एक मजदूर ने भांग खिलाकर मेरी माँ चोद दी

हाय फ्रेंड्स, Antarvasna मेरा नाम राहुल है मेरी उम्र 20 साल की है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. दोस्तों आज मैं आप सभी के लिये कामलीला डॉट कॉम के माध्यम से एक सेक्स कहानी लेकर आया हूँ और यह कहानी आज से एक साल पहले की है जब हमारा नया मकान बन रहा था. हाँ तो दोस्तों अब मैं बिना देर किए अपनी कहानी को शुरू करता हूँ।

मेरे घर में 4 जने रहते है, मैं मेरी मम्मी 39 साल की और मेरी बहिन 18 साल की और मेरा एक छोटा भाई जिसकी उम्र 16 साल की है. दोस्तों यह बात पिछली गर्मियों की छुट्टियों की है जब स्कूल बन्द हो गये थे और मेरे छोटे भाई और बहिन मेरे मामा के यहाँ घूमने गये थे. लेकिन मैं हमारा मकान बनने की वजह से घर पर ही रुक गया था. दोस्तों हमारे मकान के काम के लिए मामा ने उनके गाँव के पास ही के गाँव से कुछ मजदूर भेजे थे क्योंकि वह यहाँ के मजदूरों की अपेक्षा थोड़ा कम पैसा ले रहे थे. उन मजदूरों में 4 तो मज़दूर थे और एक कारीगर था. दोस्तों उनमें से एक मजदूर था जिसका नाम हरिया था. दोस्तों हमारे यहाँ पर घर बनाने का काम 20 दिन तक चला था जिसमें उन लोगों ने 2 कमरे तो बना दिए थे और फिर उनमें से एक मजदूर के घर पर शादी आ गई थी तो उन सबने एक हफ्ते के बाद वापस आने को कहा था लेकिन हरिया को उन लोगों ने रुकने को कहा क्योंकि उस दिन ईंटों की गाड़ी आ रही थी और इसीलिये वह सब हरिया को उन ईंटों को ऊपर छत पर चढ़ाने को बोलकर गाँव चले गये थे. दोस्तों हरिया 6 फुट का लम्बा-चौड़ा और हट्टा-कट्टा आदमी था, पूरे दिन वह अंडरवियर में ही काम करता था और उसके पूरे शरीर पर बाल थे. और फिर उन लोगों के जाने के बाद रात में मम्मी ने उसे खाना दिया और फिर वह खाना खाकर ऊपर छत पर जाकर के वहीं सो गया था. और फिर मम्मी ने मुझको बोला कि, बेटा तुम पीछे वाले कमरे में सो जाओ और मैं आगे वाले कमरे में सो जाती हूँ और मैं खिड़की से बाहर देखती रहूँगी क्योंकि अभी हमारा कुछ सामान बाहर सड़क पर पड़ा हुआ था और उसको कोई चुरा ना ले. और फिर मैं पीछे के कमरे में जाकर सो गया पीछे वाले कमरे की ख़िड़की से आगे वाले कमरे में दोनो में बेड खिड़की के पास सटे हुए थे जिससे बाहर की ठण्डी हवा अन्दर आ सके।

और फिर उस रात में बारिश होने लगी तो हरिया भी उठकर नीचे आ गया था और फिर वह मम्मी के कमरे को खटखटाने लगा तो मैं भी जाग गया था. और फिर मम्मी ने दरवाजा खोला तो उसने मम्मी से कहा कि, बाहर बारिश हो रही है तो क्या मैं यहाँ नीचे सो सकता हूँ? तो मम्मी ने उसको कहा कि, ठीक है पर तुमने क्या शराब पी रखी है? तो उसने कहा कि, नहीं तो. तो फिर मम्मी ने उसको कहा कि, तुम यहाँ पर नीचे अपना बिस्तर लगा लो और सो जाओ और कमरे में लगी लाईट को जलने देना. और फिर वह दोनों सो गये और मैं भी सो गया था. और फिर रात को 1.30-2.00 बजे के आस-पास मेरी नींद खुली तो मुझे कुछ अजीब सी आवाज़ आई तो मैंने खिड़की से झाँका और देखा तो हरिया मम्मी को जगा रहा था और फिर उसने मम्मी को कहा कि, मुझको पानी पीना है. तो फिर मम्मी ने उसको किचन से लाकर पानी की बोतल दे दी थी और फिर उसने अपनी ज़ेब से भांग निकाली और खाकर के पानी पी लिया. तो फिर मम्मी ने उसको पूछा कि, यह क्या है? तो उसने कहा कि, यह तो देशी दवा है दर्द की, आपको भी कुछ दर्द हो तो आप भी खा लो. तो फिर मम्मी ने उसको पूछा कि, बदन दर्द में यह काम करेगी क्या? तो उसने कहा कि, आप तो देखती ही हो कि, मैं दिन भर काम करता हूँ और फिर रात में यह दवा लेकर सोता हूँ. तो फिर उसने मम्मी को भी एक गोली दे दी थी और फिर मम्मी ने उसको खाकर पानी पिया और फिर उससे कहा कि, अब तुम सो जाओ।

दोस्तों हरिया का पूरा शरीर ईंट और रेत की वजह से गन्दा हो रहा था और वह सिर्फ़ अंडरवियर में ही सो रहा था. और फिर रात में थोड़ी देर बाद नींद फिर खुली तो मैने देखा की हरिया मम्मी के पास आकर लेटा हुआ था और वह मेरी मम्मी को अपनी बाहों में लिये हुए था. और फिर मैं भी एकदम से घबरा गया था कि, कहीं वह मुझे भी ना देख ले. और फिर मेरे कमरे की लाईट तो बन्द थी तो मैं उसका फायदा उठाकर थोड़ा और आगे आकर देखने लगा तो वह मेरी मम्मी की जाँघों को सहला रहा था लेकिन मम्मी उसको कुछ भी नहीं बोल रही थी उस समय मुझको लग रहा था कि, शायद मम्मी पर भांग का असर था. और फिर उसने मम्मी की मैक्सी भी उतार दी थी. और फिर मम्मी भी नींद में थोड़ा उठी और वह उससे कुछ भी नहीं बोली थी. और फिर वह मम्मी से बोला कि, वाह रानी तू तो एकदम मस्त माल है, आज़ तो मेरी जिन्दगी ही सफल हो जाएगी और फिर उसने मम्मी को उठने को कहा और फिर उसने मम्मी की ब्रा भी खोल दी और फिर उसने मम्मी को फिर से लिटा दिया था. दोस्तों अब मेरी मम्मी के एकदम नंगे और बड़े बब्स मेरे और उसकी आँखों के सामने थे. दोस्तों उस समय मुझको हरिया पर बहुत गुस्सा भी आ रहा था लेकिन मैंने देखा कि, मेरी मम्मी को भी मज़ा आ रहा है तो मैं एकदम चुप रहा। और फिर वह मम्मी के बब्स को कस-कस के दबाने लग गया था और बहुत ही कस-कस के चूसने भी लग गया था और फिर वह मम्मी के होठों को भी चूसने लग गया था. और फिर तो वह मम्मी के पूरे बदन को मसलने लग गया था. उसने दबा-दबा के मम्मी के बब्स और उनके पूरे बदन को एकदम लाल कर दिया था और उस समय मम्मी भी खूब मस्त हो रही थी और भांग के नशे की वजह से मम्मी को दर्द भी नहीं हो रहा था. और इधर दोस्तों मेरा लंड भी उस सेक्सी नज़ारे को देखकर खड़ा हो चुका था जिसे मैं भी सहला रहा था।

और फिर उसने मम्मी के पूरे बदन को चाटकर और मसलकर के पूरा लाल कर दिया था और फिर उसने मम्मी की पैन्टी पर अपना हाथ फेरा तो मम्मी एकदम से सिकुड सी गई थी और मम्मी की काली पैन्टी पूरी गीली लग रही थी और फिर उसने मम्मी की पैन्टी के ऊपर से ही उनकी चूत को अपनी जीभ निकालकर चाटा तो मम्मी आहहह… ऊह्ह्ह… करने लग गई थी. और फिर उसने मम्मी की पैन्टी निकाल दी थी और फिर मम्मी की झांटे मुझको दिख गई थी दोस्तों मम्मी की झांटों वाली चूत बहुत खूबसूरत दिख रही थी. और फिर वह मम्मी की झांटो पर हाथ फेरता हुआ बोला कि, वाह क्या चूत है तेरी रंडी, मैं जो भी कर रहा हूँ तू तो कुछ मना भी नहीं कर रही है. उस पर मम्मी उससे कुछ भी नहीं बोली शायद वह डर गई होंगी. और फिर उसने मम्मी की चूत पर मुहँ रख दिया था और फिर वह मम्मी की चूत को किसी आइसक्रीम की तरह चाटने लगा और मम्मी आहहह… उफ्फ्फ.. आआआ… करके बहुत ज़ोर-ज़ोर से चिल्ला पड़ी थी और वह तो मम्मी की चूत को कुत्ते की तरह चाटता जा रहा था और फिर उसने मम्मी को पूरा चूत से लेकर गांड तक 20 मिनट तक खूब चाटा तो मुझको लगा कि, मम्मी 2-3 बार तो झड़ ही गई थी। और फिर वह मम्मी से बोला कि, ले अब तू मेरा लौड़ा चूस और फिर वह अपना लंड मम्मी के मुहँ के पास लाकर डालने लगा तो मैंने देखा कि, उसका लंड 7.5” लम्बा काला और 3” मोटा सा था. मम्मी ने उसको मना करना चाहा तो उसने मम्मी के सिर को पकड़कर जबरदस्ती उसका लंड मम्मी के मुहँ में डाल दिया था और फिर वह दोनों 69 की पोजीशन में हो गए थे. उस समय मम्मी को उल्टी आ रही थी क्योंकि उसका लंड बहुत मोटा और लम्बा था. 69 की पोजीशन में 10 मिनट तक खूब चाटा चूटी हुई और फिर वह मम्मी के मुहँ में ही झड़ गया था और मम्मी भी झड़ गई थी और इधर मैं भी झड़ गया था। दोस्तों यह कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर मुझको लगा कि, अब वह सो जाएगा पर उसने दुबारा से अपना लंड हिलाना चालू किया और फिर से खड़ा कर लिया और फिर उसने मम्मी को उठाकर बैठा दिया और बेड से नीचे उतारकर उनके मुहँ में फिर से अपना लंड पेल दिया था मम्मी अब कुछ होश में लग रही थी और फिर वह ज़ोर-ज़ोर से मम्मी के मुहँ को चोदने लगा और फिर उसने मम्मी को बेड पर लिटाकर उनकी दोनों टाँगों को अपने कन्धे पर रखा और फिर उसने मम्मी की चूत को थप्पड़ मारा 2-3 बार तो फिर मम्मी रोते हुए बोली कि, प्लीज़ मत करो नहीं तो राहुल जाग जाएगा. और फिर उसने मम्मी की चूत पर अपना लंड टिकाया और फिर वह उसको रगड़ने लगा. दोस्तों उस समय मुझको तो लगा कि, आज तो मम्मी मरी, क्योंकि मम्मी की चूत से उसका लंड तीन गुना था. और फिर थोड़ी देर तक रगड़ने के बाद जैसे ही उसने अपना टोपा मम्मी की चूत में डाला तो मम्मी ऊपर को खिसक गई क्योंकि उसका ऊपर का लंड काफी मोटा था. और फिर उसने मम्मी को कहा कि, आराम से करवा लो वरना कसके पेल के फाड़ दूँगा और फिर उसने फिर से घुसाया तो मम्मी फिर खिसकी तो अबकीबार उसका मूड खराब हो गया और उसने मम्मी का कन्धा पकड़ा और फिर एक ही झटके में अपना आधा लंड मम्मी की चूत में पेल दिया था और मम्मी आहह… करके चिल्लाई तो उसने मम्मी की पैन्टी को उठाकर उनके मुहँ में ठूस दिया था और फिर धीरे-धीरे पूरा लंड पेलने लगा. मम्मी बार-बार ऊपर खिसक रही थी तो उसने मम्मी को खींचकर अपनी गोद में उठा लिया था और फिर उसका पूरा लंड मम्मी की चूत में चला गया था और मम्मी एकदम से काँप उठी थी और वह झड़ भी गई थी और फिर वह ज़ोर-ज़ोर से चुदाई करके लगा और मम्मी उसकी गोद में एक बच्ची की तरह लग रही थी. और फिर 10-15 मिनट तक ऐसे चोदने के बाद उसने मम्मी को नीचे उतारा और उनके मुहँ में अपना लंड झाड़ दिया और मम्मी उसका सारा पानी पी गई थी. दोस्तों यह सब रात के 4.00 बजे तक चला था और फिर वह मम्मी को बाथरूम में अपनी गोद में उठाकर ले गया था और फिर वह उनको नहलाकर वापस कमरे में लाकर उनको उनकी ब्रा-पैन्टी पहनाकर मैक्सी भी पहनाई और फिर एक किस किया। और फिर वह बोला कि, वाह आज तो जिन्दगी का असली मजा आ गया।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!