मेरी क्लाइमेट पूनम के साथ हसीन रात

मेरी ये स्टोरी मेरी एक क्लाइमेट पूनम के साथ बिताए उस हसीना रात की है, जो मैं कभी भूल नहीं सकता! पूनम एक अच्छे ख़ासे खाते पीते घर से बिलॉंग करती है, उसका फिगर यही कोई 38-32-36 होगा. वो थोड़ी हेवी (मोटी) जरूर है, पर दिखने में थोड़ी थोड़ी रानी मुखेर्जी की तरह है. उसका हाइट 5’5″ है, ओर बहुत गोरी है. उसे देखते ही किसी का भी खड़ा हो जाएगा, ओर उसे चोदने का दिल कर उठेगा! चलो अब मैं कहानी पे आता हूँ, मैं ओर पूनम क्लास 6 से ही साथ में पढ़ते है, हमने साथ में ही 10त के एग्ज़ॅम्स दिए ओर फिर साथ में ही कॉलेज भी किया! मैं हमेशा क्लास में 1st आता था, ओर पूनम पधाई में भत वीक थी, वो बदी मुश्किल से पास हो पति थी. ये बात उन दीनों की है, जब हमारा कॉलेज खत्म होने वाला था, ओर हम दोनों क्प्ट के एग्ज़ॅम्स की तैयारी करने में लगे थे. मैं ओर पूनम पड़ोसी ही है, हम साथ में ही कॉलेज ओर कालेज आना जाना करते थे.

पूनम सभी सब्जेक्ट्स में बहुत वीक थी, तो उसने मुझसे क्प्ट के एग्ज़ॅम्स में मेरी हेल्प माँगी. मेरे मन में लड्डू फूटने लगे, मैंने सोचा अगर मैं ओर पूनम साथ में ज़डा वक्त बिताएँगे तो हम एक दूसरे के काफी करीब आजाएँगे, ओर फिर उसे सिड्यूस कर के आराम से चोद सकूँगा. उसे चोदने के ख्याल से मैं खुश होने लगा, ओर मैंने फटा फट पूनम को हाँ कर दिया. मुझे 12त क्लास तक सेक्स का कोई नालेज नहीं था, पर जब हम ग्रेजुएशन 2न्ड एअर में गये, तभी मेरे एक कमीने दोस्त ने मुझे सेक्स के बारे में काफी सारी बातें ब्ताई, ओर कुछ ब्लू फिल्म्स की डीवीडी’से भी दी, जिन्हें देखने के बाद मुझे भी सेक्स करने का दिल करने लगा था. मुझे लगा, इस से अच्छा कोई मौका हो ही नहीं सकता, मैं ओर पूनम एक साथ, रात भर… उम्म्म्म.. मौका मिलते ही उसके साथ सेक्स करलूंगा, ओर मैं पूनम के बारे में सोच सोच कर मूंड़ मरने लगा. मैं पूनम के साथ देर रात तक एक छोटे से रूम में पढ़ता था.

मुझे जब भी मौका मिलता, मैं पूनम की डीप कट गले वाले टॉप से उसकी चुचियों की उभर को ही देखता रहता था, कभी कभी तो उसने मुझे ऐसा करते हुए देख भी लिया था, पर वो कुछ कहती नहीं थी, बस थोड़ी सी शर्मा जाती थी, ओर फिर इधर उधर की बातें करने लगती थी. जैसे मुझे क्या पसंद है, मैं किसी ल्दकी के बारे में कुछ सोचता हूँ या नहीं, मुझे किसी से प्यार हे या नहीं, एट्सेटरा. जैसे सवाल करने लगती थी.. ओर उसके ज़िद्द करने पर मैं उसे स्र्फ एक ही बात कहा, ” हाँ! मैं एक भत प्यारी सी, ओर बेहद खूबसूरत सी पड़ी से प्यार करता हूँ, तुम उस से मिलना चाहोगी ?? “, ओर ऐसा कहते ही मैंने उसका हाथ पकड़ा, ओर उसे मिरर के सामने ले गया, ओर उसे पीछे से ही, प्यार से हग करते हुए कहा, की यही है वो खूबसूरत पड़ी…

एक रात मैंने जानबूझ कर पूनम से कहा, चलो आज हम कुछ डिफ्फ्रनट पढ़ते है, उम्म्म… चलो आज बाइयालजी ही पढ़ लिया जाए, और मुझसे रहा नहीं जा रहा था, तो मैं उस से सात कर सोफा में बैठ गया, ओर उसे “रिप्रोडक्षन” के बारे में पूछने लगा, मैंने उसे जब कुछ इतना खोल कर बताया की वो शरमाते लगी थी, पर साथ ही साथ वो गरम भी होने लगी थी. मैंने उसकी आंखों में एक अजीब सा नशा देखा, मैं समझ गया, वो मुझसे क्या चाहती थी अब. मैंने जानबूझ कर पूनम से पूछा, अगर त्ंहे ठीक से समझ नहीं आया तो मैं त्ंहे एक अच्छा सा एग्ज़ॅंपल दे सकता हूँ. उसने हाँ बोला, ओर मैंने अपना पजामा सरका कर उसे अपना लंड दिखाने लगा. वो एक ड्म से चौंक गयी, मैं ऐसा करूँगा, उसने शायद सोचा भी नहीं था. फिर मैंने उसे अपना लंड हिला कर दिखना शुरू किया, ओर उसके हाथों में अपना लंड पकड़ा दिया.

वो शरमाते हुए बोली, आलोक तुम्हारा लंड तो एकडम डंडा जैसा लग रहा हे, ओर मेरे लंड को सहलाने लगी. मैंने उस से उसका पजामा उतरने को कहा, तो उसने बिना कुछ पूछे अपना पजामा उतार दिया. उसकी पैंटी पूरी गीली हो चुकी थी, मैंने उसकी पैंटी खीच कर उतार दी, ओर पूनम की गीली चुत को चाटने लगा. वो पूरी गरम होने लगी थी अब, फिर मैंने उसे अपना लंड चूसने को बोला, उसने तुरंत मेरा लंड अपने मुंह में लेकर लोलीपोप की तरह चूसने लगी. फिर मैंने उसे सोफा पे लिटाया ओर उल्टा उसके ऊपर चाहद गया, उसके मुंह के तरफ अपना लंड कर के मैं उसकी चुत में उंगली करने लगा, ओर अपनी जीभ उसकी मीठी चुत में डालने लगा, ओर चूसने लगा. वो भी जोश में मेरा लंड चूसने लगी. 15 मिनट. बाद वो मेरे मुंह में ही झाड़ गई. मैंने उसकी चुत का एक एक बंद रस पी लिया. पर मैंने फिर भी उसकी चुत को चूसना नहीं छ्होरा.

वो अब मेरे लंड को हाथ से आगे पीछे कर रही थी. थोड़ी देर में उसकी चुत फिर गीली हो गयी, मैंने उसका टॉप निकल फेंका, तो देखा पूनम ने आज ब्रा नहीं पहना था, उसके दोनों बदी बदी चुचियाँ मेरे आखों के सामने थे, मैं तो बस पागल हुआ जा रहा था उसकी लाल लाल खड़े निपल्स को देख कर, फिर मैंने पूनम को पीठ के बाल लिटा दिया और उसकी चुचियों पे टूट पड़ा. क्या बताऊं आप सबकॉ, उसकी चुचियां बहुत मीठी लग रही थी मुझे, मैं बार बार जोश में आकर उसके निपल्स चबा डाल रहा था, ओर दाँतों से काट लेता था, वो दर्द से हर बार चीख पदती थी. 5-10मीं तक उसकी चुचियों को चूसने के बाद मैंने उसके होठों को किस करना शुरू कर दिया, और अपनी एक उंगली सीधा उसकी चुत में डालने लगा. ओर धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा, अब पूनम पूरी तरह जोश में आ चुकी थी अब, उसने मेरे लंड को कस के अपने हाथों से डब्बा दिया ओर मुझसे कहने लगी, अब ओर मत तड़पा ना, जो भी करना हे जल्दी से कर डालो. मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा, प्ल्स अपना लंड मेरी चुत में डाल ही दो अब.

अब मैंने भी अपना लंड उसकी चुत पर रख कर धक्के लगाना शुरू कर दिया, मेरा आधा लंड उसकी चुत में गया और वो बोली आअहह आााल्ल्लॉक्कक भत दर्द हो रहा है, प्लीज़ रहने दो, मत करो अब, मैं माआर ज़ाआआआवँगिइिईईईईई निकालो प्लीज़. भत दर्द हो रहा हे, मुझे भत जलन भी हो रही हे.. ओर फिर पूनम रोने लगी, उसे रोता देख मैं वैसे ही रुक गया और उसके होठों को अपने होठों में लेकर चूसने लगा, और एक हाथ से उसकी चुचियाँ सहलाने लगा. उसकी चुत में जब फिरसे मुझे कुछ हलचल महसूस हुई, मैंने फिर से एक करारा झटका मारा और मेरा लंड पूरा उसकी चुत के अंदर चला गया, वो इस बार भत ज़ोर से चीख पड़ी! आआआआ आ आ आ आ आ आ ! पूनम अब ज़ोर ज़ोर से रोने लगी थी, मेरे लंड का सूपड़ा उसके बच्चेदानी से टकरा रहा था.

मैं डर गया, ओर तुरंत उसके ऊपर लेट कर उसके होठों को अपने होठों से चूसने लगा, ओर झटके मारना शुरू कर दिया. वो चीखना चाहती थी पर उसका मुंह मेरे मुंह में था इसलिए वो गुउुुुुुुउऊँ गुउुुुुुउऊँ करके रहे गयी थोड़ी देर में वो भी नीचे से उछालने लगी मैंने अपने होंठ उसके होंठ से हटा लिए. वो बोलने लगी, आलोक प्लज़्ज़्ज़्ज़ बहुउऊुुुुउउट मज़ाआअ एयाया रहाआआआअ हाईईईईईईई पीईहली बार कीसीईईईईई नईए मीईईरी चुत में लाआाअ आ न्ड डााअल्ाअ. हाईईईई प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ निकााआलना मत. जूऊओ! ओर से और जूऊऊर ससीई. वो फिर से एक बार झाड़ गयी, 10 मिनट. बाद जब मुझे लगा अब मैं भी झड़ने वाला हूँ, तो मैंने धक्के मारना ओर तेज कर दिया, ओर फिर मैं उसकी चुत के अंदर ही पूरा झाड़ गया. मैंने उसकी चुत अपने स्पर्म्ज़ से भर दिया, ओर हम दोनों सेट होकर एक दूसरे से तब तक चिपके रहे जब तक मेरा लंड छोटा नहीं हो गया.

फिर उसने अपनी पेंटी से मेरा लंड और अपनी चुत को साफ किया और अपने रूम में जाकर सो गयी.. इसके बाद हमने कई बार एक दूसरे के साथ सेक्स किया, जब भी उसका दिल करता था, वो मुझे किसी ना किसी बहाने बुलवा लेती थी, ओर हम रात भर रोमॅन्स करते हुए सेक्स करते थे..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *