कज़िन भाई से मज़े मस्ती

हेलो दोस्तों, मेरा नाम पूजा है ओर मेरी उमर 21 साल है. मेरे फिगर का साइज 36-30-34 है ओर मैंने अभी कुछ सालों पहले अपनी कालेज की पढ़ाई पूरी की है. दोस्तों यह कहानी मेरे ओर मेरे भाई की है. मेरा कज़िन भाई मेरे बीच एक अच्छे दोस्त की तरह दोस्ती है, लेकिन अब वो मेरी चुत का बहुत बड़ा दीवाना बन गया है, उसका नाम राज है ओर मुझसे एक साल बड़ा है. उसकी लंबाई 5.11 है ओर वो दिखने मैं एकदम ठीक लगता है ओर अब मैं सीधी अपनी आज की कहानी पर आती हूँ.

दोस्तों हुआ यह की वो के दिन मुझसे मिलने आया तो हम लोग एक दूसरे को नॉर्मली जब भी मौका मिलता बहुत अच्छे से मिलते ओर अपने मजे मस्ती मैं व्यस्त रहते थे ओर उसी मजे मस्ती करते समय एक दिन उसका हाथ मेरे बूब से को छू गया मुझे उसके लंड का आकर बड़ा होता हुआ नज़र आया ओर अब मेरी भी चुत धीरे धीरे गीली होती जाती थी. जो मेरे लिए सब कुछ पहली बार ओर एकदम नया नया सात हां, क्योंकि उसके पहले मेरे साथ ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था की मेरी चुत गीली हुई थी ओर ना ही मुझे इसका मतलब पता था.

फिर उसके हाथों से मेरे बूब्स को छूने पर मेरा यह हाल हुआ था, लेकिन मैं फिर भी एकदम चुप रही ओर बाद मैड हीरे धीरे हम दोनों खुलकर रहने लगे, लेकिन वो अब कुछ नहीं कर रहा था ओर ना ही मैं कर रही थी सिवाए थोड़ा बहुत इधर उधर छूने ओर किस करने के. फिर एक दिन उसने मुझे अचानक से कसकर पकड़ लिया ओर फिर किस करते करते मेरी पीठ को सहलाता ओर रगड़ता रहा.

फिर हमने स्मूच किया ओर उसकी जीभ मेरे मुंह मैं थी ओर अब हम दोनों धीरे धीरे जोश मैं आ रहे थे ओर फिर उसने अपना अगला कदम बढ़ाया ओर वो मेरा टॉप खोलने लगा. तो मैं भी अब धीरे धीरे मदहोश हो रही थी ओर मैंने झट से हाथ अपने दोनों हाथों को ऊपर कर दिया ओर उसने मेरा टॉप निकालकर दूर फेंक दिया. फिर वो मेरे 36 साइज के बारे बारे बूब्स को घूरने लगा तो मैंने कहा साले हरामी कही का, तू केवल घूरता ही रहेगा या दबाएगा या चुसेगा भी?

मेरी बात सुनकर वो बहुत जोश मैं आ गया ओर मेरे दोनों बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही पकड़कर दबाने लगा ओर अब वो मेरी जीभ को कसकर चूस रहा था. फिर कुछ देर ऐसा ही चलता रहा ओर उसने मुझे बेड पर लेता दिया. फिर मेरी गर्दन पर किस करने लगा ओर फिर धीरे धीरे नीचे की तरफ किस करते करते आगे की तरफ बढ़ने लगा ओर अब वो मेरे बूब्स को ब्रा के ऊपर से किस करने के बाद पेट पर किस कर रहा था ओर फिर उसने मेरी जीन्स को उतार दिया ओर अब मैं केवल ब्रा ओर पेंटी मैं लेती हुई थी ओर उसने अपनी टी-शर्ट ओर पेंट को भी उतारकर फेंक दिया ओर उसने किस करना लगातार जारी रखा ओर पेट पर किस करने के बाद जब उसने मेरी चुत पर पेंटी के ऊपर से किस किया तो मेरे मान मैं ऐसी खलबली हुई की जैसे मैं एकदम पागल हो जाऊंगी. वो किस करते करते मेरे टॉप पर फिर मेरे पैरों को किस करते करते ऊपर बढ़ा.

फिर पेट को एकदम बीच मैं चूमते चाटते हुए बूब्स के पास आया ओर दोनों बूब्स का कुछ हिस्सा जो ब्रा के अंदर होने के बावजूद भी दिख रहा था, उसे चूमता रहा ओर फिर मेरे ब्रा का हुक खोलकर उसने मेरी ब्रा को बाहर निकल दिया ओर पागलों की तरह मेरे एक बूब्स को पकड़कर चूसने लगा. तो उसका वो बूब्स का चूमना, चाटना ओर मेरे दूसरे बूब्स को दबाना मुझे बिलकुल पागल कर रहा था ओर अब मैं जोश मैं आकर चुदाई के लिए ओर भी बेकरार होने लगी थी.

उसने कहा की मुझे ऐसा एहसास हो रहा है की जैसे एक आंटी आज अपने बेटे को दूध पीला रही है. तो मैंने उसकी बात का जवाब दिया ओर उससे कहा की अब आंटी मम्मी चोदा ओर अपनी जान का दूध पियो ओर यह सुनकर वो ओर भी जोश मैं आ गया, वो अब ओर कस कसकर मेरे एक बूब्स को चूसने लगा ओर दूसरे बूब्स को दबाने लगा, लेकिन कुछ ही देर मैं मेरे शरीर ने जवाब दे दिया ओर मैं झाड़ गयी, लीकिन यह तो अब सिर्फ़ शुरूआत थी. वो बहुत देर तक मेरे दोनों बूब्स को चूसता ओर दबाता रहा ओर मैं गरम होने लगी. फिर उसने मेरी पेंटी को खोला ओर मेरी चुत को सहलाने, रगड़ने लगा ओर फिर अपनी जीभ से मेरी चुत को चाटने, चूसने लगा. तो मुझे बहुत मजा आ रहा था ओर मैंने उसका सर पकड़ा ओर अपनी चुत पर दबा दिया, वो अब मेरी चुत को चूस रहा था. फिर उसने कहा की आज मैं अपनी डार्लिंग का पूरा रस पी जाऊंगा.

तो मैंने पूछा की डार्लिंग का क्या मतलब? तो उसने कहा की यह तुम्हारी चुत आज से मेरी डार्लिंग है ओर मैं इसे डार्लिंग कहकर बूलौँगा. तो वो मेरी चुत को चूसने के साथ साथ मेरे बूब्स को दबाता रहा था ओर कभी मेरी गान्ड को घिस रहा था. तो मैं बिना चुडवाए ही मदहोशी के शिखर पर थी ओर मैं अपनी चुत पर बिलकुल भी कंट्रोल नहीं रख सकी ओर मैं झाड़ गयी.

फिर उसने मेरी चुत का सारा रस पी लिया ओर चुत को चाटना, चूसना लगातार जारी रखा, लेकिन अब मुझे उसका मेरी चुत चूसना फिर से आउट ऑफ कंट्रोल करने लगा ओर अब मैं अपने पैरों को पटकने लगी ओर मैं अपना खुद का बूब्स पकड़कर दबाने लगी ओर जब मुझे रहा नहीं गया तो मैंने कहा की साले हरामी केवल तड़पाताएगा या अब चुदाई भी करेगा?

उसने मेरे दोनों पैरों को फैलाया ओर अपनी आंडरवेयर को खोलकर अपने लंड को मेरी चुत पर रगड़ने लगा ओर उसने मुझसे कहा की साली ओर आज तो मैं तुझे ऐसे चोदूंगा जैसे की यू मेरी पर्सनल रंडी है.

फिर वो अपने लंड को मेरी चुत पर रगड़ने लगा ओर अब आख़िरकार वो पल आ ही गया जब उसने अपना लंड को मेरी चुत के छेद पर रखा, मेरी कमर को पकड़ा ओर झटका दे दिया, लेकिन वो भी साला मेरी तरह वर्जिन था ओ भी बिना किसी अन्य चुदाई अनुभव के मेरी चुदाई करने लगा.

मैंने कहा की रुको ओर उसके सरिय जैसे लंड को अपने मुंह मैं लेकर थोड़ी देर तक चूसा ताकि वो गीला हो जाए. फिर थोड़ी देर के बाद मैंने कहा की हाँ अब घुसाओ ओर उसने फिर से वैसा ही किया, लेकिन इस बार पहले झटके मैं उसका लंड मेरी चुत के थोड़ा अंदर चला गया ओर मेरे मुंह से आहह आईईइ भी थोड़ा आराम से करो आराम से करो ऊहह ओर बस आधा ही लंड अंदर गया था, लेकिन मैं वर्जिन थी इसलिए बहुत दर्द हो रहा था ओर पता नहीं खून भी कितना निकाला, लेकिन मैं उस दिन के पहले तक सच मैं वर्जिन थी ओर मुझे इस चुदाई मैं बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन मैं बिलकुल चुप रही. मेरी आंखें दर्द के मारे नाम हो गयी थी. उसे शायद समझ मैं आ गया था की मुझे बहुत दर्द हो रहा है तो वो थोड़ा सा रुका ओर मेरे बूब्स को कसकर दबाने लगा ओर चूसने लगा.

फिर चूसने चाटने के बाद उसने एक ओर ज़ोर का झटका दिया ओर अपने लंड को मेरी चुत की गहराइयों तक डाल दिया ओर उस दर्द के मारे मेरी जान निकल रही थी, लेकिन अब मुझे चुदाई का मजा लेना था इसलिए मैं चुप रही ओर फिर थोड़ी देर तक वो मेरे बूब्स को दबाता रहा. मेरे ऊपर लेटकर मुझे किस करता रहा ओर अब उसने धीरे धीरे लंड को अंदर बाहर करना शुरू किया ओर मुझे किस भी करता रहा ओर थोड़ी देर मैं मुझे भी मजा आने लगा.

मैंने अपने पर से उसकी कमर को जकड़ लिया. अब उसने अपनी बढ़ता को बढ़ा लिया ओर मेरी चुत पर ताबड़तोड़ धक्के देने लगा. दोस्तों मैं क्या बताऊं? वो इतना अच्छी तरह मुझे छोड़ेगा, मुझे नहीं लगा था. वरना मैं कब से उससे चुदाया चुकी होती ओर आज उसने मेरी चुत की सील को तोड़कर मुझे एक पूरी औरत बना दिया था. आज मैं अपनी चुदाई मैं खोई हुई थी ओर वो मुझे जिंदगी के मजे दिला रहा था ओर इधर उसका लंड मेरी चुत से अंदर बाहर हो रहा था ओर मैं भी अपनी गान्ड हिला हिलाकर उसका साथ दे रही थी.

मेरे मुंह से सिसकियाँ निकल रही थी ओर मैं बोले जा रही थी की हाँ भाई ओर कस कसकर हाँ ओर ज़ोर से चोदा मुझे ओर तेज ओर तेज. तो थोड़ी देर की चुदाई के बाद ही उसने कहा की मैं झड़ने वाला हूँ, लेकिन मेरी प्यास अभी भी बुझी नहीं थी तो मैं थोड़ी उदास हुई, लेकिन मैंने कहा की मेरे बूब्स पर अपनी क्रीम गिराव. तो उसने अपना सारा क्रीम मेरे बूब्स पर गिराया ओर फिर मैंने उसके लंड को अपने मुंह मैं ले लिया ओर चूसना शुरू किया.

तो देखते ही देखते उसका लंड फिर से सरिय की तरह मेरी चुदाई के लिए खड़ा हो गया, मैं भी झट से अच्छी चुड़ैल की तरह अपने दोनों पर फेलकर बेड पर लेट गयी ओर कहा की अब जब तू बोलेगा मैं ऐसे ही पर फेलकर तेरा बिस्तर गरम करूँगी ओर अब तू मुझे अपनी रखेल समझना ओर जब जी करे मुझे जमकर चोदना मैं तुम्हें ऐसे ही मजा देती रहूंगी.

मेरे पर फीलाइन के साथ ही उसने बिना वक्त बर्बाद किए अपने लंड को मेरी चुत पर रखा ओर इस बार पूरे जोश मैं कस कसकर चुदाई शुरू कर दी ओर कहा की हाँ आज से तू रखेल है ओर मैं तुझे हमेशा चोदता रहूँगा ओर चोद छोड़कर तेरी चुत को फाड़ दूँगा. तो मैंने कहा की हाँ तो कर ना जो तुझे करना है. मैं आज तेरे साथ सब कुछ करने के लिए तैयार हूँ, मुझे भी बहुत मजा आ रहा था ओर वो भी पूरे जोश से मेरी चुदाई कर रहा था, लेकिन हमारी ऐसी बातें हम दोनों को ओर भी जोश दिला रही थी. फिर मैंने उससे यह भी कहा की तुम मुझसे वादा करो की मैं जब भी तुमसे बोलूँगी, तुम अपना लंड मेरे लिए तैयार रखोगे.

फिर वो थोड़ा मुस्कुराकर मुझसे बोला की हाँ मेरी जान, यह लंड तुम्हारा हो तो है ओर अब तुम जब भी बोलॉगी मैं तुम्हारी सेवा मैं हमेशा हाजिर रहूँगा. फिर बहुत देर तक वो मुझे चोदता रहा ओर वो अपने लंड को मेरी चुत के अंदर बाहर अंदर बाहर करता रहा, लेकिन मैं उस बीच दो बार झाड़ चुकी थी ओर आख़िरकार वो भी कुछ देर बाद मेरे साथ ही झाड़ गया, लेकिन इस बार वो मेरे अंदर ही झाड़ गया.

मैंने गुस्से मैं कहा की क्या यू मुझे प्रज्ञेन्ट करेगा? उसने स्माइल देकर कहा की गुस्सा क्यों करती हो जान काले के गर्भनिरोधक गोली कहा लेना, प्रज्ञेन्ट नहीं होगी. फिर हम नंगे ही एक दूसरे को बांहों मैं लेकर सो गये. फिर एक बार मेरी आँख खुली तो मैंने उसके लंड को बहुत देर तक चुस्कर खड़ा किया ओर उस दिन उसने मेरी तीन बार ओर चुदाई की एक बार मुझे पीछे से कुतिया पोज़िशन मैं चोदा ओर दूसरी बार उसने मुझे टेबल पर लेटाया ओर मेरी जमकर चुदाई की ओर एक बार मुझे बेड के साइड मैं लेटकर मेरे पर को उठाया ओर फिर से चोदा.

दोस्तों इसके बाद मैं उसकी रांड़ बन गयी जो उससे चुदवाने के लिए हर पल पर फीलाइन के लिए तैयार थी. दोस्तों यह मेरी पहली चुदाई थी ओर मैं इसे कभी भी भूल नहीं सकती ओर साथ ही साथ मैं इसके बाद अपने भाई के लंड की दीवानी हो गयी ओर अब उसके लंड से चुदाई के बिना मेरी चुत की प्यार नहीं मिटती. बस आप लोग दुआ करे की वो मुझे हमेशा चोदते रहे ओर मेरी रसीली चुत ओर मेरी जवानी का असर हमेशा उस पर रहे ओर वो हमेशा मेरी प्यास बुझता रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *