बंगलन भाभी की जोरदार चुदाई

दोस्तों आज जो भाभी की चुदाई की स्टोरी बताने जा रहा हूँ वो मौमीता भाभी की चुदाई की है.. आज मैं बताऊंगा कैसे भाभी को चोदा अकेली घर में, कैसे भाभी की रसीली चुत को चाहता, कैसे भाभी की बूब्स को चूसा, कैसे भाभी को घोड़ी बना कर चोदा, कैसे भाभी की गांड में उंगली घुसा कर चुत मारी, कैसे भाभी को चोद चोद के प्रेग्नेंट बना दिया, कैसे रात दिन सिर्फ़ भाभी की चुदाई की, दिसंबर मंथ में मौमीता भाभी के पति कुछ दीनों के लिए दिल्ली जा रहे थे, तभी उन्होनेपने मामा की लड़की अनिता को अपने पास रहने के लिए बुलाया, जिस दिन मौमीता भाभी के पति गये उसके दूसरे दिन हे अनिता मौमीता भाभी के घर आ गये थी, उसके नेक्स्ट डे जब मैं पीयूष को पड़ने के लिए गया तो दरवाजा अनिता ने ही खोला, भाभी ने पहले ही उसे बताया दिया था की राजीव पीयूष को पड़ने आता है, अनिता मुझे अंदर के रूम में ले गये ओर बोले आप बैठया पीयूष अभी सो रहा है मैं उसे जगा कर लेट हूँ,
भाभी की चुदाई
भाभी को चोदा जी भर के
तब मैंने कहा ठीक है ओर फिर मैंने पूछा की मौमीता भाभी कहा है तो अनिता ने
कहा की वो बाथरूम में है.थोड़ी देर बाद पीयूष आ गया ओर मैं उसे पड़ने लगा, उस दिन भाभी से कोई बात नहीं हो पाए, मैंने बहुत बेचैने हो उठा की अब क्या करूं. नेक्स्ट डे अनिता सुबह 9.30 मेरे पास आए ओर कहा की दीदी ने आपको घर पर बुलाया है तो मैंने कहा ठीक है ओर मैं उनके घर चला गया तो भाभी ने कहा की आज पीयूष को तुम कॉलेज चोद दो जब तक वो (उनके हज़्बेंड) नहीं आते है तब तक तुम पीयूष को कॉलेज चोद दिया करूगे, मैंने कहा ठीक है, फिर मैं पीयूष को कॉलेज चोदने जाने लगा तो उन्होंने कहा की दिन में आना तुमसे कुछ काम है, मैंने कहा ठीक है ओर मैं पीयूष को कॉलेज चोदने चला गया. करीब 12 बजे मैंने देखा की अनिता अपने बालकनी में खड़ी है, उसे देखकर तो मेरे पूरे शरीर में जैसे चुदाई के लहर सी दौड़ गये ओर मैंने बिना कुछ सोचे समझे मौमीता भाभी के घर जाने लगा, अनिता ने अपने तरफ आतेर देखकर वो दरवाजा खोलने आ गये, ओर वो जब दरवाजा खोल कर मेरे सामने खड़ी थी तो भाभी की मस्त चूची की उभर देखकर मेरे लंड मानो 160 के एंगल में खड़ा हो गया फिर मैंने किसी तेरह से पूछा की भाभी नहीं है क्या तो वो बोले की अंदर है आप आए, ओर मैं घर के अंदर चला गया, ओर जिस रूम में मौमीता भाभी बैठे थी उसे रूम में गया तो भाभी ने आओ राज, कब से तुम्हारा इंतजार कर रहे थी आने में बहुत देर कर दे. ओर मैं उनके पास बगल में जा कर बैठ गया, तभी आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. मौमीता भाभी ने अनिता से कहा की अनिता जाओ राजीव के लिए चाय बना लाओ ओर अनिता चाय बनाना चले गये, अनिता जैसे ही वहां से गये मैंने भाभी को अपने तरफ खींच कर उनके चेहरे को अपने हाथों में लेकर उनको होठों पर किस करने लगा तो बोले को बहुत बेचैने हो रहे हो राजीव, इतनी जल्दी भी क्या है, अभी तो पूरा दिन ओर पूरे रात बाकी है ओर तुम्हारे भैया तो दिल्ली गये है,

इसलिए आराम से कोई जल्दी नहीं है, ओर फिर मैं भाभी को उल्टा करके अपने बहूमे लेकर उनके चुचियों को हल्के हल्के दबाने लगा ओर उनसे पूछा की क्या अनिता को पता है तो कहने लगे की हां ओर उसे मैंने सब कुछ बता दिया है, ओर वो तैयार भी हो गये है, ये सुनते ही मेरे जिस्म में जैसे एक अजीब से खुशी के लहर से दौड़ गये ओर मैंने भाभी की चुचियाँ को दबाते हुए उनके होठों को चूसने लगा की तभी वहां अनिता आ गये ओर वो हमारे सामने बैठकर मुझे चाय देकर खुद भी च्चाईए पीने लगे, तभी भाभी बोले की राजीव तुम्हें पता है अनिता ने जब तुम्हें पहले बार ही देखा था एसने मुझसे कहा था की दीदी अगर राजीव से मेरे रीलेशन बन जाए तो कितना अच्छा होगा, ये सुनते ही अनिता ने अपना सर झुका लिया तभी मौमीता भाभी उसके पास गये ओर उसके सर को उप्पर उठकर उसे गालों पर किस करके बोले एज़्म शरमाते की क्या बात है अब तो राजीव से तुम्हारे रीलेशन होने जा रहे है, उस पर भी अनिता ने कुछ नहीं बोला तो भाभी उठकर मेरे पास आए ओर कही जैसे चुदाई तुमने मेरे की थी आज वैसे ही अनिता की करने है तो मैंने कहा की क्या सिर्फ़ अनिता
की ही क्या आज आप मुझसे नहीं चुड़वावगे, उन्होंने घूर कर मेरे तरफ देखा पर बोले कुछ नहीं.
.आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. उसके बाद अनिता वहां से चाय के कप उठाकर वहां से अंदर चले गये, ओर मैंने तुरंत भाभी को अपने बहूमे लेकर उनके होठों की किस करने लगा ओर अपने हाथ उँख चुचियों पर चलता रहा ओर धीरे धीरे चुचियां दबाता रहा, भाभी के लिप्स बहुत रसेली थी. मैं उसे बारे चवा से चूस रहा था, फिर मैंने धीरे से भाभी के ब्लाउज के बूत्टोने खोल दिया ओर ब्लाउज को एक ही झटके में उनके शरीर से अल्लग कर दिया अब भाभी की गोरी गोरे छिचिया मेरे हाथों में थी ओर मैं उनसे खेल रहा था, उसके बाद मैंने अपने होठों को उनके च्चियो के निप्पल पर रखकर उन्हें हल्के हल्के चूसने लगा, भाभी भी जोश में आने लगे थी, ओर वो मेरे सर को पकड़ कर अपने चुचियों पर दबाते हुए बोल रहे थी राजीव ओर ज़ोर से चूसो ओर ज़ोर से आआआआहह हह बहुत अच्छा लग रहा है चूसते रहो पूरा चूस लो आज एन्कोाााआआआआअहह हह सच में राजीव तुम बहुत अच्छा चुस्तो हो,

तभी वहां अनिता आ गये जब उसने हम लोगों के ऐसे देखा तो वो शर्मा कर वहां से जाने लगे तो भाभी ने कहा की अनिता यहां आओ तो अनिता भी वहां आ गये, तब मैंने भाभी की चुचियां चूस रहा था ओर मेरा हाथ भाभी की जांगो पर चल रहा था, तभी मैंने देखा की भाभी अनिता से कुछ इसरो में कह रहे है ओर अनिता उन्हें बहुत ध्यान से देख रहे है उसके बाद अच्चानक भाभी ने मेरे सर को उप्पर उठकर मेरे होठों को चूसने लगे ओर मेरे शर्ट को पूरे तेरह से खोल दिया, तभी मैंने माशूस किया की अनिता की हाथ मेरे पीठ पर हल्के हल्के चल रहा है मैंने कुछ रेकात नहीं किया ओर भाभी के होठों को चूसता ही रहा, फिर पीछे से ही अनिता ने मेरे जीन्स के चैन ओर स्तनों खोल कर जीन्स को मुझसे अलाग करने की कोशिश करने लगे,
तब मैंने थोड़ा सा पीछे हटकर अपने जीन्स खोल दे फिर उसके बाद अनिता मेरे लंड को हल्के हल्के
हिलने लगे उसको इसे तेरह से करते देखकर मुझे भी बहुत मजा आने लगा, तभी मौमीता मेरे सामने से
हटकर अनिते के पास गये ओर उसके चुचियों पर हाथ फिरने लगे फिर मैंने अनिता को उप्पर उठकर उसके
गुलाबी होठों पर जैसे ही मैंने अपने होठों को रखा मैंने अंदर एक करेंट से दौड़ गये, सच में मैंने
इतना रसीली होठों को कभी नहीं चूसा था ओर फिर मैं ज़ोर ज़ोर से अनिता की होठों को चूसने लगा ओर उधर
भाभी अनिता के कपड़े को उसके शरीर से अलाग करने लगे, धीरे धीरे उन्होंने उसके सारे कपड़े अलाग
कर दिए ओर फिर उन्होंने अपने भी बाकी के कपड़े उतार दिए ओर बोले की अब अंदर के रूम में चलो ओर
मैंने अनिता को होठों को चुस्त हुए ही उसके कमर में हाथ डालकर उसे उठकर अंदर ले गया पर बेड पर
लेता दिया आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. फिर भाभी उसके कमर के पास आकर बैठ गये ओर मैं उसके होठों को चूसता ही रहा तभी मुझे लगा की अगर इसकी होठों में इतना मजा है तो इसकी चुचियां ओर चुत कैसे होगे ओर मेरे दिल में उसे भी चूसने के इच्छा होने लगे ओर फिर मैं थोड़ा सा नीचे होकर अनिता को चुचियों को चूसने लगा ओर भाभी अनिता की चुत पर हाथ फेयर रहे थी ओर फिर भाभी ने अनिता की चुत पर अपना मुंह रखकर उसे चूसने लगे ओर अनिता आआआआआआआअहह हह हववववव वववओूऊऊऊ तभी मैंने अनिता के होठों को ज़ोर से चूसने लगा

ओर उधर भाभी भी ज़ोर ज़ोर से अनिता की चुत को चूस रहे थी ओर धीरे धीरे ववववववववउउुुुउऊहह हह हह्ा एयाया ठीक से उसके गले से आवाज़ नहीं निकल पा रहे थी क्योंकि उसके होठों को मेरे होठों ने. फिर अच्चानक अनिता अपने कमर को उप्पर उठकर भाभी को चूसने में हेल्प करने लगे ओर वो ज़ोर ज़ोर से कमर को उप्पर उठा रहे थी ओर भाभी भी बारे मजे से उसके चुत को चूस रहे थी ओर फिर अनिता की कमर ऊपर उतना के बढ़ता बाद गये ओर थोड़े ही देर में अनिता झाड़ गये उसके चुत से निकालने वाले रस को
मौमीता ने बहुत मजे से चूस लिए ओर फिर उसके चुत को चाटने लगे. अब तक मेरे लंड भी बहुत टाइट हो गया था, तभी मौमीता ने कहा की अरे राजीव का लंड तो खड़ा हो गया है उसके तरफ तो मैंने ध्यान ही नहीं दिया तभी अनिता जल्दी से उल्टा होकर मेरे उप्पर झुक कर मेरे लंड को चूसने लगे, वो बहुत अच्छे तेरह से मेरे लंड को चूस रहे थी तब मैंने भाभी से कहा के मुझे आपके चुत चूसने है आप मेरे पास आओ ओर वो मेरे पास आकर अपने कमर को मेरे मुंह पर करके बैठ गये ओर मैं भाभी की चुत को चूसने लगा, सच में भाभी की चुत में वही टेस्ट था जो मैंने पहले बार में माशूष किया था ओर मैंने भाभी की चुत को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा तभी मैंने माशूस किया के अनिता मेरे लंड को बहुत बढ़ता से अपने मुंह में अंदर बाहर कर रहे है ओर फिर मैं भाभी को अपने उप्पर से हटाकर अनिता के मुंह को ही ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा अब मेरे पूरा लंड अनिता के मुंह में था ओर वो हूऊऊऊऊओ ग्ग्गह हीईईईईईई ईईई की आवाज़ निकाल रहे थी तभी मुझे लगा की मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. मौमीता से कहा की मैं झड़ने वाला हूँ तो उन्होंने कहा की अनिता के मुंह में ही सब निकाल दो ओर फिर मैं ज़ोर ज़ोर से अनिता के मुंह को चोदने लगा ओर चोदते चोदते मैं झाड़ गया ओर अनिता का मुंह मेरे वीर्य से बाहर गया ओर वो उसे मजे से अंदर लेकर कहा गये ओर मेरे लंड को अपने जीबह से साफ करने लगे, ओर उसने मेरे पूरे लंड को अपने जीबह से साफ कर दिया. फिर मैं अपने बगल . लेते मौमीता भाभी की चुत पर अपने होठों को रखकर भाभी की रस भारी चुत को चूसने लगा

ओर अनिता बाथरूम में जाकर अपना मुंह ओर चुत धोकर आ गये ओर बोड दीदी राजीव का लंड चूसने में मुझे बहुत मजा आ रहा था तो मौमीता ने कहा की राजीव के लंड को चूसने का पूरा मजा तो आज तुमने ही लिया है, आज तो मैंने राजीव के लंड को चूसा भी नहीं है, मैं उधर भाभी की चुत चूसने में मस्त था, मुझे चुत को चूसने में बहुत मजा आता है इसलिए मैं बारे मजे से चुत को चूस रहा था ओर अनिता मौमीता के होठों के पास फूचकर उनकी चुचियों को चूसने लगे एक तरफ मैं मौमीता के चुत चूस रहा था ओर दूसरे तरफ अनिता मौमीता की छिचिया ओर मौमीता मैईजे से हल्के हल्के आवाज़ का रहे थी आआआआआआआआआअ आआआआआआआहह हह हह चुस्त रहो ओर ज़ोर से चूसो मेरे राजा ओर ज़ोर से उूुुुुुुुुुुुुुुुउउ उउफफफफफफफफफफफफफ्फ़ फ आआआअहह पूरा रस चूस लो ओर ज़ोर से ओर ज़ोर से आआआआआआ
हहाआआआव उूुुुुुुुुुुुउउ ओर फिर थोड़े ही देर में मौमीता भाभी झड़ने की स्टेज में आ गये
ओर उन्होंने मेरे मुंह को ज़ोर से अपने चुत पर दबा कर ढके मारएनए लगे ओर चिल्ला रहे थी ओर ज़ोर से ओर
जोसर से आआआआआ करते रहो आआआआहह फास्ट ओर फास्ट करते रहो आआआआआआआआअहह हह हह
हह ओर वो झंड़े गये जब वो झाड़ रहे थी तो उनके चेहरे पर एक अजीब से खुशी थी, मैंने भाभी
की चुत का सारा रस बारे मजे से चूस लिया ओर फिर वो मुझसे अलाग होकर एक तरफ थोड़ी देर लेते रहे
ओर मैं उनके बगल में लेट गया ओर अनिता मेरे सीने पर हाथ रखकर लेते हुए थी ओर मेरे लंड को हिला
रहे थी अनिता मेरे लंड को कुछ इसे तेरह से हिला रहे थी की मेरे लंड देखते ही देखते खड़ा हो गया
तभी अनिता ने बारे प्यार से मुझसे से कहा की आपने दीदी के चुत तो चूस ले लेकिन आपने मेरे चुत नहीं
चूसे क्या मेरे चुत अच्छी नहीं है ये सुनते ही उठा ओर सिद्धे उसके पैरों के पास गया ओर उसके दोनों
पैरों को फैला कर उसके चुत में अपना मुंह लगा दिया आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. सच में उसके चुत बहुत ही गरम थी ओर उसके चुत से आने वाले खुशबू मुझे बहुत अच्छे लग रहे थी ओर मैं ज़ोर ज़ोर से अनिता की चुत को चूसने लगा
जैसे की मैंने बहुत दीनों से कोई चुत चूसे ही ना हो.

ओर अनिता मेरे मुंह को अपने चुत पर ज़ोर से दबा कर हल्के हल्के ढके मरते हुए बोल रहे थी राजीव हाआआआआआआआआ आआआआअ यययययययईईईईई ीईसस्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ओर ज़ोर से चूसो यययययययययययी ययइईईईईई ईईईसस्स्स्स्स्स्सस्स ओर ज़ोर से चूसो मेरे राजीव मेरे चुत तुम्हारी लिए कब से
प्यासी थी ओर ज़ोर से उऊहहााअ आआआआआआआआअहह हह हह चूस लो मेरे चुत को आजेसमे कुछ भी मत चोदा अनिता की चुत की चूसने का मजा ऐसे था की कब मौमीता आकर मेरे लंड को
चूसने लगे मुझे पता ही नहीं चला, ओर मैं अनिता के चुत को ज़ोर से चूस रहा था तभी अनिता बोले
थोड़ा से जीबह चुत को अंदर डालकर चूसो मेरे राजीव चूस लो आआज्जजज्ज्ज्ज्ज आआआआआआआआआअ आहह
हह हे चूस लो ओर मैंने अपने जीबह अनिता की चुत में डाल कर उसके चुत को अपने जीबह
से चोदने लगा था तभी मैंने माशूस किया की मेरे लंड पूरे तेरह से टाइट हो चुका है मौमीता
भाभी कुछ इसे तेरह से चूस रहे थी की मेरे लंड बहुत ही जल्द चुदाई के लिए तैयार हो चुका था,
मैं अपने जीबह से अनिता की चुत को चोदा जा रहा था ओर अनिता मस्ती में आआआआआआआआहह हह पूरे
चूस लो मेरे चुत को आज. आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. उसके चुत से रस निकालने लगा था ओर मैं उस रस को बारे मजे से चूस रहा था तब मैंने कहा की अनिता अब मुझे मत तड़पो अब मुझे अपने चुत चोदने दो, तो अनिता बोले चोदा ना राजीव किसने रोका है तुम्हें, मेरे चुत को तो कब से तुम्हारे लंड का इंताज़ार है ओर ये सुनते ही मैंने अपना लंड भाभी के मुंह से निकालकर अनिता के दोनों पैरों को ऊपर उठकर उसके चुत के छेद पर अपना लंड रखा दिया उसके चुत के गारमे से मेरे लंड ओर भी जायद टाइट हो चुका था ओर जल्दी से अनिता के चुत को चोदने की लिए बेचैने था मेरा लंड, तभी अनिता बोले जल्दी से चोदा मेरे राजीव अब ओर नहीं रहा जाता है, जालीद से चोदा मुझे ये सुनते ही मेरे जोश आ गया ओर मैंने फिर एक झटका तेजे से मारा मेरे 3/4 लंड अनिता की चुत में एक ही झटके में घुस गया ओर अनिता ज़ोर से आआआआआआआआ हह दर्द हो रहा है राजीव अब निकाल लो प्लीज़ तब मैं अपना लंड उसके चुत से निकाल लिए ओर फिर मैं उसके चुत को अपने जीबह से चूसने लगा.

जब अनिता मस्ती में आ गये तभी फिर से मैंने अपना लंड अनिता के चुत के छेद पर रखकर ज़ोर से एक
झटका मारा ओर फिर मेरे 3/4 लंड उसके चुत में घुस गया ओर वो चिल्ला उठे तभी मौमीता भाभी उसके
चेहरे के पास जा कर उसके होठों को अपने होठों से काश कर किस करने लगे ओर उसके दर्द की चीख उसके
मुंह में ही रहा गये ओर तभी मौमीता भाभी ने मेरे तरफ इसारा किया ओर मैंने पूरे ज़ोर से फिर एक
झटका मारा इसे बारा मेरएआ पूरा लंड अनिता की चुत में घुस गया ओर अनिता ना च्चटे हुए भी हल्के से
चिल्ला उठे दीदी नहीं आआआआआआआः हह अब नहीं दीदी मुझे चोद दो बहुत दर्द हो रहा है
लेकिन तब तक भाभी ने फिर से उसके होठों को अपने होठों से बंद कर दिया ओर मेरे तरफ इसारा किया ओर
मैं फिर ज़ोर ज़ोर से अनपे लंड को अनिता की चुत में अंदर बाहर करने लगा धीरे धीरे अनिता का दर्द
खत्म हो गया ओर वो मस्ती में आकर बड़बड़ाने लगे करे रहो मेरे राजीव ईईईईईईईईईईईईईईईयाहह आज
मेरे चुत को फाड़ दो अपने लंड से आज मेरे चुत को प्यास बुझा दो मेरे राजीव आआआआआआआआआः
हह ओर ज़ोर से चोदा मुझे राजीव ओर ज़ोर से ये सुनते ही मेरे ओर ज्यादा जोश आ जा रहा था ओर मैं
पूरे जोश के साथ अनिता के चुत में अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था ओर फिर अनिता भी अपना कमर
उठा उठा कर मेरा साथ देने लगे तभी आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. मौमीता भाभी ने कहा की क्यों अनिता अभी तो तुम्हें बहुत दर्द हो रहा था अब क्या हुआ, अब तो मेरे मजे से कह रहे हो मेरे राजीव मेरे चुत को फाड़ा दो, उनके बात सुनकर अनिता ने अपना चेहरा मेरे सीने में सटा कर चिपका गये.ओर मैं उसे पूरे ज़ोर से उसके चुत में अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था तभी अनिता की कमर उठाने के बढ़ता ओर तेज हो गये ओर वो बोलने लगे मेरे राजीव ओर ज़ोर से हह ओर ज़ोर से करते रहो आआआआआआआआआअ आआअहह हे ओर ज़ोर से फिर एक हालीके सेचिक्ख के साथ अनिता झाड़ गये ओर मेरे गले में अपने भी डालकर मुझसे लिपट गये लेकिन मेरा जोश अभी तक शांत नहीं हुआ था तो मैं ओर ज़ोर से अनिता की चुत में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा ओर उसके चुत से पूछ… पूछ… पूछ… पूछ… की आवाज़ आने लगे थी ओर फिर थोड़े ही देर मैं भी ज़ोर से अपने लंड को . बाहर करते हुए झड़ने की स्टेज में आ गया

ओर मेरे लंड ने सारा वीर्य अनिता की चुत में ही उगल दिया अनिता की चुत मेरे गरम वीर्य से भर गये ओर कुछ देर तो मैं अनिता के उप्पर ऐसे ही लेते हुए उसके होठों को चूसता रहा ओर कहा सच में अनिता तुम्हारे बहुत टाइट है ओर फिर थोड़े देर बाद मैं अनिता के उप्पर से हटकर उसके बगल में ही लेट गया तभी मौमीता भाभी मेरे पास आए ओर मेरे लंड को चूसने लगे ओर मेरे लंड को अपने जीबह से साफ करते हुए बोले राजीव अभी तो तुमने अनिता की चुत चोदे लेकिन रात में तुम मेरे चुत भी छोड़ोगे, मैं कहा हां मौमीता भाभी, लेकिन सच में अनिता को आपने मुझसे चुदाया कर मुझे पर उपकार किया है तो बोले जो सुख तुमने मुझे दिया है उसके सामने ये कुछ भी नहीं है. आप ये कहानी चुदसीहौुसेवीफे.नेट पार पाद रहे है. ओर थोड़े देर तक हुलोग ऐसे ही लेते रहे तभी अचानक मेरे नज़र घड़ी पर गये 4 बजने वाले थे तो मैंने कहा भाभी अब तो 4 बजने वाले है पीयूष के आने का टाइम हो गया है. उन्होंने कहा हां, तुम जा कर पीयूष को कॉलेज से ले आओ. ओर मैंने पीयूष को कॉलेज से लाने चले गया, जब लौट कर आया तो मौमीता भाभी ने कहा की रात में 10 बजे तक आना ओर मैं वहां से जाने लगा तो अनिता ने मेरे तरफ बढ़कर मेरे होठों पर एक किस कर लिया लेकिन कुछ बोले नहीं, इसे तेरह से मैंने मौमीता भाभी ओर उनकी सिस्टर अनिता की 8 दीनों तक कंटिन्यू चुदाई की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *