पुलिस वाली को गर्लफ्रेंड बनाकर चोदा

हाय फ्रेंड्स Antarvasna मेरा नाम नवीन है मेरी उम्र 26 साल की है दोस्तों कामलीला डॉट कॉम पर यह मेरी पहली सेक्स कहानी है और मैंने इस वेबसाइट पर बहुत सी सेक्स कहानियाँ पढ़ी है और मुझको वह सभी कहानियाँ बहुत ही पसन्द आई है. चलो अब मैं आप सभी को अपने बारे में थोड़ा और बता देता हूँ. मेरी लम्बाई 5.8 फुट की है और मेरी बॉडी जिम जाने की वजह से कसरती है और मेरे लंड की साइज़ 7” लम्बा और 3” मोटा है. अब मैं आप सभी का कीमती समय ज़्यादा ना लेते हुए सीधा अपनी आज की कहानी पर आता हूँ। दोस्तों यह बात पिछले साल की है और तब मैं बी.टेक. के दूसरे साल में पढ़ रहा था तो एक बहुत ही रोचक घटना मेरे साथ घटी थी और मुझको पहलीबार सेक्स का अनुभव हुआ था।

दोस्तों उस समय हुआ यूँ कि, मैंने एक दिन बहुत शराब पी रखी थी और मैं बाइक चला रहा था और रात के करीब 12.30 बज रहे थे और मैं काफी तेज स्पीड में गाड़ी चला रहा था तो मुझको रात को पेट्रोलिंग करने वाली एक पुलिस वाली ने रोक लिया था और फिर वह मेरे से पूछने लगी कि, लाइसेन्स कहाँ है और तुम्हारी बाइक के कागज कहाँ है? दोस्तों उस समय मैं नशे में था तो मैंने नशे में उसको गाली दे दी थी तो उसने मुझको हवालात में बन्द कर दिया था. मैंने उस समय कुछ ज़्यादा ही पी रखी थी इसीलिए मैं खुद को सम्भाल नहीं पा रहा था नहीं तो शायद मैं वहाँ से छूटकर भाग जाता, खैर अब तो मैंने पीना छोड़ दिया है. और फिर जब मैं हवालात में था तो वह मुझको घूर-घूरकर देख रही थी, और फिर मैं धीरे-धीरे जब होश में आने लगा तो मुझे पता चला कि, रात के 3 बज चुके है और मैं कहाँ पर हूँ. लेकिन मैं कुछ कर भी नहीं सकता था और ना ही वह मुझको कहीं फ़ोन करने दे रही थी. और फिर मुझको भी गुस्सा आ गया तो मैंने सोचा कि, अब अपने चेहरे का इस्तेमाल किया जाए. और फिर मैं उसको पटाने की कोशिश करने लग गया था. दोस्तों उसका नाम कुसुम था जो कि, उसकी नेम-प्लेट पर लिखा हुआ था. और फिर उसने मुझको एकबार थप्पड़ भी मारा लेकिन फिर भी मैंने हार नहीं मानी. दोस्तों रूको-रूको मैं आपको उसके बारे में तो बताना ही भूल गया था, हाँ तो उसका नाम कुसुम था और उसके बब्स लगभग 34” के थे और उसकी गांड 36” के आस-पास की थी, उसका रंग गोरा था. और फिर मैं उसको पटाने के लिये उसकी तारीफ़ करने लग गया था।

मैं :- कुसुम जी आप तो शराब से भी नशीली चीज़ है।

कुसुम :- चुप कर साले तू बहुत ज्यादा बोल रहा है।

मैं :- आप मौका तो दो मैं बोलने के साथ बहुत कुछ कर भी सकता हूँ।

कुसुम :- पहले कितनों के साथ किया है कुछ?

मैं :- तुम्हारे जैसी कड़क अब तक कोई मिली ही नहीं यार.

तो उसने मुझको थप्पड़ मारा और फिर मैंने उसे बहुत मनाया तो उसने मुझको फोन करने की छूट दे दी थी, तो फिर मैंने फोन करके अपने दोस्त को फ़ोन करके बुलवाया और उससे कुछ पैसे भी मंगवाए और फिर उन्होंने मुझको 2000 रूपये लेकर छोड़ दिया था. और फिर मेरे दोस्त को मैंने जाने के लिये बोला और मैं पुलिस स्टेशन के बाहर उसका इन्तजार करने लगा कि, कब वह आए अपने घर जाने के लिए. और फिर थोड़ी देर में वह बाहर आई अपने घर जाने के लिए जहाँ पुलिस स्टेशन था वहाँ पर सुबह के 4 बजे आस-पास कोई ऑटो भी नहीं मिलता था तो मैंने उसको बोला कि, मेम चलिए आपको मैं ही छोड़ देता हूँ. तो उसने मुझको बोला कि, ठीक है चलो और फिर वह मेरी बाइक की सीट पर बैठ गई थी और उसने यह भी सोचा होगा कि, पुलिस वाली के साथ कोई क्या करेगा. मैं तो बहुत खुश था यार और फिर मैं उसको लेकर उसके घर गया तो उसने अपने घर का गेट खोला और फिर उसने मुझको बोला कि, आओ बैठो और चाय पीकर जाना. और फिर वह मुझको बैठाकर शायद अपने कपड़े बदलने चली गई थी. और फिर वह मेरे लिए चाय बनाने के लिए किचन में चली गई थी. और फिर जब वह मेरे लिए चाय लेकर आई तो कसम से वह क्या लग रही थी. काले रंग के नाइट सूट में उसके बब्स तो ऐसे लग रहे थे कि, जैसे वह अभी उसकी नाइटी से बाहर आ जाएँगे. और फिर जब वह मुझको चाय देने के लिए झुकी तो उसके बब्स को देखकर मेरा लंड तो तन गया था और शायद उसने भी मेरे खड़े लंड को देख लिया था. और फिर वह मेरे सामने आकर बैठ गई थी और वह मुझसे बातें करने लग गई थी और फिर मैंने उसको फिर से छेड़ना और पटाना शुरू कर दिया था और मैं उससे कहने लगा कि, कुसुम जी आप यहाँ पर अकेली ही रहती है क्या? तो उसने मुझको बोला कि, हाँ.

मैं :- आप इन कपड़ों में बहुत अच्छी लग रही हो और मुझको आप से प्यार हो गया है।

कुसुम :- एक पुलिस वाली को छेड़ रहे हो मैं तुमको अन्दर करवा दूँगी।

मैं :- मैं फिर से फोन करके फिर बाहर आ जाऊँगा मेरी जान।

कुसुम :- तुम्हारी हिम्मत की दाद देनी पड़ेगी।

और फिर मैं उसके नज़दीक गया और मैं उसके हाथ को अपने हाथ में लेकर उसको घूरता रहा और वह अपनी नज़रें झुकाकर नीचे देख रही थी. और फिर मैं उसके होठों को किस करने गया तो उसने अपना मुहँ फेर लिया था, और फिर मैंने फिर से कोशिश करी तो उसने इसबार अपना मुहँ नहीं फेरा था. और फिर करीब 10 मिनट तक मैं उसके होठों को चूमता रहा और साथ ही मैं धीरे-धीरे उसकी नाइटी के ऊपर से ही उसके बब्स भी दबाता जा रहा था. और फिर वह भी अपना एक हाथ मेरे लंड की तरफ बढ़ाने लग गई थी. और उसने मेरी पेन्ट के हुक को खोल दिया था. और फिर मैंने भी जब उसकी नाइटी को खोला तो वह मेरे सामने अब पूरी नंगी हो गई थी, दोस्तों उसने नाइटी के अन्दर कुछ भी नहीं पहना हुआ था. और फिर मैं उसके नंगे बब्स को दबाने लग गया था और चूसने भी लग गया था. दोस्तों जैसे ही मैंने अपना मुहँ उसके बब्स के निप्पल पर लगाया तो वह इस्सस… की आवाज़ करने लग गई थी. और फिर ऐसा लगभग 15-20 मिनट तक चला और फिर मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए थे और फिर मैंने उसको मेरा लंड चूसने को बोला तो वह झट से मान गई थी. दोस्तों पूछो ही मत क्या गजब का अहसास हो रहा था जब वह एक मस्त रंडी की तरह मेरे लंड को चूस रही थी. और फिर मैंने उसको पूछा कि, तुमने पहले कभी सेक्स किया है? तो वह बोली कि, हाँ अपनी नौकरी पाने के लिये उसको एकबार करना पड़ा था और उसके बाद आज कर रही हूँ. और फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गये थे और फिर हम एक-दूसरे के अंगों को चूसने और चाटने का मजा लेते रहे. और फिर मैं उसके ऊपर आया और मैंने उसकी चूत को छुआ तो दोस्तों वह तो पहले से ही गीली थी।

और फिर मैंने उसमें ऊँगली डालने की कोशिश करी तो उसकी चूत बहुत टाइट थी. दोस्तों जब मैंने उसकी चूत में ऊँगली डाली तो वह थोड़ी सी उछल पड़ी थी और साथ ही वह सिसकारी भी लेने लग गई थी. और फिर मैंने जब उसकी चूत में अपनी जीभ से चाटना शुरू किया तो वह पूरी तरह से मस्त हो गई थी. और फिर वह अपने हाथ से मेरे सिर को अपनी चूत में दबाने लग गई थी और फिर थोड़ी देर के बाद उसका बदन अकड़ने लग गया था और वह झड़ गई थी और उसकी चूत से पानी निकलना शुरू हो गया था. और फिर वह पानी मैंने पिया तो यारों वह मुझको बड़ा ही नमकीन जैसा लगा. और फिर वह मुझसे बोली कि, प्लीज़ जान अब मुझको चोद भी दो अब मुझसे बिल्कुल भी सब्र नहीं हो रहा है. दोस्तों रहा तो मुझसे भी नहीं जा रहा था. और फिर मैं अपना लंड उसकी चूत के छेद के पास ले जाकर रगड़ने लगा तो वह आहहह… इस्सस… उफ्फ्फ… करने लग गई थी. और फिर मैं अपना लंड उसकी चूत के अन्दर डालने लगा. दोस्तों उसकी चूत इतनी टाइट थी कि, उसमें मेरा लंड जल्दी से जा ही नहीं रहा था. दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

दोस्तों मेरा लंड 1” ही उसकी चूत के अन्दर गया होगा कि, वह मुझको बोलने लगी कि, रहने दो नहीं तो मैं मर जाऊँगी, प्लीज़ रहने दो. और फिर मैं उसके होठों को किस करने लगा और मैंने उसको बोला कि, जान कुछ नहीं होगा, एकबार तो पहले भी ले चुकी हो ना तुम ही तो बोल रही थी ना. और फिर वह मुझसे कहने लगी कि, लेकिन उसका इतना बड़ा नहीं था. और फिर मैंने बातों ही बातों में थोड़ा और जोर लगाकर अपना लंड उसकी चूत के अन्दर डाला तो वह चला गया था और वह तो मेरे उस अचानक हुए हमले से जैसे बेहोश ही हो गई थी. और फिर मैं भी थोड़ी देर तक चुप-चाप उसके ऊपर ही लेटा रहा और उसके बब्स को चूसता रहा. और फिर थोड़ी देर के बाद मैं फिर से अपने लंड को उसकी चूत में आगे-पीछे करने लग गया था. और फिर तो दोस्तों अब वह भी अपनी गांड को उछाल-उछालकर मेरा साथ देने लग गई थी. और फिर वह मुझसे बोली कि, चोदो मेरी जान और चोदो आज तुम चोद-चोदकर मेरी इस चूत का भोसड़ा बना दो. और फिर तो अब मैं और भी जोश में आकर उसकी तेज-तेज चुदाई करने लग गया था. और फिर 10 मिनट के बाद ही वह एकबार झड़ गई थी. और फिर उसकी गीली चूत की वजह से उस पूरे कमरे में फच-फच की आवाज़ गूँज रही थी. और फिर मैंने उसको घोड़ी बनने को बोला तो वह झट से घोड़ी बन गई थी. और फिर मैंने उसकी चूत में पीछे से लौड़ा डालकर 10-15 ही झटके दिए थे. और फिर मैं उसको अपने ऊपर बैठाकर उसकी चुदाई के मजे लेने लग गया था. और फिर मुझको भी लगा कि, मैं अब झड़ने वाला हूँ, तो उसने मुझको बोला कि, मेरी जान अपने इस पानी को मेरी चूत के अन्दर ही खाली कर दो. और फिर मैंने उसको सीधा लेटाया और फिर मैं उसके ऊपर आकर उसकी चुदाई करने लग गया था. और फिर करीब 5-7 मिनट के बाद मैंने अपने लंड का सारा लावा उसकी चूत में ही निकाल दिया था. और फिर मैं उसके ऊपर ही लेटकर सो गया था. और फिर हम दोनों ही सुबह 10 बजे के आस-पास उठे और फिर वह झट से मेरे लिये चाय बनाकर लाई और फिर मैं चाय पीकर अपने हॉस्टल में चला गया था. और फिर तो दोस्तों अब जब भी हमको मौका मिलता है तो हम खूब जमकर सेक्स कर लेते है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!