कोमल आंटी अपना बनाया

फ्रेंड्स, मेरा नाम जय है मैं 23 साल का हूँ ओर मैं मुंबई में रहता हूँ और जहां में रहता हूँ वहां 4त रूम में एक आंटी रहती है उनका नाम कोमल है और उनका 2 महीने का छोटा सा बेबी है, पहले में रोज़ उसे खिलाने जाता था सच काहु तो मैं कोमल आंटी को देखने जाता था और कोमल बहुत ही खूबसूरत ओर हसीना थी और उसके बूब्स बहुत बारे ओर गोल थे ओर वो बड़ी ही बेशर्म ओर लापरवाह थी, जब आंटी अपने बेबी को दूध पिलाती तो मैं चुपके-चुपके उनके बूब्स को देखता था और आंटी मुझे ऐसे देखते हुए देख लेती थी ओर मुस्करा देती थी, वो जानती थी की मैं चोरी-चोरी उनके बूब्स देखता हूँ और उनके बूब्स देख के मेरा दिल करता की उन्हें मुंह में भर के उनका पूरा दूध चूस लंड पर मैं उनसे कभी कह नहीं पता था, घर में आंटी अक्सर पतले कपड़े कोई पुरानी टी-शर्ट या नाइटी और वो अंदर से कुछ नहीं पहनती थी, जिससे उनके निप्पल साफ दिखाई देते थे और अक्सर उनकी टी-शर्ट से उनके निप्पल उभरे हुए साफ दिखाई देते थे.

उनके उभरे हुए निप्पल देख के मेरा लंड खड़ा हो जाता था और वो मेरे सामने ज़रा भी शर्म नहीं करती थी और जैसे वो कोई काम कर रही है ओर उन्होंने कोई दुपट्टा नहीं लिया है ओर उनकी चुचियों के बीच की गहरी घाटी दिख रही है ओर मैं देख रहा हूँ ये पता होते हुए भी वो परदा करने का कष्ट नहीं उठती थी, जैसे कह रही हो की देखना है तो देख लो मैं कोसना मना कर रही हूँ और आंटी भी मुझे शायद पसंद करती थी और शुरू-शुरू में वो मुन्ने को दूध पाइलेट हुए थोड़ा परदा करती थी पर अब तो वो जैसे बिलकुल ही बेशर्म होते जा रही थी, कभी-कभी वो लेट के मुन्ने को दूध पिलाती ओर अपनी टी-शर्ट नीचे नहीं करती, उनके दोनों बूब्स मेरे सामने होते ओर वो बिलकुल भी ना छुपा थी शायद वो जानबूझ के ऐसा करती थी और एक बार जब में मुन्ने को गोद में उठा रहा था तो मैंने जानबूझ के आंटी के स्तानो को छूते हुए मुन्ने को उठाया पर उन्होंने गुस्सा करने की वजह मुझे एक स्माइल दी.

फिर आंटी ने अपनी टी-शर्ट नीचे की ओर अंदर चली गयी और मैंने देखा की मुन्ने के मुंह पे दूध की एक बंद लगी है तो मैंने जैसे ही उसे चाटना चाहा आंटी आ गयी ओर उन्होंने मुझे देख लिया ओर कहा की जाए ये क्या कर रहे हो, मैं डर गया ओर मैंने कुछ नहीं कहा और आंटी मेरे पास आई ओर बोली मेरा ढूंढ़ टेस्ट कर रहे हो पर में चुप रहा ओर सर नीचे करके खड़ा रहा, अरे पगले अगर दूध पीना है तो मुझे बोल जितना चाहे पीले और ये सुनकर में दंग रही गया की ये तो खुली पेशकश थी और आंटी मेरे पास आई, इतने पास की उनके दोनों बूब्स मेरे कंधे को छू रहे थे और फिर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ के अपनी चुचियों पे रख दिया ओर कहा ले पीले जितना पीना है और मुझे तो जैसी ग्रीन सिग्नल मिल गया था, तो मैंने तुरंत उनकी चुचियों को अपने मुंह में भर लिया ओर चूसने लगा उउम्म्म्मममम उम्म्म्मममम वो क्या टेस्ट था उनके बूब्स से दूध की बूंदें निकल रही थी जिसे मैं बड़ी बड़ी से पी रहा था.

अब कोमल भी सिसक्रिया लेने लगी थी और उसे भी मजा आने लगा था आहह चूस लो जाए आहह पी जाओ मेरा दूध, उनकी बातें सुन के मैं ओर जोश में आ गया ओर मैंने उनके बूब्स को ज़ोर से दबा दिया और वो दर्द से कराह उठ आहह और फिर मैंने उनकी कमर से सारी निकल दी ओर उनकी कमर को किस करने लगा ओर अपना एक हाथ उनकी चुत पर ले गया, वो आहह उम्म्म्ममम की आवाजें निकल रही थी और थोड़ी देर तक मैंने उनके पूरे बदन पे किस की ओर फिर उनका पेटीकोट निकल के उनको पूरा नंगा कर दिया, उन्होंने अंदर पैंटी नहीं पहनी थी और उनकी काली चुत अब मेरे सामने थी तो मैंने उनको गोद में उठाया ओर बेड पे लिटा दिया ओर उनकी टांगों को चोदा करके उनकी चुत पे अपना मुंह रखा वाहह क्या स्मेल थी, जैसे ही मैंने उसकी चुत पे अपनी जीभ लगाई वो पागल हो गयी ओर कहने लगी आहह तुम कितने अच्छे हो जाए आहह उम्म्म्ममममम कहा जाओ मेरी चुत को आहह आज से मैं भी तुम्हारी ओर मेरी चुत भी तुम्हारी.

मैं उनकी चुत में अपनी जीभ डाल रहा था ओर उनकी चुत चाट रहा था और थोड़ी देर बाद वो अकड़ने लगी ओर अपने पैरों से मुझे कस के पकड़ लिया ओर आअहह अहह उउउहह की आवाज़ निकालने लगी, मैं समझ गया की अब वो झड़ने वाली है तो मैं ओर ज़ोर-ज़ोर से उनकी चुत चाटने लगा ओर थोड़ी देर बाद उनकी चुत से गरम पानी निकला ओर फिर वो सेट हो गयी, वो कहने लगी आज से पहले उन्होंने कभी चुत नहीं चटवाई थी पर मैं कब से इसी मौके की तलाश में थी की कब तुम्हारा लंड मेरी चुत में जायगा ओर मेरी प्यास बुझेयगा आस मेरे राजा अब मुझे चोद दो ओर बना लो अपनी रखेल, अब मैं ओर जोश में आ गया ओर मैंने अपना लंड उसके मुंह में दे दिया वो उसे लोलीपोप की तरह चूस रही थी और थोड़ी देर बाद मैं उसकी कमर के नीचे तकिया रख के अपना लंड उसकी चुत पे रख दिया ओर अपना लंड उसकी चुत पे सहलाने लगा, वो तड़प रही थी ओर कहने लगी की अब मत तड़पा प्लीज़ डाल दो अपना लंड मेरी चुत में.

फिर मैंने अपना लंड उसकी चुत पे रख के ज़ोर का धक्का लगाया ओर आहह की आवाज़ के साथ मेरा लंड उसकी चुत में फिट हो गया कोमल की आँख में दर्द से आँसू आ गये, तो अब मैं धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा ओर उसे भी मजा आने लगा था और अब वो भी अपनी गान्ड उठा-उठा के मेरा साथ दे रही थी ओर आहह उउउइईईई अहह की आवाजें निकल रही थी और कुछ देर बस मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा ओर वो डोगी स्टाइल में आ गयी, अब मैं उसे चोदने लगा और पूरे घर में फॅक-फ़च्छ की आवाजें आ रही थी ओर साथ ही साथ आहह उहह की आवाजों से घर गुज़ रहा था और थोड़ी देर बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने उससे पूछा की कहा निकालु, तो उसने कहा की अंदर ही निकल्डो जान मैं अपनी चुत में तुम्हारा पानी फील करना चाहती हूँ ओर फिर कुछ देर झटके लगाने के बाद मैं ओर वो एक साथ झाड़ गये ओर फिर मैं उसके ऊपर लेट गया ओर उसे किस करने लगा ओर हमें नींद आ गयी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *