बंगलन भाभी की जोरदार चुदाई

ओर अनिता बाथरूम में जाकर अपना मुंह ओर चुत धोकर आ गये ओर बोड दीदी राजीव का लंड चूसने में मुझे बहुत मजा आ रहा था तो मौमीता ने कहा की राजीव के लंड को चूसने का पूरा मजा तो आज तुमने ही लिया है, आज तो मैंने राजीव के लंड को चूसा भी नहीं है, मैं उधर भाभी की चुत चूसने में मस्त था, मुझे चुत को चूसने में बहुत मजा आता है इसलिए मैं बारे मजे से चुत को चूस रहा था ओर अनिता मौमीता के होठों के पास फूचकर उनकी चुचियों को चूसने लगे एक तरफ मैं मौमीता के चुत चूस रहा था ओर दूसरे तरफ अनिता मौमीता की छिचिया ओर मौमीता मैईजे से हल्के हल्के आवाज़ का रहे थी आआआआआआआआआअ आआआआआआआहह हह हह चुस्त रहो ओर ज़ोर से चूसो मेरे राजा ओर ज़ोर से उूुुुुुुुुुुुुुुुउउ उउफफफफफफफफफफफफफ्फ़ फ आआआअहह पूरा रस चूस लो ओर ज़ोर से ओर ज़ोर से आआआआआआ
हहाआआआव उूुुुुुुुुुुुउउ ओर फिर थोड़े ही देर में मौमीता भाभी झड़ने की स्टेज में आ गये
ओर उन्होंने मेरे मुंह को ज़ोर से अपने चुत पर दबा कर ढके मारएनए लगे ओर चिल्ला रहे थी ओर ज़ोर से ओर
जोसर से आआआआआ करते रहो आआआआहह फास्ट ओर फास्ट करते रहो आआआआआआआआअहह हह हह
हह ओर वो झंड़े गये जब वो झाड़ रहे थी तो उनके चेहरे पर एक अजीब से खुशी थी, मैंने भाभी
की चुत का सारा रस बारे मजे से चूस लिया ओर फिर वो मुझसे अलाग होकर एक तरफ थोड़ी देर लेते रहे
ओर मैं उनके बगल में लेट गया ओर अनिता मेरे सीने पर हाथ रखकर लेते हुए थी ओर मेरे लंड को हिला
रहे थी अनिता मेरे लंड को कुछ इसे तेरह से हिला रहे थी की मेरे लंड देखते ही देखते खड़ा हो गया
तभी अनिता ने बारे प्यार से मुझसे से कहा की आपने दीदी के चुत तो चूस ले लेकिन आपने मेरे चुत नहीं
चूसे क्या मेरे चुत अच्छी नहीं है ये सुनते ही उठा ओर सिद्धे उसके पैरों के पास गया ओर उसके दोनों
पैरों को फैला कर उसके चुत में अपना मुंह लगा दिया आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. सच में उसके चुत बहुत ही गरम थी ओर उसके चुत से आने वाले खुशबू मुझे बहुत अच्छे लग रहे थी ओर मैं ज़ोर ज़ोर से अनिता की चुत को चूसने लगा
जैसे की मैंने बहुत दीनों से कोई चुत चूसे ही ना हो.

ओर अनिता मेरे मुंह को अपने चुत पर ज़ोर से दबा कर हल्के हल्के ढके मरते हुए बोल रहे थी राजीव हाआआआआआआआआ आआआआअ यययययययईईईईई ीईसस्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ओर ज़ोर से चूसो यययययययययययी ययइईईईईई ईईईसस्स्स्स्स्स्सस्स ओर ज़ोर से चूसो मेरे राजीव मेरे चुत तुम्हारी लिए कब से
प्यासी थी ओर ज़ोर से उऊहहााअ आआआआआआआआअहह हह हह चूस लो मेरे चुत को आजेसमे कुछ भी मत चोदा अनिता की चुत की चूसने का मजा ऐसे था की कब मौमीता आकर मेरे लंड को
चूसने लगे मुझे पता ही नहीं चला, ओर मैं अनिता के चुत को ज़ोर से चूस रहा था तभी अनिता बोले
थोड़ा से जीबह चुत को अंदर डालकर चूसो मेरे राजीव चूस लो आआज्जजज्ज्ज्ज्ज आआआआआआआआआअ आहह
हह हे चूस लो ओर मैंने अपने जीबह अनिता की चुत में डाल कर उसके चुत को अपने जीबह
से चोदने लगा था तभी मैंने माशूस किया की मेरे लंड पूरे तेरह से टाइट हो चुका है मौमीता
भाभी कुछ इसे तेरह से चूस रहे थी की मेरे लंड बहुत ही जल्द चुदाई के लिए तैयार हो चुका था,
मैं अपने जीबह से अनिता की चुत को चोदा जा रहा था ओर अनिता मस्ती में आआआआआआआआहह हह पूरे
चूस लो मेरे चुत को आज. आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. उसके चुत से रस निकालने लगा था ओर मैं उस रस को बारे मजे से चूस रहा था तब मैंने कहा की अनिता अब मुझे मत तड़पो अब मुझे अपने चुत चोदने दो, तो अनिता बोले चोदा ना राजीव किसने रोका है तुम्हें, मेरे चुत को तो कब से तुम्हारे लंड का इंताज़ार है ओर ये सुनते ही मैंने अपना लंड भाभी के मुंह से निकालकर अनिता के दोनों पैरों को ऊपर उठकर उसके चुत के छेद पर अपना लंड रखा दिया उसके चुत के गारमे से मेरे लंड ओर भी जायद टाइट हो चुका था ओर जल्दी से अनिता के चुत को चोदने की लिए बेचैने था मेरा लंड, तभी अनिता बोले जल्दी से चोदा मेरे राजीव अब ओर नहीं रहा जाता है, जालीद से चोदा मुझे ये सुनते ही मेरे जोश आ गया ओर मैंने फिर एक झटका तेजे से मारा मेरे 3/4 लंड अनिता की चुत में एक ही झटके में घुस गया ओर अनिता ज़ोर से आआआआआआआआ हह दर्द हो रहा है राजीव अब निकाल लो प्लीज़ तब मैं अपना लंड उसके चुत से निकाल लिए ओर फिर मैं उसके चुत को अपने जीबह से चूसने लगा.

जब अनिता मस्ती में आ गये तभी फिर से मैंने अपना लंड अनिता के चुत के छेद पर रखकर ज़ोर से एक
झटका मारा ओर फिर मेरे 3/4 लंड उसके चुत में घुस गया ओर वो चिल्ला उठे तभी मौमीता भाभी उसके
चेहरे के पास जा कर उसके होठों को अपने होठों से काश कर किस करने लगे ओर उसके दर्द की चीख उसके
मुंह में ही रहा गये ओर तभी मौमीता भाभी ने मेरे तरफ इसारा किया ओर मैंने पूरे ज़ोर से फिर एक
झटका मारा इसे बारा मेरएआ पूरा लंड अनिता की चुत में घुस गया ओर अनिता ना च्चटे हुए भी हल्के से
चिल्ला उठे दीदी नहीं आआआआआआआः हह अब नहीं दीदी मुझे चोद दो बहुत दर्द हो रहा है
लेकिन तब तक भाभी ने फिर से उसके होठों को अपने होठों से बंद कर दिया ओर मेरे तरफ इसारा किया ओर
मैं फिर ज़ोर ज़ोर से अनपे लंड को अनिता की चुत में अंदर बाहर करने लगा धीरे धीरे अनिता का दर्द
खत्म हो गया ओर वो मस्ती में आकर बड़बड़ाने लगे करे रहो मेरे राजीव ईईईईईईईईईईईईईईईयाहह आज
मेरे चुत को फाड़ दो अपने लंड से आज मेरे चुत को प्यास बुझा दो मेरे राजीव आआआआआआआआआः
हह ओर ज़ोर से चोदा मुझे राजीव ओर ज़ोर से ये सुनते ही मेरे ओर ज्यादा जोश आ जा रहा था ओर मैं
पूरे जोश के साथ अनिता के चुत में अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था ओर फिर अनिता भी अपना कमर
उठा उठा कर मेरा साथ देने लगे तभी आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. मौमीता भाभी ने कहा की क्यों अनिता अभी तो तुम्हें बहुत दर्द हो रहा था अब क्या हुआ, अब तो मेरे मजे से कह रहे हो मेरे राजीव मेरे चुत को फाड़ा दो, उनके बात सुनकर अनिता ने अपना चेहरा मेरे सीने में सटा कर चिपका गये.ओर मैं उसे पूरे ज़ोर से उसके चुत में अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था तभी अनिता की कमर उठाने के बढ़ता ओर तेज हो गये ओर वो बोलने लगे मेरे राजीव ओर ज़ोर से हह ओर ज़ोर से करते रहो आआआआआआआआआअ आआअहह हे ओर ज़ोर से फिर एक हालीके सेचिक्ख के साथ अनिता झाड़ गये ओर मेरे गले में अपने भी डालकर मुझसे लिपट गये लेकिन मेरा जोश अभी तक शांत नहीं हुआ था तो मैं ओर ज़ोर से अनिता की चुत में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा ओर उसके चुत से पूछ… पूछ… पूछ… पूछ… की आवाज़ आने लगे थी ओर फिर थोड़े ही देर मैं भी ज़ोर से अपने लंड को . बाहर करते हुए झड़ने की स्टेज में आ गया

ओर मेरे लंड ने सारा वीर्य अनिता की चुत में ही उगल दिया अनिता की चुत मेरे गरम वीर्य से भर गये ओर कुछ देर तो मैं अनिता के उप्पर ऐसे ही लेते हुए उसके होठों को चूसता रहा ओर कहा सच में अनिता तुम्हारे बहुत टाइट है ओर फिर थोड़े देर बाद मैं अनिता के उप्पर से हटकर उसके बगल में ही लेट गया तभी मौमीता भाभी मेरे पास आए ओर मेरे लंड को चूसने लगे ओर मेरे लंड को अपने जीबह से साफ करते हुए बोले राजीव अभी तो तुमने अनिता की चुत चोदे लेकिन रात में तुम मेरे चुत भी छोड़ोगे, मैं कहा हां मौमीता भाभी, लेकिन सच में अनिता को आपने मुझसे चुदाया कर मुझे पर उपकार किया है तो बोले जो सुख तुमने मुझे दिया है उसके सामने ये कुछ भी नहीं है. आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. ओर थोड़े देर तक हुलोग ऐसे ही लेते रहे तभी अचानक मेरे नज़र घड़ी पर गये 4 बजने वाले थे तो मैंने कहा भाभी अब तो 4 बजने वाले है पीयूष के आने का टाइम हो गया है. उन्होंने कहा हां, तुम जा कर पीयूष को कॉलेज से ले आओ. ओर मैंने पीयूष को कॉलेज से लाने चले गया, जब लौट कर आया तो मौमीता भाभी ने कहा की रात में 10 बजे तक आना ओर मैं वहां से जाने लगा तो अनिता ने मेरे तरफ बढ़कर मेरे होठों पर एक किस कर लिया लेकिन कुछ बोले नहीं, इसे तेरह से मैंने मौमीता भाभी ओर उनकी सिस्टर अनिता की 8 दीनों तक कंटिन्यू चुदाई की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *