मेरा बाय्फ्रेंड 9

बनती-मुझे ऐसा ही पसंद है..और में अपना समान भी सब ऐसे ही रखता हूँ.. देख ऊपर शेल्फ मैं तेरे जीन्स और सलवार्स वगैरह हैं. इस इन वाली पीले मैं स्कर्ट्स रखवा दिए हे मैंने..और मिड्ड्ल रो में कुर्ते हैं और त-शिर्स हैं. और टॉप्स हैं..ओककक और तेरे मेकप का समान और तेरी आक्सेस्सारीएस अपन ने लास्ट पीले में रखे हे..बाकी का समान सारा इस शेल्फ मैं है.बस तू जो चाहेगी आसानी से मिल जाएगा.

में (शोकेड) -वओवव यार बनती मान गये तुझे तो..गजब यादश्त है तेरी..हां बिलकुल सही कहा..थॅंक्स यार..अब तो तेरे से ही अपनी अलमारी सेट करवाऊंगी..

बनती-हाँ हाँ मेरे पास तो जैसे कोई काम ही नहीं है. और तू अभी ना शिखा..तुझे कसम दी थी तब भी तूने सब समान नहीं बताया मुझे..

में (घबरा के)- अरे सब टोबटाया यार..ऐसा क्यों बोल रहा है..

बनती-चल ओके तो..

फिर मैंने सोचा यार सच हे उसने कसम दी थी फिर भी में..

में-यार तो और क्या बाकी का समान तो नॉर्मल अंडरगार्मेंट्स वगैरह हे और क्या…

बनती (हंसते हुए)- अरे यार शिखा तो वो तो फैशन है तो उसमें अनकंफर्टबल तो कुछ भी नहीं है और ना ही छुपाने वाली बात है..

में- चल हां बनती चुप रेरह तू,, मुझे तो बड़ा अजीब लगता है ऐसा कुछ बोलने में..

बनती (हंसते हुए)- शिखा तू ना सच में कितनी फन्नी हे..राहुल ने सच में तुझे बहन जी बना दिया है..

में-बनती ज्यादा मत इतरा ओके ऐसा कुछ नहीं है वो मुझे बहुत प्यार करता है..और तुझे अभी मेरे बारे मैं पता ही क्या है. खैर वो सब जाने दे..

बनती-चल ओके और थॅंक्स तो कॉल..

में-अरे थेन्क यू यार..

फिर बनती ने फोन रखा..और मैंने आज पहली बार राहुल के अलावा किसी से इतनी बातें की थी..सो मुझे अजीब लग रहा था बहुत..पर मैंने सोचा कोई बात नहीं राहुल को बता दूँगी की नींद नहीं आ रही थी तो ऐसा किया..डोसनत मएत्तेर..और मैंने गलत थोड़ी ना किया है कुछ..वो तो बेचारा मेरा एक लौटा दोस्त है बस..और में ये सोचते सोचते सो गई की कल राहुल क्या करने वाला है और मेरी चुत फिर से गीली होने लगी पर 4.30 बज गई थी तो मैंने सोना ही उचित समझा..

राहुल- यह सब तो ओल्ड फैशन है. मुझे कुछ नये स्टाइल का लेना है.

शॉपवाला- कैसा वाला सर? यह तो सब लेटेस्ट स्टॉक है?

राहुल- नहीं यार. क्या बताऊं आपको..शिखा तुम कहो ना यार कुछ..

में- श हो राहुल तुम अब बता भी दो ना…ओके में बताती हूँ सर आक्च्युयली मुझे इसके लिए क्रोतचलेषस आंडरवेयर चाहिए..

शॉपवाला – वो क्या होता है माँ? मैंने कभी सुना नहीं.

में- राहुउउल्ल्ल यार इन्हें तो कुछ पता नहीं चलो यहाँ से.

शॉपवाला – नहीं नहीं माँ.. आप एक्सप्लेन तो कीजिए.

में- ओके मैं एक्सप्लेन करती हूँ सुनिए.. क्रोतचलेषस आंडरवेयर मैं नीचे वाला पाउच नहीं होता.

शॉपवाला – क्या???????? क्या कहा आपने?

में- अरे आप इतने शॉक्ड क्यों हो गये. देखिए यह है नॉर्मल आंडरवेयर. और यह है उसका नीचे वाला पाउच. क्रोतचलेषस आंडरवेयर मैं यह नहीं होता. मीन मर्द का जो होता है ना…पूरा का पूरा खुला रहता है. वो आंडरवेयर मैं छूपता नहीं. तो ऐसी खुले वाली कोई आंडरवेयर है आपके पास.

यह सब सुन के शॉपवाले की हालत खराब होने लगी थी..और राहुल तो पागल हो रहा था मेरी ऐसी बातें सुनकर..और मेरी भी चुत गीली हो रही थी और पता नहीं क्यों मेरी नज़र बार बार शॉपवाले की लंड की और जा रही थी..

शॉपवाला- नहीं है माँ..

में – ओके. तो आपके पास क्रोतचलेषस पैंटी है?

शॉपवाला – मीन्स?

में- अरे भैया…क्रोतचलेषस पैंटी मैं लड़कियों की उस जगह पे कपड़ा नहीं होता… तो जैसे क्रोटकलेशस आंडरवेयर मैं मर्द का खुला रहता है वैसे ही क्रोतचलेषस पैंटी मैं औरत की खुली रहती है.

शॉपवाला- सॉरी मदें यह सब तो मैं सुन ही पहली बार रहा हूँ.

में- ओके.. वैसे भी इस तरह का समान हनीमून वाले लोग लेते हैं. क्रोतचलेषस कपड़े हूँ तो कहीं भी आसानी से घुसा घुसी का काम हो जाता है ना. क्यों भैया है ना?

मैंने ये बात राहुल की तरफ देख के कही थी और शॉप वाला कभी मेरे मुममे और कभी मुझे देख रहा था..

शॉपवाला – जी मदें. यह सब तो नहीं है हमारे पास.

में- ओके. कोई बात नहीं.

और हम दोनों वहाँ से बाहर आ गये. वो शॉपवाला हमें घूर घूर कर देख रहा था.उसे यकीन नहीं हो रहा होगा की अभी उसके साथ क्या क्या हुआ है. हम दोनों को अब इस काम मैं मजा आने लगा था. हम वहाँ से वापिस आते टाइम थोड़ा और घूमे..
हम दोनों शाम को हॉस्टल वापिस लौटे. हम दोनों ने ही खूब अच्छा टाइम स्पेंड किया था और इस समय हम दोनों ही बहुत खुश थे.मुझे मजा तो बहुत आया था पर में कार में गुस्सा होने का नाटक कर रही थी..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *