कुछ तो करेंगे मिलके आ ज़रा-चुदाई

मैंने थोड़ा और दबाया तो वो पहली बार बोली, “प्लीज़. ज़रा धीरे.” मैं समझ गया की वो एक दम जोश में आ गयी है. मैंने अपना लंड थोड़ा और अंदर दबाया तो वो सिसकियां भरने लगी. मेरा लंड उसकी चुत में अब तक 2″ घुस चुका था. मैंने अपना लंड उसकी चुत में धीरे धीरे अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. उसने भी अपना चूतड़ पीछे की तरफ दबाया और सिसकियां भरने लगी, उफ़फ्फ़… विक्की… धीरे… प्लीज़. दर्द हो रहााआ है….. उईए…. म्माआआआ…… आआआहह… रुक्कककककक….. जाओ……. मैं रुक गया. वो बोली, “विक्की, मैं पहली बार करवा रही हूँ. ज़रा आराम से धीरे धीरे करो. बहुत दर्द हो रहा है.” मैंने कहा, “तुम घबराओ मत. मैं धीरे धीरे और आराम से ही करूँगा. मैं जनता हूँ की तुम अभी तक कुँवारी हो और तुम्हारी चुत एक दम टाइट है.” मैंने धीरे धीरे अपना लंड उसकी चुत में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया.

2-3 मिनट तक चोदने के बाद उसे भी और ज्यादा मजा आने लगा. वो बोली, “विक्की, तुम अपना लंड थोड़ा सा और अंदर डाल दो. मैं तैयार हूँ.” मैंने थोड़ा सा और दबाया तो मेरा लंड उसकी चुत में 3″ तक घुस गया. वो फिर बोली, “बस, रुक जाओ प्लीज़. दर्द हो रहा है. अभी इतना ही अंदर डाल कर चोदा मुझे.” उसका सील टूट चुका था और वो अब मेरा लंड अपनी चुत में आराम से अंदर ले रही थी. मैंने उसे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. 2-3 मिनट में ही उसका दर्द जब कुच्छ कम हुआ तो उसे मजा आने लगा. वो बोली, “विक्की, थोड़ा और अंदर डाल कर और तेजी…. से चोदा… मुझे.” मैंने थोड़ा और अंदर दबाया तो मेरा लंड उसकी चुत में 4″ तक घुस गया. मैंने अपनी बढ़ता को बढ़ते हुए उसे चोदने लगा. वो अपना चूतड़ आगे पीछे करते हुए मेरा साथ दे रही थी. 5 मिनट तक चोदने के बाद वो बहुत जा जोश में आ गयी और बोली, “विक्की, और अंदर डालो अपना लंड मेरी चुत में. खूब तेज चोदा मुझे. अब रुकना नहीं, पूरा लंड अंदर घुसा देना. मैं एक दम बेकाबू हो रही हूँ और मुझे बर्दाश्त नहीं हो रहा है.” मैंने अपना लंड थोड़ा और अंदर दबाया तो मेरा लंड उसकी चुत में 5″ तक घुस गया. मैंने उसे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. थोड़ी देर तक चोदने के बाद मैंने एक जोरदार धक्का लगा दिया. मेरा लंड उसकी चुत में 6″ तक घुस गया. वो चिल्ला उठी लेकिन उसने मुझे रुकने के लिए नहीं कहा. मैंने एक फाइनल शॉट लगा दिया तो वो बहुत तेज चिल्लाने लगी. मेरा 7″ का पूरा लंड उसकी चुत में एक दम झड़ तक घुस चुका था. वो बोली, “विक्की, तुमने आख़िर मुझे आज एक लड़की से औरत बना ही दिया. मैंने अपनी चुत में तुम्हारा पूरा लंड अंदर ले ही लिया. बहुत दर्द हो रहा है. थोड़ा रुक जाओ, तब चोदना.” मैं रुक गया.

थोड़ी देर बाद जब वो शांत हुई तो उसने मुझसे चोदने के लिए कहा. मैंने मिनी की चुदाई शुरू कर दी. पहले बहुत धीरे धीरे उसके बाद मैंने बहुत तेजी के साथ चोदना शुरू कर दिया. 5 मिनट तक उसे चुदवाने में थोड़ा दर्द हुआ लेकिन उसके बाद वो एक दम शांत हो गयी और उसे मजा आने लगा. उसने अपना चूतड़ आगे पीछे करते हुए मेरा साथ देना शुरू कर दिया. 2 मिनट बाद ही वो बोली, “और तेज चोदा, विक्की. ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाओ.” मैंने अपनी बढ़ता बढ़ा दी और बहुत तेज तेज धक्के लगाने लगा. वो अब अपनी चुत में मेरा पूरा लंड आराम के साथ अंदर ले रही थी. 2 मिनट भी नहीं बातें की वो फिर बोली, “विक्की, मुझे कुच्छ हो रहा है. लगता है मेरी चुत से पानी निकालने वाला है. खूब ज़ोर ज़ोर से धक्का लगाओ.” मैं समझ गया की वो झड़ने वाली है. मैंने बहुत ही तेजी के साथ उसकी चुदाई शुरू कर दी.

वो बोली, “आआआ… विक्की…… मैं…. आआआ… रही…. हूँ….और तेज …. और तेज….. .” उसकी चुत से पानी निकालने लगा और मेरा सारा लंड भीग गया. मैं भी बिना रुके उसे आँधी की तरह चोदता रहा. लगभग 20 मिनट तक चोदने के बाद मैं उसकी चुत में ही झाड़ गया. इस दौरान वो भी 3 बार झाड़ चुकी थी. लू न्ड का पूरा पानी उसकी चुत में निकल जाने के बाद मैं हाथ गया. हम दोनों तक गये थे. कुच्छ देर आराम करने लगे. 15 मिनट बाद वो बोली, “विक्की, प्लीज़. एक बार और करो ना. मुझे बहुत अच्छी लग रही थी यह चुदाई.” उसने मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया. 10 मिनट में ही मेरा लंड एक दम तैयार हो गया. मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसके चूतड़ के नीचे 2 तकिये रख दिए. उसकी चुत एक दम ऊपर उठ गयी. मैंने उसकी चुत के बीच जैसे ही अपना लंड रखा तो वो बोली, “विक्की, मुझे बहुत मजा आया था. इस बार तुम अपना लुंडेक ही धक्के में पूरा अंदर डाल दो.” मैंने अपनी सांसें रोक कर अपने को थोड़ा तैयार किया और पूरा ज़ोर लगते हुए एक करारा धक्का मारा. मेरा पूरा लंड सनसंता हुए उसकी चुत में घुस गया. वो बहुत तेज चीख पड़ी.

मैंने बिना रुके उसकी चुदाई शुरू कर दी. 2 मिनट में ही वो अपना चूतड़ उठा उठा कर मेरे हर धक्के का जवाब देने लगी. मैंने अपनी बढ़ता और बढ़ा दी. 5 मिनट की चुदाई के बाद वो झाड़ गयी. उसकी चुत एक दम गीली हो चुकी थी और मेरा लंड भी उसकी चुत के पानी से एक दम गीला हो चुका था. मैं रुका नहीं उसको चोदता रहा. रूम में फ़च-फ़च की आवाज़ गूँज रही थी. इस बार मैंने उसे बिना रुके लगभग 35 तक चोदा और उसकी चुत में ही झाड़ गया. लंड का पूरा पानी उसकी चुत में निकल देने के बाद मैं हाथ गया और उसके बगल में ही लेट गया. इस बार की चुदाई में वो 4 बार झाड़ चुकी थी. वो भी तक कर चोद हो गयी थी और एक दम निढल हो गयी थी. वो बेड पर ही पड़ी रही.

मैंने उसे 1 मंथ तक कभी अपने रूम पर और कभी उसके रूम पर खूब चोदा. उसके और मेरे घर का कोई कोना नहीं बच्चा था जहाँ मैंने उसकी चुदाई ना की हो. वो खूब मस्त हो कर चुदवाती थी. आज भी मौका मिलते ही वो किसी ना किसी बहाने मेरे रूम पर आ कर मुझसे चुदाया जाती है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *