखाने से घर लौटा तो घर पर कोई नहीं था. तभी निशा उधर आ गयी और अपने कमरे मैं चली गयी.मैं उसके पीछे अंदर चला गया..वो कपड़े बदल रही थी. आहट पा कर टी-शर्ट पहनते हुए वो पलटी तो मुझे देख कर शर्मा गयी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *