पड़ोस की चुदसी भाभी की चुदाई

पड़ोस की चुदासी भाभी की चुदाई

Antarvasna मेरे पड़ोस में एक फॅमिली रहती थी,उनमें 4 बहने थी.मुझे वो लोग भाई मानती थी.मैं अकेला ही रहता था.मैं भी उनको बहन जैसा ही मानता था.चारोनबहनेड़िखने में हेरोईएनए से कम नहीं थी.सब जबरदस्त माल थी.ना चाहते हुए भी मेरी नियत कभी कभी खराब हो जाती थी और उनके नाम पे मैं मूठ मर लेता था.एक दिन जब मैं अपने बाथरूम में नहरहा था टब मैंने देखा की मेरे बॅयात रूम से उनका बाथरूम एक छेद से दिक्ता था.मैंने उससे देखा तो पूरा बाथरूम नज़र आ रहा था.

फिर एक दिन जब मैंने किसी के नहाने की आवाज़ सुनी टब मैं झाँक के देखा तो रश्मि दीदी नहाने की तैयारी कर रही थी.उनकी सारी नहीं हुई थी और 24 साल उमर थी.उन्होंने अपने कपड़े उतरे तो वो प्री वाइट गोरी थी परफेक्ट फिगर बेब दूध देख के मेरा लंड खड़ा हो गया.फिर मैं उनको देखता रहा.फिर कुछ दीनों तक मैंने चारों बहनों को देखा मेरी नियत खराब हो गयी.एक दिन मैंने अपने मोबाइल से चारों की नंगी क्लिप बनाई.और देख के मूठ मारा करता था टब मैंने पहले रश्मि दीदी को चोदने का प्लान बनाया. एक दिन मैंने उनको अपने घर बुलाया और बातों बातों में उन्हें वो क्लिप दिखय वो रोने लगी और डर गयी.मैं यहीं चाहता था.वो बोलने लगी तुमने ये अच्छा नहीं किया तुम इससे डिलीट करो.

लेकिन मैंने अपना दाव फेंका और बोला की रश्मि मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना छाती हूँ ये सुनकर रोने लगी की मैंने कभी नहीं सोचा ये, तुम मेरी जिंदगी बर्बाद कर दोगे.लेकिन मैंने बोला चोदने दो तभी क्लिप डेलीट करूँगा.उनके पास कोई रास्ता नहीं चूरा.फिर उन्होंने हाँ भर दी.मैंने उनको रात को बुलाया जब उसके घर में सब सो जाते थे.रात को रश्मि दीदी को नहा कर आने बोला था, ठंड की रात में वो नहा कर मेरे घर चुप चाप आई.आँख से आँसू निकल रहे थे वो रोती जा रही थी लेकिन मुझे कोई फिक्र नहीं थी. मैंने बेड के पास बुलाया फिर रश्मि दीदी को कपड़े उतरने को बोला वो रोने लगी.मैंने बोला चुप चाप मेरी रंडी बन आज रात नहीं तो रेप . दूँगा.फिर वो अपने कपड़े उतार दी.

और मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए.मेरा 10 इंच का लंड देख कर वो रोने लगी बोली प्लीज़ मुझे जाने दो.मैंने एक डंडा रखा था लंड शेप का मैंने दीदी को बोला ओके नहीं करूँगा आप एक बार मुर्गी बनो और जाओ वो झट से मान गयी.जैसे ही झुकी मैंने डंडा रश्मि दीदी के गान्ड में घूसा दिया.वो दर्द से चिल्ला पड़ी.उसकी गान्ड से खून निकालने लगा.रश्मि ने हाथ जोड़के बोला इससे निकालो मैं तुम जो बोलोगे वहीं करूँगी.मैंने बोला डंडा नहीं निकलेगा अगर बात नहीं मानी तो आगे भी डंडा डाल दूँगा. फिर मैंने उसे अपना लंड चूसने को बोला रश्मि दीदी मेरा लंड मुंह में लेकर चूसने लगी, ठीक से माही चूज़ पा रही थी मैंने ज़बरदस्ती पूरा लंड अंदर बाहर करना शुरू कर दिया .

दीदी के मुंह से गू गू की आवाज़ आ रही थी.फिर मैंने उन्हें खड़ा होने को बोला और डंडा निकल दिया उसके गान्ड की सफाई कर दी खून काफी निकला था. अब मैंने दीदी को बेड पे लिटा दिया और चुत चाटने लगा.पूरा गुलाबी था मस्त मजा आ रहा था.अब चुदाई की बक़ारी थी मैं उनके ऊपर आया और चुत पर लंड टीका कर थोड़ा झटका मारा तो वो रोने लगी नहीं भी आहह…. बहुत …आ दर्द …मैंने उन्हें लीप किस किया बोला रश्मि दीदी पहली बार चुदाई में थोड़ा दर्द होगा हिम्मत रखो, वो नाना करने लगी और छूटने की कोशिश करने लगी मैं उठा और 4 घूसा उनके पेतपार मर, फिर डंडा उठा के गान्ड पर बर्शाने लगा और उसकी गान्ड की चमड़ी उधर दी अब वो हिम्मत खो चुकी थी फिर मैंने उसे लिटा कर लंड पर वसलिने लगाई और चुत पर लगा कर धक्का मारा लंड एक ही बार में 10 इंच गुस गया रश्मि दीदी के मुंह से आ नहीं बचाऊओ निकल रहा था मैं धक्के मर रहा था वो आ नहीं चूऊररर दो आ नहीं भैईई आह आह आह नहीं आह उफ़फ्फ़ पूरे कमरे में फच फच की आवाज़ आ रही थी मेरा लंड खून से सन्न चुका था.

30 मिनट चोदने के बाद मैं झरने वाल था मैं उठा और रश्मि दीदी को बक़लों से पकड़ के उठाया और उनके मुंह में लंड घुसा दिया.और सारा माल अंदर डाल दिया.जब तक वो पूरा अंदर नहीं कर गयीं मैंने लंड अंदर ही रखा. फिर मैं रश्मि दीदी को ले कर बाथरूम गया और बॅयात टब में साठा नहाया.जब रूम वापस आए तो रश्मि दीदी पैर फैला कर चल रही थी मैं देख कर हँसने लगा.उन्हें पास बुलाया और नीचे बैठने को कहा अब मैंने अपने लंड पर कॉंडम लगाया और अमृतंज़न उसके ऊपर लगाया.रश्मि दीदी ने पूछा ये क्या कर रहे हो तो मैंने बोला लंड की मालिश कर रहा हूँ.अब मैंने रश्मि दीदी को बोला अब आप जाओ वो जैसे ही कपड़े लेने को पलटी मैंने उन्हें पीछे से पकड़ लिया और ज़बरदस्ती उसकी गान्ड में लंड घुसा दिया अब उणा वहीं हाल जो कुतिया की गान्ड में पेट्रोल डालने से होता है.वो चिल्ला रही थी रो रही थी नाहहिि जल रहा है हाईए, मुझे चोर दो बचाऊओ, इतना ब्क़्ड़ा लंड और अमृतंज़ाम हाईए भैईई मैं मर जाऊंगी.लेकिन मैं झड़ने तक धक्के देता रहा और फिर अपना लंड निकाला.अब रश्मि ज़मीन पर अपना गान्ड घिस रही थी.

थोड़ी देर बाद मैंने उसे पास बेड पर बुलाया और दीदी को पकड़ कर बोला अब सुबह तक तुम मेरा लंड अपने मुंह में रखोगी एक बार भी निकला तो मैं क्लिप डेलीट नहीं करूँगा. वो डर से तुरंत लंड मुंह में ले ली हम 69 पोज़िशन में आ गये और फिर सुबह 4 बजे तक वो मेरा चुस्ती रही मेरा माल 3 बार उसके मुंह में ही गिर लेकिन वो चाट के साफ करती रही.सुबह वो उठी और बोली की अब डेलीट कर दो.मैंने उससे दिखा कर क्लिप डेलीट तो कर दी लेकिन मैंने हिडन क्क़्म से रात की क्लिप बना ली थी.मैंने उससे चूमा और जाने को बोला.अब तो वो मेरे जाल में फँस चुकी थी.अब मैं इसी तरह सब बहनों की चुदाई करने वाला था क्यों की सबकी नंगी क्लिप मेरे पास थी.दोस्तों आपको मेरी कहानी कैसे लगी जरूर बताएँ…

पड़ोस की चुदासी भाभी की चुदाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *